Header Ads

मासिक धर्म में देरी?


मासिक धर्म में देरी? सही समय पर पीरियड्स लाने के घरेलू उपाय – 




पीरियड्स यानी मासिक धर्म हर लड़की और महिला के शरीर की एक प्राकृतिक क्रिया है और यह उनके जीवन का एक हिस्सा है। हालांकि, कभी-कभी महिलाओं को मासिक धर्म में देरी (late periods problem in hindi) की समस्या से भी गुज़रना पड़ता है। सही समय पर पीरियड्स न होना, महिला के लिए पीड़ादायक हो जाता है। पीरियड्स में देरी होने पर डर लगा रहता है कि कहीं पार्टी, पूजा या त्यौहार के समय न आ जाएं। ऐसे में ज़ाहिर सी बात है कि सारा मज़ा किरकिरा हो जाता है। हालांकि, आजकल महिलाएं दवाइयों का सेवन कर अपने पीरियड्स को जल्दी या देरी से लाने की कोशिश करती हैं, लेकिन इन दवाइयों के कुछ साइड इफेक्ट्स भी होते हैं, जिनका असर स्वास्थ्य पर पड़ता है। इसलिए, अगर महिलाएं चाहती हैं कि उनका मासिक धर्म सही समय पर हो, तो बेहतर है कि दवाइयों की जगह सही समय पर पीरियड्स लाने के नुस्खे (period problem solution in hindi) आजमाएं। आज, इस लेख में हम मासिक धर्म जल्दी लाने के उपाय या फिर कहें कि समय पर लाने के उपाय आपको बता रहे हैं।

पीरियड्स में होने वाली समस्याएं

महिलाओं के लिए पीरियड्स का समय आसान नहीं होता, बल्कि पीरियड्स आने के कुछ दिन पहले से ही उन्हें पीरियड्स के कुछ लक्षण नज़र आने लगते हैं। इनमें से कुछ इस प्रकार हैं :

भूख न लगना या बहुत ज़्यादा भूख लगना – कुछ महिलाओं को पीरियड्स के पहले या पीरियड्स के दौरान बहुत ज़्यादा भूख लगती है या बाहर की चीज़ें व मीठा खाने की तीव्र इच्छा होती है। वहीं, कुछ महिलाओं की खाने की इच्छा बिल्कुल ख़त्म हो जाती है।
मूड स्विंग्स होना – पीरियड्स के पहले महिलाओं के व्यवहार में भी काफी परिवर्तन होता है। कई महिलाएं काफ़ी चिड़चिड़ी हो जाती हैं या बहुत ज़्यादा भावुक हो जाती हैं।
पेट में ऐंठन होना – कई महिलाओं को पीरियड्स के दौरान पेट और कमर में ऐंठन की समस्या होती है। यह काफ़ी पीड़ादायक होता है और आजकल लगभग हर महिला इस समस्या से गुज़रती है।
सिरदर्द होना – कुछ महिलाओं को पीरियड्स के कुछ दिन पहले से ही सिरदर्द की भी शिकायत होने लगती है। कभी-कभी सिरदर्द इतना तेज़ होता है कि उन्हें दर्द निवाकर दवा लेनी पड़ती है।
शरीर का अतिसंवेदनशील हो जाना – पीरियड्स के पहले हॉर्मोन बदलने के कारण शरीर काफ़ी संवेदनशील हो जाता है। कुछ महिलाओं को स्तनों में दर्द की शिकायत होती है।
मासिक धर्म में देरी के कारण – Common Causes for Late Periods in Hindi
हार्मोन में बदलाव 
तनाव )
बीमारी जैसे – थायराइड, पीसीओएस (पॉलिस्टिक ओवरी सिंड्रोम) 
सही पोषक तत्व न लेना 
दवाइयों के साइड इफ़ेक्ट
अब बात करते हैं उन घरेलू उपायोंं की, जिनकी मदद से पीरियड्स को समय पर लाया जा सकता है।
पीरियड्स (मासिक धर्म) लाने के घरेलू उपाय – Home Remedies for Periods Problem in Hindi
1. सौंफ

सामग्री :
एक चम्मच सौंफ
चार कप पानी
क्या करें?
एक बर्तन में पानी और सौंफ डालकर उसे पांच से दस मिनट तक उबालें।
फिर इसे छानकर पानी को ठंडा कर लें।
इस मिश्रण को दिन भर में थोड़ी-थोड़ी देर बाद पिएं।

कैसे फायदा करता है?

