Header Ads

डर्मेटोलॉजिस्ट की राय सनबर्न को ऐसे ठीक करे

 डर्मेटोलॉजिस्ट की राय सनबर्न को ऐसे ठीक करे
सनबर्न के डर से आप घर के अंदर भी नहीं रह सकते हैं। इसके लिए अकसर लोगों के पास एकमात्र विकल्प सनस्क्रीन ही बचता है गर्मी के मौसम में ठंडी-ठंडी चीजों का लुत्फ उठा सकते हैं और नहाने का मज़ा लेते हैं। लेकिन इस दौरान बाहर घूमने के चक्कर में आपकी त्वचा की दशा बिगड़ जाती है क्योंकि सनबर्न, टैनिंग आदि समस्याएं हो जाती हैं। नाज़ुक लोगों को टैन या बर्न होने पर दर्द भी होने लगता है। यूवी किरणों के कारण झुलसी त्वचा में कैंसर होने का खतरा भी रहता है। 
न्यूयॉर्क शहर के प्रसिद्ध और सफल डर्मेटोलॉजिस्ट डा. जोशुआ जाईश्नर सलाह देते हैं कि सनबर्न होने पर लोगों की त्वचा पर बुरा प्रभाव पड़ता है जिसके लिए ठंडा दूध सबसे अच्छा रहता है। कई बार ज़्यादा सनबर्न होने पर उनके दाग भी पड़ जाते हैं।एक्सपर्ट डर्मेटोलॉजिस्ट कुछ ऐसे तरीकों के बारे में भी बता रहे हैं जिससे आप सनबर्न को ठीक कर सकते हैं या उससे पहले ही स्किन को बचा सकते हैं। 



1. हर बार गर्मी के मौसम में लगभग एक तिहाई आबादी गंभीर सनबर्न की समस्या से ग्रसित हो जाती है। 
2. आधी से ज्यादा आबादी की त्वचा धूप में तो झुलसती ही है और चेहरे पर भी बुरा असर पड़ता है। 
3. आबादी का 1/5 हिस्सा सनबर्न के बुरे प्रभावों से अनभिज्ञ है उसे मालूम ही नहीं है कि इससे क्या‍-क्या साइडइफेक्ट हो सकते हैं।

4. बहुत सारे लोग अकसर कामकाज के चलते धूप में निकलते हैं और इस वजह से उनका शरीर धूप से झुलस जाता है। 
5. एक तिहाई आबादी कभी भी सनबर्न या त्वचा संबंधी समस्या के लिए डर्मेटोलॉजिस्ट के पास नहीं जाती है। सनबर्न होने पर त्वचा पर क्यों पड़ जाते हैं लाल चकत्तेदार निशान: सनबर्न होने पर त्वचा में लाल चकत्ते, यूवी रे के प्रभाव और गर्मी के कारण पड़ जाते हैं। 


उपाय 
1. फ्रि‍ज में रखा हुआ ठंडा दूध सनबर्न ठीक करने में बहुत लाभदायक होता है। इसमें आवश्यक विटामिन और प्रोटीन भी होते हैं जो स्कीन को हील कर देते हैं और उसे पुन: पहले जैसा बना देते हैं। सनबर्न की वजह से होने वाली जलन में भी ठंडा दूध आरामदायक होता है। 
2. सनबर्न में काफी लाभप्रद होता है। कुछ डर्मेटोलॉजिस्ट का मानना है कि योगर्ट को लगाने या उसके सेवन से त्वचा पर यूवी किरणों का प्रभाव कम हो जाता है। इसे प्रभावित हिस्से पर डायरेक्ट लगाने से आराम मिलता है। साथ ही तेज़ी से त्वचा का लालपन और दाग चला जाता है। इसे लगाने के बाद आप हल्के हाथों से मसाज भी कर सकते हैं ताकि वो अच्छे से एप्लाई हो जाए। 
3. डर्मेटोलॉजिस्ट सलाह देते हैं कि ठंडा पानी या बर्फ का पानी, त्वचा की जलन शांत करता है और गंभीर रूप से हुए सनबर्न को ठीक कर देता है। इसलिए अगर आपको सनबर्न हो जाता है तो फ्रिज से ठंडा पानी या बर्फ निकाल कर लगा लें। थोड़ी ही देर में दर्द और जलन से आराम मिल जाएगा। आप चाहें तो कोल्ड बाथ भी ले सकते हैं। 
 सेक्स ज़रूरी क्यों होता है ?
सेक्स एक खूबसूरत संबंध है। ये शरीर और मन के लिए आवश्यक होता है। पार्टनर के साथ लवमेकिंग जीवन का अहम हिस्सा है जो स्ट्रेस फ्री रहने का राज़ भी है। उस क्षण आप अपने सारे ग़म या शिकवे को भुलाकर सिर्फ किसी एक के हो जाते हैं। आज की दुनिया में सेक्स को सबसे ज़्यादा सुख देने वाली अनुभूति माना जाता है। भले ही महिलाओं और पुरषों दोनों के लिए इसका एहसास और मायने अलग होते हैं। दोनों ही इससे संतुष्ट होते हैं मगर उनकी सोच अलग होती है। फिजिकल कनेक्शन, अंतरंगता का सबसे ऊंचा स्तर होता है। किसी भी रिश्ते में लवमेकिंग बहुत ज़रूरी होता है, इससे आप की कई प्रकार भावनात्मलक लाभ मिलते हैं और तनाव भी दूर हो जाता है। आप अपने आपको किसी के बहुत करीब पाते हैं, उस पर भरोसा करने लगते हैं और प्रेम भी। जब आप अपने पार्टनर के साथ लवमेकिंग करते हैं तो आपका उनके साथ कनेक्शन बहुत गहरा हो जाता है। अपने पार्टनर के साथ फिजिकली कनेक्शन होने पर आप सहज हो जाते हैं और मन में आने वाली भावनाएं भी बहुत सकारात्मक हो जाती हैं।

