Header Ads

***शारीरिक सम्बन्ध***

***शारीरिक सम्बन्ध***
शारीरिक सम्बन्ध जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है, और आपके जीवन को सुखी और बेहतर बनाने के लिए शारीरिक सम्बन्ध को पूरक माना जाता है। और शारीरिक सम्बन्ध बनाते समय दोनों साथी का पूरा सहयोग भी होना जरुरी होता है। तो आज आपको शारीरिक सम्बन्ध को खास बनाने के तरीके बताने जा रहे है।
शारीरिक सम्बन्ध का शादीशुदा जीवन में बहुत महत्व होता है, अगर इसमें आई कमी हो तो तो कपल्स को रिश्ते टूटने की कगार पर पहुँच जाते है, और यदि शादीशुदा जिंदगी में शारीरिक सम्बन्ध बेहतर हो तो आपकी लाइफ के मजे को दुगुना किया जा सकता है, तो क्या आप जानते ही महिला को सम्बन्ध के दौरान कौन कौन सी चीजें प्रभावित करती है, क्योंकि शारीरिक सम्बन्ध सम्बन्ध बनाते समय दोनों के लिए जरुरी होता हैं, क्योंकि यदि एक भी शारीरिक सम्बन्ध बनाते समय दूसरे का साथ नहीं देता है, तो इसके कारण आप शारीरिक सम्बन्ध को बेहतर नहीं बना सकते है,

इसलिए यदि दूसरे साथी का मन नहीं होता है, तो आपको सबसे पहले उन्हें उत्साहित करने की कोशिश करनी चाहिए, जैसे की अंगो से छेड़छाड़ करें, या सम्भोग के बारे में बातें करें, और धीरे धीरे उन्हें शारीरिक सम्बन्ध बनाने के लिए तैयार करें।लेकिन क्या आप जानते है महिलाओ को कौन सी सेक्स पोज़िशन्स सबसर खास लगती है, जो शारीरिक संबंध बनाने के दौरान उन्हें चरम सीमा तक ले जाने में मदद करती है, और आप दोनों मिल कर इस लम्हे का भरपूर आनंद उठा सकते है। चलिए आज हम आपको ऐसी 4 पोज़िशन्स के बारे में बताने जा रहे है जो महिलाओ के लिए बहुत खास होती है।
शारीरिक सम्बन्ध के दौरान पुरुष महिला के ऊपर होता है, जो की आम होता है, परंतु यदि आप महिला को अपने ऊपर लिटा लेते है, तो इससे आप महिला को और भी ज्यादा चरम सीमा तक ले जाने में मदद कर सकते है।
यदि आप अपने साथी को जोर से पकड़ते है, अपने दांतो से प्यार से कर कर लव बाइट देते है, महिला के बालों को प्यार से खींचते है, एक दूसरे को अपनी तरफ खिंचाव करते है, ये कुछ ऐसे तरीके है जिससे आप महिला को शारीरिक सम्बन्ध बनाते समय चरम सुख तक पहुँचाते है।
शारीरिक सम्बन्ध बनाते समय यदि महिला पुरुष की जांघो पर बैठ जाती है, और शारीरिक सम्बन्ध बनाते है, और किस करते है, और एक दूसरे को बहुत प्यार से पकड़ते है, तो इससे महिला के सीधे दिल से संपर्क होता है, और इस प्रक्रिया से प्यार का अहसास भी दुगुना हो जाता है, और आप अपने साथी को शारीरिक सम्बन्ध में महिला को अच्छे से संतुष्ट कर सकते है।
महिला को उल्टा लिटाकर सम्भोग करने से भी आप महिला को शारीरिक सम्बन्ध बनाते समेत महिला को चुम्बन देने से महिला बहुत उत्त्साहित होते है।
तो आप इन टिप्स को अपना कर अपने साथी को प्यार का अहसास कराने के साथ उन्हें चरम सुख तक ले जा सकते है, और शारीरिक सम्बन्ध में बेहतरी के साथ आप अपने शादीशुदा जीवन को भी बेहतर बना सकते है, और इसे दुगुना भी कर सकते है।