भोजन के बाद सौंफ खाने के फायदे के बारे में सभी जानते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि पीरियड्स समय पर लाने में सौंफ काफ़ी मददगार होता है। यह मासिक धर्म को जल्दी लाने में मदद करता है। यह गर्भाशय में संकुचन पैदा कर मासिक धर्म को सही समय पर होने के लिए प्रेरित करता है। इसके अलावा यह मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द को भी कम कर सकता है। 
2. दालचीनी

सामग्री :

दालचीनी पाउडर
दूध

क्या करें?
आप आधा या एक चम्मच दालचीनी पाउडर दूध में मिलाकर पिएं।
इसके अलावा, पीरियड्स आने के पहले दालचीनी की चाय का भी रोज़ सेवन कर सकते हैं।

कैसे फायदा करता है?

दालचीनी शरीर के तापमान को बढ़ाती है और इससे पीरियड्स समय या फिर जल्दी होने की संभावना होती है। दालचीनी न सिर्फ़ आपके मासिक चक्र को ठीक करती है, बल्कि जिन्हें पीसीओएस की शिकायत है, उनके इलाज में भी मददगार साबित हो सकती है )। यहां तक कि दालचीनी मासिक धर्म में होने वाले ज़्यादा रक्तस्त्राव को भी कंट्रोल करने में मदद कर सकती है 

3. अदरक

सामग्री :
आधा चम्मच अदरक का रस
शहद

क्या करें ?
पहले अदरक के टुकड़े का रस निकाल लें।
अब इसमें शहद मिला लें।
इस मिश्रण को आप अपने मासिक धर्म होने की डेट से एक हफ़्ते पहले खाना शुरू करें।

कैसे फायदा करता है?

अदरक आपके शरीर में गर्मी बढ़ाता है, जिस कारण आपके पीरियड्स समय पर या जल्दी आते हैं। इसमें एन्टीस्पैस्मोडिक (antispasmodic) गुण होता है । एन्टीस्पैस्मोडिक, मासिक धर्म के चक्र को सही करने में मदद करता है।
4. पपीता
https://healthtoday7.blogspot.com/
सामग्री
एक कटोरी पका हुआ पपीता या पपीते का जूस

क्या करें ?
अपने मासिक धर्म की डेट के एक या दो हफ़्ते पहले पपीता खाएं या फिर उसका जूस पिएं।

कैसे फायदा करता है?

पपीता आपके गर्भाशय की मांसपेशियों में संकुचन पैदा करता है। यह मुख्य रूप से उसमें मौजूद कैरोटीन के कारण होता है, जो एस्ट्रोजन हार्मोन को उत्तेजित कर मासिक धर्म को समय पर लाने का कारण बनता है 
5. अजवायन के पत्ते
सामग्री :
6 ग्राम सूखे अजवायन के पत्ते
उबला हुआ पीने का पानी

कैसे सेवन करें ?
सूखे अजवायन के पत्ते उबलते गर्म पानी में डाल दें और इस पानी को छानकर दिनभर में तीन बार लें।
आप अपने मासिक धर्म की तारीख के दस से पंद्रह दिन पहले इसका सेवन शुरू कर दें।

कैसे फ़ायदा करता है ?
अजवायन एस्ट्रोजन की तरह काम करता है ()। इस कारण मासिक धर्म समय पर आते हैं।
6. अनानास
एक कटोरी कटा हुआ अनानास या एक गिलास अनानास का जूस।
अपने पीरियड्स आने के कुछ दिन पहले से रोज़ दोपहर में अनानस खाएं या जूस पिएं।

कैसे फायदा करता है ?
अनानास आपके शरीर में गर्मी पैदा करता है और इसमें यूटेरोटॉनिक (uterotonic) गुण होते हैं जिससे गर्भाशय में संकुचन पैदा होता है )। इससे आपके पीरियड्स कभी देरी से नहीं होंगे।
7. कॉफ़ी
सामग्री :
सिर्फ एक कप कॉफ़ी

क्या करें :
मासिक धर्म की डेट के दो हफ़्ते पहले से आप नियमित रूप से कॉफ़ी पीना शुरू कर दें।

कैसे फ़ायदा करता है?

अगर आपको भी मासिक धर्म में देरी होने की परेशानी है, तो सही समय पर पीरियड्स लाने का यह बहुत ही आसान उपाय है। कॉफ़ी में कैफ़ीन होता है और इसमें एस्ट्रोजन उत्तेजक गुण होते हैं ()। जैसा कि हमने पहले भी बताया कि एस्ट्रोजन आपके मासिक धर्म चक्र को नियमित करने में मदद करता है, इसलिए कॉफ़ी के सेवन से आपके पीरियड्स समय पर आएंगे।

सावधानी : पीरियड्स शुरू हो जाने के बाद कॉफ़ी का सेवन कम कर दें, क्योंकि इसका ज़्यादा सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है।
8. अरंडी का तेल