1 सेक्स आपको खुश कर देता है। जो कपल्स हफ्ते में दो से तीन बार सेक्स करते हैं वो अन्य जोड़ों के मुकाबले कहीं ज्यादा हैप्पी रहते हैं। आप उनके चेहरे और शरीर पर भी वो ग्लो‍ देख सकते हैं।

2.सम्बन्ध बनाने से आप तनाव मुक्त हो जाते हैं। अगर आपने कभी दिया हो तो सोचिये सेक्स के बाद आपको ख़ुशी महसूस होती है और परेशानी व उलझन गायब हो जाती है। अगर आप रिश्ते में बोझिलता महसूस करते हैं तो लवमेकिंग इसका एक हल है। ये आपके रिश्ते में नयी ऊर्जा ला देता है और मज़बूती प्रदान करता है।

3 . किसी के साथ जिस्मानी रिश्ते होने से आप उसके साथ एक मानसिक कनेक्शन बना लेते हैं और ये कनेक्शन बेडरूम तक ही नहीं बल्कि पूरी जिदंगी पर असर डालता है। लवमेकिंग से आपका अपने पार्टनर के साथ गहरा कनेक्शन बन जाता है। सेक्सुअल रिलेशन, रिश्ते में नयापन लाता है और उसे जीवंत रखता है। ये समय के साथ कम नहीं होता है, यदि आप दोनों के बीच हमेशा से उतना ही प्यार बरकरार रहता है। सेक्स करने से बनने वाले कनेक्शन में आप संकोच नहीं बल्कि प्रेम करते हैं। 





4 . लवमेकिंग भी बातचीत का एक तरीका है। ये आपके रिश्ते में आई चुप्पी को तोड़ देता है और उसमें नए रंग भर देता है। कई बार जब आप अपनी बातें या फैंटेसी शेयर नहीं कर पाते हैं तो सेक्स ही वो ज़रिया होता है जिससे आप अपनी बातें पार्टनर से शेयर करते हैं। इस तरह आप दोनों के बीच सीक्रेट टॉक की बॉन्डिंग बन जाती है। इस प्रॉसेस में दो बॉडी के मिलने के साथ-साथ दो मन या यूं कहें कि दो आत्माएं भी मिलती हैं। ये इच्छाओं को पूरा करने का एक रास्ता है। 


5 . नींद आने में सहायक सेक्स एक अच्छी एक्सरसाइज होती है जिसमें अचानक से कई कैलोरी बर्न हो जाती है, साथ ही आप टेंशन फ्री और रिफ्रेश हो जाते हैं जिसकी वजह से अच्छी नींद आती है। सेक्स के बाद आने वाली नींद बहुत गहरी होती है। ऐसा शरीर में ऑक्सीटोन के निकलने के कारण होता है जोकि आपके आसपास पॉजिटिविटी ला देती है । 


6. ये एक नेचुरल प्रक्रिया है जिसमें शर्म या घिन जैसी कोई बात नहीं है। हारमोन्स को बैलेंस रखने में सहायक सेक्स करने से आपके हारमोन्स संतुलित रहते हैं। सेक्सुअली सक्रिय रहने से आपका शरीर शांत और मन निश्चिन्त रहता है। साथ ही शरीर में हैप्पी हारमोन्स भी निकलते हैं। इसे करने से डिप्रेशन, तनाव, टेंशन भी दूर हो जाती है। साथ ही फर्टिलिटी की समस्या भी दूर होती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.