1-उत्कटासन:
इस आसन को चेयर पोज भी कहते हैं। यह आसन पैरों की मांसपेशियों को उत्तेजित करता है खासकर जांघ और कूल्हे की। कुर्सी पर बैठना आसान होता है लेकिन जब आप काल्पनिक कुर्सी पर बैठते हैं तो आपके शरीर का पूरा भार आपकी जांघों और कूल्हे पर आ जाता है। यह आपके जांघ और कूल्हे को ना केवल सही शेप में लाने में मदद करता है बल्कि पैरों की मांसपेशियों को मजबूती प्रदान करता है।

2-नटराजासन:https://healthtoday7.blogspot.in/
इस मुद्रा से कूल्हे को उत्तेजित करके सही शेप में लाया जा सकता है। इससे जांघ की अंदरुनी और बाहरी दोनों मांसपेशियां काम करती है। इस आसन को करने से आपके एक पैर पर शरीर का संतुलन रखने के लिए मजबूती मिलती है। पेल्विस से लेकर तलवे तक पैर की हर मांसपेशियों को स्ट्रैच और टोन करता है। इस आसन को करने से आपके पैरों में रक्त का परिसंचरण बढ़ जाता है। जिससे ऑक्सीजन का फ्लो बढ़ जाता है।

3-उष्ट्रासन:https://healthtoday7.blogspot.in/
यह आसन आपके कूल्हे की मांसपेशियों को लचीला करता है। इसके साथ ही यह आपकी जांघ को टोन करने में मदद करता है। यह आसन आपके शरीर के आगे के भाग पर काम करता है। ताकि आपके जांघ की आगे का भाग उत्तेजित और टोन हो सके।

4-जानुशीर्षासन:
यह आसन जांघ और कूल्हे की मांसपेशियों को लचीला बनाने में मदद करता हैं। मांसपेशियों के स्ट्रैच होने से रक्त का परिसंचरण बढ़ जाता है। यह मांसपेशियों को स्वस्थ रखने में मदद करता है। साथ ही पैरों को मजबूत करता है।

5-बद्धकोणासन:
यह आसन कूल्हे को शेप में लाने में मदद करता है। साथ ही कूल्हे के मोशन को बढ़ाने में मदद करता है। इसे करने से आपके अंदरुनी मांसपेशियां स्ट्रैच और टोन होती है। यह आसन खासकर कूल्हे को शेप में लाने में मदद करता है।