सामग्री :
आधा चम्मच अरंडी का तेल
हीटिंग पैड

क्या करें ?
अरंडी के तेल से अपने पेट के निचले हिस्से की मालिश करें।
फिर गर्म पानी की बोतल (heating pad) से उस हिस्से पर 10-15 मिनट तक सिकाई करें।
अपने पीरियड्स के लगभग एक हफ्ते पहले से ऐसा रोज़ दो बार करें।

कैसे फायदा करता है ?
अरंडी के तेल में रायसेनोलिक एसिड (ricinoleic acid) होता है, जो गर्भाशय में संकुचन पैदा करता है। इससे आपके पीरियड्स कभी देरी से नहीं आएंगे 
9. तिल के बीज

सामग्री :
एक चम्मच तिल के बीज
थोड़ा- सा शहद

कैसे सेवन करें ?
मासिक धर्म आने के दस से पंद्रह दिन पहले एक चम्मच तिल के बीज को थोड़े से शहद के साथ रोज़ दो बार खाएं।

कैसे फायदा करता है?

तिल के बीज एस्ट्रोजन की तरह काम करते हैं, जिससे आपके मासिक चक्र समय पर आ सकते हैं, क्योंकि एस्ट्रोजन बेहद महत्वपूर्ण हार्मोन होता है, जिससे पीरियड्स प्रभावित होते हैं।
10. विटामिन-सी
सामग्री :

विटामिन-सी की दवाई या विटामिन-सी युक्त खाद्य पदार्थ जैसे – खीरा, गाजर, संतरा, नींबू  अपने खाने में शामिल करें।
कैसे फायदा करता है ?

विटामिन-सी आपके शरीर में एस्ट्रोजन हॉर्मोन को बढ़ता है ()। एस्ट्रोजन एक हार्मोन है, जो आपके मासिक धर्म चक्र को विनियमित करने में सहायक है। विटामिन-सी प्रोजेस्ट्रोन के स्तर को भी कम कर देता है, जो बदले में गर्भाशय की दीवारों के शुरुआती शेडिंग की संभावनाओं को बढ़ाता है, जिससे मासिक धर्म शुरू हो जाता है।

सावधानी : अगर आप विटामिन-सी की दवाइयां लेना चाहती हैं, तो एक बार अपने डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें। अगर आपको किसी चीज़ से एलर्जी है, तो इसके बारे में डॉक्टर को ज़रूर बताएं।
11. हल्दी
सामग्री
1 चम्मच हल्दी पाउडर
1 गिलास गर्म पानी

कैसे सेवन करें?
एक गिलास गर्म पानी में एक चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं।
पीरियड्स के 10-15 दिन पहले इस मिश्रण को रोज़ एक से दो बार पिएं।

कैसे फ़ायदा करता है ?

हल्दी को वर्षों से आयुर्वेदिक औषधि के रूप में उपयोग में लाया जाता रहा है। हल्दी के सेवन से न सिर्फ़ इम्यून सिस्टम बेहतर होता है, बल्कि मासिक धर्म भी नियमित समय पर आते हैं (। इसके अलावा हल्दी में ईमानोगॉग (emmenagogue) गुण होता है, जिससे पीरियड्स जल्दी आ सकते हैं
12. गर्म पानी
आप पीरियड्स से एक हफ़्ते पहले अपने निचले पेट पर गर्म पानी का सेंक लें। ऐसा रोज़ एक से दो बार करें।

आप चाहे तो हर रोज़ गर्म पानी भी पी सकते हैं।

गर्म पानी पीने या सेंक लेने से आपके सही समय पर पीरियड्स आ सकते हैं। आप पीरियड्स के दौरान भी गर्म पानी पी सकते हैं या पेट के निचले हिस्से पर सेंक कर सकते हैं। इससे आपको पीरियड्स के दर्द से काफ़ी हद तक आराम मिलेगा।
अब बात करते हैं ऐसे योगासनोंं की, जिनकी मदद से मासिक धर्म प्राकृतिक रूप से सही समय पर आएंगे।
सही समय पर पीरियड्स लाने के लिए योगासन – Yoga Asanas to Get Periods Sooner in Hindi

ऊपर लिखे सही समय पर पीरियड्स लाने के नुस्खे के अलावा कुछ शारीरिक श्रम, व्यायाम व योगासन पर भी ध्यान देना ज़रूरी है। इसलिए, मासिक धर्म समय पर लाने के उपाय में हम कुछ योगासनों के बारे में आपको बता रहे हैं, ताकि आपके मासिक धर्म में देरी की समस्या से निजात मिले।
1. अधोमुख श्वान आसन – Adho Mukha Svanasana
इस मुद्रा में पेट के बल आगे झुकते हुए अपने हाथ और पैर के बल आकर कमर के हिस्से को ऊपर उठाना है। यह आसन करने से आपके पेट और श्रोणि की मांसपेशियां मज़बूत होती हैं। इस योग से आपके पेट के निचले हिस्से में रक्त प्रवाह भी सही होता है और पीरियड्स समय पर आते हैं।
2. उष्ट्रासन – Ustrasana



