Header Ads

मिशनरी सेक्स पोजीशन क्या होती


मिशनरी सेक्स पोजीशन क्या होती है, फायदे और नुकसान –


Missionary sex position in Hindi जानिए मिशनरी सेक्स पोजीशन क्या होती है, कैसे की जाती है, कैसे इसे और अधिक कामूक बनाया जा सकता है और इसके फायदे और नुकसान के बारे में। सेक्स एक नेचुरल प्रोसेस है जो आनंद प्राप्ति या रिप्रोडक्शन (शिशु को जन्म देने) के लिए या फिर दोनों के लिए किया जाता है। इसे वजाइनल इंटरकोर्स या वजाइनल सेक्स भी कहा जाता है।

सेक्स करने के कई तरीके होते हैं और हर एक तरीके का अपना फायदा और अपना नुकसान होता है। अलग-अलग तरह की सेक्स पोजीशन से अलग-अलग तरह से कामुकता पैदा की जा सकती है। मिशनरी सेक्स पोजीशन सबसे आसान सेक्स पोजीशन में से एक है जिसमें महिला और पुरुष दोनों ही आरामदायक स्थिति में रहते हैं इसे 67 सेक्स पोजीशन भी कहा जाता है जिसमें दोनों पार्टनर्स को समान कामुकता का एहसास होता है।

इस आर्टिकल में हम आपको विस्तार से मिशनरी सेक्स पोजीशन(67 सेक्स पोजीशन) के बारे में और उनके फायदे और नुकसान के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं मिशनरी सेक्स पोजीशन यानि 67 सेक्स पोजीशन से जुड़ी कुछ बातें।

1. मिशनरी सेक्स पोजीशन क्या है – Missionary sex position in Hindi
2. मिशनरी पोजीशन में सेक्स कैसे करते हैं – How to do Missionary sex position in Hindi
3. मिशनरी सेक्स पोजीशन के फायदे – Missionary sex position Benefits in Hindi
4. मिशनरी सेक्स पोजीशन के नुकसान – Missionary sex position Side-effects in Hindi
5. मिशनरी सेक्स पोजीशन को और अधिक कामुक बनाने के टिप्स – Tips To Get More Enjoyment In Missionary Sex position in Hindi
मिशनरी सेक्स पोजीशन क्या है – Missionary sex position in Hindi


सेक्स पोजीशन बहुत सारी होती है लेकिन मिशनरी सेक्स पोजीशन एक शुरुआती सेक्स पोजीशन होती है। इस सेक्स पोजीशन में पुरुष साथी महिला साथी के ऊपर रहता है और महिला साथी नीचे रहती है। इस दौरान सेक्स करते वक्त आप अपने साथी से आई-कॉन्टेक्ट (आंखों से आंखे मिलाकर देखना) कर सकते हैं, उन्हें महसूस कर सकते हैं, उनका वजन आपके ऊपर होता है साथ ही आप उनके प्यार को भी ज्यादा अच्छे से महसूस कर सकते हैं। क्योंकि यह सेक्स पोजीशन 67 नंबर पर आती है इसलिए इसे 67 सेक्स पोजीशन भी कहा जाता है। मिशनरी सेक्स पोजीशन काफी साधारण होती है इसलिए बहुत से लोग इसे बोरिंग भी मानते हैं लेकिन कुछ टिप्स की मदद से आप इसे रोमांचक बना सकते हैं। आइए जानते हैं कैसे करते हैं मिशनरी पोजीशन में सेक्स।


मिशनरी पोजीशन में सेक्स कैसे करते हैं – How to do Missionary sex position in Hindi

इस मिशनरी सेक्स पोजीशन में महिलाएं बेड पर कमर के बल लेट जाती है जबकि पुरुष साथी अपने पेट के बल महिला साथी के ऊपर होता है। इस क्रिया के दौरान धीरे-धीरे पेनिस वजाईना के अंदर जाता है और सेक्सुअल इंटरकोर्स होता है। स्किन-टू-स्किन टच यानि की त्वचा के स्पर्श से प्यार का एहसास करने के लिए इस सेक्स पोजीशन को सबसे अच्छा माना जाता है। पुरुष इस पोजीशन के दौरान महिलाओं पर हावी होते हैं लेकिन महिलाएं भी पुरुष पर हावी हो सकती है। इस सेक्स पोजीशन को सेफ सेक्स पोजीशन यानि की सुरक्षित सेक्स पोजीशन भी माना जाता है। आइए जानते हैं कि इस सेक्स पोजीशन के फायदे और नुकसान क्या कुछ है।


