Header Ads

इन 10 कारणों से वजन घटना भी हो सकती है गंभीर समस्या


इन 10 कारणों से वजन घटना भी हो सकती है गंभीर समस्या
सावधान! वज़न घटने के हो सकते हैं कुछ गंभीर कारण।

https://healthtoday7.blogspot.in/



आप डाइटिंग नहीं कर रहे, आप वज़न घटाने के लिए वर्कआउट भी नहीं कर रहे तब भी तेज़ी से आपका वज़न घटता जा रहा है। और आप हैं कि इस पर ध्यान देने की बजाय खुश हो रहे हैं। जबकि, बिना किसी कोशिश के वज़न घटना और थकान बहुत सी बीमारियों के दो आम लक्षण हैं।
जी हां, अचानक से वजन घटने की वजह कुछ बीमारियां भी होती हैं। इसलिए अगर आपका वज़न बिना आपकी किसी ख़ास कोशिश के घट रहा है तो उसका कारण जानने की कोशिश करें। हम यहां आपको 10 स्थितियां बता रहे हैं जिनकी वजह से वज़न घटता है।

1. डायबिटीज़
Image result for 1. डायबिटीज़
डायबिटीज़ एक मेटाबॉलिक समस्या है जिसमें आपके शरीर में ब्ल़ड शुगर स्तर उच्च होता है। इसके दो कारण हो सकते हैं, या तो ये कि आपके शरीर में इंसुलिन का निर्माण न हो पा रहा हो या फिर ये कि आपका शरीर इंसुलिन के लिए प्रतिक्रिया नहीं कर पा रहा हो, या फिर ये दोनों ही कारण हो सकते हैं।
लक्षण – बार बार यूरीनेशन, बहुत अधिक प्यास, अधिक भूख, वज़न बढ़ना (टाइप 2 डायबिटीज़), अचानक वज़न घटना (टाइप 1 डायबिटीज़), थकान, घाव जल्दी न भरना और हाथ पैर सुन्न पड़ना।

2. डिप्रेशन
Image result for 2. डिप्रेशन
डिप्रेशन एक ऐसा मूड डिसॉर्डर है जिसमें कई कई दिनों तक उदासी, परेशानी, चिंता या चिड़चिड़ापन महसूस होता रहता है।
लक्षण – कम या ज्यादा सोना, ध्यान केंद्रत करने में समस्या, नकारात्मक विचार, निराशा की भावना, लाचारी महसूस करना, चिड़चिड़ापन, आत्महत्या की इच्छा और अचानक व बहुत ज्यादा वज़न घटना।

3. अधिक सक्रिय थायरॉयड
Image result for 3. अधिक सक्रिय थायरॉयड
थायरॉयड ग्लैंड हार्मोन थायरॉयड का निर्माण करते हैं जो कि शरीर का मेटाबॉलिज्म नियंत्रित करते हैं। उदाहरण के लिए, आपके दिल की धड़कन, आप कितनी जल्दी कैलोरी बर्न करते हैं और पाचन क्रिया। ये शरीर में कैल्शियम के स्तर को भी नियंत्रित करते हैं। जब थायरॉयड ग्लैंड बहुत अधिक थायरॉयड का निर्माण कर देते हैं तो उस स्थिति को हाइपरथायरॉयडिज़्म कहते हैं।
लक्षण – दिल की धड़कनों का तेज़ और अनियमित होना, पसीने ज्यादा आना, अचानक वजन घटना, जल्दी जल्दी सांस लेना, पैनिक अटैक, थकान, मूड स्विंग आदि। हालांकि सभी में ये सारे लक्षण नहीं दिखते। कुछ लोगों में कम भी दिख सकते हैं।

4. ट्यूबरक्लॉसिस यानी टीबी
Image result for ट्यूबरक्लोसिस यानी टीबी

टीबी रोग को तपेदिक, क्षय और यक्षमा जैसे कई नामों से जाना जाता है। तपेदिक संक्रामक रोग होता है जो माइकोबैक्टिरीअम ट्यूबरक्लॉसिस नामक जीवाणु के कारण होता है। इस बीमारी का किडनी, रीढ़ की हड्डी या दिमाग पर असर भी पड़ सकता है।
लक्षण – खांसी, कभी कभी ख़ासी में खून आना, छाती में दर्द, थकान, वज़न घटना, बुखार व रात को पसीना आना।

