Header Ads

स्वस्थ चमकती त्वचा के लिए 10 सर्वश्रेष्ठ फल


स्वस्थ चमकती त्वचा के लिए 10 सर्वश्रेष्ठ फल
फल में विटामिन्स, एंटीऔक्सिडेंट एवं फाइबर की मात्रा पाई जाती है। फाइबर पाचन क्रिया को दुरुस्त रखने में सहायक होती है। जिससे शरीर के विषैले पधार्थ उत्सर्जन क्रिया द्वारा शरीर से बाहर निकल जाते हैं।

एंटीऔक्सिडेंट स्किन में बनने वाली फ्री रेडिकल्स को नष्ट करने में सहायक होती है। विटामिन्स स्किन सेल्स में लचीलापन एवं कोलेजन के निर्माण में सहायक होती है। जिससे त्वचा में बढ़ती उम्र में कोलेजन की कमी से पड़ने झुर्रियाँ एवं रूखापन आदि की समस्या नहीं होती है।

जिससे स्किन की चमक बनी रहती है। प्रत्येक व्यक्ति की ख्वाईश चमकदार जवां त्वचा पाने किए होती है। आपकी भी होगी। तो आइये जाने ऐसे कौन से फल हैं जिन्हें नित्य आहार में शामिल करने से स्वस्थ ग्लोइंग स्किन पाया जा सकता है।
स्वस्थ चमकती त्वचा के लिए 10 सर्वश्रेष्ठ फल

● केला

हमारे स्किन में माँस एवं ज्यादा तला-भुना मिर्च मसाले युक्त आहार के सेवन से टोक्सिक एसिड का निर्माण होता रहता है। जिससे स्किन में पिम्पल्स की समस्या हो जाती है। नित्य आहार में केले का सेवन करने से इस एसिड के फार्मेशन को रोका जा सकता है। जिससे चमक बनी रहती है।

● खीरा


खीरा में प्रचुर मात्रा में फाइबर एवं पानी की मात्रा मौजूद होती है। रोज़ सलाद में खीरा का सेवन करने से कब्ज की समस्या नहीं होती है। इसमें मौजूद पानी की मात्रा से स्किन हाइड्रेट रहती हैं। जिससे स्किन चमकदार बनी रहती है।

● अनानास
अनानास में मौजूद विटामिन सी की मात्रा एंटीऔक्सिडेंट का काम करती है। ये त्वचा में लचीलापन बनाए रखने एवं नए सेल्स के निर्माण में सहायक होती है। अनानास के सेवन से रुखी त्वचा भी मुलायम एवं चमकदार बन जाती है।

● निम्बू


निम्बू में विटामिन सी की प्रचुर मात्रा पाई जाती है। रोज़ सुबह खाली पेट निम्बू पानी पीने से त्वचा हाइड्रेट एवं चमकदार बनी रहती है।

● सेब

सेब में विटामिन सी, एंटीऔक्सिडेंट, विटामिन बी , फाइबर एवं मिनरल्स की मात्रा पायी जाती है। रोज़ एक सेब खाने से स्किन स्वास्थ्य एवं चमकदार बनी रहती है।
● अनार

रोज़ आहार में अनार के सेवन से कब्ज, स्किन में पिम्पल्स आदि की समस्या नहीं होती है। इससे शरीर में खून की कमी पूरी होती है। जिससे स्किन चमकदार बनी रहती है।

● संतरा

ऑरेंज में विटामिन सी एवं एंटीऔक्सिडेंट स्किन में झुर्रियाँ एवं दाग-धब्बे पड़ने से रोकती है, और मृत कोशिकाओं की मरम्मत में सहायक होती है। जिसके कारण स्किन चमकदार बनी रहती है।
● रास्पबेरी

इस फल को खाने से बढ़ती उम्र में स्किन में पड़ने वाली झुर्र्यों का प्रभाव धीमा हो जाता है। विटामिन सी से भरपूर होने के कारण त्वचा की की मृत कोशिकाओं की मरम्मत करने में सहायक होने के साथ ही स्किन में कोलेजन के स्टार में वृद्धि करती है। जिसके कारण स्किन जवां एवं चमकदार बनी रहती है।