कैसे पायें यौन दुर्बलता से छुटकारा और लें जीवन का भरपूर आनंद 
आयुर्वेद के द्वारा यौन रोग, यौन दुर्बलता, आंशिक व नपुंसकता का सही रूप से इलाज किया जा सकता है। आयुर्वेद के अंदर मुख्य चिकित्सा ग्रंथ चरक संहिता, सुश्रुत संहिता में संभोग शक्ति को बढ़ाने जैसे कार्य करने के अंदर आने वाला यौन विकार व यौन दुर्बलता से संबंध रखने वाले सभी कारण तथा अलग-अलग परिस्थितियों में अलग-अलग तरह की औषधि से इलाज करना बताया गया है। यदि यौन दुर्बलता का पूरे भरोसे व शांति के साथ इसका उपचार किया जाए तो इसका सम्पूर्ण इलाज किया जा सकता है।
यौन की दुर्बलता से मिलते-जुलते कई कारणों में से अधिकतर वजह हमारी अज्ञानता व गंदे हुए दिमागी हालात से जुड़े हुए होते हैं लेकिन अनेक कारण ऐसे भी होते हैं जो हमारे शरीर की क्रियाओं और प्रतिक्रियाओं से जुड़े हुए होते हैं। आयुर्वेद के अनुसार दिन का रहन-सहन, मौसम के अनुसार रहन-सहन (कौन-कौन से मौसम में क्या-क्या खाना-पीना करना चाहिए), रस वाले फलों का सेवन, सेक्स क्रिया को बढ़ाने वाले पदार्थों का इस्तेमाल करने से यौन बीमारियां समाप्त हो जाती हैं परंतु काफी लंबे समय तक ठीक यौन जीवन का भरपूर आनन्द लिया जा सकता है।

आयुर्वेद की चरक संहिता के अनुसार मनुष्य की यौन शक्ति को वाजी (घोड़े) की तरह ही बनाने की प्रक्रिया ही सेक्स शक्ति को बढ़ाने वाली होती है। इसका इस्तेमाल करने के बाद पुरुष सेक्स से संबंधित सभी सुखों को प्राप्त कर सकता है। सेक्स शक्ति को बढ़ाने वाले पदार्थ तीन तरह के होते हैं-
जैसे किसी अति सुंदर स्त्री को देखने व स्पर्श करने मात्र से ही वीर्य का निकलना शुरू हो जाता है –
अश्वगंधा, सफेद मूसली, दूध तथा घी, ये कुछ ऐसे पदार्थ होते हैं जिनका इस्तेमाल करने से ही वीर्य की बहुत अधिक बढ़ोत्तरी होती है।
उड़द जैसे कुछ पदार्थ ऐसे होते हैं जिसके सेवन करने पर वीर्य की बढ़ोत्तरी व वीर्य का बहना दोनों ही क्रियाएं एक साथ होती हैं।

आचार्य चरक के अनुसार सबसे ज्यादा सेक्स क्षमता को बढ़ाने वाली सबसे सुंदर स्त्री ही होती है। जिस स्त्री की उम्र, आवाज, उसका रंग-रूप, उसके शरीर की हरकतें और वह आपके विचारों के काबिल हो, ऐसी स्त्री अधिक सेक्स क्षमता को बढ़ाने वाली होती है।

कुछ आयुर्वेदिक उपाय –

उदड़ की दाल –
घी के साथ उड़द की दाल को भूनकर और इसके अंदर दूध को मिलाकर तथा अच्छी तरह से पकाकर इसकी खीर तैयार कर लें। इसके बाद इसमें चीनी या खांड मिलाकर इसका इस्तेमाल करने से वीर्य में बढ़ोत्तरी होती है तथा संभोग करने की शक्ति भी बढ़ जाती है।

urad ki dal

शतावरी का चूर्ण –

शतावरी के चूर्ण 20 ग्राम को 150 मिलीलीटर गाय के दूध के साथ मिलाकर 600 मिलीलीटर पानी के अंदर उबाल लें। उसके बाद केवल दूध बाकी रह जाने पर इसे आंच से नीचे उतारकर इसके अंदर चीनी या खांड मिलाकर इस दूध को पीने से सेक्स करने की शक्ति बढ़ जाती है तथा शिश्न (लिंग) में भी बहुत अधिक उत्तेजना आ जाती है।

Shatavari_Planting_material

आंवला –

100 ग्राम आंवले के चूर्ण को लेकर आंवले के रस में 7 बार भिगों लें इसके बाद इसे छाया में सूखने के लिए रख दें। इसके सूख जाने के बाद इसको इमामदस्ते से कूट-पीसकर रख लें। रोजाना इस चूर्ण को एक चम्मच (लगभग 5 ग्राम की मात्रा में) लेकर शहद के साथ मिलाकर चाट लें तथा इसके ऊपर से एक गिलास दूध पी लें। इसके सेवन करने से संभोग क्रिया में अजीब की शक्ति प्राप्त होती है।

aanvala

सेमल की जड़ –

5 मिलीलीटर से 10 मिलीलीटर के आसपास पुराने सेमल की जड़ का रस निकालकर व इसका काढ़ा बना लें तथा इसके अंदर चीनी मिला लें। इस मिश्रण को 7 दिनों तक पीने से वीर्य की बहुत ही अधिक बढ़ोत्तरी होती है।

