Header Ads

डिलीवरी के बाद इन असरदार तरीकों से घटाएं पैरों का फैट




डिलीवरी के बाद इन असरदार तरीकों से घटाएं पैरों का फैट
गर्भावस्था के साथ आने वाली सभी चीज़ें आपको उत्तेजना और रोमांच देगी, केवल अनचाहे मोटापे को छोड़कर। मोटापा सभी महिलाओं में उनके बॉडी स्ट्रक्चर के अनुसार भिन्न-भिन्न होता है। अकसर महिलाओं के पेट, नितंब (Hips) और जांघ में मोटापा जमा होता है। जब आप अपने फैट को कम करने के लिये एक्सरसाइज़ कर रहे होते हैं तो आप अपने बैलीफैट पर अधिक ध्यान देते हैं। लेकिन आपके पैरों में जमा हुआ फैट भी हानिकारक होता है। व्यवहारिक रुप से, पैरों से मोटापे को कम करना इतना आसान नहीं है।

आपका वज़न न बढ़े इसके लिये आपको इन तरीकों पर ध्यान केंद्रित करना होगा, कुछ आसान अभ्यास करें, जो आपके मोटे पैरों को स्लिम करने पर अधिक ध्यान देते हों। आपके खानपान की आदतों और एक्सरसाइज़ शेड्यूल में थोड़ा बदलाव करने से आप अपने मोटे पैरों को स्लिम और फिट कर सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान अपने फिगर को बनाए रख पाना बहुत मुश्किल काम है। अब जब आप गर्भावस्था से बाहर आ चुकी हैं तो अपने पुराने फिगर में वापस आने में देरी न करें।


यहां हम प्रेग्नेंसी के बाद आपके पैरों में जमा फैट को कम करने के कुछ आसान और प्रभावी तरीकों के बारे में चर्चा करेंगे।
संतुलित भोजन
जब आप बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग करा रहे हैं, तो वज़न घटाने के लिये आपका खाना न खाना कोई विकल्प नहीं है। इसके बजाय एक संतुलित आहार लेना सबसे अच्छा विचार है। लेकिन, उन खाद्य पदार्थों का चयन करें, जो वज़न बढ़ाने का कारण न बने।
घर के काम स्वयं करें

अगर आपको अपना वज़न कम करना है या नियंत्रित रखना है तो अपने घर के सारे काम स्वयं करें क्योंकि ये आपके शरीर से कैलोरी बर्न करने का सबसे आसान तरीका होगा।
आसान एक्सरसाइज़

सरल एक्सरसाइज़ करें जो आपके पैर की मांसपेशियों को मज़बूत कर सकें ताकि मांसपेशियों में छिपने वाले वसा को ढकने में मदद मिले। कार्डियो व्यायाम, साइकलिंग, जॉगिंग या पैदल चलना जैसे एक्सरसाइज़ करने से आपके पैर के अनचाहे वज़न को कम करने में मदद मिलती है। यह एक्सरसाइज़ कम से कम आधे घंटे करें। आप चाहें तो अपने बच्चे को लेकर भी तेज़ चलने की प्रैक्टिस कर सकती हैं।

इंटरवल ट्रेनिंग

आप लगातार एक्सरसाइज़ न करें बल्कि व्यायाम के बीच में अंतराल रखें। कुछ लोग सोचते हैं कि लगातार एक्सरसाइज़ करने से अधिक कैलोरी बर्न होती है। इंटरवल ट्रेनिंग पारंपरिक कसरत की तुलना में अधिक फैट और कैलोरी बर्न करने में मदद करती है। अगर आप चाहें तो कसरत भी कर सकती है, जो मुख्य रूप से पैर की मासंपेशियों को मज़बूत और टोन करने के लिये ही बना है।
पैरों के मसल्स पर करें फोकस

लेग मसल्स के समूह पर ध्यान केंद्रित करें और उन एक्सरसाइज को ज़्यादा करें जो उस क्षेत्र की मांसपेशियों को एक साथ काम करने देती है। आप इसके लिये lunges, Squats, Step-ups जैसी एक्सरसाइज़ का अभ्यास कर सकती हैं। ये एक्सरसाइज़ तेजी से परिणाम दिखाती हैं और बाद में पैदल चलना, आपके पैरों को मज़बूत करता है लेकिन ये ब्रिस्क वॉक से ज़्यादा प्रभावी नहीं होगा। अपनी दैनिक दिनचर्या में कम से कम 30 मिनट केवल पैदल चलने को हिस्सा बना लें और इसका सख्ती से पालन करें।
स्ट्रेंथ ट्रेनिंग

वज़न को कम करने के लिये विभिन्न व्यायाम के अलावा स्ट्रेंथ ट्रेनिंग करने पर भी विचार करें। यह अभ्यास आपके पैरों की मांसपेशियों को और अधिक मज़बूत और दृढ़ बनाएगा। वहीं आपको अपने फिगर को मेंटेन करने के लिये एक्स्ट्रा कैलोरी को बर्न करना होगा।

एक्सपर्ट से ज़रूर लें सलाह

एक्सपटर्स से सलाह ज़रूर ले लें ताकि आपको पता चल सके कि आप चिकित्सकीय रूप से फिट हैं और आप एक्सरसाइज़ करने के लिये तैयार हैं या नहीं। उसके बाद ट्रेनर से परामर्श लें और वर्कआउट्स में प्रशिक्षित हो जाएं, जो पैरों के फैट को कम करने में मदद करता हो।
योगा

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.