Header Ads

आकर्षक सुंदर सुडौल फिगर पाने के लिये खास एक्सरसाइज

आकर्षक सुंदर सुडौल फिगर पाने के लिये खास एक्सरसाइज


हर लड़की चाह होती है उसकी पर्सनेल्टी दूसरी लड़कियों से हटकर हो। इसलिये चेहरे की सुंदरता के साथ वो फिगर का भी मेनटेन खास तरीके से करती है। लेकिन हर किसी लड़की का फिगर सुडौल और आकर्षक हो, ये जरूरी नही है। किसी-किसी लड़कियों का शरीर मोटापे के कारण काफी बैडोल सा होता है। जो देखने से ही काफी भद्दा प्रतीत होता है। एक अच्छे फिगर की चाह के लिये ना जाने कितने उपाय ढूंढती है। लेकिन अपने परफेक्ट शेप को मेंटेन रख पाना सबके लिए असान नहीं होता। इसलिए आज हम आपको ऐसे टिप्स के बारें में बताने जा रहे हैं जिससे अपनाकर आप आकर्षक सुंदर सुडौल फिगर पा सकती है।
आर्कषक फिगर पाने के तरीके –

ये बात हर कोई जानता है हमारे शरीर में फैट समान्य रूप से हर समय घटता और बढ़ता है और इसें कम करने के लिये हमें डाइटिंग के साथ कुछ एक्सरसाइज भी करनी पड़ती है। जो फेट को कम करने का एकमात्र उपाय है। यदि आप भी सुंदर सुडौल आकर्षक फिगर पाना चाहती है तो इन एक्सरसाइज को जरूर करें। यह केवल बॉडी को शेप ही नहीं देती बल्कि कई तरह की बीमारियों को भी शरीर को दूर रखने में मदद करती है।

‘‘युवावस्था में यदि आपका शरीर अनफिट होता है, तो इसका सीधा असर आपके आगे के बाकी जीवन पर पड़ सकता है। लड़कियों का बढ़ता मोटापा शादी के बाद बांझपन की समस्या को पैदा करता है और लड़कों में भी ऐसी कई बीमारियों को जन्म देता है। सही माने तो मोटापा आपकी जिंदगी का मजा किरकिरा कर देता है। इसलिये लड़के-लड़कियों को इस अपनी जिंदगी खुशहाल बनाने के लिये एक्सरसाइज करना काफी जरूरी है।

‘‘आज समय के युवाओं में तेजी से ब्लडप्रैशर, डायबिटीज और कोलेस्ट्रॉल जैसी बीमारी बढ़ रही है। जिसकी मुख्य वजह है अनहैल्दी डाइट लेना, नशा करना, और एक्सरसाइज पर विशेष ध्यान ना देना। नशा करने से शरीर कई तरह की बीमारियों से घिर जाता है और कुछ सालों में ही कमजोर हो कर एक मुर्दा इंसान बन जाता है।

बच्चों की ग्रोथ के बारें में बात करें तो आज के समय में पेरेटंस उन्हें आउटडोर गेम्स के लिए नहीं भेजते। जिस वजह से उनका बचपन घर के अंदर तक ही सामीत हो जाता है जिससे उनकी शारीरिक ग्रोथ भी रूक जाती है। और जब वो बड़े होते है तो यूथ मसल्स बनाने के लिए जिम भेजा जाता हैं शरीर की कमियों को वो सप्लीमैंट्स डाइट के सहारे पूरा करने की कोशिश करते हैं, जबकि जरूरत इस बात की है कि बच्चों को शारीरिक विकास के लिये दौड़-धूप करने के साथ अच्छी डाइट देंना काफी जरूरी है। उन्हें सुबह के नाश्ता की आदत डालें। नाश्ते में ओट्स, फल और नट्स को शामिल करें।