विदारीकंद –

6 ग्राम विदारीकन्द के चूर्ण में चीनी व घी मिला लें। इस चूर्ण को खाने के बाद इसके ऊपर से दूध पीने से वृद्ध पुरुष की भी संभोग करने की क्षमता वापस लौट आती है।

vidari kand

कौंच के बीज –

तालमखाने तथा शुद्ध कौंच के बीज के चूर्ण को बराबर-बराबर मात्रा में लेकर इसके अंदर दुगुनी मिश्री मिलाकर इसका चूर्ण बनाकर रख लें। रोजाना के समय में 2 चम्मच चूर्ण (लगभग 10 ग्राम के आसपास) को ताजे दूध के साथ मिलाकर खाने से सेक्स क्रिया करने की शक्ति सें आई कमजोरी भी नष्ट हो जाती है।

गोखरू –

तालमखाने के बीज, गोखरू, शुद्ध कौंच के बीज, शतावरी, कंघी का जड़ तथा नागबला- इन सबको बराबर-बराबर की मात्रा में ले लें। इनको लेकर कूट-पीसकर इनका चूर्ण बनाकर रख लें। रात के समय में इस चूर्ण की 6 ग्राम की मात्रा को दूध के साथ प्रयोग करें। इस चूर्ण का सेवन करने से पुरुष की सेक्स क्षमता की कमजोरी दूर हो जाती है तथा व्यक्ति संभोग करने में काफी निपुण हो जाता है।

gokharu

काले तिल –

6 ग्राम गोखरू का चूर्ण और काले तिल 10 ग्राम को बराबर मात्रा में लेकर इसे 250 मिलीलीटर बकरी के दूध में उबालकर तथा उसे ठंडा करके शहद को मिलाकर खाना चाहिए। इसका सेवन करने से हैंडप्रैक्टिस (हस्तमैथुन) से यौन क्रिया में आई कमजोरी भी समाप्त हो जाती है।

kala til

इमली के बीज –

10 ग्राम इमली के बीजों को लेकर उन बीजों को पानी में भिगोकर 4-5 दिनों के लिए रख दें तथा पाचवें दिन उन बीजों का छिलका उतारकर उनका वजन करके देखें। उनका वजन करने के बाद उनके वजन से दुगुना पुराने गुड़ को लेकर उन बीजों में मिलाकर रख दें। इसके बाद इन्हें बारीक पीसकर अच्छी तरह से घोट लें। तत्पश्चात इस मिश्रण की चने के बराबर बारीक-बारीक गोलियां बना लें। सेक्स क्रिया शुरू करने के 1 से 2 घंटे पहले दो गोलियों को खा लें। इसका सेवन करने से सेक्स शक्ति में अजीब की शक्ति आ जाती है।

imli ke bij

नागौरी असगंध –

500 ग्राम विधारा और 500 ग्राम नागौरी असगंध- इन दोनों को ले लें। फिर इसे अच्छी तरह से कूट-पीसकर तथा इसे छानकर रख लें। सुबह के समय रोजाना इस चूर्ण को 2 चम्मच खा लें। उसके बाद ऊपर से मिश्री मिला हुआ गर्म-गर्म दूध को पी लें। इस चूर्ण का इस्तेमाल करने से बुजुर्ग व्यक्ति भी जवानों के समान संभोग करने में निपुण हो जाता है।

Ashwgandha

वीर्य को बढ़ाने वाले तथा संभोग करने की कमजोरी को दूर करने वाले पदार्थ एवं भोजन –

अगर हम इन पदार्थों का इस्तेमाल रोजाना तथा ठंड (सर्दी) के मौसम में करें तो संभोग करने की कमजोरी पैदा नहीं होती है। वे कुछ उपाय इस प्रकार से हैं-

भोजन –
सर्दी के दिनों में गाय के दूध में मिश्री मिलाकर पीने से सेक्स करने की कमजोरी दूर हो जाती है। मलाई व मिश्री मिलाकर खीर का सेवन करने से यौन दुर्बलता की समस्या दूर हो जाती है।
उड़द की दाल व बादाम का हलवा खाने से यौन शक्ति की कमजोरी दूर हो जाती है।
छुहारे मिलाकर उबाला हुआ दूध पीना चाहिए। गाय के घी का प्रयोग करना चाहिए।
गोंद के लड्डू तथा तिल के लड्डू को खाने से संभोग करने में आई कमजोरी दूर हो जाती है।

