Header Ads

मासिक धर्म में सम्बन्ध बनाएं या नहीं

मासिक धर्म में सम्बन्ध बनाएं या नहीं
मासिक धर्म में सम्बन्ध बनाएं या नहीं, पीरियड्स में शारीरिक सम्बन्ध, पीरियड्स में सम्बन्ध बनाने के फायदे, मासिक धर्म के दौरान पार्टनर से संबंध बनाएं या नहीं

पीरियड्स के दौरान महिलाओं के प्राइवेट पार्ट से रक्तस्राव होता है ऐसे में इसे लेकर महिला और पुरुष दोनों के ही मन में सवाल होता है की पीरियड्स के दौरान सम्बन्ध बनाना चाहिए या नहीं? तो आइये आज हम आपके इसी सवाल का जवाब देने जा रहें हैं। पीरियड्स के दौरान सम्बन्ध बनाना सही होता है लेकिन इस दौरान महिला और पुरुष को ज्यादा सावधानी बरतनी पड़ती है। क्योंकि यदि आप लापवाही करते हैं तो इससे इन्फेक्शन व् महिला के गर्भाशय पर चोट लगने का खतरा रहता है। ऐसे में इस बात का ध्यान देना भी बहुत जरुरी होता है की महिला इसके लिए तैयार है या नहीं। वैसे भी एक रिसर्च के अनुसार इस समय महिलाओं के अंदर उत्तेजना बहुत अधिक होती है और उन्हें भी इस समय सम्बन्ध बनाने में बहुत अधिक मज़ा आता है। तो आइये अब जानते हैं पीरियड्स में सम्बन्ध बनाने से कौन कौन से फायदे होते हैं।
पीरियड्स में सम्बन्ध

पीरियड्स महिलाओं को हर महीने होने वाली एक सामान्य प्रक्रिया है, जो महिलाओं को तीन से सात दिन तक हो सकती है। ऐसे में सम्बन्ध बनाते समय आपको बहुत सी बातों का ध्यान रखना चाहिए जिससे महिला को किसी तरह की न तो परेशानी हो और आप सम्बन्ध बनाने का भरपूर मज़ा भी उठा सकें। तो आइये जानते हैं की पीरियड्स के दौरान सम्बन्ध बनाते हुए किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।
सुरक्षा का इस्तेमाल

पीरियड्स के दौरान यदि आप अपने पार्टनर के साथ सम्बन्ध बनाते हैं तो आपको सुरक्षा का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। क्योंकि इस समय यौन संचारित रोगो और इन्फेक्शन होने का खतरा सबसे ज्यादा होता है। ऐसे में लापरवाही नहीं करनी चाहिए, और इस समय यदि महिला को पहले से ही इन्फेक्शन की समस्या है तो सम्बन्ध बनाने से परहेज करना चाहिए।
कोई नया एक्सपेरिमेंट

मासिक धर्म में महिला का प्राइवेट पार्ट बहुत कोमल हो जाता है, ऐसे में यदि आप थोड़ी सी भी तेजी करते हैं या कोई नया एक्सपेरिमेंट करने की सोचते हैं। तो इसके कारण महिला के गर्भाशय पर चोट लगने का खतरा रहता है। ऐसे में महिला को परेशानी का अनुभव करना पड़ सकता है।
साफ़ सफाई

यदि आप दोनों पार्टनर पीरियड्स के समय सम्बन्ध बनाना चाहते हैं तो इस समय आपको साफ़ सफाई का सबसे ज्यादा ध्यान रखना चाहिए। क्योंकि इस समय में इन्फेशन होने के चांस सबसे ज्यादा होते है, ऐसे में यदि आप साफ़ सफाई का ध्यान नहीं रखते हैं तो इससे केवल महिला को ही इन्फेक्शन नहीं बल्कि पुरुष को भी परेशानी का अनुभव करना पड़ सकता है। और सम्बन्ध बनाने के बाद भी महिला को पानी से अच्छे से अपने प्राइवेट पार्ट को साफ करना चाहिए।
जबरदस्ती न करें