‘‘कई बार देखा जाता है कि लड़कियां शौक के कारण जिम तो जाती हैं पर एक-दो दिन की मेहनत करने के बाद ही थकहार कर जिम छोड़ देती हैं। और ये सोचकर कि वो क्रश डाइट से अपना वजन कम लेगीं। लेकिन ये सोचना आपके लिये काफी गलत है जिम आपके शरीर की चर्बी को कम करता है साथ ही-लटका हुआ पेट भी स्लीम हो जाता है। भले ही एक्सरसाइज करते समय शुरू में कुछ समय के लिये बॉडी पेन होता है लेकिन धीरे-धीरे यह ठीक भी हो जाता है।
सबसे पहले आपके लिये सबसे जरूरी यह है कि अपना वजन सही रखें, और स्वस्थ रहें। वजन घटाने के लिए डाइटिंग की नहीं, बल्कि राइट डाइट की जरूरत होती है। रोज सुबह चाय पीने की अपेक्षा आप ग्रीन टी का सेवन करें जो आपके वजन को घटाने में मददगार होती है। एक्सरसाइज की शुरुआत फिटनैस ऐक्सपर्ट की देखरेख में ही करें। लड़कियां चेस्ट पुशअप से ब्रैस्ट साइज बढ़ा सकती हैं’’
टोंड आर्म के लिए ऐक्सरसाइज –


शरीर को फिट बनाये रखने के लिये बाजुओं का भी स्ट्रॉग और टोंड होना जरूरी होता है। इस के लिए कुछ एक्सरसाइज हैं जो आपके बाहों को टोंड और स्ट्रॉग बनाने में काफी मदद करती हैं। जानें उन एक्सरसाइज के बारें में..
अल्टरनेट हैमर कर्ल –

अल्टरनेट हैमर कर्ल इस एक्सरसाइज को करने के लिए आप सीधे खड़े हो जाएं और पीछे को भाग को जितना सीधा रख सकते है उतना सीधा रखें। अब दोनों हाथों में एक से वजन के डंबल्स दोनों हाथों पर ले लें। ध्यान रखें डंबल्स अंदर की तरफ रखें हो। अब अपने हाथों को छाती तक ऊपर ले जाएं फिर धीरे-धीरे नीचे लाएं। इस प्रक्रिया को कम से कम 10 से 15 बार दोहराएं।
प्लांक आर्म ऐक्सरसाइज –

प्लांक आर्म करने के लिए पेट के बल जमीन पर लेट जाएं और माथे को जमीन से छुआएं। इस के बाद शरीर के ऊपरी हिस्से का वजन एक हाथ की कोहनी पर रखते हुये दूसरे हाथ की ओर लाएं। पैरों को पंजों के बल ऊपर टिका कर रखें। इसके बाद दोनों हाथों को कोहनी के बल रखते हुये पेट व जांघों को धीरे-धीरे ऊपर की ओर उठाने का प्रयास करें। इस प्रक्रिया को कम से कम 10 बार दोहराएं।
एल्बो प्लांक –

प्लांक आर्म ऐक्सरसाइज करने के बाद अब आप एल्बो प्लांक करें। इसे करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं और फिर अपने दाएं पैर को बाएं पैर के ऊपर रखें। हाथों को सीधा सिर ऊपर ले जाते हुए बाजू कान से छूते हुए ले जाएं। इस के बाद अपने शरीर को रैगुलर क्रंच की तरह ऊपर उठाएं। फिर शरीर के ऊपरी हिस्से पर पूरा दबाव डालते हुए अपनी कोहनी से घुटने को छूने की प्रयास करें। अब दूसरे पैर से भी इस प्रक्रिया ऐसा ही दोहराएं।
रिवर्स बारबेल कर्ल –

रिवर्स बारबेल कर्ल को इजेड बार के साथ करने पर अधिक लाभ होता है। आप इसे साधारण तरीके से भी कर सकते हैं इस कसरत को करने से आपके मसल्स मजबूत बनते है।
इंक्लाइन डंबल कर्ल –

इंक्लाइन डंबल कर्ल यह काफी कमाल की कसरत है। इसके करने से आपके बाजुओं को पूरा फायदा मिलता है।
क्लोज ग्रिप बैंच प्रैस –
बाइसैप्स को टोंड करने के लिए ट्राइसेप्स काफी अच्छी एक्सरसाइज मानी गई है। मोटे, मजबूत ट्राइसैप्स की इस कसरत से चैस्ट भी सही होते है।
ट्रेडमिल ऐक्सरसाइज –