सूखे मेवे –
रात के समय में 4-5 पीस बादाम को भिगोकर, 2 से 4 अंजीर, नारियल की गिरी, छुहारे, तालमखाना. चिलगोजे, पिस्ता तथा 8-10 मुनक्का, इसमें से किसी भी एक चीज का प्रयोग अपनी शक्ति के अनुसार करने से सेक्स क्षमता में आई कमजोरी दूर हो जाती है।

sookhe meve

फल –

चीकू, केला, मीठा अनार, आम, कच्चा नारियल एवं ताजे फलों का रस सेवन मौसम के अनुसार सेवन करने से यौन की दुर्बलता दूर हो जाती है।

Banana-face-packs

अंकुरित अनाज –

अंकुरित गेहूं, अंकुरित मूंगफली, अंकुरित मूंग तथा रिजका (अल्फाल्फा)- इनमें से किसी भी एक पदार्थ का भोजन के साथ या भोजन के बगैर अच्छी तरह से चबा-चबाकर प्रयोग करने से भी सेक्स क्रिया करते समय होने वाली कमजोरी दूर हो जाती है।

ankurit anaj

अन्य पदार्थ –

कैसर और दालचीनी का प्रयोग करने से भी यौन की दुर्बलता दूर हो जाती है।

जड़ी-बूटियां –

कौंच के बीज, विदारीकंद, सफेद मूसली, अश्वगंधा, गोखरू, नागबला, शतावरी, आंवला, तुलसी की जड़ तथा अकरकरा आदि आयुर्वेदिक ताकत को बढ़ाने वाली शक्तिशाली जड़ी-बूटियां है। इन औषधियों का कैसे तथा किस तरह से प्रयोग किया जाए इसके विषय में किसी अच्छे आयुर्वेदिक चिकित्सक से ही सलाह लेनी चाहिए।

आयुर्वेद एक ऐसी चिकित्सा है जिससे सेक्स की कमजोरियों को दूर करने के लिए एक ही नहीं अपितु बहुत से इलाज व उपाय हैं। सभी पुरुषों को ठीक करने के लिए अलग-अलग तरीके के इलाज हैं। ये सभी चिकित्सा उन लोगों के रहन-सहन व अन्य चीजों पर निर्भर करती हैं

स्वप्नदोष की समस्या से छुटकारा पाने के उपाय

युवावस्था में स्वप्नदोष होना बहुत सामान्य है इस उम्र में रात में सोते हुए अपने आप वीर्य निकल जाता है ऐसा नींद में किसी स्त्री से काम करने की इच्छा या काम करते हुए हो जाता है |

अगर महीने में एक दो बार स्वप्नदोष हो तो समान्य बात है अगर इससे ज्यादा बार होता है तो कुछ आदतों को बदलने की और कुछ उपायों को अपनाने की जरुरत है | 

युवावस्था में युवाओं को स्वप्नदोष हो जाता है इसके कई कारण हैं जैसे की हारमोंस में बदलाव आना, हस्तमैथुन करना, स्त्री के बारे में अधिक सोचना और गन्दा साहित्य

पढना या गन्दी मूवीज आदि देखना | जिससे मन पर नियन्त्र नहीं रहता और रात्रि में स्वप्न की अवस्था में अपने आप वीर्य निकल जाता है | 

शादी के बाद स्वप्नदोष की समस्या अपने आप समाप्त हो जाती है | आइये जानते है स्वप्नदोष को रोकने के कुछ आसान उपाय और उससे पहले इसके कारण जान लेना आवश्यक है |

Reason of nightfall (स्वप्नदोष के कारण) :
1. अश्लील साहित्य या कहानिया पढना, अश्लील फिल्मे देखना |

2. स्त्री के बारे में ज्यादा सोचना |

3. अधिक गर्म पदार्थो का सेवन करना |

4. कब्ज होना |

5. अधिक masturbation करना |

How to stop nightfall Precautions (स्वप्नदोष से बचाव के उपाय) :
1. अश्लील साहित्य, कहानिया न पढ़े और अश्लील फिल्मे न देखे |

2. गर्म पानी से न नहाये नहाने के लिए ठन्डे पानी का प्रयोग करें |

3. रात को सोने से तुरंत पहले गर्म दूध न पिए |.