पीरियड्स के समय भी महिला के शरीर में हो रहे हार्मोनल बदलाव के कारण कुछ महिलाएं सम्बन्ध बनाने से परहेज करती हैं। ऐसे में यदि महिला तैयार न हो या उसे कोई परेशानी हो तो उसके साथ किसी तरह की जबरदस्ती नहीं करनी चाहिए क्योंकि इसके कारण महिला को परेशानी का अनुभव हो सकता है।
पीरियड्स में सम्बन्ध बनाने के फायदे
इस समय महिला का प्राइवेट पार्ट गीला होता है जिससे पुरुष और महिला को किसी तरह की दिक्कत नहीं होती है। और दोनों बहुत ही आनंद के साथ सम्बन्ध का मज़ा उठा सकते हैं।
यदि किसी महिला को पीरियड्स में पेट या कमर दर्द की समस्या रहती है तो इस दौरान सम्बन्ध बनाने से महिला को इस दर्द से राहत पाने में मदद मिलती है।
पीरियड्स में सम्बन्ध बनाने से आपको पीरियड्स कम दिन के लिए आने लगते हैं, क्योंकि पीरियड्स में पार्टनर के करीब आने से गर्भाशय से ब्लड का निष्कासन तेजी से होता है।
हार्मोनल बदलाव के कारण मासिक धर्म में महिलाओं के स्वाभाव में चिड़चिड़ापन आ जाता है, ऐसे में संबंध बनाने से मूड को रिफ्रेश करने वाले हॉर्मोन निकलते हैं, जिससे महिलाओं को मानसिक रूप से आराम मिलने में मदद मिलती है।
इस दौरान सम्बन्ध बनाने से महिलाओं को प्रेगनेंसी होने के डर से भी निजात मिलता है, क्योंकि इसमें गर्भ ठहरने के चांस कम होते हैं।
तो यह हैं पीरियड्स में सम्बन्ध बनाने से जुडी कुछ बातें, ऐसे में यदि आप पूरी सावधानी के साथ यदि अपने पार्टनर से सम्बन्ध बनाना चाहते हैं तो बना सकते हैं। लेकिन संबंध बनाते समय महिला का ध्यान रखना ज्यादा जरुरी होता है ताकि उसे कोई परेशानी न हो और आप बिना किसी डर और चिंता के बेहतर सम्बन्ध बना सकें।

पीरियड्स में शारीरिक सम्बन्धपीरियड्स में सम्बन्ध बनाने के फायदेमासिक धर्म के दौरान पार्टनर से संबंध बनाएं या नहींमासिक धर्म में सम्बन्ध बनाएं या नहीं

पुरुषों में उत्तेजना की कमी के क्या कारण होते हैं
पुरुषों में उत्तेजना की कमी के क्या कारण होते हैं, पुरुषों में उत्तेजना की कमी के लक्षण, पुरुषो में यौन इच्छा की कमी के कारण, पुरुषो में कामेच्छा की कमी के कारण, पुरुषो की समस्याएं
पुरुषों में उत्तेजना की कमी का मतलब होता है की या तो पुरुष के प्राइवेट पार्ट में कठोरता का न आना, या बहुत जल्दी शांत हो जाना, और बहुत जल्दी डिस्चार्ज हो जाना। ऐसे में पुरुष की लाइफ पर इसका बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। और ज्यादातर पुरुष अपनी इस समस्या को किसी से शेयर भी नहीं करते हैं या फिर किसी डॉक्टर से भी इस बारे में राय नहीं लेते हैं। उत्तेजना की कमी के कई कारण हो सकते हैं और यह हर पुरुष की शारीरिक गतिविधियों के साथ उनके बॉडी में होने वाले हार्मोनल बदलाव पर निर्भर करते हैं। उत्तेजना में कमी के कारण शारीरिक, मानसिक, या कोई बिमारी आदि हो सकते हैं।

पुरुषो में उत्तेजना की कमी के लक्षण
सम्बन्ध बनाते समय बहुत जल्दी थक जाना।
बेहतर सम्बन्ध न बना पाना।
बहुत जल्दी डिस्चार्ज होना।
प्राइवेट पार्ट में कठोरता का न आना।
सम्बन्ध बनाते समय बहुत जल्दी शांत हो जाना।
यौन इच्छा की कमी होना।
पुरुषो में उत्तेजना की कमी के कारण

