Header Ads

फटी हुई एड़ियों का घरेलू इलाज –

फटी हुई एड़ियों का घरेलू इलाज – 



फटी हुई एड़ियां पैर की एक सामान्य समस्या है। एक सर्वेक्षण में पाया गया है की 20 प्रतिशत वयस्क फटी हुई एड़ियों की समस्या से परेशान है। यह समस्या वयस्कों और बच्चों दोनों को हो सकती है। यह पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अक्सर अधिक प्रभावित करती है। आज के इस लेख में हम आपको फटी एड़ियों को ठीक करने के घरेलू इलाज और उपचार (Crack Heels Treatment and Home Remedy in Hindi) के बारे में बताने जा रहे है।
ज्यादातर लोग फटी हुई एड़ियों के प्रति गंभीर नहीं होते है। लेकिन कुछ मामलों में फटी हुई एड़ियां या पैरो में दरारें बहुत गहरी हो सकती हैं, जो दर्द का कारण बन सकती हैं। आज के इस आर्टिकल में आप फटी हुई एड़ियों के इलाजऔर रोकथाम के लिए आसान घरेलू उपचारों के बारे में जानेंगे।

फटी एड़ियों का घरेलू इलाज – Home Remedies for Cracked Heels in Hindi

फटी एड़ी का इलाज वनस्पति तेल से – Vegetable Oil for Cracked Heels Remedies in Hindi

क्रैकेड एड़ियों के इलाज और रोकथाम के लिए विभिन्न प्रकार के वनस्पति तेलों का उपयोग किया जा सकता है। जैसे – जैतून का तेल, तिल का तेल, नारियल का तेल या कोई अन्य हाइड्रोजनीकृत वनस्पति तेल। सोने से पहले वनस्पति तेल को अपनी फटी हुई एड़ियों लगाने से जल्द राहत मिलती है।


नारियल के तेल से फटी एड़ियों का इलाज – Coconut Oil for Cracked Heels in Hindi
आपकी त्वचा के लिये नारियल के तेल से बेहतर कोई ओर मॉइस्चराइज़र नहीं है। नारियल का तेल पोषक तत्वों और स्वस्थ फैटी एसिड से परिपूर्ण है, जो तेजी से सूखता है, और स्थायी नमी प्रदान करता है। नारियल के तेल में पाये जाने वाले फैटी एसिड में एंटी-माइक्रोबियल (anti-microbial) गुण होते हैं, जो फटी हुई एड़ियों के संक्रमण से होने वाली जलन और दर्द को राहत प्रदान करते हैं। 

तिल का तेल फटी हुई एड़ियों का घरेलू इलाज – Home Remedies for Cracked Heels Sesame Oil in Hindi

तिल का तेल बहुत पौष्टिक और मॉइस्चराइजिंग होता है। यह सूखी और फटी हुई एड़ियों को बहुत कुशलता के साथ नरम करने और घाव भरने में मदद करता है।


सीसम के तेल को फटी हुई एड़ियों और किसी भी अन्य सूखी त्वचा के इलाज के लिए उपयोग में लाया जा सकता है।

रात में सोने से पहले अपनी फटी हुई एड़ियों या सूखी त्वचा में तिल के तेल से अच्छी तरह मालिश करनी चाहिए।

फटी एड़ियों का उपचार नींबू और जैतून का तेल – Lemon and Olive Oil for Cracked Heels in Hindi
नींबू के रस में अल्फा-हाइड्रॉक्सी साइट्रिक एसिड पाया जाता है, जिसका उपयोग मृत त्वचा और जीवित कोशिकाओं के बीच आणविक बंधनों को तोड़ने के लिए किया जा सकता है। नींबू का रस फटी हुई एड़ियों में दरारों को कम करने में मदद करता है।


क्षतिग्रस्त एड़ियों में ताजे नींबू को रगड़ें, या फिर सोने से पहले पैर के लिए मॉइस्चराइज़र के रूप में नींबू के रस और जैतून के तेल को मिलाकर उपयोग करें।


फटी हुई एड़ियों का घरेलू इलाज है चावल का आटा – Rice Flour for Cracked Heels in Hindi
अपने पैरों और फटी हुई एड़ियों की मृत त्वचा को हटाने के लिए चावल के आटा की मदद लेनी चाहिए, चावल का आटा मृत और फटी हुई त्वचा (क्रैकिंग) के इलाज में मदद करने के साथ-साथ, सूखापन को रोकता है।

इसे उपयोग में लेने के लिए एक मुट्ठी चावल के आटे के साथ कुछ चम्मच शहद और सेब का सिरका (apple cider vinegar) को मिलाएं। जब यह मोटी पेस्ट हो जाए तब इसे फटी हुई एड़ियों पर लगायें। यदि एड़ियों की समस्या गंभीर है तो जैतून का तेल या मीठे बादाम के तेल का एक बड़ा चमचा उपयोग कर सकते है।


शहद फटी एड़ियों के लिए घरेलू नुस्खा है – Crack Heel Treatment for Honey in Hindi

शहद को एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक (antiseptic) माना जाता है, जो शुष्क पैरों की त्वचा और फटी हुई एड़ियों को ठीक करने में मदद करती है, और साथ ही साथ यह त्वचा को पुनर्जीवित करने में सहायक होती है। शहद के लाभदायक गुणों के कारण इसे बहुत से रोगों के इलाज में उपयोग किया जाता है। एक कप शहद को गर्म पानी में मिलाकर पैरों को लगभग 15-20 मिनट तक भिगोकर रखना चाहिए।

फटी हुई एड़ियों का घरेलू इलाज नींबू से – Lemon for Crack Heel Home Remedy in Hindi