4. सोते समय कोई अच्छा साहित्य पढ़े न की कोई फिल्म वगरह देखे |

5. अपने अंग की सफाई रखे और बालों को साफ़ रखे |

6. मैडिटेशन और योग करें |

7. गलत और बुरी संगती से दूर रहे |

8. पेट को साफ़ रखे क्यूंकि कब्ज होने से भी वीर्य निकल जाता है इसके लिए त्रिफला चूर्ण को दूध के साथ लेने से कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है |

9. सुबह जल्दी उठ जाना चाहिए उठने का सही समय 4 से 6 के बीच होना चाहिए इससे स्वप्नदोष से बचा जा सकता है |

10. कुछ योगासन करके भी स्वप्नदोष की समस्या से बचा जा सकता है जैसे की मयूर आसन, सर्वांगासन और पशिमोतानासन आदि |
11. 2 ग्राम हरड़ के चूर्ण लेकर इसमें समान मात्रा में मिश्री को मिला ले और इस चूर्ण का एक चम्मच सुबह व शाम को पानी के साथ लेने से स्वप्नदोष नहीं होता |

How to stop nightfall with home remedies (अगर बचाव के बाद भी ये समस्या होती है तो आजमाए आयुर्वेदिक उपाय ):
1. जामुन की गुठली का चूर्ण बना ले और इस चूर्ण की 5gm मात्रा पानी के साथ सुबह शाम लेने से लाभ मिलेगा |

2. आवले का मुरब्बा खाए | रोजाना एक पीस खा सकते है | अगर पथरी आदि की समस्या है तो न खाए |

3. तीन चम्मच सफ़ेद प्याज का रस, दो चम्मच अदरक का रस, एक चम्मच शहद और थोडा सा देसी घी मिलाकर पीने से स्वप्नदोष नहीं होता है |

4. लहसुन की दो कलियाँ छील कर पानी के साथ निगल ले इसे रोजाना करें इससे भी स्वप्नदोष की समस्या ठीक होती है |

5. हल्दी पाउडर 3gm लेकर इसमें थोडा शहद मिलाकर लेने से इस समस्या से निजात मिलेगी |

6. छोटी इलायची के बीज और चीनी को बराबर मात्रा में लेकर इसका चूर्ण बना ले | इस चूर्ण का एक चम्मच शहद के साथ सुबह शाम सेवन करने से स्वप्नदोष में लाभ होगा |

7. काली तुलसी के 10 पत्ते रात में पानी के साथ लेने से भी इसमें लाभ होगा |
महिलाओं को सेक्सुअली संतुष्ट करने के लिए...
अकसर मर्दों का एक बड़ा सवाल होता है कि वह कैसे अपनी महिला साथी को बेड पर खुश कर सकें? कौन-सी चीजें है जो स्त्रियों को सेक्सुअली तृप्ति प्रदान करती हैं? आइए जानें कुछ ऐसे टिप्स जिनसे आप अपनी महिला साथी को बिस्तर में फीलगुड करा सकते हैं।

महिलाओं को सेक्सुअली संतुष्ट करने के टिप्स 

फोरप्ले पर दें ध्यान 
सेक्स के दौरान फोरप्ले एक ऐसी चीज है जिसके फायदे अनेक हैं। यह सेक्स से पहले महिला को तैयार करने में मदद करता है। किसिंग, नाजुक अंगों पर हाथ फिराने और अन्य कई माध्यमों से पहले उन्हें तैयार करने की कोशिश करें।लिंग लंबा और सख्त करने के 6 आसान घरेलु उपाय!!

धीरे-धीरे आगे बढ़ें 
फोरप्ले और इससे आगे बढ़ते समय जल्दबाजी ना दिखाएं। उनके मूड के अनुसार अपनी लय बनाएं। इंटरकोर्स भी आराम-आराम से करें और फिर अगर जरूरत हो तो गति बढ़ाएं।

ध्यान केंद्रित रखें 
सेक्स के दौरान महिला पार्टनर को खुश करने के लिए उनके पूरे शरीर को समान रूप से प्यार करना जरूरी है, साथ ही इस दौरान मन को भटकने ना दें।

शरारत करें 
महिलाओं को संतुष्ट करने और उन्हें सेक्स से पहले तैयार करने के लिए कुछ शरारतें करना भी अच्छा होता है जैसे होठों को संवेदनशील अंगों पर फिराना, किसी और तरीके से देह को छूना महिलाओं, जीभ से नाजुक अंगों का स्‍पर्श आदि भी महिलाओं का मन मचलाने के लिए काफी होता है।इन 8 तरीकों से करें अपने से बड़ी उम्र की महिलाओं Impress!!!
ओरल सेक्स आजमाएं 
पुरुषों की भांति महिलाओं को भी ओरल सेक्स पसंद होता है। एक रिसर्च के अनुसार कई महिलाएं ओरल सेक्स से जल्दी चरमसुख तक पहुंचती हैं। महिलाएं सेक्स के दौरान प्राइवेट पार्ट्स पर की गई शरारत को वह अधिक पसंद करती है।

उनके सेंसिटिव पार्ट्स को पहचानें 
जरूरी नहीं कि आपकी फीमेल पार्टनर के ब्रेस्ट ही उनके सबसे सेंसिटिव पार्ट्स हों। हो सकता है गर्दन या कान के पीछे, स्तनों के नीचे, नाभि पर या कमर पर किस करना उनको ज्यादा तड़प पैदा करे।

