Header Ads

हर रोज की इन आदतों के कारण ढ़ीले हो सकते हैं आपके स्तन


हर रोज की इन आदतों के कारण ढ़ीले हो सकते हैं आपके स्तन 
आपकी त्वचा में कोलाजेन एक जरुरी प्रोटीन होता है जिससे त्वचा में इलास्टिसिटी बनी रहती है। इसकी कमी के कारण त्वचा ढ़ीली हो सकती है। आपकी कुछ आदतें कोलाजेन को कम कर सकती है जिससे स्तन की त्वचा ढ़ीली हो जाती है।


मां बनने के कारण, शिशु को स्तनपान कराने और उम्र के बढ़ने के साथ-साथ आपके शरीर की त्वचा में कोलाजेन कम होने लगता है जिससे त्वचा की इलास्टिसिटी भी कम होती है। इन कारणों से आपके स्तन शिथिल यानि ढ़ीले हो सकते हैं। यह एक सामान्य प्रक्रिया है। हालांकि इसके कारण आपकी शरीर की खूबसूरती प्रभावित होती है। ये कारण आपके नियंत्रण में नहीं होते हैं लेकिन आप भी कहीं ना कहीं इस समस्या के लिए जिम्मेदार है। आपकी हर रोज की कुछ आदतें हैं जिनके कारण आपके स्तन शिथिल हो सकते हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में। [

धूम्रपान: सिगरेट और धूम्रपान के कारण आपको कई तरह की स्वास्थ्य परेशानियां हो सकती हैं और आपकी इस आदत का शिकार आपके स्तनों पर भी पड़ता है। धूम्रपान करने से आपकी त्वचा की कोशिकाएं कमजोर होती है साथ ही यह त्वचा की उम्र जल्दी बढ़ाता है। सिगरेट के सेवन से आपकी त्वचा की सतह तक रक्त की सप्लाई नहीं हो पाती है जिससे स्तन की त्वता शिथिल यानि ढ़ीली होने लगती है।
सनस्क्रीन ना लगाना:
सनस्क्रीन के बिना आपकी जिस तरह आपके चेहरे की त्वचा यूवी किरणों के संपर्क में आती है और चेहरे पर झुर्रियां दिखने लगती है। ऐसे ही सूरज की किरणों के संपर्क में आने से स्तन की त्वचा में भी कोलाजेन खिंचने लगता है और स्तन की त्वचा ढ़ीली हो जाती है। [

अनियमित डाइटिंग, वजन बढ़ाना और घटाना:
महिलाओं के लिए डाइटिंग करना काफी सामन्य है। जब देखो महिलाएं डाइटिंग शुरु कर देती हैं। लेकिन क्या आप जानती है कि ऐसा करने से आपकी सेहत बेहतर हो ना हो लेकिन सुंदरता खराब हो सकती है। अनियमित डाइटिंग करने और वजन घटाने, बढ़ाने के कारण आपके स्तनों की त्वचा प्रभावित होती है।
हाई इंपेक्ट वर्कआउट:
हालांकि इस बात पर अभी भी रिसर्च की जा रही हैं लेकिन एक्सपर्ट का कहना है कि हाई इंपेक्ट वर्कआउट जैसे रनिंग के कारण आपके शरीर के साथ स्तन भी मूव करते हैं और अधिक मूवमेंट के कारण स्तनों का कोलेजन टूटने लगता है जिससे स्तन शिथिल हो सकते हैं। [

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.