नींबू में अम्लीय गुण त्वचा को नरम करने में बहुत प्रभावी होते है। यह फटी हुई एड़ियों की दरारों को भरने में तथा मृत त्वचा को हटाने में मदद करता है।

फटी हुई एड़ियों के इलाज के लिए गर्म पानी में नींबू रस मिलाकर पैरों को 10 से 15 मिनट के लिए उसमें डुबोकर रखे। ध्यान रहे कि पानी बहुत गर्म ना हो।
फटी एड़ियों के लिए घरेलू नुस्खा गुलाब जल और ग्लिसरीन – Cracked Heels Remedies Rosewater And Glycerin in Hindi


ग्लिसरीन और गुलाब जल का मिश्रण फटी हुई एड़ियों के लिए प्रभावी घरेलू उपाय है। ग्लिसरीन त्वचा को नरम बनाने में मदद करता है और गुलाब जल विटामिन ए, विटामिन बी3, विटामिन सी, विटामिन डी, और विटामिन ईकी पूर्ति के साथ ही एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) और एंटीसेप्टिक के गुणों को रखता है। अतः ग्लिसरीन और गुलाब जल को अच्छी तरह मिलाकर सोते समय अपने पैरों और फटी हुई एड़ियों पर अच्छी तरह से रगड़ना चाहिए।


बेकिंग सोडा फटी एड़ियों के लिए – Baking Soda For Cracked Heels in Hindi

बेकिंग सोडा एक सामान्य रूप से इस्तेमाल किये जाने वाला एक प्रकार का exfoliant है, जो अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुणों के कारण मृत त्वचा को हटाकर, उसे नरम बनाने का काम करता है।

लगभग आधी बाल्टी गरम पानी में बेकिंग सोडा को अच्छी तरह से मिलाये, और 10 से 15 मिनिट तक अपने पैरों को भिगाए रखें। फिर उसके बाद पैर को अच्छी तरह से साफ पानी से धो लें।


एप्पल साइडर विनेगर से फटी एड़ियों का उपचार – Apple Cider Vinegar for Crack Heel Treatment in Hindi


सेव का सिरके (एप्पल साइडर विनेगर) में मौजूद हल्के एसिड, शुष्क और मृत त्वचा को नरम करते है। इसके उपयोग से मृत त्वचा निकल जाती है, तथा त्वचा साफ और कोमल बनती है।

पैरों को भिगोने के लिए पर्याप्त पानी लेकर उसमें 3 से 4 कप सेव के सिरके को मिलाएं, और अपने पैरों को 15 मिनिट तक भिगोकर रखें। इस प्रक्रिया को 1-1 दिन के अंतर से अपनाएं।

फटी एड़ियों के लिए घरेलू उपाय सेंधा नमक – Epsom Salt for Crack Heal Home Remedies in Hindi



फटी हुई एड़ियों के लिए सेंधा नमक एक मॉइस्चराइज़र (moisturizers) के रूप में कार्य करता है। सेंधा नमक (Epsom salt) त्वचा को नरम करता है, और पैरों की थकान को भी दूर करता है।

पानी की पर्याप्त मात्रा लेकर उसमे सेंधा नमक डालकर, इसमें पैरों को 15 मिनिट तक डुबाकर रखना चाहिए, तथा पैर की मृत त्वचा को हटाने के लिए रगड़ना चाहिए।

फटी हुई एड़ियों का घरेलू इलाज एलोवेरा – Aloe Vera Home Remedies for Cracked Heels in Hindi

एलोवेरा फटी हुई एड़ियों के उपचार के लिए सबसे अच्छा घरेलू उपाय है। एलोवेरा में मौजूद एमिनो एसिड, शुष्क और मृत त्वचा को हटाकर नरम त्वचा करने के लिए उत्तरदाई होते है।

अपने पैरों को गर्म पानी में अच्छी तरह से धोकर एलोवेरा को शुष्क और फटी हुई एडियों पर लगायें, और फिर मोज़े पहनकर रत भर लगा रहने दे। इससे जल्द ही आराम मिलता है।

शीया मक्खन फटी एड़ियों का इलाज – Shea Butter For Cracked Heels in Hindi

विटामिन ए और विटामिन ई से परिपूर्ण शीया मक्खन एक प्रसिद्ध त्वचा मॉइस्चराइज़र है, जिसका उपयोग त्वचा का पोषण करने में एवं त्वचा को सुन्दर और कोमल बनाने में किया जाता है।

रात में सोते समय पैर को अच्छे से साफ करके, शीया मक्खन को फटी हुई एड़ियों में लगाकर मालिश करना चाहिए। और फिर मोज़े पहनकर शीया मक्खन को अपने पैरों में लगा रहने देंना चाहिए।

एड़ी फटने से बचाने के लिए फिटिंग के जूते – Crack Heel Treatment Better Fitting Shoes in Hindi

वे लोग जो अपनी प्रतिदिन की दिनचर्या में बहुत चलते हैं, उनको फिटिंग के जूते पहनना जरूरी हैं। इससे उन लोगों को एडियों के फटने का खतरा नहीं रहता है। यदि आप फिटिंग के जूते नहीं पहनते हैं, तो घर्षण के कारण त्वचा के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। फिटिंग के जूते पहनने से पैर की त्वचा शुष्क नहीं हो पाती जिससे त्वचा कोमल बनी रहती है।


फटी एड़ियों से बचने का उपाय पैरों को कवर करें – Cover Your Feet for Crack Heel Treatment in Hindi

ठंड के समय या मॉइस्चराइज़र लगाते समय पैरों और फटी हुई एड़ियों को ऊन के मोजे से अच्छी तरह से ढकना चाहिए। ऐसा करने पर एड़ियां शुष्क होने से बचेंगी और त्वचा कोमल बनी रहेगी।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.