Header Ads

प्लास्टिक की बोतल में पानी पीने से होते है स्वास्थ्य संबंधी नुकसान |


प्लास्टिक की बोतल में पानी पीने से होते है स्वास्थ्य संबंधी नुकसान |
Plastic bottle water can effect your health




वर्तमान समय में प्लास्टिक की बनी चीजों का इस्तेमाल दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है | हालांकि प्लास्टिक से बनी चीजें सस्ती और आसानी से उपलब्ध होने वाली है साथ ही इनका प्रयोग लंबे समय तक किया जा सकता है और इनका रख रखाव करने में भी कोई समस्या नहीं होती है | लेकिन इनके बढ़ते प्रयोग से आपको जानलेवा खतरा हो सकता है |




हाल ही में हुए शोध के अनुसार प्लास्टिक को बोतल में पानी पीने से ऑप्टिज्म, मधुमेह और कैंसर जैसी कई जानलेवा बीमारियाँ होने की संभावना बन सकती है | शोध के अनुसार प्लास्टिक की बोतल में भरे पानी में ईडीसी यानी इंडोक्राइन डिसरप्टिंग केमिकल जैसा खतरनाक रसायन मिल जाता है | इससे मनुष्य के हार्मोनल सिस्टम को नुकसान होने लगता है | इस संबंध में अमेरिकी वैज्ञानिकों ने बताया है कि इस रोग के इलाज के लिए केवल अमेरिका में ही लगभग 23 करोड़ रूपये खर्च किये जा चुके है |


आज हम आपको इस लेख के माध्यम से प्लास्टिक की बोतल में पानी पीने से होने वाले शारीरिक नुकसान के बारे में बताने जा रहे है | इनसे आपको कई तरह की गंभीर और जानलेवा बीमारियाँ होने की संभावना हो सकती है | आइये जानते है इस विषय से जुड़ी कुछ खास बाते जो आपके सामने इस तरह से है :


प्लास्टिक का हानिकारक रसायन कैसे नुकसानदायक हो सकता है :


प्लास्टिक की चीजों में खाना खाने या पानी पीने से हमारे शरीर की ग्रंथियां प्रभावित होने लगती है | ये ग्रंथियां हमारे शरीर के प्रत्येक अंग की जरूरत को पूरा करती है साथ ही शरीर को शक्ति प्रदान करती है | प्लास्टिक को बोतल में पानी पीने के अलावा भी शरीर को कई तरह से नुकसान होता है जैसे प्लास्टिक के खिलौने, डिटरजेंट व डिब्बे के अलावा सौन्दर्य प्रदान करने वाली चीजों में भी खतरनाक केमिकल का मिश्रण होता है | इस तरह के केमिकल को आसानी से देखा या पहचाना नहीं जा सकता है जिसके कारण इससे हमारे शरीर को नुकसान होने की संभावना बढ़ने लगती है |


प्लास्टिक की चीजों का प्रयोग करने से होने वाले रोग :


प्लास्टिक की चीजों में खाना खाने या इनका अन्य कामों में प्रयोग करने से हमारे शरीर के अंदर ईडीसी केमिकल चला जाता है | इसके प्रभाव से मनुष्य को मोटापे, कैंसर ऑप्टिज्म, मानसिक समस्या, पुरुषों में बांझपन, महिलाओं में गर्भाशय में बांझपन आदि समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है | इनके अलावा त्वचा संबंधी भी कई तरह की समस्याएँ हो सकती है |


शोध के अनुसार बीमारी का पता :


वैज्ञानिकों ने इस समस्या का पता लगाने के लिए लगभग 5000 लोगों के यूरिन की जांच की गयी थी | इन जांच में पता किया गया था कि उनमे से ज्यादातर लोगों को ईडीसी केमिकल के प्रभाव के कारण बीमारियाँ हुई थी |


ऊपर दिए गए सुझावों और शोध को ध्यान में रखते हुए हमें प्लास्टिक और इससे बनी चीजों के इस्तेमाल को कम करना चाहिए और इससे होने वाले रोगों से स्वयं का बचाव करना चाहिए | इस तरह के रोगों से बचने के लिए हमें खाने के लिए प्लास्टिक की बजाय अन्य बर्तनों का इस्तेमाल करके फायदा लेना चाहिए |


फटें हुए दूध से पायें आश्चर्यजनक फायदे 
| fate hue dudh se paye aashchryjanak fayde

कई बार आप दूध को गर्म करना भूल जातो हो जिसके कारण कुछ समय बाद दूध फट जाता है | इसके अलावा भी दूध कई कारणों से फट सकता है लेकिन फटने के बाद भी इसके बहुत गुणकारी फायदे होते है | इसलिए दूध फट जाने के बाद इसे फैंकना नहीं चाहिए बल्कि इसके लाभ लेने चाहिए 