कई बार पुरुषो को सम्बन्ध बनाते समय वो आनंद नहीं मिल पाता है जो की वो लेना चाहते हैं, और इसका सबसे बड़ा कारण होता है की वो सम्बन्ध बनाने के लिए अच्छे से उत्तेजित नहीं हो पाते हैं। जिसके कारण उनके रिश्तों में नीरसता आने लगती है, इसके कारण कई बार महिलाओं के सामने पुरुषो को बहुत शर्मिंदगी भी महसूस होने लगती है। तो आइये आज हम पुरुषो में उत्तेजना की कमी के क्या क्या कारण हो सकते हैं इस बारे में विस्तार से जानते हैं।
तनाव
तनाव का यौन क्षमता पर बहुत बुरा असर पड़ता है क्योंकि यदि आप मानसिक रूप से बहुत अधिक परेशान रहते हैं। तो इसका सीधा असर मस्तिष्क पर पड़ता है जो की आपके शरीर में होने वाली सभी प्रक्रियाओं को नियंत्रित करता है। और मस्तिष्क पर असर पड़ने का असर बॉडी में हॉर्मोन असंतुलन की समस्या उत्पन्न कर देता है जिसके कारण टेस्टोस्टेरोन पर बुरा असर पड़ता है। तनाव होने के भी बहुत से कारण हो सकते हैं जैसे की किसी काम को लेकर परेशानी, घर की कोई समस्या, आदि।
उम्र का बढ़ना
उम्र के साथ आपकी बॉडी में टेस्टोस्टेरोन की कमी का होना आम बात है जिसके कारण साठ वर्ष की उम्र के बाद उत्तेजना की कमी हो जाती है। ऐसे में अपनी यौन क्षमता को बरकरार रखने के लिए बॉडी को फिट रखना बहुत जरुरी होता है। यह भी हर पुरुष की शारीरिक सरंचना पर निर्भर करता है की वो अपने आप को कितना फिट रखते हैं, और एक उम्र के बाद हर पुरुष के साथ ऐसा होना आम बात होती है।
बदलती जीवनशैली


यह सबसे बड़ा कारण होता है जिसकी वजह से पुरुषो को इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि समय के साथ व्यक्ति अपनी केयर करना भूल सा गया है जिसके कारण न उसके खाने का समय है न सोने का, पोषक तत्वों की जगह जंक फ़ूड का अधिक सेवन करना और व्यायाम आदि करना दूर की बात है जिसका बुरा प्रभाव सीधा आपकी बॉडी पर पड़ता है। और हार्मोनल गड़बड़ी होने के कारण आपको इस समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
सम्बन्ध की कमी
उत्तेजना की कमी का एक कारण आपके बेहतर सम्बन्धो का न होना भी होता है, क्योंकि यदि आप अपने पार्टनर के साथ बेहतर सम्बन्ध नहीं बनाते हैं या बहुत कम बनाते हैं, सम्बन्ध बनाने में बहुत ज्यादा गैप रखते हैं, और सम्बन्ध बनाते समय तनाव, या भावनात्मक रूप से उसमे शामिल नहीं होते है। तो इसके कारण रूचि कम होने लगती है जिसकी वजह से उत्तेजना में धीरे धीरे कमी आने लगती है।
नशा
धूम्रपान, अल्कोहल का अधिक सेवन भी आपकी यौन क्षमता पर बहुत बुरा असर डालता है। क्योंकि यदि आप किसी भी तरह के नशे का बहुत अधिक सेवन करते हैं। जिसके कारण बॉडी में हार्मोनल असंतुलन होने लगता है, और इस हार्मोनल असंतुलन के कारण टेस्टोस्टेरोन पर भी बहुत बुरा असर पड़ता है। जिसके कारण अपनी यौन क्षमता क्षीण होने लगती है।
शारीरिक समस्या

पुरुषो में उत्तेजना की कमी का एक कारण उनका किसी शारीरिक समस्या के कारण परेशान होना भी हो सकता है। जैसे की अधिक वजन की समस्या, शुगर, थायरॉयड, या अन्य कोई शारीरिक बिमारी होने के कारण भी आपके बॉडी में हार्मोनल गड़बड़ी होती रहती है। या फिर किसी पुरानी बिमारी होने के कारण भी ऐसा हो सकता है।
अपने आप को संतुष्टि देना

