Header Ads

गन्ने का जूस भी कंट्रोल में रखता है वजन


गन्ने का जूस भी कंट्रोल में रखता है वजन

गन्ने का जूस पीने का सही समय. बढ़ता वजन पर्सनैलिटी के साथ सेहत पर भी बुरा असर डालता है. बढ़े हुए वजन के कारण आपको दूसरों के सामने शर्मिंदा भी होना पड़ता है. बढ़ते वजन को कंट्रोल करनेके लिए आप हैल्दी डाइट से लेकर जिम में घंटो पसीना बहाते है लेकिन क्या आप जानते है कि सिर्फ गन्ने का रस पीकर आप मोटापा घटा सकते हैं. गन्ने के रस का सेवन न सिर्फ मोटापा घटाता है बल्कि यह आपके शरीर को एनर्जी देने के साथ डिहाइड्रेशन और कई बीमारियों से भी बचाता है. आइए जानते है किस तरह गन्ने के रस का सेवन मोटापा घटाने में मददगार होता है.

इस तरह वजन कम करता है गन्ने का रस
अगर इसका सही समय और सही मात्रा में सेवन किया जाए तो वजन कम किया जा सकता है. वजन कम करने के साथ गन्ने के जूस से आपको तुरंत एनर्जी मिलती है. गन्ने के जूस का सेवन शरीर से सभी विषाक्त तत्वों को बाहर निकालता है, जिससे आपका वजन तेजी से कम होता. इसके अलावा रोजाना इसका सेवन आपके वजन को कंट्रोल में भी रखता है.

गन्ने के जूस में पाए जाने वाले तत्व
इसमें 111 कैलोरी, 27 ग्राम कार्बोहाइड्रेट और 0.27 ग्राम प्रोटीन होता है, जोकि वजन कम करने में मदद करता है. इसके अलावा गन्ने में प्रचुर मात्रा में मैग्‍नीशियम, कैल्शियम, फास्फोरस, लोहा, जस्ता और पोटेशियम और विटामिन ए, बी-कॉम्प्लेक्स और सी भी पाया जाता है. गन्ने में फैट नहीं होता है. यह एक 100% नेचुरल ड्रिंक है. इसमें लगभग 30 ग्राम नेचुरल शुगर होती है. एक गिलास गन्ने के रस में कुल 13 ग्राम डाइटरी फाइबर होती है. इसलिए इसका सेवन मोटापा घटाने में मदद करता है.

गन्ने का रस पीना का सही समय और तरीका

मोटापा कम करने के लिए इसमें नींबू निचोड़कर एक चुटकी काला नमक डाल लें. वर्कआउट करने के तुरंत बाद या लंबे समय के बाद गर्मी से आने पर गन्‍ने का रस पीना सबसे ज्‍यादा फायदेमंद होता है. ऐसा करने से गन्‍ने का रस शरीर से निकल चुके नमक को बनाने में मदद करता है. वजन कम करने के लिए आप इस जूस को सुबह नाश्ते या दोपहर के लंच के बाद पी सकते हैं.

गन्ने का रस पीते समय बरतें ये सावधानियां
1. अगर आप तेजी से मोटापा कम करना चाहते हैं तो हमेशा ताजा गन्ने का रस पीएं. फ्रिज में रखा हुआ गन्ने का रस तो भूलकर भी न पीएं. फ्रेश गन्ने का जूस पीने से ही आपको इसमें मौजूद न्यूट्रीशस मिलेंगे.

2. एक्सपर्ट बताते हैं कि एक दिन में दो गिलास से ज्यादा गन्ने का रस न पीएं. क्योंकि एक स्वस्थ आदमी को महज दो गिलास गन्ने के रस की ही जरूरत होती है. इससे ज्यादा गन्ने के रस का सेवन आपको नुकसान कर सकता है.

3. कभी भी सड़े हुए गन्ने से निकाला हुआ रस न पिएं. इससे आपको पेट की बीमारियां हो सकती हैं. इसलिए जूस निकलते वक्त गन्ना सही है या नहीं, इसकी जांच जरूर करें.