एक्सपेरिमेंट्स करें 
महिलाओं को सेक्स के दौरान नए प्रयोग करना काफी अच्छा लगता है। वूमेन ऑन टॉप या डॉगी स्टाइल सेक्स पॉजिशन उनको नयेपन का अनुभव करा सकती है। ऐसी पॉजिशन जिनमें महिलाएं आनंद ले, अवश्य आजमानी चाहिए।

ढील ना छोड़ें
सेक्स के दौरान अपनी पकड़ को बिलकुल भी कमजोर ना बनने दें। एक बार लय बना लेने के बाद उसे मुकाम तक पहुंचाकर ही दम लें। चरमसीमा या ऑर्गेज्म के दौरान अपनी महिला साथी को कसकर पकड़ें।

तारीफ करें, थोड़ी बातचीत करें 
अकसर महिलाओं को शिकायत रहती है कि पुरुष डिस्चार्ज होने के बाद चुपचाप सो जाते हैं। तो अगर आप अपनी महिला साथी को बेड पर अधिक खुश करना चाहते हैं तो अगली बार उनसे “उन” हसीन लम्हों के बाद बात करें और उनकी तारीफ करें।

उपरोक्त टिप्स के अलावा बेड पर उनकी खूबसूरती और उनके हुनर की तारीफ करना भी महिलाओं को भाता है। बेड पर महिलाओं को हल्का मसाज देना या साथ में नहाने से भी उन्हें अधिक आनंद की अनुभूति होती है।

फोरप्‍ले की अहमियत सबसे ज्‍यादा
कामक्रीड़ा का असली मजा सिर्फ चरम तक पहुंचने पर ही नहीं है, बल्कि इसके हर पल का भरपूर आनंद लेना चाहिए. फोरप्‍ले भी इसका अहम पार्ट है, जिसका अपना मजा है. फोरप्‍ले के दौरान होने वाली उत्तेजना एकदम अलग तरह की होती है. महिलाओं ने कहा कि पुरुषों को सेक्‍स के मामले में थोड़ा ‘क्रिएटिव’ होना चाहिए. कुछ नया और एकदम अलग अंदाज में किया जाना महिलाओं को खूब भाता है.

महिलाओं के लिए सेक्‍स के लाभ
महिलाएं सेक्‍स के दौरान न सिर्फ आंनद का अनुभव करती है बल्कि सेक्‍स से उन्‍हे कई प्रकार के शारीरिक और भावनात्‍मक लाभ भी होते है, सेक्‍स से महिलाओं के शारीरिक सरंचना में भी परिर्वतन आता है। सेक्‍स के दौरान अपने पार्टनर द्वारा मिले शारीरिक और भावनात्‍मक सर्पोट से महिलाओं में आत्‍मविश्‍वास बढ़ता है। यूं तो महिलाओं में हमेशा सेक्‍स की चाहत होती है, लेकिन मासिक पूरा हो जाने के पांच से सात दिन तक महिलाएं सेक्स के मूड में ज्यादा होती हैं क्योंकि मासिक चक्र पूरा होने के बाद सेक्स वाले हार्मोस सक्रिय हो जाते हैं। महावारी के पांच से सात दिन में सेक्स करना ज्यादा ही आनंद की अनुभूति कराता है साथ ही इसका लाभ कम से कम 12 दिनों तक रहता है। महावारी के बाद महिलाओं में सेक्स की तीव्र इच्छा जागृत होना स्वाभाविक है, क्योंकि इन दिनों में गर्भधारण की संभावना कम हो जाती। वैसे तो यह शारीरिक जरूरत का एक आम हिस्‍सा है। सेक्स वैवाहिक संबंधों को सुखी बनाता है और भविष्य में दोनों के बीच सेक्स को लेकर दूरियां कभी नहीं आती। (सेक्स से संबंधी रोचक तथ्य)