फटें हुए दूध का पानी बहुत सुपाच्य होता है जो शरीर में आसानी से अवशोषित हो जाता है | इसका प्रयोग करने से पीलिया रोग का उपचार करने में मदद मिलती है साथ ही पेट की सफाई के लिए भी इसका इस्तेमाल करके लाभ लिया जा सकता है | इसके अलावा पेट व लीवर सम्बन्धी समस्या होने पर डॉक्टर आपको डाइट पर नियंत्रण करने के लिए डाइटोथैरेपी कराते है | इस दौरान डॉक्टर आपको फटे हुए दूध को पीने के लिए कहते है | इससे शरीर को आवश्यक एनर्जी प्रदान की जा सकती है |

आज हम आपको इस लेख द्वारा फटे हुए दूध के पानी के इस्तेमाल के फायदों के बारे में बताएँगे | इसे जानकर आप विशेष लाभ ले सकते है आइये जानते है इस विषय से जुड़ी कुछ खास जानकारी जो आपके सामने इस प्रकार है :


फटे हुए दूध को हम ऐसे ही बेकार समझकर फैंक देते है लेकिन आप शायद इसके फायदों के बारे में नहीं जानते है | इसके कुछ आश्चर्यजनक फायदे इस प्रकार है :


याददाश्त तेज करने के लिए :


जिन लोगो की याददाश्त कमजोर है उन्हें औषधियों के साथ फटे हुए दूध के पानी को मिलाकर लेना चाहिए | नियमित रूप से इस उपाय को प्रयोग करने से कुछ ही समय में याददाश्त तेज होने लगती है |


गले की सूजन को दूर करने के लिए :


गले की सूजन सम्बन्धी परेशानी होने पर अमलतास की फलियों का गुद्दा निकाल लें | इसको दूध में डालकर अच्छी तरह से उबाल लें | इस उपाय से गले की सूजन को कम किया जा सकता है | कफ की समस्या होने पर दूध में इलायची डालकर उबाल लें | नियमित रूप से इस मिश्रण का सेवन करने से कफ की समस्या को दूर किया जा सकता है |


चेहरे को चमकदार बनाने के लिए :

दूध का सेवन करने से रक्त संचार में वृद्धि होने लगती है जिसके कारण त्वचा को कोशिकाओं को स्वस्थ बनाने में मदद मिलती है | इसके अलावा दूध को उबाल कर पेस्ट चेहरे पर लगाने से त्वचा को चमक प्रदान की जा सकती है |


पेस्ट तैयार करने के लिए अनाज को बारीक पीसकर उसमे दूध, हल्दी और चन्दन का मिश्रण भी किया जाता है | इस तरह से सभी पदार्थों को अच्छी तरह से मिलाकर पेस्ट को बनाया जाता है | इसके बाद इसे चेहरे पर लगाकर अधिक से अधिक लाभ लिया जा सकता है |


बालों के लिए लाभदायक :


एक बार बालों को शेम्पू से धोने के बाद फटे हुए दूध के पानी से भी धोना चाहिए | धोने के बाद बालों को दस मिनट तक ऐसे ही रहने दे इसके बाद गुनगुने पानी से सिर को धोकर बालों को साफ कर लेना चाहिए | बाल सूखने के बाद उन्हें कंघी से सुलझा लें | इस तरह से इस उपाय के द्वारा बालों से संबंधित अनेक लाभ लिए जा सकते है | इस उपाय से बालों को मजबूती प्रदान करने के साथ साथ उनको चमक प्रदान की जा सकती है साथ ही रुसी की समस्या को भी दूर किया जा सकता है |


पनीरमाया :


प्रसव के बाद दूध देने वाली गाय, भेड़, या ऊंटनी के दूध को गर्म करने के बाद तैयार हुए पदार्थ को पनीरमाया के नाम से जाना जाता है | इस पदार्थ में उचित मात्रा में इम्युनोग्लोबिन पाया जाता है जिससे रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि की जा सकती है | इसके अलावा दिल और दिमाग को भी मजबूती प्रदान की जा सकती है |


इस पदार्थ का सेवन मरीज व्यक्तियों को उसकी उम्र और अवस्था के हिसाब से करना चाहिए| इस तरह से बने पदार्थ का सेवन अलग अलग चीजों के साथ करने से उसका असर भी वैसा ही होता है |

इस तरह से आप फटे हुए दूध के पानी का इस्तेमाल करके भी अनेकों लाभ प्राप्त कर सकते हो साथ ही शरीर की रोगों से लड़ने वाली शक्ति में भी वृद्धि की जा सकती है | इसलिए दूध फट जाने पर कभी भी इसे फैंकना नहीं चाहिए बल्कि इसका इस्तेमाल करके अधिक से अधिक फायदा लेना चाहिए |

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.