Header Ads

वजन घटाने के लिए पैदल चलने के बेहतरीन तरीके

वजन घटाने के लिए पैदल चलने के बेहतरीन तरीके

आजकल छोटी सी दूरी तय करने के लिए भी लोग वाहन का इस्तेमाल करते हैं। यह तरीका आसान ज़रूर लगता है किन्तु इसी वजह से आरामदायक ज़िन्दगी बिताने के चक्कर में मोटापा और बिमारियाँ बढ़ रही हैं। Read vajan kam kare walking se



वॉक करना सभी के लिए अच्छा और ज़रूरी है, ख़ास तौर पर उनके लिए जो वज़न कम करना चाहते हैं। परन्तु वज़न कम करने के लिए आपको अपनी वॉक की प्रक्रिया में कुछ सुधार करना होगा। नीचे कुछ तरीके दिए जा रहे हैं:


1. हर रोज़ वॉक की सीमा को 0.5 कि.मी. से बढायें (Daily Increase the Walking Limit)

अगर आप वज़न कम करना चाहते हैं तो एक ही प्रक्रिया अपनाने से कुछ नहीं होगा, उसमे बदलाव करना ज़रूरी होता है और आप रोज़ एक ही दूरी तक वाक करके कुछ ज्यादा हासिल नहीं कर पायेंगे। हर रोज़ वॉक की सीमा को 0.5 कि.मी. से बढायें, इससे आपका स्टैमिना और एनर्जी बढ़ेगी और पैरों की मसल्स सुदृढ़ होंगी। आपको उस हद तक पहुंचना होगा कि आप रोज़ 10000 कदम चलें और वज़न घटाएं।


2. अपनी ह्रदय की धड़कन का ध्यान रखें (Keep Track of Your Heartbeat)

अगर आप वज़न घटाने के लिए वॉक कर रहे हैं तो ध्यान रखें की आपकी चाल इतनी तेज़ हो कि आपको सांस लेने में सामान्य से ज्यादा दिक्कत हो रही हो और आप अपने ह्रदय की धड़कन सुन सकें।

3. अपने हाथ पैर सही ढंग से चलायें (Make Proper Movement of Hand and Leg)

बहुत से लोग सही तरीके से वॉक नहीं करते हैं। वॉक के समय हाथ सही ढंग से हिलाएं और आपकी ठुड्डी जमीन से सामानांतर हो, ये भी ज़रूरी है। आपकी कोहनियाँ आपके शरीर के पास ही हों।


4. संगीत सुनना (Listen to Music While Walking)

सिर्फ वॉक के लिहाज़ से वॉक का आईडिया कई लोगों को उत्तेजित नहीं करता। इसलिए वॉक के समय कर्णप्रिय संगीत सुनना लाभ का सौदा है।


5. मित्र या भाई-बहन के साथ वॉक (Walk with Your Friend or Sibling)

दोस्तों या भाई-बहन के साथ वॉक करने का फायदा यह है कि इससे बोरियत नहीं होती और स्पर्धा का भाव मन में रहता है जो कि आपको उकसाने के लिए ज़रूरी है। इतना ध्यान रखें की बातें करते समय आपकी वॉक की गति कम न हो जाए। साथ ही वॉकिंग पार्टनर के साथ न होने के बहाने से आपकी वॉक बंद नहीं होनी चाहिए।

6. सही जूते पहनें (Wear Right Shoes for Walking)

बाज़ार में कई तरह के कम वज़न के जूते उपलब्ध हैं जिनसे चलते वक़्त घुटनों और पैरों पर जोर नहीं पड़ता। इतना ख्याल रहे कि आप उन जूतों में सहज मेहसूस करें और लम्बी दूरी पर चलने की वजह से आपके पैरों में छाले न पड़ें। साथ ही ये भी ध्यान दें कि अगर आप सिर्फ चलना चाहते हैं न कि दौड़ना तो पतले तले वाले जूते ही पहनें।


7. अपनी दिनचर्या में बदलाव करें (Daily Routine)