महिलाओं में सेक्‍स के दौरान से शरीर में कैलोरी का जलन होता है जिससे महिलाओं में वजन कम होता है, यह एक शारीरिक व्‍यायाम है जो आपको स्‍वस्‍थ रखता है।
महिलाओं में सेक्स उन्मुक्ति को बढ़ाता है, और एक अलग ही आनंद का अनुभव कराता है।
महिलाओं में सेक्‍स कई बीमारियों को कम करता है जैसे सर्दी और अन्य बीमारियों के संक्रमण से शरीर की प्रतिरक्षा करता है, और आपको स्‍वस्थ बनाता हैं।
महिलाओं में सेक्स तनाव को कम करता है और उन्‍हें खुश रखने में मदद करता है।
महिलाओं में सेक्‍स रक्तचाप को भी कम करता है सेक्‍स से रक्‍तचाप नियंत्रित रहता है और कई प्रकार की बीमारियों से मुक्ति मिलती है।
सेक्स दिल को मजबूत बनाता है, जिससे दिल से जुड़ी बीमारियों की संभावना कम होती एक सप्ताह में सेक्स दो बार या दो से अधिक बार सेक्‍स करने से महिलाओं में घातक दिल के दौरे की संभावना उन महिलाओं के तुलना में कम हो जाती है, जो कम सेक्स करती है
सेक्स महिलाओं में आत्मसम्मान को बढ़ाता है।
सेक्स अंतरंगता और रिश्तों को बेहतर बनाता है। वैवाहिक जीवन को मजबूत बनाता है।
सेक्स करने से कई बीमारियों के दर्द से राहत मिल सकती हैं, जैसे गठिया, सिर दर्द इत्‍यादि में सेक्स के बाद कुछ राहत पा सकते हैं।
सेक्स महिलाओं कैंसर, सिस्‍ट जैसी बीमारियों के भी खतरे को भी कम करता है।
महिलाओं में सेक्स पैल्विक मांसपेशियों को मजबूत बनाता है। संभोग के दौरान उनकी पैल्विक मांसपेशियों का व्यायाम होता है जिससे महिलाओं में असंयम का जोखिम कम हो जाता है।
बेहतर नींद के लिए सेक्स जरूरी है। संभोग के बाद, महिलाओं को बेहतर नींद आती है और स्वास्थ्य लाभ होता है।
लिंग बाहर निकल कर स्खलन करना कितना :

1. लिंग बाहर निकल कर वीर्य स्खलन गर्भ से बचने का अचूक तरीका है
ये तरीका साधारण है, स्खलन से ठीक पहले लिंग बाहर खींच लिया जाये ताकि योनि के अंदर वीर्य न पहुंचेI ये तरीका कारगर तो हो सकता है लेकिन सौ फीसदी कामयाब नहींI
जब इससे तरीके का प्रयोग सही तरीके से किया जाये तब भी 100 में से 4 महिलाओं को गर्भ ठहर ही जाता हैI और जिन लोगों ने इस काम में दक्षता हासिल नहीं की है, उन् लोगों में गर्भ ठहरने का हर साल का प्रतिशत 27 तक पाया गयाI यदि पुरुष सही समय पर लिंग बाहर खींच भी ले तो भी गर्भ ठहरने की पूरी सम्भावना को नाकारा नहीं जा सकता क्यूंकि सेक्स के दौरान संभव है की थोड़ी मात्रा में वीर्य का रिसाव हो रहा हो और आप अनभिज्ञ होंI यही छोटी मात्रा का रिसाव गर्भ की वजह बन सकता हैI
2 : लिंग बाहर निकल कर स्खलन करना आसान क्रिया है
यह सुनने में आसान भले ही लगता हो, लेकिन असल में उतना आसान नहीं है, खासकर उनके लिए जो हाल ही मैं ये तरीका अपनाने लगे हैंI इसके लिए दोनों साथियों में सही तालमेल की ज़रूरत होती हैI अनचाहे गर्भ के खतरे से सुरक्षा के लिए ज़रूरी है की आप कोई और विश्वसनीय तरीका अपनाएंI
3 : सही समय पर लिंग खींच लेने के लिए पुरुषों पर भरोसा किया जा सकता है
वो जोड़े जिनमे आत्म-नियंत्रण, अनुभव और विश्वास हो, इस तरीके का उपयोग सही तरीके से कर सकते हैंI अगर तीनो में से एक भी चीज़ की कमी हो तो बेहतर है की कोई और तरीका अपनाया जायेI जो पुरुष इस तरीके का प्रयोग करते हैं, उन्हें इस बात का सही अंदाज़ा होना चाहिए की कब उनका स्खलन होने वाला है, क्यूंकि गलती की गुंजाइश बहुत काम हैI इसलिए यह तरीका अनुभवहीन या शीघ्रपतन से जूझ रहे पुरुषों के लिए उपयुक्त नहीं हैI क्यूंकि अगर सही समय पर लिंग बाहर न निकला जाये तो गर्भ ठहर सकता हैI
4 : लिंग बाहर निकल कर स्खलन करना कारगर नहीं है
इस तरीके को अक्सर असरदार तरीका नहीं मन जाता जबकि सच ये है की 60 प्रतिशत जोड़ों ने इसका प्रयोग कभी न कभी ज़रूर किया हैI
हालाँकि गटमाकर संस्थान, न्यू यॉर्क द्वारा की गयी रिसर्च से पता चलता है की अगर लिंग को सही समय बाहर निकल लिया जाये तो अनचाहे गर्भ से 96 फ़ीसदी तक बचा जा सकता हैI कंडोम की मदद से इस बचाव की संख्या है 98 फीसदीI ज़्यादा फर्क नहीं, है ना?
सही तरीके से अंजाम दिया जाये तो ये अवश्य एक कारगर तरीका हो सकता हैI बात ये है की हर बार इसे सही अंजाम देना शायद आसान नहीं हैI लेकिन फिर भी, कोई तरीका इस्तेमाल ना करने से बेहतर ये तरीका ही हैI 5 : इसका प्रयोग सिर्फ गैर ज़िम्मेदार लोग करते हैं
हाल ही के एक अमरीकी अध्यन से पता चलता है की 5 फीसदी लोग गर्भ से बचाव के लिए केवल इसी तरीके का प्रयोग करते हैं, 15-44 साल की 60 फीसदी महिलाओं ने इस तरीके का इस्तेमाल कभी ना कभी किया हैI कहानी का सार ये है कि हर उम्र के लोग गर्भ से बचने के लिए इसका प्रयोग करते हैंI
6 : रिसाव वाले वीर्य में शुक्राणु नहीं होते
हर पुरुष को जाने अनजाने में थोड़ा वीर्य का रिसाव हो सकता हैI कई रिसर्च इस बात कि पुष्टि करती हैं कि रिसाव वाले वीर्य में शुक्राणु मौजूद नहीं होते, लेकिन ये रिसाव पहले के बचे हुए वीर्य के साथ बाहर आकर गर्भ का कारण बनने में सक्षम अवश्य हैI इसलिए बेहतर है कि सेक्स से पहले पेशाब किया जाये और लिंग को अच्छी तरह धोकर साफ़ किया जायेI
7 : इस तरीके के इस्तेमाल से सेक्स संक्रमण का खतरा नहीं है
नहीं! इस तरीके से सेक्स संक्रमण का खतरा पूरी तरह से हैI कंडोम ही सेक्स संक्रमण से बचने का सही तरीका हैI
8 : किसी तैयारी कि ज़रूरत नहीं
किताबी तौर पर तो किसी तैयारी कि ज़रूरत नहीं हैI लेकिन फिर भी, सेक्स से पहले यह बेहतर होगा कि पेशाब के ज़रिये बचा खुचा शुक्राणु वाला वीर्य फ्लश कर दिया जायेI लिंग को साफ़ कर लिया जायेI यदि स्खलन महिला के शरीर के ऊपर किया गया है तो उसे भी अच्छी तरह से साफ़ कर लेना ज़रूरी हैI 

