Header Ads

जानिए नंगे पैर चलने के क्या फायदें होते हैं


जानिए नंगे पैर चलने के क्या फायदें होते हैं 
शरीर को स्वस्थ और इंफेक्शन से बचाने में नंगे पैर चलना बहुत प्रभावी होता है। इससे पैरों और मांसपेशियों में होने वाले दर्द और सूजन कम हो जाते हैं। इसके अलावा नंगे पैर चलना बुजुर्गों के लिए काफी फायदेमंद होता है।


नंगे पैर चलना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। नंगे पैर चलने से पैरों पर कम जोर पड़ता है और साथ ही ज्वाइंट्स भी मजबूत रहते हैं। जूते पहनकर चलने से पैरों में दर्द तो होते ही हैं और साथ-साथ कई सारी समस्याएं भी उत्पन्न हो जाती हैं। लेकिन अगर आप नंगे पैर चलते हैं तो इससे आप खुद में तरोताजा महसूस करते हैं। नंगे पैर चलने से एड़ियों का दर्द भी कम हो जाता है। बालू या घास पर नंगे पैर चलना अधिक प्रभावी होता है और शरीर के लिए भी फायदेमंद होता है। नंगे पैर चलने से जहां पैरों के छिद्र खुल जाते हैं वहीं ये एक्यूप्रेशर की तरह भी काम करता है। आइए नंगे पैर चलने के अन्य स्वास्थ्य लाभों के बारे में जानते हैं।

अच्छी नींद के लिए:
नंगे पैर चलने से स्लिप डिस्फंक्शन और दर्द की समस्या कम हो जाती है। सोते वक्त यह शरीर के कॉर्टिसोल के स्तर को कम करता है जिससे अच्छी नींद आती है। नंगे पैर चलने से धरती से पॉजिटिव एनर्जी मिलती है जिससे तनाव कम होता है और अच्छी नींद आती है।
सूजन कम करता है और इम्यूनिटी को बूस्ट करता है: नंगे पैर चलने से व्हाइट सेल्स काउंट बढ़ता है जो इम्यूनिटी को बूस्ट करता है और दर्द और सूजन को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा नंगे पैर चलना शरीर को और भी कई बीमारियों से बचाता है। इसलिए रोजाना कुछ समय नंगे पैर चलने की कोशिश करें और खुद को स्वस्थ रखें। [

पैरों की समस्या को दूर करता है: बुजुर्गों को अक्सर पैरों की समस्या होती है, इसलिए खाली पैर चलना उनके लिए प्रभावी होता है। नंगे पैर चलना एक्यूपंचर की तरह काम करता है जिससे पैरों का दर्द और सूजन कम होता है। इसके अलावा जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है।
रक्त प्रवाह को बेहतर बनाता है: वैसे तो चलना ही फायदेमंद होता है लेकिन नंगे पैर चलने से शरीर में रक्त का प्रवाह अच्छा रहता है और यह शरीर को संक्रमण से भी बचाता है। शरीर में जितना अच्छा रक्त का प्रवाह रहेगा शरीर उतना ज्यादा बीमारियों से दूर रहेगा।


व्हाइट शुगर की तुलना में ब्राउन शुगर का सेवन करना क्यों लाभकारी है

चीनी का एक दूसरा प्रकार भी होता है जिसे ब्राउन शुगर कहा जाता है। सामान्य चीनी के साथ गुड़ को मिलाकर ब्राउन शुगर बनाई जाती है जिससे इसमें आवश्यक पोषक तत्वों की मात्रा बढ़ जाती है। इसलिए इसका सेवन आपके लिए लाभकारी होता है।


चीनी हमारे दैनिक जीवन में खान-पान का अभिन्न अंग है। चीनी की कुछ मात्रा दैनिक जीवन में हमारे लिए आवश्यक होती है। चीनी भी कई प्रकार की होती है। चीनी का एक दूसरा प्रकार भी होता है जिसे ब्राउन शुगर कहा जाता है। व्हाइट शुगर को गुड़ के साथ मिलाकर ब्राउन शुगर बनाया जाती है जिससे इसमें पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन B और आवश्यक पोषक तत्वों की मात्रा बढ़ जाती है। यह व्हाइट शुगर के मुकाबले कम केमिकल प्रोसेस से गुजरती है। इसलिए इसका सेवन आपके लिए लाभकारी होता है। आइए जानते हैं कि ब्राउन शुगर के सेवन व्हाइट शुगर की तुलना में क्यों लाभकारी होता है। 

1.केमिकल रहित होती है: व्हाइट शुगर केमिकल प्रोसेस से गुजरती है जिससे उसमें सल्फर जैसे हानिकारक तत्व आ जाते हैं जबकि ब्राउन शुगर में व्हाइट शुगर की तरह केमिकल नहीं होते हैं। यह गुड़ से बनी होती है और व्हाइट शुगर के मुकाबले कम केमिकल प्रोसेस से गुजरती है। इसलिए यह अधिक लाभकारी होती है। इसमें कैल्शियम, आयरन, पोटेशियम और फॉस्फोरस जैसे शरीर के लिए लाभकारी मिनरल्स होते हैं।

2.त्वचा के लिए लाभकारी: ब्राउन शुगर में मौजूद कई मिनरल्स आपकी त्वचा की कोशिकाओं को डैमेज होने से बचाते हैं और असमय झुर्रियों आने से रोकते है। इसलिए ब्राउन शुगर का सेवन त्वचा के लिए लाभकारी होता है। 

3.पीरियड्स का दर्द कम करने के लिए: ब्राउन शुगर में पोटेशियम पर्याप्त मात्रा में होता है जो कि मसल्स को रिलैक्स करता है जिससे दर्द कम होता है। इसलिए पीरियड्स के दौरान चाय पीते समय ब्राउन शुगर का इस्तेमाल करना लाभकारी होता है।

4.एंटी-सेप्टीक के रुप में इस्तेमाल कर सकते हैं: ब्राउन शुगर में एंटी-इंफ्लेमेंट्री और एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं। इसलिए इसका इस्तेमाल आप एंटी-सेप्टीक के रुप में कर सकते हैं। संक्रमण से बचाने में यह लाभकारी होती है।
5.सर्दी में राहत देता है: ब्राउन शुगर में गुड़ के गुण होते हैं, इसलिए सर्दी में चाय का सेवन करते समय ब्राउन शुगर का इस्तेमाल करना चाहिए। यह आपको इंफेक्शन से बचाती है। 

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.