आपके वर्कआउट को पूरा करने के लिय ट्रेडमिल एक्सरसाइज काफी अच्छी है। इस एक्सरसिज को करने के कई फायदे मिल सकते है। इससे शरीर तो फिट रहता ही है, साथ ही, आप के शरीर के सारे अंग भी चुस्तदुरुस्त रहते हैं। ट्रेडमिल ऐक्सरसाइज के पूरे फायदे लेने के लिए इसे ठीक से करना जरूरी है।



एक्सरसाइज के समय ध्यान देने योग्य बातें:
सही जूते पहनें –

ऐक्सरसाइज के समय आप स्टाइलिश जूतों की जगह सामान्य रनिंग वाले जूतों का उपयोग करें जो आपके दौढ़ने के लिये अरामदायक हो। और दौड़ते समय पैरों पर अधिक जोर भी ना पड़े जूते ठीक न होने से पर पैरों में मोच, या दर्द, जैसी दिक्कतें आ सकती हैं। इस से आप का संतुलन बिगड़ सकता है।
दौड़ते हुए नीचे देखना –

जब भी आप वाक करें या ट्रेडमिल पर दौड़ें तो उस दौरान आप सामने ही देखें। यदि आप नीचे देखेंगे या फिर आपके पैरों की गतिविधियां बिगड़ सकती है और आप फिसल सकते हैं। और दूसरी ओर नीचे देखने पर कमर या गर्दन की नसों में भी खिंचाव आ सकता है।
मुंह से सांस लेना –

यदि आप वाक या ट्रेडमिल पर दौड़ते समय मुंह से सांस लेते हैं, तो इस का मतलब है कि आपका श्वास नलिका को दुरुस्त करने की आवश्यकता है। इस से बचने के लिए डीप ब्रीदिंग की प्रैक्टिस करें, ताकि नाक से गहराई से सांस लेते हुए आप के शरीर को पूरी ऑक्सीजन मिल सके।
बेहतर मैटाबौलिज्म –


सही तरह से ऐक्सरसाइज करने से शरीर का मैटाबौलिज्म बढ़ता है। जिससे शरीर की कार्यप्रणाली को सुचारु रूप से काम करती है। शरीर का मैटाबौलिज्म जितना ज्यादा होता है, शरीर में उतनी ही ज्यादा उर्जा बनी रहेगी। और आपके वजन को कम करने में भी मदद मिलेगी।
टोंड मसल्स –

ट्रेडमिल पर रनिंग करने से न केवल आपका वजन घटता है बल्कि शरीर की मासपेशियां भी टोंड होती हैं। ध्यान रहे फिगर का सही शेप में आने के लिए मांसपेशियों का टोंड काफी होना जरूरी होता है। ट्रेडमिल पर ऐक्सरसाइज करने से पैर, जांघ, पेट और कूल्हे की जमी हुई चर्बी भी कम होने लगती है। शरीर को ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा ठीक मिलने लगती है साथ ही इस एक्सरसाइज को करने से त्वचा के पोर्स खुल जाते हैं, और त्वचा के अंदर की गंदगी बाहर निकलती है और त्वचा कुछ ही दिनों में चमकदार बन जाती है, जो आप को सुदंर बनाती है।
सर्वाइकल पेन से निजात पाने के लिए अपनाएं ये घरेलू उपचार

आज के समय में गर्दन का दर्द हो या सर्वाइकल पेन या कमर का दर्द, एक आम समस्या बन चुकी है। पर यही छोटे-छोटे दर्द कई बार गंभीर रोगों का कारण बन जाते हैं, जिसका हमें पता भी नहीं चलता। आमतौर पर इस तरह की बीमारियां उम्र से संबंधित होती थी लेकिन आज के समय की बदलती दिनचर्या और असंतुलित खानपान के कारण यह बिमारी हर उम्र के लोगो को हो रही हैं, इसी तरह से गर्दन का दर्द एक ऐसी बीमारी है जो आजकल बुजुर्गों के साथ-साथ छोटे बच्चे को भी प्रभावित कर रही हैं। गर्दन से शुरू हुआ ये दर्द इग्नोर करते रहने से यह धीरे-धीरे बढ़ता जाता है। जो बाद में गर्दन से लेकर कमर और पैरों तक पहुंच जाता है। जिसे इस बीमारी को सर्वाइकल के नाम से जानते है। सर्वाइकल का दर्द जब असहनीय हो तो आपको तुंरत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिये।

