Header Ads

हस्तमैथुन के ये हैं पांच फ़ायदे


हस्तमैथुन के ये हैं पांच फ़ायदे
विशेषज्ञों का मानना है कि हस्तमैथुन एक स्वस्थ सेक्स जीवन का हिस्सा है.
हस्तमैथुन हाथ या अन्य किसी चीज़ से यौन आनंद प्राप्त करने का तरीका होता है.
कई समाजों में आमतौर पर इसे अनैतिक और हानिकारक माना जाता है. लेकिन विशेषज्ञों की राय उलट है और वे इसे सुख की अनुभूति के साथ-साथ पुरुषों और महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए फ़ायदेमंद भी मानते हैं.

बीमारों को सेक्स के लिए सरकारी मदद की मांग
'वो जानता था कि मैं 14 साल की थी'
विशेषज्ञों के मुताबिक़ ये हैं हस्तमैथुन के पांच फ़ायदे
1. हस्तमैथुन से मासिक धर्म से जुड़ी परेशानियों को दूर करने में मिल सकती है. मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द से हस्तमैथुन से निकलने वाले रसायन की वजह से राहत मिलती है.
फिनबर्ग स्कूल ऑफ़ मेडिसिन में स्त्री और प्रसूति रोग की प्रोफेसर लॉरा स्ट्रीचर कहती हैं, "हस्तमैथुन से गीलापन बढ़ता है जिससे कि योनि का सूखापन दूर होता है और इससे दर्द से राहत मिलती है."

2. पत्रिका 'सेक्शुअल एंड रिलेशनशिप थैरेपी' के मुताबिक इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और यह संक्रमण से बचाता है. कई शोधों से पता चला है कि जिन लोगों में ऑर्गेज्म अधिक हुआ होता है उनमें इम्युनोग्लोबिन ए की मात्रा अधिक होती जो जुकाम से बचाने में सहायक होती है.
3. फ्रेंच इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड मेडिकल रिसर्च के शोध के मुताबिक हस्तमैथुन के बाद अच्छी नींद आती है. अनिद्रा को दूर करने का यह सबसे सुरक्षित और बेहतर तरीका है खासकर मर्दों के लिए. क्योंकि इसके बाद मर्दों में यौन इच्छा खत्म हो जाती है और उन्हें नींद आने लगती है.

4. इससे शारीरिक और मनोवैज्ञानिक स्तर पर रिलैक्स होने का एहसास होता है.
5. लोगों के बीच यह ग़लतफहमी है कि हस्तमैथुन से यौन संबंधों पर बुरा असर पड़ता है.

विशेषज्ञों का मानना है कि यह पूरी तरह से ग़लत धारणा है. असलियत में इसके उल्टा होता है और हस्तमैथुन से एक बेहतर यौन संबंध बनाने का मौका मिलता है.
इससे उन महिलाओं को भी मदद मिलती है जिन्हें ऑर्गेज्म नहीं होने की समस्या होती है.

महिला हस्‍तमैथुन से जुड़े सात रहस्‍य




महिला हस्‍तमैथुन
पुरुषों की तरह महिलायें भी यौन सुख पाने के लिए हस्‍तमैथुन का सहारा लेती हैं। हालांकि इससे वे आर्गेज्‍म तक नहीं पहुंच पाती हैं लेकिन उन्‍हें हस्‍तमैथुन से बहुत हद तक संतुष्टि भी मिल जाती है। कुछ महिलाओं में यह आदत किशोरावस्‍था से शुरू होती है और कुछ तो शादी के बाद अपने पार्टनर के साथ रहते हुए भी हस्‍तमैथुन करती हैं। महिलाओं के हस्‍तमैथुन से जुड़े कुछ रहस्‍य भी हैं उन्‍हें भी जानना जरूरी है।