कम ही नहीं, ज्यादा पानी पीने से भी होते हैं कई नुकसान




गर्मियों का मौसम आते ही लोग ज्यादा से ज्यादा पानी पीने लगते हैं. मानव शरीर का 70 प्रतिशत हिस्सा पानी से बना. यही कारण है की जिंदा रहने के लिए पानी पीना बहुत जरूरी है. इसको पीने से शरीर के विषैले पदार्थ आसानी से बाहर निकल जाते हैं. बीमारियों से बचने के लिए लोग अधिक से अधिक पानी पीते हैं. उनका मानना है कि जितना अधिक पानी पिया जाए उतना ही अच्छा है पर एेसा नहीं है. जरूरत से ज्यादा पानी पीने से भी शरीर को कई नुकसान होते हैं. आज हम आपको ज्यादा पानी पीने से होने वाले नुकसानों के बारे में बताएंगे. 

इन बीमारियों में ना पीएं ज्यादा पानी 

जिन लोगों को हाई ब्लड प्रैशर, हार्ट फेल्यिर की समस्या या गुर्दे की परेशानी है उनको दिन में लीटर से अधिक पानी नहीं पीना चाहिए. अधिक पानी पीने से खून में सोडियम का संतुलन गिर जाता है. जब शरीर में सोडियम का स्तर कम होता है तो आंखों के आगे अंधेरा आने लगता है, जिससे व्यक्ति बेहोश हो जाता है. कई गंभीर मामलों मे तो व्यक्ति की मौत भी हो सकती है. जो बुजुर्ग डिमैंशिया से पीड़ित हैं उनमें हाइपोनेट्रीमिया का खतरा अधिक होता है. इसके अलावा एक दम से ज्यादा पानी नहीं पीना चाहिए. कुछ लोगों का मानना है कि पानी के अधिक पीने से शरीर की सारी गंदगी बाहर निकल जाती है. एेसा सोचने वाले लोग ज्यादा पानी पीने लगते हैं. इस आदत को ऑब्सैसिव कम्पल्सिव ड्रिंकर्स कहा जा सकता है. बार-बार और ज्यादा पानी पीने का असर लीवर पर होता है. 

कितना पानी पीना उचित है

एक स्वस्थ इंसान जिसका वजन 70 किलो है उसको दिन में कम से कम 4 से 5 लीटर पानी पीना चाहिए. इसके अलावा जो लोग अधिक लोग शारीरिक श्रम करते हैं उनको ज्यादा पानी पीना चाहिए. स्वस्थ रहने के लिए जब भी प्यास लगे तब ही पानी पीए. दिम में कम से 8 गिलास पानी पीना जरूरी है. 

अधिक पानी पीने के नुकसान

1. अधिक पानी पानी से धमनियों, नाड़ियों तथा दिल पर दबाव पड़ता है. क्योंकि संचार प्रणाली पानी से भर जाती है तो शरीर में इलैक्ट्रोलाइड्स ( सोडियम, पोटाशियम तथा क्लोराइड) का जमाव कोशिकाओं के मुकाबले रक्त में गिर जाता है. सुंतलन बनाने के प्रयास में पानी आपके खुन से कोशिकाओं में घूस जाता है जिससे वे सूज जाती हैं. जब यह सूजन दिमाग में पहुंचती है तो हल्का सा सिरदर्द होने लगता है. इसके साथ सांसे उखड़ेने जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. 

2.ज्यादा पानी पीने से पाचन क्रिया प्रभावित होती है. ज्यादा पानी पीने से खाना देर से पचता है और पेट संबंधी कई बीमारियां होने का खतरा रहता है.

3. ज्यादा पानी पीने के कारण हाइपोनेट्रेमिया होने की संभावना रहती है. 

4. शरीर में सोडियम की मात्रा कम होती है और इसकी वजह से दिमाग पर बुरा असर पड़ता है. इसके साथ ही सिर दर्द की शिकायत होने लगती है.

5. कुछ मरीजों जिनकी बाय-पास सर्जरी हुई होती है, उन्हें चिकित्सक ज्यादातर कम पानी पीने के लिए कहते हैं.

6. ज्यादा पानी पीने का असर नींद पर भी पड़ता है. बार-बार वॉशरूम जाने के कारण आपकी नींद टूटती है.

7. ज्यादा पानी के कारण किडनी पर भी ज्यादा दबाव पड़ता है.

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.