कपालभाति प्राणायाम कपाल और भाति शब्द के संयोजन से बना है। कपाल का मतलब सर होता है और भाति का मतलब चमकना होता है। कपालभाति प्राणयाम से पाचन क्रिया मजबूत होती है तथा फेफड़े मजबूत होते हैं। इस प्राणायाम के दौरान सांस लेकर पेट को हिलाया जाता है।

अनुलोम विलोम प्राणयाम:what-is-pranayam-and-its-various-types-ishइस प्राणायाम में नाक के एक हिस्से को बंद कर के नाक के दूसरे हिस्से से सांस लिया जाता है। ये प्राणायाम नाक को साफ़ करने तथा मन को शांत करने में काफी फायदेमंद साबित होता है।