उत्तेजना लाने और स्तम्भन शक्ति बढ़ाने के लिए। Sex Power
आज कल की जीवन शैली, खान पान, अत्यधिक मैथुन और दवाओ के सेवन से कमज़ोर हो चुकी यौन शक्ति में उत्तेजना और स्तम्भन शक्ति बढ़ाने के लिए ये उपचार बहुत सहायक और आसान हैं। आइये जाने।

* एक लौंग को चबाकर उसकी लार को लिंग के पिछले भाग पर लगाने से संभोग करने की शक्ति तेज हो जाती है।

* बकरी के घी को लिंग पर लगाने से लिंग मजबूत होता है और उसमें उत्तेजना आती है।

* धतूरा, कपूर, शहद और पारे को बराबर मात्रा में मिलाकर इसके लेप को लिंग के आगे के भाग (सुपारी) को छोड़कर बाकी भाग पर लेप करने से संभोग शक्ति तेज हो जाती है।

* हीरा हींग को शुद्ध शहद में मिलाकर लिंग पर लेप करने से शीघ्रपतन का रोग जल्दी दूर हो जाता है। लिंग पर इस मलहम अर्थात लेप को लगाने के बाद शीघ्रपतन से ग्रस्त रोगी अपनी मर्जी से स्त्री के साथ संभोग करने का समय बढ़ा सकता है।

* 10 ग्राम दालचीनी का तेल और 30 ग्राम जैतून के तेल को एक साथ मिलाकर फिर इस तेल की कुछ बूंदों को लिंग पर लेप करते रहने से शीघ्रपतन की शिकायत दूर हो जाती है, संभोग करने की शक्ति बढ़ती है। इस क्रिया के दौरान लिंग को ठंडे पानी से बचाना चाहिए।

* काले धतूरे की पत्तियों के रस को टखनों पर लगाकर सूखने के बाद संभोग करने से संभोग क्रिया पूरी तरह से और संतुष्टि के साथ संपन्न होती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.