जो पुरुष बहुत ज्यादा अश्लील मूवी देखते हैं, या फिर अपने प्राइवेट पार्ट से ही आनंद लेते हैं, तो ऐसा अधिक करना भी उनकी यौन क्षमता को बहुत नुकसान पहुंचाता है। जिसके कारण धीरे धीरे उनमे उत्तेजना की कमी होने लगती है। कभी कभी कारण बेशक यह आपके लिए आनंदमयी हो सकता है लेकिन बाद में यह लत का रूप ले लेता है जिसके कारण आपको यौन क्षमता जैसी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
दवाइयों का अधिक सेवन

यदि आप किसी बिमारी से जुडी या वैसे भी बहुत ज्यादा एंटीबायोटिक दवाइयों का सेवन करते हैं तो इसका सीधा असर भी आपकी यौन क्षमता पर पड़ता है। और इसके कारण आपके प्रजनन अंग भी प्रभावित होते हैं।

तो यह हैं कुछ कारण जिनकी वजह से पुरुषो में उत्तेजना की कमी हो जाती है। ऐसे में आपको इसे लेकर कोई न कोई उपाय जरूर करना चाहिए और बिना शर्माएं हो सके तो एक बार डॉक्टर से इसकी राय लेनी चाहिए, और इसके सही कारण का पता करना चाहिए। क्योंकि यदि आप अपनी इस समस्या का इलाज नहीं करते हैं तो इसके कारण आपके सम्बन्ध खराब हो सकते है और आपकी लोफे इससे बुरी तरह प्रभावित होती है।


पीरियड्स के समय खुद को कैसे Happy रखें


पीरियड्स के समय खुद को कैसे Happy रखें

पीरियड्स :- नमस्कार दोस्तों, हम आज के इस post में जानेंंगे महिलाएं पीरियड्स के समय खुद को कैसे Happy रखें।
इस दौरान महिलाओं को मानसिक व शारिरिक समस्या से गुजरना पड़ता है, जिससे चिड़चिड़ापन होता है। उनका दिमाक स्थिर नहीं होता है।अतः उन समय आप इन बातों को ध्यान में रखकर अपने आप को HAPPY रख सकते हैं।

पीरियड की चिंता बिल्कुल नहीं करना चाहिए, बल्कि इन दिनों अपना ख्याल रखना चाहिए जिससे समय अच्छा निकलेगा।
पीरियड के समय आप बिलकुल बेड पर न रहें, घूमने जाएं या दोस्तों के साथ समय बिताएं।
जंक फूड से अपने मन को नहीं बदलना चाहिए, बल्कि इससे शरीर में रिटेंशन बढ़ जायेगा।बल्कि
तरल पदार्थों का अधिक सेवन करना चाहिए, जिससे शरीर में जल की मात्रा पर्याप्त रहे।जल पर्याप्त मात्रा में होने के कारण ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है जिससे पेट दर्द की समस्या कम होती है।
पैड ऐसा होना चाहिए जिससे आराम मिले, संक्रमण से बचने के लिए पैड को हर 5 से 6 घंटे में बदलते रहना चाहिए।
सफाई के लिए वी – वॉश का प्रयोग न करें, बल्कि इसके जगह गर्म पानी का प्रयोग करें।

अधिकतर महिलाओं के जांघों पर रैशेज हो जाता है,इस प्रॉब्लम से बचने के लिए साफ – सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। उस क्षेत्र को सूखा व हमेशा साफ रखें।नोट :- इसके बावजूद भी कोई प्रॉब्लम हो तो स्त्री रोग विशेषज्ञ से जरूर मिलें।

पीरियड्स के समय क्या खाएं और क्या न खाएं

पीरियड के समय क्या खाना है और क्या नहीं इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए,क्योंकि खाना हमारे शरीर में हार्मोन के स्तर को सुदृण बनाता है।


【√】हरि पत्तेदार सब्जियां केला,ग्रीन टी, दूध, और रसीले फलों का सेवन करना चाहिए।
【Χ】 तले हुए पदार्थ,नमक,चीनी का सेवन नहीं करना चाहिए,या बहुत कम मात्रा में करें।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.