Header Ads

4 महीने में घटेगा 21 Kg वजन,

4 महीने में घटेगा 21 Kg वजन, बस फॉलो करें भूमि के दिए Weight Loss Tips



फिल्म 'दम लगा के हइशा' से इंडस्ट्री में कदम रखने वाली भूमि पेडनेकर बॉलीवुड की फिट एंड स्लिम हीरोइनों में से एक हैं। हालांकि कभी भूमि का वजन 85 Kg था लेकिन कड़ी मेनत से भूमि ने कम समय में ही वेट लॉस करके सभी को हैरान कर दिया। किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि इतनी हैवी हीरोइन फिट व स्लिम भी हो सकती है।


कभी 87 Kg था भूमि का वजन

बता दें कि पहली फिल्म के लिए 72 Kg वजन होने के बावजूद उन्होंने 15 कि.लो. वजन और बढ़ाया। इसके बाद उनका वजन 87 Kg हो गया था। वजन बढ़ाने के लिए उन्होंने खाने में खूब कैलोरीज ली लेकिन अब की बात करें तो भूमि काफी स्लिम हो गईं।
भूमि ने दिए वजन घटाने के टिप्स

4 महीने में 21 किलो वजन करके भूमि ने सभी को हैरान कर दिया था। इतना ही नहीं, उन्होंने सोशल मीडिया पर अपनी वेट लॉस टिप्स भी शेयर किए, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। तो अगर आप भी उनकी तरह फिट एंड फाइन दिखना चाहती हैं तो उनके दिए टिप्स को जरूर फॉलो करें।


भूमि के वेट लूज टिप्स
भूखे रहकर नहीं, खुश रहकर घटाएं वजन

भूमि का कहना है कि वजन घटाने के लिए सबसे जरूरी है खुश रहना। वजन घटाने के लिए खुद को भूखा रखने की जरूरत नहीं। भूखे रहकर वजन घटाने से आप सिर्फ बीमार होंगे स्लिम नहीं। लिहाजा हेल्दी तरीके से, खुश रहकर, हेल्दी चीजें खाकर और एक्सरसाइज करके वजन घटाएं, भूखे रहकर नहीं।


ऐसा टार्गेट, जिसे आप कर सकें हासिल

उन्होंने कहा वजन घटाने से पहले अपने लिए एक आसन टार्गेट सेट करें। जब आप उस टार्गेट तक पहुंच जाएं उसके बाद और आगे बढ़ने के लिए खुद को मोटिवेट करें जैसे कि आप हफ्तेभर में 5-7 कि.लो. वजन घटाने की बजाए आप 1 हफ्ते में 1 या 2 कि.लो. वेट लॉस का टार्गेट रखें।


खीरे का पानी पीना शुरू किया

वेट कम करने के लिए भूमि अपनी लिक्विड डाइट पर काफी फोकस किया। इसके लिए उन्होंने अपना खुद का एक डिटॉक्स ड्रिंक भी तैयार किया। इसके लिए वो 1 लीटर पानी में 3 खीरे महीन कस कर मिलाए। साथ ही इसमें कुछ पुदीने की पत्तियां और 4 नींबू निचोड़ कर रख लेतीं। इसे फ्रिज में ठंडा कर के दिन भर में पीती थीं।
चीनी से बनाएं दूरी

वह कहती हैं कि वेट लूज डाइट के दौरान उन्होंने घी से लेकर बटर और बटरमिल्क तक सबकुछ खाया लेकिन इन्होंने चीनी से पूरी तरह दूरी बना ली। अगर आप चीनी का सेवन बंद कर दें तो वजन तेजी से कम करने में काफी मदद मिलेगी।


चीट मील्स भी हैं जरूरी

भूमि की मानें तो अपने डाइट चार्ट में चीट मील (हफ्ते में एक बार खुलकर खाना) को भी शामिल करना चाहिए। हफ्ते में 1 दिन डाइट से हटकर कुछ अलग खाने से फ्रूड क्रेविंग शांत होती है। हालांकि इस दौरान आपको हल्का-फुल्का ही खानी चाहिए और ओवरइटिंग भी नहीं करनी चाहिए।
तेज भूख लगी तो स्ट्रॉबेरी ही आई काम 

इंटरव्‍यू में उन्होंने बताया कि जब उन्हें बहुत तेज भूख लगती है तब वो 1 गिलास पानी, 2 चमम्च दही मिला और इसमें स्ट्रॉबेरी मिलाकर पीती हैं। ये ड्रिंक ना सिर्फ इंस्टेंट एनर्जी देती हैं बल्कि इससे भूख भी शांत रहती हैं, जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है।

सोने की आदत से जानें, कितने Healthy हैं आप?