संगीत और दोस्तों के साथ भी वॉक बोरिंग हो सकती है। अपनी वॉक में आप बदलाव ला सकते हैं। हफ्ते में तीन दिन आप धीमे धीमे लम्बी दूरी तय करें और बाकी के दिन दूरी छोटी हो किन्तु तेज़ चलें। जगह बदलना भी अच्छा आईडिया है, एक दिन समुद्र किनारे, किसी दिन पहाड़ी पर और किसी दिन पार्क में।

8. वॉक के बाद फल या सलाद लें (Have Fruits and Salad After Walk)

काफी देर चलने के बाद भूख लगना वाजिब है। चूंकि आप वज़न कम करना चाहते हैं तो वॉक के बाद बहुत सारा न खाएं। कोई फल या सलाद खा सकते हैं जो आपको स्फूर्ति देगा और कैलोरीज भी नहीं बढेंगी।

9. वॉक के बीच में जॉगिंग (Jog in Between of Walking)

हालांकि वॉक से काफी कैलोरीज बर्न हो जाती हैं, बीच बीच में थोड़ा जौग भी कर सकते हैं। 15 मिनट तेज़ चलें, फिर गति बढाते हुए 5 मिनट जौग करें। जॉगिंग के बाद वॉक करना जारी रखें नहीं तो पैरों में थकान का एहसास होगा और उसके बाद जॉगिंग मुश्किल हो जायेगी। जहाँ कैलोरीज की बात आती हैं, तो जॉगिंग से ज्यादा कैलोरीज बर्न होती हैं, परन्तु वॉक लम्बे समय तक की जा सकती है इसलिए वज़न घटाने के लिए वॉक को बेहतर माना जा सकता है। उदाहरण के लिए 30 मिनट में 3 कि.मी. वॉक करना उतनी ही कैलोरी बर्न करेगा जितनी 15 मिनट में 5 कि.मी. साइकिलिंग या 8 मिनट में 1.5 कि.मी. दौड़ना।

10. पानी पीकर और स्ट्रेच करके मसल्स की एंठन से बचें (Avoid Muscles Cramps By Stretching and Drinking Water)

बहुत से ऐसे लोग जो वॉक करने के आदि नहीं हैं, वो लम्बी दूरी की वॉक के दौरान मसल्स की एंठन के शिकार होते हैं। इससे बचने के लिए आपको खूब पानी पीना है, क्योंकि एंठन की वजह है मिनरल्स और नमक की कमीहो सकती है। वॉक से पहले जम्पिंग जैक स्टाइल से शरीर को गरम करना एंठन से बचने का तरीका है।

11. एक डायरी में अपनी उपलब्धि नोट करें (Note your Achievement in a Diary)

आप एक डायरी रख सकते हैं जिसमें आप अपनी वॉक की तारीख, रास्ता, दूरी और अपनी गति नोट कर सकते हैं। वॉक के अलावा आप जॉगिंग, साइकिलिंग और स्विमिंग से भी वज़न कम