इसके अलावा हमारे पास कुछ घरेलू नुस्खें है जिसे अजमाकर आप सर्वाइकल के दर्द से काफी राहत पा सकते है। तो जानें सर्वाइकल के दर्द को दूर करने वाले घरेलू उपचार..
सेंधा नमक की पट्टी रखें –
अगर आप गर्दन के दर्द से ज्यादा पीड़ित हैं तो यह उपाय आपके लिये ज्यादा फायदेमंद साबित होगा। इसके लिए आप एक भगोने में पानी लेकर उसमें एक चम्मच सेंधा नमक मिलाये और पानी को गर्म होने के लिये रख दें। फिर एक साफ कपड़े को पानी में डालकर गर्म पानी की पट्टी करे ऐसा बार बार करने से आपको बहुत आराम मिलेगा सेंधे नमक में मैग्नीशियम की मात्रा बहुत ज़्यादा होती हैं जो की पीएच स्तर को नियंत्रित करती है, और गर्दन के या प्रभावित क्षेत्र के कड़ेपन को कम करता हैं जिससे आपको बहुत आराम मिलेगा. इस नुस्खे का उपयोग आप रोज कर सकते हैं।
हल्दी –
हल्दी में कई औषधीय गुण पाये जाते है जो शरीर के हर दर्द के लिये फायदेमंद होते है। इसे एक प्राकृतिक पेन किलर के नाम से भी जाना जाता है गर्म दूध के साथ हल्दी का सेवन करने से सूजन कम होती है। हल्दी ब्लड सर्कुलेशन को तेज करती है जिससे शरीर के दर्द में तुंरत राहत मिलती है और इससे गर्दन की अकड़ भी कम होती है। यह सर्वाइकल पेन को कम करने की अनमोल दवा है। इसका सेवन आप रोज करें।
लौग का तेल –

लौग का तेल शरीर के दर्द के लिये काफी फायदेमंद होता है। यह काफी अच्छा औषधिय उपचार है इसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, कॉपर, जिंक, फॉस्फोरस, विटामिन D और विटामिन K के साथ एंटीऑक्सीडेंट, एंटी फंगल, एंटीमाइक्रोबाइल, एंटीवायरल जैसे तत्वों की भरपूर मात्रा पाई जाती ।जो शरीर की हड्डियों के साथ-साथ पूरे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। सर्वाइकल पेन से निजात पाने के लिए आप लौग का तेल को सरसों के तल के साथ मिलाकर गुनगुना करके रोज दिन में दो बार गर्दन पर लगाकर मालिश करें। ऐसा करने से आपको जल्द ही राहत मिलेगा।
लहसुन –

लहसुन में छुपे औषधीय गुणों के कारण यह शरीर में होने वाले हर रोगों को दूर करने वाला प्राकृतिक उपचार माना गया है। सर्वाइकल पेन में लहसुन के उपयोग से काफी राहत मिलती है। इसका उपयोग करने के लिये सरसों, तिल या जैतून के तेल में लहसुन की तीन चार कलियों को डालकर गर्म कर लें। लहसुन के साथ पके इस तेल से दर्द वाली जगहों की मालिश करें। ऐसा करने से आपको जल्द ही राहत मिलने लगेगी। इसके अलावा यदि आप रोज सुबह खाली पेट लहसुन की एक-या दो फली गुनगने पानी के साथ खाएंगे तो आपको सर्वाइकल पेन नहीं होगा, पेट साफ रहेगा और मोटापा तेजी से घटेगा।
गाय का घी है फायदेमंद –

आयुर्वेद में, गाय के घी में पाये जाने पोषक तत्वों के कारण इसे काफी अच्छा उपचार करने वाला माना गया है। माइग्रेन की समस्या हो या सर्वाइकल पेन की यह दर्द देने वाले जिम्मेदार वात तत्‍व को शांत करने के लिए जाना जाता है। इसलिए गाय का घी सर्वाइकल पेन से राहत देने वाला सबसे अच्‍छा घरेलू उपचारों में से एक माना गhttps://www.healthsiswealth.com/या है।





कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.