Header Ads

जानिए लड़कियों की जींस में क्‍यों दी जाती है चेन

जानिए लड़कियों की जींस में क्‍यों दी जाती है चेन


जींस में चेन – लड़कियों और उनके पहनावे के बारे में कई सारी ऐसी चीज़ें हैं जो बहुत दिलचस्‍प हैं लेकिन अब तक इनसे हम अनजान हैं।


लड़कियों के कपड़े लड़कों से बहुत अलग होते हैं क्‍योंकि उनके पास पहनने के लिए काफी वैरायटी और ट्रेंड होते हैं। जबकि लड़कों को तो बस जींस-टी शर्ट, कमीज़ में ही देखा जाता है।

लड़कियों के वार्डरोब में जींस सबसे जरूरी होती हैं।

आजकल लड़कियां सूट-सलवार से ज्‍यादा जींस में कंफर्टेबल महसूस करती हैं। जींस की बात करें तो लड़कों की जींस में आगे चेन बनाने का मतलब समझ आता है लेकिन लड़कियों की जींस में आगे चेन होने का क्‍या मतलब है ?

जी हां, क्‍या आपने कभी सोचा है कि लड़कियों की जींस में चेन क्‍यों होती है?


चलिए आज हम आपको बताते है जींस में चेन क्यों होती है और आपके साथ ये दिलचस्‍प जानकारी साझ़ा करते हैं।


जींस में चेन –
लड़कियों की जींस में चेन क्यों होती है !



कई लोगों को, खासकर कि लड़कों को लगता है कि जींस में आगे चेन मूत्र विसर्जन के लिए दी जाती है तो फिर लड़कियों की जींस में ये चेन देने की क्‍या जरूरत है। आपको बता दें कि जो जींस ओरिजनल डेनिम से बनाई जाती है वो बहुत कम लचीली होती है। चूंकि लड़कों की अपेक्षा लड़कियों की कमर का साइज़ थोड़ा ज्‍यादा बड़ा होता है इसलिए उनकी जींस में भी चेन दी जाती है ताकि उन्‍हें इसे पहनने में परेशानी ना हो।


जींस की जेब में छोटी जेब



अब बात करते है जींस में होने वाली जेब की। क्‍या आपने कभी गौर किया है कि जींस के आगे वाली जेब में एक छोटी सी जेब भी होती है ? क्‍या आप इसके होने की वजह बता सकते हैं ?


इसके पीछे भी एक इतिहास है जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगें। कहा जाता है कि इस छोटे पॉकेट की शुरुआत सबसे पहले लेवी स्‍ट्रॉस नाम की कंपनी ने की थी जो आज लेवाइस के नाम से जानी जाती है। इसी की वजह से आज हमारी जींस में छोटी पॉकेट है।


अब आपको बता दें कि जींस में जिसे आप छोटे पॉकेट के नाम से जानते हैं उसका असल नाम वॉच पॉकेट है और उसे काउ बॉयज़ के लिए खासतौर पर तैयार किया गया था। ये पॉकेट मुख्‍य रूप से घड़ी रखने के लिए बनाई गई थी। इसका इतिहास 1879 से आज तक है।


बताया जाता है कि 18वीं सदी में काउ बॉयज़ चेन वाली घडियां रखा करते थे और तभी से लेवाइस कंपनी ने जींस में छोटी जेब बनाना शुरु कर किया ताकि काउ बॉयज़ इसमें अपनी घड़ी रख सकें।


वहीं इसके पीछे एक और कारण बताया जाता है कि इस छोटी सी जेब में घड़ी रखने से गिरने का डर नहीं रहता था और ना ही पॉकेट में रखी दूसरी चीज़ों से इसमें स्‍क्रैच लगने का डर था।


देखिए, आपकी जींस की ये छोटी सी जेब कितना बड़ा इतिहास लेकर बैठी है।

वैसे अब तो आपको जींस के बारे में काफी कुछ पता चल गया होगा। अब तो आप ये भी जान गए होंगें कि लड़कियों की जींस में चेन क्‍यों होती है। अब इस चेन को लेकर कोइ गलत धारणा मत रखिएगा।

लड़कियों की जींस में क्यों दी जाती है चेन

आज के समय में लड़को लड़कियों का जींस पहनना सदाहरण सी बात है। आज के समय में हेर एक व्यक्ति जीन्स पहनता है। लड़को और लड़कियों की जीन्स ज्यादातर समान ही होती है। कहने का एक जैसी होती है। अक्सर कई लोगों के मन में यह सवाल उठता है की आखिर लड़कियों की जीन्स में चेन क्यों बनायीं है| इसका जवाब देना थोड़ा मुश्किल है। परन्तु आज हम आपको बातयेंगे की आखिर लड़कियों की जींस में चेन क्यों लगायी जाती है।

पुरुष आमतौर पर खड़े खोकर मूत्र विसर्जन करते है। इसी लिए लड़को की जींस में चेन लगाना अनिवार्य है। लड़को की जींस में चेन खड़े होकर मूत्र विसर्जन करने के लिए दी जाती है। परन्तु लड़कियों की जींस में चेन देने की क्या जरूरत है। आपको बता दें कि जो जींस ओरिजिनल डेनिंम से बनाया जाता है।


वह बहुत कम लचीला होता है। चूंकि लड़कों के अपेक्षा लड़कियों की कमर का साइज थोड़ा बड़ा होता है। इसलिए लड़कियों की जींस में भी चेन दी जाती है ताकि उन्हें इसे पहनने में परेशानी ना हो और वो आसानी से अपनी जींस को पहन सके।


कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.