Header Ads

खाने के तेल जो आपका वजन कम करे


खाने के तेल जो आपका वजन कम करे

खाना पकाने में तेल सबसे महत्वपूर्ण भाग है, विशेषरूप से भारत में जहां हम बिना तेल के कोई भी व्यंजन बनाने के बारे में नहीं सोच सकते है। यदि आप वजन कम करना चाहते है तो किसी भी तेल के साथ खाना पकाना मुश्किल हो सकता है क्योकि इनमें से अधिकांश में ज्यादा सैचूरेटेड फैट होता है। अनसैचूरेटेड फैटी एसिड युक्त तेल का सेवन करें जो न केवल आपके वजन घटाने के प्रयासों को तेज करता है बल्कि आपके पोषक तत्वों की मात्रा को भी बढ़ाता है।
 Read Weight Loss Oil in Hindi (Vajam Kam Karne ke Liye Oil)

1. राइस ब्रान ऑइल (Rice Bran Oil for Weight Loss)

Rice bran oil मोनोअनसैचूरेटेड और पॉलीअनसैचूरेटेड फैट के Health स्त्रोत के रूप में लोकप्रिय है। इन दोनों का हमारे वजन घटाने के लक्ष्य पर सकारात्मक प्रभाव हो सकता है। राइस ब्रान ऑइल में ऑराइजनोल की अधिक मात्रा से आपके शरीर में LDL (लो-डेन्सिटी लिपोप्रोटिन) स्तर या बेड कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होना पाया गया है। आप किसी भी डिश को बनाने के लिए राइस ब्रान ऑइल का उपयोग कर सकते है। केवल उन डिश को छोड़कर जिनमें उच्च तापमान पर डीप फ्राई करने की आवश्यकता होती है।
2. एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑइल (Extra Virgin Oil for Weight Loss)
ऑलिव ऑइल और राइस ब्रान ऑइल का मिश्रण वजन घटाने में फायदेमंद हो सकता है। ऑलिव ऑइल, मोनोअनसैचूरेटेड और पॉलीअनसैचूरेटेड फैटी एसिड्स से भरपूर होता है जो अन्य तेल में पायी जाने वाली सैचूरेटेड फैट से ज्यादा स्वास्थ्यकारी विकल्प है। एक अध्ययन के अनुसार, मामूली मोटे लोगों में पॉलीअनसैचूरेटेड फैटी एसिड्स मेटाबोलिक दर बढ़ा सकता है। ऑलिव ऑइल में मौजूद एंटी ऑलिवक्सीडेंट आपके Metabolisam को बढ़ाते है और आपके Weight को नियंत्रित रखते है। इसके अलावा, यह तेल आपको ज्यादा समय तक तृप्त रखता है और भूख की लालसा को कम करता है। एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑइल में मौजूद मोनोअनसैचूरेटेड फैटी एसिड हृदयवाहिनियों संबंधी बिमारियों के खतरे को कम करता है। अपने वजन को नियंत्रित रखने के लिए अपने आहार में 2-3 बड़े चम्म्च एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑइल को शामिल करें।
3. नारियल तेल (Coconut Oil for Weight Loss)
नारियल तेल में मौजूद कुछ तत्व वजन घटाने और पाचन के लिए जाने जाते है। इस तेल में मध्यम शृंखला वाले ट्राइग्लिसरॉइड होते है जो आपके शरीर द्वारा ईंधन के तैयार स्त्रोत के रूप में उपयोग किया जाता है। नारियल तेल की प्रकृति थर्मोजेनिक होती है जिसका अर्थ है कि यह आपके शरीर द्वारा आसानी से टूट जाता है और मेटाबोलिज्म एवं फैट के खर्च होने की प्रक्रिया को तेज करता है। यह अधिक दिलचस्प है कि नारियल तेल में मौजूद मध्यम शृंखला वाले फैटी एसिड्स आपको ज्यादा समय तक तृप्त रखते है। एक अध्ययन के अनुसार मोटे लोगों में शरीर के फैट द्रव्यमान के प्रबंधन के लिए नारियल तेल एक उपयोगी पदार्थ है। महिलाओं में नारियल तेल पेट के आसपास के वजन को कम करने में मदद करता है।