सेहतमंद रहने के लिए जितना जरूरी भरपूर लेना है, उतना ही महत्वपूर्ण है सही पोजीशन में सोना। खराब नींद ना सिर्फ दर्द का कारण बनती है बल्कि इससे डायबीटीज, हाई ब्लड प्रेशर और दिल से संबंधित बीमारियों का खतरा भी बना रहता है। मगर क्या आपको पता है कि आपके सोने की आदतों से सेहत के बारे में कई बातें बताई जा सकती हैं। जी हां स्लीपिंग हैबिट्स से पता लगाया जा सकता है कि आप कितने हेल्दी हैं।


सोने की आदतों से जानें बीमारी
बार-बार पेशाब के लिए जाना

रात में बार-बार पेशाब आना डायबिटीज का लक्षण हो सकता है। अगर आप भी रात में 2 से ज्यादा बार पेशाब जाते हैं तो चेकअप करवाएं क्योंकि यह प्री-डायबीटीज का संकेत हो सकता है। दरअसल, जब खून में शुगर का मात्रा बढ़ जाती है तो शरीर पेशाब के रास्ते से इसे बाहर निकालने की कोशिश करता है।

अचानक नींद टूट जाना

सोते हुए अचानक नींद खुल जाना रेस्टलेस लेग सिंड्रोम का संकेत ह सकता है। यह एक दिमागी विकार है, जिससे लगभग 3 प्रतिशत आबादी के लोग प्रभावित है। अगर लगातार ऐसा हो तो डॉक्टर से संपर्क करें।


सोते समय झटके महसूस होना

जब रात को आप गहरी नींद में सो रहे होते हैं तो अचानक आपको झटके आने लगते है। ऐसा तब होता है जब आप सपना देख रहे होते हैं। कभी-कभी तो आप अचानक चिल्लाने भी लगते है। इस अवस्था को 'हाइपेनिक जर्क' कहा जाता है। एक रिसर्च के अनुसार दुनिया भर में 70 प्रतिशत लोग इस स्थिति को जरूर महसूस करते हैं।

सांस लेने में परेशानी

स्लीप ऐप्निया बीमारी के कारण सोते समय सांस लेने में परेशानी होती है। मौजूदा समय में लोगों में यह बीमारी काफी बढ़ रही है, जिसका सबसे बड़ा कारण है खराब दिनचर्या।


करवट बदलना और दिल तेज धड़कना 

अगर आप रात को करवटें बदलते रहते हैं या अचानक दिल की धड़कने तेज हो जाती हैं तो यह ओवरऐक्टिव थायरॉयड के कारण हो सकता है। ऐसा होने पर आपको डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए।


सोते समय हिल ना पाना
क्या आप भी सोते हुए अचानक जाग जाते हैं या अपने शरीर को हिला नहीं पाते। अगर ऐसा है तो आप स्लीप पैरालिसिस यानि निद्रा लकवा के शिकार हैं। स्लीप पैरालिसिस एक ऐसी अवस्था है जब कोई नींद से उठता है और देखता है कि उसका पूरा शरीर लकवाग्रस्त हो गया है। ऐसे में वह अपने शरीर के किसी भी अंग को हिला-डुला नहीं पाता। ऐसा अक्सर उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जो नार्कोलेप्सी या निद्रा रोग से ग्रस्त होते हैं। नींद से संबंधित इस समस्या में सोते या जागते समय मांसपेशियों की निष्क्रियता शामिल है।

अच्छी और गहरी नींद लेने के तरीके

शरीर का तापमान सामान्य रहने से नींद ज्यादा अच्छी आती है इसलिए सोने से पहल कभी भी ठंडे पानी से स्नान न करें।

सोने से पहले चाय, कॉफी या किसी तरह के एनर्जी ड्रिंक का सेवन न करें। इसकी बजाए आप सोने से पहले गर्म दूध का पीएं। इससे आपको अच्छी नींद आएगी।

रात में सोने से पहले तलवों पर सरसों के तेल से मालिश करनी चाहिए। इससे दिमाग शांत और स्थिर होता है, जिससे नींद अच्छी आती है।

रात को हैवी खाना खाने से भी नींद न आने की परेशानी हो सकती है। रात के समय हल्का-फुल्का खाना खाएं। जिससे पेट में गैस बनने की परेशानी नहीं होगी।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.