Header Ads

पायें मूली के पत्तों से स्वास्थ्यवर्धक लाभ |


पायें मूली के पत्तों से स्वास्थ्यवर्धक लाभ | 
paayen muli ke patton se swasthyvardhak labh


कई बार हम कुछ सब्जियों के पत्तों को ऐसे ही बेकार समझकर फैंक देते है लेकिन ये बेकार समझे जाने वाले पत्तें बहुत गुणकारी और स्वास्थ्यवर्धक होते है | इनका प्रयोग करके अनेकों बिमारियों का उपचार किया जा सकता है | इसलिए सब्जियों के पत्तों को बेकार समझकर फैंकने की बजाय इनका इस्तेमाल करके फायदा लेना चाहिए और रोगों का उपचार करने के लिए इनका प्रयोग करना चाहिए |




आज हम आपको इस लेख के माध्यम से मूली के पत्तों से होने वाले स्वास्थ्यवर्धक फायदों के बारे में बताने जा रहे है | इन्हें जानकर आप भी कई तरह के लाभ ले सकते है साथ ही अनेकों रोगों से छुटकारा पाने के लिए उपचार कर सकते है | आइये जानते है इस विषय से जुड़ी कुछ खास बातें जो आपके सामने इस तरह से है |


बिमारियों से बचाव करने के लिए मूली के पत्ते :


सर्दियों का मौसम आने पर हरी सब्जियां भी देखने को मिलती है और मूली भी इन्ही सब्जियों में से एक है | मूली का प्रयोग सलाद के साथ साथ परांठे और सब्जी बनाने के लिए भी किया जा सकता है | मूली का सेवन करने से व्यक्ति को भरपूर मात्रा में क्लोरीन, फास्फोरस, सोडियम, मैग्नीशियम, विटामिन ए, बी और सी की पूर्ति हो सकती है | इसके अलावा पेट रोग व मूत्र सम्बन्धी समस्या होने पर मूली का सेवन करके फायदा लिया जा सकता है |


जिस तरह से आपको मूली के सेवन से फायदे होते है उसी तरह से मूली के पत्तें भी आपके लिए बहुत लाभदायक हो सकते है | इसलिए इन्हें बेकार समझकर कूड़े में फैंकने की बजाय इनका प्रयोग करना चाहिए |


विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर :

मूली के पत्तों में मूली से भी ज्यादा पोषक तत्व पाए जाते है | मूली के पत्तों में आयरन, कैल्शियम, फोलिक एसिड, विटामिन सी और फॉस्फोरस आदि पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते है जो शरीर को शक्ति प्रदान करने के लिए आवश्यक होते है | इनके सेवन से कई तरह के मिनरल्स की प्राप्ति की जा सकती है |


उचित मात्रा में फाइबर का स्त्रोत :


मूली के पत्तों में अत्यधिक मात्रा में फाइबर नामक तत्व पाया जाता है इसके सेवन से शरीर में पाचन क्रिया को नियंत्रित करने में मदद ली जा सकती है जिसके कारण पेट के रोग जैसे कब्ज और पेट दर्द आदि समस्याओं को दूर किया जा सकता है | पेट में गैस बनने की समस्या से छुटकारा पाने के लिए मूली के पत्तों के रस के साथ नींबू रस का मिश्रण करके सेवन करना चाहिए | इस उपाय से कुछ ही समय में पेट में गैस बनने की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है |


इम्युनिटी बढ़ाने और थकान दूर करने में फायदेमंद :


मूली के पत्तों में आयरन तत्व अधिक मात्रा में पाया जाता है जिसके सेवन से शरीर की थकान को दूर करने में मदद मिलती है | इसके अलावा मूली के पत्तों के सेवन से शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि की जा सकती है | मूली के पत्तों से उचित मात्रा में मिनरल्स जैसे विटामिन सी, ए और थाइमिन की पूर्ति की जा सकती है | नियमित रूप से मूली के पत्तों का सेवन करने से एनीमिया या कम हीमोग्लोबिन की समस्या से ग्रस्त व्यक्ति को बहुत फायदा हो सकता है जिसके कारण उन्हें रोग से छुटकारा पाने में मदद मिलती है |

पाइल्स का उपचार करने के लिए प्रयोग :


मूली के पत्तों का प्रयोग करके पाइल्स जैसे दर्दनाक रोग का उपचार किया जा सकता है | मूली के पत्तों में एंटी-बैक्‍टीरियल गुण पाए जाते है जो दर्द और सूजन की समस्या के दौरान फायदेमंद होते है | पाइल्स रोग क उपचार करने के लिए मूली के पत्तों को बारीक पीसकर उसमे समान मात्रा में चीनी मिला लें | इसके बाद इसमें थोड़ा पानी मिलाकर पेस्ट बना लें और इस पेस्ट को प्रभावित जगह पर लगा लें | नियमित रूप से इस उपाय को प्रयोग में लाने से कुछ ही दिनों में पाइल्स रोग से छुटकारा पाया जा सकता है |


अन्य महत्वपूर्ण फायदे :


मूली के पत्तों के सेवन से दिल संबंधी रोगों को दूर करने में मदद मिलती है क्योंकि इसमें एंथोकाइनिन नामक तत्व भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो दिल सम्बन्धी रोगों के उपचार के लिए फायदेमंद रहता है | 


मूली के पत्तों का सेवन करने से शरीर में विषाक्त कण कम होने लगते है जिसके कारण त्वचा को फायदा होने लगता है और त्वचा में निखार आने लगता है |




मूली के पत्तों के रस का सेवन करने से मूत्र संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाने में मदद मिलती है |


मूली के पत्तों का सेवन करके शरीर में सोडियम की पूर्ति की जा सकती है जिसके कारण शरीर में नमक की कमी को दूर किया जा सकता है | इसके अलावा मूली के पत्तों में अधिक मात्रा में फास्‍फोरस पाया जाता है जिसे नियमित रूप से अपने आहार में शामिल करके बालों के गिरने की समस्या से बचाव किया जा सकता है साथ ही बालों को खूबसूरत बनाया जा सकता है |


पीलिया रोग का उपचार करने के लिए भी मूली के पत्तें प्रयोग में लाये जा सकते है | इसके लिए मूली के पत्तों को बारीक पीस कर इनका रस निकाल लें | इस रस में मिश्री मिलाकर सेवन करने से कुछ ही दिनों में पीलिया रोग से छुटकारा पाया जा सकता है |


ऊपर दिए गए फायदों के आधार पर कहा जा सकता है कि जिस तरह मूली के सेवन से हमारे शरीर को अनेकों फायदे होते है उसी तरह से मूली के पत्तों के सेवन से भी इसी तरह के फायदे लिए जा सकते है | इसलिए मूली के पत्तों को बेकार और खराब समझकर फैंकना नहीं चाहिए बल्कि इन्हें धोकर इस्तेमाल में लाना चाहिए | इनके प्रयोग से आप कई तरह के स्वास्थ्यवर्धक लाभ ले सकते है और अनेक रोगों का उपचार भी कर सकते है |

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.