जौं का पानी- वजन घटानें के लिए गुप्त हथियार

यदि आप काँच में देख रहे है और अपने पेट को पतला करना चाहते है तो यहाँ एक प्राकृतिक औषधि है जो आपकी वजन घटाने (विशेषरूप से पेट के आसपास) में सहायता कर सकती है। Read Barley Water for Weight Loss in Hindi (Jau Ke Pani se Vajan Ghataye)


जौं वजन घटाने में कैसे सहायता करता है? (How Barley Water is Helpful in Weight Loss)

जौं घुलनशील और अघुलनशील दोनों प्रकार के रेशों का प्रचूर स्त्रोत है। इसके इस गुण के कारन आपको ज्यादा देर तक पेट भरा हुआ महसूस होता है। यह पाचन को आसान बनाता है और एमा (आयूर्वेद के अनुसार पेट में मौजूद विषैला अपशिष्ट) और पेट की दीवारों से चिपके हुए अपशिष्ट पदार्थ को दूर करता है। इस अनाज में मूत्रवर्धक गुण होता है, जो आपके शरीर से विषैले पदार्थ और अतिरिक्त पानी को बाहर करता है।
इस औषधि का प्रयोग कैसे करें (How to Use Barley Water for Weight Loss)
दो बड़े चम्मच जौं के दाने लें और इसे एक बर्तन में 2 लीटर पानी के साथ मिलाएं। अब इस मिश्रण को उबलने दे।
इस बर्तन पर ढक्कन ढक दे जिससे जौं के दानों को पकने में मदद मिले।
यह अंत में गुलाबी रंग में बदल जाएगा और दानें नरम और फूले हुए नजर आएंगे।
अब पानी छान लें।

परिणाम पाने के लिए दिनभर इस पानी को नियमित रूप से पीते रहे। यदि आपको जौं के पानी का स्वाद पसंद नहीं हो तो आप इसमें एक नींबू का रस, थोड़ा नमक और शहद मिलाकर स्वादिष्ट बना सकते है।

यह मिश्रण वजन घटाने के अलावा डिहाइड्रेशन, मूत्रमार्ग के इन्फेक्शन को रोकने और गर्मी की तपन में आपके शरीर को ठण्डा बनाये रखने में भी सहायता करेगा।

वजन कम करने के लिए ट्रेडमिल पर चले या हरी घास पर Walking karne ke fayde


ज्यादातर फिटनेस के प्रति जागरूक लोग या तो Treadmill पर दौड़ते हैं, एलिपटिकल पर वॉक करते हैं या घर पर साइकिलिंग का विकल्प चुनते हैं। फिटनेस एक्सपर्ट्स का मानना है कि वज़न कम करने के इन अप्राकृतिक तरीकों से वो कुदरती रोशनी और ऑक्सीजन नहीं मिलती जो कि जॉगिंग ट्रैक पर मिलती है। Read walking karne ke fayde

Weight Loss With Walk In Hindi
walking karne ke fayde
ट्रेडमिल पर दौड़ने से आपका मशीनी तौर पर वज़न तो कम होगा किन्तु इसके परिणाम की तुलना आप घास पर दौड़ने या खुली हवा में योग करने से नहीं कर सकते। प्राकृतिक तरीका ही सबसे उत्तम तरीका है।
युवाओं को ट्रेडमिल पर दौड़ते या एक जगह स्थापित साइकिल का इस्तेमाल करते देखा जाता है। यही कारण है कि उनके शरीर कड़क हो जाते हैं, उनके चेहरों पर कुदरती रौनक(Glow ) नहीं होती और इसलिए वो Healthy भी नहीं दिखते।

हम अपने कमरे में सभी सुविधाओं के बीच वज़न कम कर सकते हैं, किन्तु ये मशीनें वज़न तो कम करती हैं पर हमारा कुदरती पोषण छीन लेती हैं।
एक्सरसाइज करने के प्राकृतिक तरीके ही बेहतर हैं। इसका कारण यह है कि ट्रेडमिल की कठोर सतह पर दौड़ने से हमारे शरीर को अंदरूनी नुकसान होता है जिसका असर एक उम्र के बाद ही पता चलता है।
एलिपटिकल पर एक्सरसाइज करने से मासपेशियाँ खिंच सकती हैं, लिगामेंट्स को चोट पहुँच सकती है क्योंकि ये मूवमेंट्स नेचुरल नहीं होते और कोई भी इन अंदाजों में पहाड़ों या टीलों पर नहीं चढ़ता।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.