उष्ट्रासन को कैमल पोज़ (Camel Pose) भी कहते हैं, क्योंकि ‘उष्ट्र’ संस्कृत का शब्द है, जिसका मतबल ‘ऊंट’ होता है। इस आसन में घुटने के बल बैठकर पीछे की तरफ झुकते हैं और हाथों को पीछे कर एड़ियोंं को छूने की कोशिश करते हैं। इस आसान से आपके पेट और श्रोणि की मासपेशियां मज़बूत होती हैं और शरीर में लचीलापन बढ़ता है।
3. धनुरासन – Dhanurasana

धनुरासन को बो पोज़ (Bow Pose) भी कहते हैं, क्योंकि धनुर का मतलब धनुष होता है। इस आसन में पहले आप पेट के बल लेट जाएं और घुटनों को मोड़ लें। इसके बाद हाथों को पीछे कर अपने टखनों को पकड़ने की कोशिश करें। जब आप एक बार अपने टखनों को पकड़ लें, तो अपने मुंह, छाती और जांघों को उठाएं। इससे आपके पेट के मांसपेशियों में खिंचाव आएगा और रक्त बहाव बढ़ेगा, जिससे आपके पीरियड्स आने में कभी देरी नहीं होगी।
4. मलासन – Malasana
मलासन को गारलैंड पोज़ (Garland Pose) भी कहते हैं। इसमें आप दोनों घुटनों को मोड़कर मलत्याग करने की मुद्रा में बैठकर अपनी दोनों कोहनियों को दोनों घुटनों पर टीका कर नमस्कार की मुद्रा में बैठ जाएं। अब धीरे-धीरे सांस लें और छोड़ें। यह योगासन करने से आपके पेट और श्रोणि के मांसपेशियों में खिंचाव आता है और पीरियड्स समय पर आते हैं।
5. मत्स्यासन – Matsyasana

मत्स्यासन को फ़िश पोज़ (Fish Pose) भी कहते हैं, क्योंकि मत्स्य का मतलब होता है मछली। इस योग को करने के लिए पहले आप बैठ जाएं, फिर धीरे-धीरे अपने कमर के सहारे पीछे लेटें और कोहनियों को ज़मीन पर टिकाकर पीछे की ओर सहारा लें। इस आसन में आप पैर सीधे फैला भी सकते हैं या फिर इन्हें मोड़कर बाएं पैर को दाएं हाथ से और दाएं पैर को बाएं हाथ से पकड़ सकते हैं। फिर धीरे-धीरे सांस लें और छोड़ें। इस आसान से आपके ऊपरी व निचले पेट की और श्रोणि की मासपेशियां सक्रीय होती है। इन मांसपेशियों के सक्रिय होने से आपके गर्भाशय की मासपेशियां भी सक्रिय होंगी और पीरियड्स तय समय पर आएंगे।

इन योगासनों को अपने पीरियड्स की तय तिथि से कुछ दिन पहले से रोज़ सुबह उठकर करें और ध्यान रहे कि आप किसी एक्सपर्ट से सीखकर या एक्सपर्ट के देखरेख में ही करें।
पीरियड्स लाने के लिए कुछ और टिप्स – Other Tips to Get Periods Faster in Hindi

मासिक धर्म समय पर लाने के उपायों के अलावा कुछ और भी उपाय हैं जिससे आपकी मासिक धर्म में देरी की समस्या कुछ हद तक कम हो सकती है। नीचे हम कुछ और उपायों के बारे में लिख रहे हैं।
ऐसी चीज़ों का सेवन करें, जिससे आपके शरीर का तापमान बढ़े।
व्यायाम करें जैसे – दौड़ना, स्क्वाट्स, स्किपिंग व डांस आदि।
तनाव से दूर रहें, क्योंकि कभी-कभी तनाव के कारण आपके हॉर्मोन्स पर प्रभाव पड़ता है और आपके पीरियड्स सही समय पर नहीं आते हैं।
सही पौष्टिक आहार का सेवन करें।
सही समय पर पीरियड्स लाने के ये नुस्खे काफ़ी आसान हैं और इनके कोई दुष्प्रभाव भी नहीं हैं, लेकिन अगर इनमें से किसी भी चीज़ से आपको एलर्जी है, तो उसका उपयोग करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछ लें। इसके अलावा इन उपायों को करने के बाद भी अगर आपके मासिक धर्म में देरी या अनियमितता है, तो आप डॉक्टर से सपंर्क करें, क्योंकि हो सकता है कि यह किसी संक्रमण या बीमारी का संकेत हो। मासिक धर्म समय पर लाने के उपायों को अपना कर अपने अनुभव कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.