Header Ads

स्नान करने के 5 बेस्ट तरीके जिससे तन-मन रहे तरोताज़ा

स्नान करने के 5 बेस्ट तरीके जिससे तन-मन रहे तरोताज़ा

स्नान करने के 5 बेस्ट तरीके जिससे तन-मन रहे तरोताज़ा


शरीर की सफाई हो या फिर त्वचा की, यह एक अच्छे स्नान के द्वारा ही संभव हो सकती है। योग और आयुर्वेद में भी शरीर की ताजगी को बरकरार रखने के लिये स्नान के प्रकार और फायदे बताए गए हैं। बहुत देर तक और अच्छे से स्नान करने से जहां थकान और तनाव घटता है, वहीं यह मन को प्रसंन्न कर स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायी सिद्ध होता है। इसके लिये प्रायः हर घर में देखा गया है कि लोग गर्म पानी का उपयोग कर दिनभर की थकान को दूर करते हैं और शरीर में ताजगी का अनुभव करते हैं।

दिनभर की थकान को दूर करने के लिये आप अपने बाथरूम में कई मोमबत्तीयां रोशन करके शीतल संगीत की धुन सुने। मंद प्रकाश की किरणों में किया गया स्नान आपके चारों ओर के वातावरण को बदलकर सुखद अहसास का अनुभव कराता है। इस तरह के स्नान से हमारे मन को शांति तो मिलती ही है, साथ ही शरीर की दिनभर की सारी थकान भी दूर होती है।
स्नान करने के कुछ इसी तरह के अनुभव हम आपसे साझा कर रहे हैं जिन तरीकों को अपनाकर आप एक सुखद अनुभव का आंनद उठा सकते है एंव शारिरीक एंव मानसिक थकान को भी दूर कर सकते हैं। सबसे सही बात यह है कि आप इसको अपने घर पर आसान तरीकों से कर सकते हैं। आपको कहीं दूसरी जगह जाने की कोई जरूरत नहीं है। यह नहाने का बहुत किफायती और आसान तरीके हैं। हम आपको बता रहे हैं, नहाने मेंउपयोग किये जाने वाले नुस्खें –
लैवेंडर दूध का स्नान- लैवेंडर में कई आवश्यक औषधीय गुण प्राकृतिक रूप से मिलते हैं इसका इस्तेमाल अस्पताल में फर्श और दीवारों को कीटाणुरहित करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा इन तत्त्वों का उपयोग स्नान उत्पादों को सुगंधित करने में किया जाता है। दिनभर तरोताजा रहने के लिए एक कप दूध में लैवेंडर ऑयल की दो बूंदे मिलाएं। इसकी सुखद खुशबू आपके शरीर में ताजगी के साथ आपको अनिद्रा से लड़ने और बेहतर नींद में मदद करती है।



क्ले स्नान- मिट्टी का उपयोग स्नान के समय करने से ये आपके चेहरे में प्राकृतिक चमक प्रदान करता है। यह सौन्दर्य का खजाना है। इसमें एन्टीसेप्टिक के गुण पाये जाते हैं, जो शरीर की गंदगी को दूर कर त्वचा संबंधी समस्याओं से लड़ने में मदद करता है। ये नेचुरल कंडीशनर भी है। यह त्वचा की मृतकोशिकाओं को हटाता है और शरीर के रक्तसंचार में सुधार लाता है। इसे लगाने के लिये 400 से 500 ग्राम मिट्टी को 10 से 15 मिनिट के लिये भिगोकर रख दे। फिर इसे अपने शरीर पर लगायें। इसे लगाने के बाद साबुन या किसी अन्य सफाई उत्पाद का उपयोग किए बिना शॉवर के नीचे बैठकर पूरे शरीर को अच्छी तरह से धो लें। इसके बाद आपके शरीर में ताजगी के साथ एक अलग सी चमक दिखाई देगी।
दूध और शहद स्नान- त्वचा के लिये कच्चा दूध काफी फायदेमंद माना गया है। कहा भी गया है कि शहद के साथ अगर कच्चे दूध को मिलाकर त्वचा पर लगाया जाये तो त्वचा में काफी निखार आ जाता है। क्योंकि जिस प्रकार से शहद शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और संक्रमण की पुनरावृत्ति रोकता है, उसी प्रकार दूध में लैक्टिक एसिड मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाने में मदद करती है और नई कोशिकाओं की पुनरावृति करती है। दूध एंव शहद एक अच्छे प्राकृतिक मॉस्चराईसर के रूप में काम करते हैं। इसे लगाने के लिये दोनों को मिलाकर अपनी त्वचा पर लगाये फिर गुनगुने पानी के साथ स्नान कर लें।


बढती उम्र एंव चमकदार त्वचा के लिये रेडवाइन या शेम्पेन- प्राकृतिक रूप से बनाई जाने वाली रेड वाइन में अद्भुत एंटीऑक्सीडेंट होने के साथ पॉलि-फिनौल भी होता है। शैंपेन में अद्भुत चमकती त्वचा प्रदान करने के गुण भी पाये जाते हैं। इसके अलावा इसमें पाया जाने वाला रेसवेराट्रोल शरीर की सूजन को भी कम करने में मदद करता है।


अब आप बताये इन पांच तरीकों में से आपको कौन सा तरीका पसंद आया अपने स्नान करने के लिये? क्या आप इन तरीकों का इस्तेमाल कर स्नान करना पंसद करेगें?

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.