इसका लुत्‍फ उठाती हैं


महिलायें हस्‍तमैथुन करते वक्‍त इसका पूरा लुत्‍फ उठाती हैं। कई बार महिलाओं को हस्‍तमैथुन करते वक्‍त पूरा आनंद आता है, और उन्‍हें पुरुष की कमी बिलकुल भी महसूस नहीं होती है। क्‍योंकि वे इस दौरान केवल अपने आनंद के बारे में सोचती हैं और जब तक उन्‍हें आनंद नहीं मिलता तब तक वे करती रहती हैं। कुछ 2-3 मिनट में संतुष्‍ट हो जाती हैं और कुछ इसके लिए 15-20 मिनट का समय लेती हैं।

कभी-कभी करती हैं


पुरुषों की तुलना में महिलायें कम हस्‍तमैथुन करती हैं। एक शोध के अनुसार, लगभग 25 प्रतिशत पुरुष सप्‍ताह में 3 बार हस्‍तमैथुन करते हैं, और 55 प्रतिशत कम से कम महीने में एक बार। जबकि इस शोध में यह बात भी सामने आयी कि केवल 10 प्रतिशत महिलायें ही सप्‍ताह में 3 बार हस्‍तमैथुन करती हैं, और 38 प्रतिशत महीने में एक बार करती हैं। यानी पुरुषों की तुलना में महिलायें हस्‍तमैथुन कम ही करती हैं।

अलग तरह से करती हैं


महिलायें हस्‍तमैथुन अलग तरह से करती हैं। जबकि पुरुष जब चाहें बॉथरूम में, सार्वजनिक शौचालय में या अन्‍य जगहों पर आसानी से करते हैं। जबकि महिलायें इसके लिए खास तरह की तैयारी करती हैं। ज्‍यादातर महिलायें नहाते वक्‍त हस्‍तमैथुन करती हैं और इससे उन्‍हें आनंद मिलता है।

नरम एहसास

पुरुष जब भी हस्‍तमैथुन करते हैं, बड़ी कठोरता से करते हैं और इससे उनके गुप्‍तांगों की मांसपेशियों में खिंचाव के कारण दर्द भी हो सकता है। जबकि महिलायें आराम से और कोमलता से अपने आप को आनंद देती हैं। अगर उन्‍होंने अपनी उंगलियों के अलावा किसी अन्‍य वस्‍तु का प्रयोग इसके लिए किया तो कोशिश यही रहती है उसका स्‍पर्श आनंदित करने वाला हो।

शरीर के अन्‍य अंग भी जुड़ते हैं

महिला जब भी हस्‍तमैथुन करती है, इसमें वह अपने सारे अंगों को शामिल करती है। जबकि पुरुष ऐसा नहीं कर पाते। महिला इस दौरान अपने जांघों, अपने पेट के साथ-साथ स्‍तनों का मसाज भी करती है। इसलिए यह स्‍वास्‍थ्‍य के लिहाज से भी बहुत फायदेमंद होता है।

आर्गेज्‍म की परवाह नहीं

पुरुष जब भी हस्‍तमैथुन करते हैं उनका पूरा ध्‍यान आर्गेज्‍म पर होता है और इसके बाद ही उन्‍हें शुकून मिलता है। जबकि महिलायें हस्‍तमैथुन के वक्‍त ऐसा ध्‍यान बिलकुल भी नहीं रखती हैं, कभी-कभी वे इसके लिए 2-3 मिनट का समय लगाती हैं और इससे ही उन्‍हें आनंद मिलता है। जबकि इतने कम वक्‍त में आर्गेज्‍म नहीं मिल सकता है।

आराम मिलता है


हस्‍तमैथुन के बाद महिलाओं को आराम मिलता है। क्‍योंकि इससे उनके पूरे शरीर का मसाज तो होता ही है, साथ ही यह यौन सुख भी प्रदान करता है। इसके लिए उन्‍हें पुरुष की जरूरत नहीं पड़ती और वे खुद से ही अपने आप को रोमांचित कर देती हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.