Header Ads

हमें सोना क्यों जरूरी है और आपको कितने घंटों की नींद चाहिए

हमें सोना क्यों जरूरी है और आपको कितने घंटों की नींद चाहिए – 



नींद की क्वालिटी सीधे आपके मानसिक और शारीरिक सेहत और आपकी प्रोडक्टिविटी, इमोशनल बैलेंस, दिमाग और दिल की सेहत, प्रतिरक्षा प्रणाली, क्रिएटिविटी, जीवन शक्ति और यहां तक कि आपके वजन से लेकर आपकी रोजाना ज़िन्दगी को भी प्रभावित करती है। बॉडी भी एक मशीन की तरह है जिसमे टूट फूट होती रहती है और इसकी रिपेयर तब होती है जब आप नींद में होतें हैं।

नींद क्या है ? What is sleep in Hindi
नींद सिर्फ एक ऐसा समय नहीं है जब आपकी बॉडी रिलैक्स होती है बल्कि यह वो समय है जब पूरे दिन के काम काज के बाद आपकी बॉडी के अन्दर के सारे जेविक रखरखाव कार्य हो रहे होते है। अगर हम पर्याप्त नींद लिए बिना रहें, तो हम अपनी अपनी वास्तविक क्षमता के हिसाब से काम या संवाद नहीं कर पाएंगे।
आयु के अनुसार हमें इतनी नींद लेना आवश्यक है – Sleep requirements as per age in Hindi

उम्र के अनुसार औसत नींद की जरूरत इस प्रकार है
नवजात शिशु- 3 महीने – 14 से 17 घंटे
4 से 11 महीने – 12 से 15 घंटे
1 से 2 साल – 11 से 14 घंटे
3 से 5 साल – 10 से 13 घंटे
6 से 13 साल – 9 – 11 घंटे
14 से 17 साल – 8 – 10 घंटे
युवा वयस्क (18 से 25 वर्ष) 7 – 9 घंटे
वयस्क (26 से 64 वर्ष पुराना) 7 – 9 घंटे
वृद्ध वयस्क (65+) 7 – 8 घंटे
उम्र के अनुसार नीचे आवश्यक समय दिया गया है इससे भी नींद पूरी हो सकती है
नवजात शिशु- 3 महीने – 11 – 1 9 घंटे
4 से 11 महीने – 10 – 18 घंटे
1 से 2 साल – 9 – 16 घंटे
3 से 5 साल – 8 – 14 घंटे
6 से 13 साल – 7 – 12 घंटे
14 से 17 साल – 7 – 11 घंटे
युवा वयस्क (18 से 25 वर्ष) 6 – 11 घंटे
वयस्क (26 से 64 वर्ष) 6 – 10 घंटे
वृद्ध वयस्क (65+वर्ष) 5 – 9 घंटे

स्रोत: नेशनल स्लीप फाउंडेशन


पर्याप्त नींद न लेने के लक्षण – Symptoms of less sleep in Hindi

यदि आप नीचे लिखी समस्याओं से जूझ रहे हैं तो आप पर्याप्त नींद नहीं ले पा रहें हैं –
समय पर जागने के लिए अलार्म घड़ी की आवश्यकता।
जागने के बाद उठने में परेशानी होना।
दोपहर में सुस्ती।
मीटिंग्स, लेकचर्स या गर्म कमरे में नींद का आना।
भारी भोजन या ड्राइविंग के बाद नींद आना।
दिन में झपकी की जरूरत महसूस करना।
टीवी देखते समय या शाम को आराम करते समय सोने का मन होना।
सप्ताहांत में सोने की जरूरत महसूस होना।
बिस्तर पर जाने के पांच मिनट के भीतर नींद का आ जाना।
)
यह संकेत बताते हैं की आप बहुत ज्यादा सो रहे हैं – Symptoms that you are oversleeping in Hindi
सोने के लिए आपको 1 घंटे से ज्यादा समय लगता है।
आप नियमित रूप से अपने अलार्म से पहले जागते हैं, लेकिन फिर भी दिन के दौरान नींद महसूस करते हैं।
दिन के दौरान आपके पास कम ऊर्जा है।
आप निराश महसूस करते हैं, और हो सकता है कि हाइपरसोमिया हो।
आप गतिविधि की कमी से वजन बढ़ने का अनुभव करते हैं।
यह संकेत बताते हैं की आप बहुत कम सो रहे हैं – Symptoms that you are under sleeping in Hindi
आप रात के दौरान तनाव, एक बुरा सपना, या नींद विकार के कारण बार बार जागते हैं।
आप अपने सामान्य जागने के समय से पहले सोते हैं और उठने के बाद कमजोरी या थका हुआ महसूस करते हैं।
आप मूडी और चिड़चिड़ापन महसूस कर रहे हैं।
आप वजन बढ़ने का अनुभव करते हैं।
आपको दिन में नींद जैसा महसूस होती है।
याददाश्त में कमी और काम में कमजोर प्रदर्शन।

नींद की कमी के प्रभाव – Neend ki kami ke prabhav in Hindi

अगर आपको ऐसा लगता है की नींद की कमी का होना कोई बड़ी बात नहीं हैं तो ये जान ले की नींद की कमी होने पर नकारात्मक प्रभावों की एक विस्तृत श्रृंखला है। नींद की कमी आपके निर्णय, संतुलन, और प्रतिक्रिया के समय को प्रभावित करती है। असल में, नींद की कमी आपको नशे में होने जैसा अहसास दिला सकती है।
नींद की कमी के प्रभावों में शामिल हैं – Effects of inadequate sleep in Hindi
थकान, सुस्ती, और प्रेरणा की कमी।
मनोदशा और चिड़चिड़ापन के साथ अवसाद का खतरा।
पारिवारिक जीवन में रूकावटे और रिश्तों की समस्याएं।
दिमाग की कार्य में अवरोध जैसे- सीखना, एकाग्रता, और स्मृति में कमी की समस्याएं।
कम रचनात्मकता और समस्या सुलझाने के कौशल में कमी।
निर्णय लेने में कठिनाई।
तनाव से निपटने में असमर्थता, भावनाओं को सँभालने में कठिनाई।
कम उम्र में ही अधिक उम्र का दिखना।
कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली और लगातार सर्दी और संक्रमण, वजन बढ़ना।
गाड़ी या अन्य वाहन से दुर्घटनाओं का जोखिम।
स्ट्रोक, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, अलजाईमर रोग, और कुछ कैंसर सहित गंभीर स्वास्थ्य समस्यायें आदि।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.