मिशनरी सेक्स पोजीशन के फायदे – Missionary sex position Benefits in Hindi

यह पोजीशन अत्यधिक कामुकता का एहसास करवाती है।
शुरुआती सेक्स के लिए यह पोजीशन सबसे अच्छी मानी जाती है।
एक-दूसरे को स्पर्श करके अधिक प्यार का एहसास करवा सकते हैं।
मिशनरी सेक्स पोजीशन के दौरान दोनों पार्टनर्स एक-दूसरे को कडल (गले मिल) सकते हैं।
मिशनरी सेक्स पोजीशन एक दौरान आप और आपका पार्टनर एक-दूसरे को किस करके रोमांस को और भी बढ़ा सकते हैं।
इस सेक्स पोजीशन के दौरान दोनों पार्टनर्स का मुंह एक तरफ होता है जिससे वे दोनों देख सकते हैं कि उन्हें क्या एहसास हो रहा है? वे सहज है या नहीं? और साथ ही उनका पार्टनर कब रुकना चाहता है।

मिशनरी सेक्स पोजीशन के नुकसान – Missionary sex position Side-effects in Hindi


इस सेक्स पोजीशन के दौरान पुरुषों की शिकायत अक्सर यह रहती है कि वे सही तरह से सेक्स नहीं कर पाते हैं।

कुछ समय बाद मिशनरी सेक्स पोजीशन बहुत से लोगों को बोरिंग लगने लगती है।

मिशनरी सेक्स पोजीशन को और अधिक कामुक बनाने के टिप्स – Tips To Get More Enjoyment In Missionary Sex position in Hindi

मिशनरी पोजिशन में ज्यादा देर तक मज़ा लेने के लिए ऑर्गेज्म करें

अधिकतर महिलाएं सेक्स करने के बाद असंतुष्टि की शिकायत करती है क्योंकि बहुत सारी महिलाओं को ऑर्गेज्म सिर्फ इंटरकोर्स करने से नहीं हो पाता है। इसलिए मिशनरी सेक्स करने से पहले ऑर्गेज्म जरुर करें क्योंकि इससे सेक्स के दौरान आपको आपकी महिला पार्टनर का पूरा साथ मिल पाता है। सेक्स करने से पहले ऑर्गेज्म करने से सेक्स करने के दौरान भी आसानी से ऑर्गेज्म प्राप्त किया जा सकता है।


मिशनरी पोजीशन में संभोग करते समय त्वचा को स्पर्श करें

इस पोजीशन का सबसे ज्यादा फायदा होता है कि इसमें आप पार्टनर के साथ स्किन कॉन्टेक्ट बना सकते हैं। मिशनरी सेक्स पोजीशन को बेहतर बनाने के लिए सेक्स करते समय अपने पार्टनर के हाथों, पैरों, जांघों, पेट और शरीर के अन्य अंगों को प्यार से स्पर्श करते रहें। ऐसा करने से मिशनरी सेक्स पोजीशन का मजा बढ़ जाता है।


मिशनरी स्टाइल को बेहतर बनाने के लिए महिलाओं को रहना चाहिए एक्टिव

पुरुषों को अक्सर सेक्स के दौरान एक्टिव रहने वाली महिलाएं ज्यादा पसंद होती है। इसलिए मिशनरी सेक्स पोजीशन को बेहतर बनाने के लिए महिलाएं अपने कूल्हों का इस्तेमाल कर सकती है। वे कूल्हों के नीचे तकिया रख सकती है जिससे पुरुष साथी को सेक्स करने में आसानी होती है। साथ ही सेक्स करते समय पार्टनर को अपने पैरों से सहला सकती है, छू सकती है जिससे पुरुष साथी की कामुकता बढ़ती है और मिशनरी सेक्स पोजीशन का मजा भी बढ़ जाता है।


मिशनरी सेक्स पोजीशन को बेहतर बनाने के लिए पार्टनर से कनेक्शन बनाकर रखें

इसकी सबसे खास बात यह है की मिशनरी सेक्स पोजीशन के दौरान पार्टनर से आई-कॉन्टेक्ट बनाने का बेहतर मौका मिलता है इसलिए इस मौके को खोएं नहीं। इस सेक्स पोजीशन के दौरान पार्टनर के कान में उन्हें खुश करने और एक्साइटेड करने वाली बातें कहते रहनी चाहिए। साथ ही इधर-उधर देखने की बजाय सीधे अपने पार्टनर की आंखों में झांके और आई कॉन्टेक्ट बनाएं।

)
मिशनरी सेक्स पोजीशन का पूरा आनंद लेने के लिए गहरी सांसे लें

सेक्स के समय पूरा आनंद प्राप्त करने के लिए गहरी सांसे लें जिससे आपको सेक्स करने का ज्यादा आनंद मिलता है। गहरी सांसे ले और अपने शरीर को महसूस हो रही संवेदनशीलता की ओर ध्यान दें जिससे आपको ज्यादा आसक्ति महसूस होती है और मिशनरी सेक्स पोजीशन में सेक्स करने का आनंद बढ़ जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.