● गाजर

गाजर में विटामिन ए एवं एंटीऔक्सिडेंट की प्रचुर मात्रा पाई जाती है। जो सूरज की अल्ट्रा वायलेट किरणों से स्किन को होने वाले नुक्सान से बचाती है। इसके अतिरिक्त नयी स्किन सेल्स के निर्माण एवं मृत कोशिकाओं की मरम्मत करने में सहायक होती है।

● पपीता

पपीता में मौजूद एंजाइम, मिनरल्स एवं विटामिन्स पाई जाती है। जो स्किन के डेड सेल्स को रिपेयर करने एवं बढ़ती उम्र में पढने वाली झुर्र्यों की गति को धीमी करने में सहायक होती है। फलस्वरूप स्किन की ग्लो बरकरार रहती है।


वज्रासन के फायदे

योग और रोग दोनों का छत्तीस का आंकड़ा है । दोनों एक दूसरे के दुश्मन है जो लोग नित्य योग करते है उन्हें कभी रोग नही होता। चाहें वजन कम करना हो या फिर कोई पुराना रोग दूर भागना हो योग से अच्छा उपाय कोई नही है । बड़ी से बड़ी बीमारी हमारी छोटी छोटी लापरवाही के कारण ही जन्म लेती है। क्या आप भी परेशान है कब्ज की समस्या से ? या फिर हो रहे है बढ़ते हुए वजन का शिकार , मासिक धर्म मे अनियमितता ऐसे अनेक परेशानियों को खत्म करने का एकमात्र इलाज है वज्रासन। आइए जानते है कैसे और कब किया जाता है 
वज्रासन और इससे होने वाले अनेक लाभ क्या है ।

वज्रासन एक प्रकार का योग आसन है जिसका आप नित्य अभ्यास कर सकते है । ज्यादार आसान , किसी भी प्रकार के भोजन को करने के पहले किए जाते है लेकिन यह एक ऐसा आसान है जो भोजन के पश्चात किया जाता है।


वज्रासन करने की विधी – वज्रासन करने के लिए एक समतल ओर साफ जगह पर बैठ जाये । इसे भोजन के कम से कम 15 से 20 मिनट के बाद किया जा सकता है । अब आप अपने घुटनों को जमीन पर टिकाकर अपने पैरो पर बैठ जाए। इस तरह के आपके हिप्स आपके पैरो के ऊपर हो ।आपके पैर के अंघुठे मिले हुए और आपके दोनों हाथ अपने जांघो पर रखे। इसी मुद्रा में अपने शरीर को एकदम आरामदायक महसूस कराए लेकिन रीढ़ की हड्डी को एकदम सीधा रखे और ग़हरी सांस ले। यह प्रक्रिया कम से कम पांच मिनट तक कि जानी चाहिए।


वज्रासन से होने वाले फायदे – वज्रासन का सबसे बड़ा फायदा है वह आपकी पाचन शक्ति को बढ़ाएगा ओर भोजन पचाने में शरीर की मदद करेगा। जिससे कि एसिडिटी, अपच ओर कब्ज जैसी बीमारियां आपको छू भी नही पाएंगी। इतना ही नही यह आपकी आँखों की दृष्टि के लिए भी बहुत ही फायदेमंद होता है।

इस आसन में बैठने से आपकी रीढ़ की हड्डी को भी मजबूती प्रदान होती है और आपके पोस्चर में सुधार आता है ।
सांस पर नियंत्रण होने के कारण इस आसन से उच्च रक्तचाप वालो को काफी फायदा मिलता है और उनका मन स्थिर रहता है। मन मे ठहराव आने के कारण चंचलता समाप्त होती है जिससे कि बुद्धि बाद जाती है और याददाश्त मजबूत होने लगती है ।

भोजन के बाद यह आसन इसलिए किया जाता है कि खाया हुआ खाना अच्छी तरह पच सके जिससे की अतिरिक्त वजन से छुटकारा मिल जाये। इस आसन में बैठने के कारण जो भी अतिरिक्त चर्बी होती है वह काम होती हुई चलती है । नितम्ब , कमर सुंदर पर आकर्षक दिखाई देने लगते है ।




जिन महिलाओं को अनियमित मासिक धर्म की शिकायत है वह इस आसन को करे। उन्हें इससे जरूर ही लाभ होगा। यह आसन करने से प्रजनन क्षमता भी बाद जाती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.