आपके वजन को उड़ा ले जायेंगे ये फल 


फल प्राकृतिक “सुपर फ़ूड” होते हैं जो वज़न घटाने में सहायक होते हैं, जिनमें फाइबर और प्राकृतिक मिठास प्रचुर मात्रा में होती है, जो भूख रोकने में सहायक होती है। 
वज़न घटाने के लिए तरबूज सबसे चुनिन्दा फल है। इसमें पानी की मात्रा काफी ज्यादा (90%) है और 100 ग्राम में सिर्फ 30 कैलोरी मिलती है। इसमें एमिनो एसिड “अर्जिनीन” प्रचुर मात्रा में है जो फैट्स(वसा) बर्न करने में मदद करते हैं।
अगर आप वज़न घटाने की सोच रहे है तो सेब आपकी डाइट प्लान में आवश्यक रूप से होना चाहिए। एक मध्यम आकर के सेब में तकरीबन 50 कैलोरी होती है और इसमें ज़रा भी वसा (फैट) या सोडियम नहीं होता है।
अमरुद वज़न घटाने में प्रबल है। इसका शर्करा स्तर (शुगर लेवल) काफी कम है, जिसकी वजह से इसे डाईबिटीज़ के मरीज़ भी खा सकते हैं।
एक केले में 105 कैलोरी होती है जो इंस्टेंट एनर्जी का माध्यम है और वर्क-आउट के बाद खाने के लिए एकदम सही फल है।
आपके शरीर के लिए एक दिन में जो एक-चौथाई रेशे की ज़रूरत होती है, उसे नाशपाती पूरा करती है और पाचन शक्ति के लिए बेहतरीन है। यह कोलेस्ट्रोल लेवल को कम करती है, हृदय धमनी रोग(कोरोनरी हार्ट डिजीज) एवं “टाइप II” डाईबिटीज़ के खतरे को भी कम करती है
100 ग्राम संतरे में सिर्फ 47 कैलोरी होती है जो कि किसी भी डाइटिंग करने वाले के लिए उपयुक्त है। इसमें वो मिठास भी है जो किसी भी डाइटिंग करने वाले की मीठे की चाह को पूरा करती है।
टमाटर लेप्टिन रेज़िस्टेंस को रोकता है, लेप्टिन वो प्रोटीन होता है जो हमारे शरीर की वज़न कम करने की क्षमता को रोकता है और टमाटर इस क्षमता को बढाने में सहायक होता है। टमाटर के स्वास्त लाभ 
कर सकते हैं।

एक्सरसाइज योग के फायदे 

जिस प्रकार मानव जीवन के लिए Air , Water and Meal की ज़रूरत है और इनके बिना मानव जीवित नही रह सकता, इसी प्रकार व्यायाम भी मानव जीवन के लिए परम आवश्यक है। 

इसकी कमी से या इसको नियमित रूप से ना करने से मनुष्य का जीवन दुर्बल और अनेक रोगो का घर बन जाता है। जिसके कारण भगवान से प्राप्त सभी एश्वर्य भी नीरभ प्रतीत होते है।
व्यायाम से शारीरिक शक्ति बढती है। इंसान धन कमा सकता है परंतु धन से स्वास्थ्या प्राप्त नही कर सकता, स्वाथ्या व्यायाम द्वारा ही प्राप्त हो सकता है।
व्यायाम करने से शरीर हल्का तथा फुर्तीला बन जाता है। उधम और उत्साह बढ़ता है। पाचन शक्ति तेज होती है। हड्डिया मजबूत होती है। व्यायाम से शरीर सुडौल बन जाता है। व्यायाम से Head का विकास होता है, क्योंकि स्वास्थ्या शरीर मे ही स्वास्थ्या Head का निवास होता है।
व्यायाम अपनी शक्ति से बढकर कभी नही करना चाहिए। थकावट अनुभव होने पर व्यायाम छोड़ देना चाहिए। और ज्यो-ज्यो शक्ति का संचार अधिक हो, त्यो-त्यो व्यायाम की मात्रा बढाई जा सकती है। शक्ति से बढाकर व्यायाम करना हानिकारक सिद्ध हो सकता है।
बूढो और रोगियो के लिए सैर सर्वोत्तम व्यायाम है। बच्चो का खेलो द्वारा ही व्यायाम हो जाता है। भूख और प्यास मे exercise कभी नही करना चाहिए और भोजन करने के एकदम बाद भी व्यायाम नही करना चाहिए।
व्यायाम का पूर्ण लाभ तभी होता है जब स्वच्छ वातावरण मे किया जाए, क्योंकि स्वच्छ वायु ही रक्त साफ कर सकती है। मालिश भी एक प्रकार का व्यायाम है। मालिश से थकावट दूर हो जाती है। अंग मे कोमलता और लचक उत्तपन्न होती है। फोड़े फुंसिया भी नही होते।
स्वास्थ बहुमूल्या धन है। जिसने स्वास्थ पा लिया, उसने सब कुछ पा लिया। स्वास्थ खोने वाला सब कुछ खो बैठता है। इसलिए हम सबको अपने स्वास्थ का पूरा ध्यान रखना चाहिए। स्वास्थ की कुंजी व्यायाम ही है। Exercise आयु बढाती है। इसलिए हमे व्यायाम प्रतिदिन करना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.