5. फेफड़ों की बीमारियां (सीओपीडी)
सीओपीडी (Chronic obstructive pulmonary disease) फेफड़ों की बीमारियों का एक समूह है जिनमें सांस लेने में दिक्कत होती है। फेफड़ों तक हवा ले जाने वाली नली ब्रोंकिअल में सूजन के कारण हवा नहीं पहुंच पाती। इससे फेफड़ों को नुकसान होता है।
लक्षण – जब तक फेफड़ों को काफी ज्यादा नुकसान न हो जाए, आमतौर पर लक्षण सामने नहीं आते। इसके लक्षणों में, सांस में दिक्कत, छाती में जकड़न, बार बार इंफेक्शन होना, होंठ नीले पड़ना, थकान और आगे की स्टेज में बहुत अधिक वज़न घटना है।

6. आंत में सूजन
इस बीमारी तो आईबीडी (inflammatory bowel disease) भी कहा जाता है। इसमें आंतों में सूजन आ जाती है जिससे पेट में दर्द होता है और कुपोषण की समस्या भी हो जाती है।
लक्षण – डायरिया, पेट में दर्द और ऐंठन, कम भूथ लगना, वज़न घटना, मल में खून और अल्सर

7. हार्मोन संबंधी विकार
एडीसन्स डिज़ीज एक हार्मोनल डिसॉर्डर है जिसमें एड्रीनल ग्लैंड्स अपर्याप्त मात्रा में हार्मोन का निर्माण करते हैं। ख़ासतौर पर कार्टिसोल और कुछ मामलों में एल्डोस्टेरॉन भी। ये सभी उम्र के लोगों और महिलाओं व पुरूषों दोनों को हो सकता है।
लक्षण – वज़न घटना, थकान, लो ब्लड प्रेशर और मांसपेशियों में कमज़ोरी।

8. कैंसर
कैंसर में असमान्य कोशिकाओं का शरीर के किसी भी हिस्से में विकास होने लगता है। कैंसर त्वचा या फिर कोशिकाओं से शुरू हो सकता है और फिर शरीर में कहीं भी फैल सकता है। जब कैंसर दिमाग और रीढ़ की हड्डी में होता है तो उसे सेंट्रल नर्वस सिस्टम कैंसर कहते हैं।
लक्षण- हर प्रकार के कैंसर के लक्षण अलग हो सकते हैं लेकिन कुछ लक्षण ऐसे भी हैं जो कि सामान्य हैं। जैसे कि वज़न घटना, थकान, मांसपेशियों और जोड़ों में बेकारण दर्द, रात में पसीने आना, त्वचा में परिवर्तन आदि।

9. एचआईवी/एड्स
एचआईवी भी अन्य वायरस की तरह ही एक वायरस है, बस इसमें एक बहुत बड़ा फर्क ये है कि जबां अन्य वायरसों को हमारा इम्यून सिस्टम खत्म कर देता है, वहां इस वायरस को खत्म नहीं किया जा सकता। बल्कि, ये वायरस हमारे इम्यून सिस्टम को नष्ट कर देता है। एचआईवी की आख़िरी स्टेज एड्स होती है।
लक्षण – शुरू में एचआईवी इंफेक्शन के लक्षण ठीक से नजर नहीं आते लेकिन जब ये एड्स होने लगता है तो बुख़ार, गले में दर्द, मांसपेशियों में दर्द, लिंफ नॉड्स की सूजन, थकान जैसे लक्षण दिखने लगते हैं। वज़न अचानक से घट जाता है और सांस की समस्या भी हो सकती है।

10. नर्वस सिस्टम से जुड़ी बीमारी
पार्किंसन डिज़ीज़ (Parkinson’s disease) नर्वस सिस्टम की एक बीमारी है जिससे शरीर और चेहरे में जकड़न महसूस होती है और ढीलापन महसूस होता है। इस बीमारी को पूरी तरह से ठीक तो नहीं किया जा सकता है लेकिन दवाओं से आराम पहुंचाया जा सकता है।
लक्षण- संतुलन बनाने में समस्या, अपने आप होने वाली शरीर की क्रियाएं जैसे पलके झपकाना, मुस्कुराना या बाहें फैलान धीमी हो जाती हैं, मांसपेशियों में जकड़न, बोलने में दिक्कत और अचानक वज़न घटता है। हालांकि इस बीमारी में वज़न घटना मुख्य लक्षण नहीं है।

डॉक्टर के पास कब जाएं
अगर आप 6-12 महीनों में 4.5 किलो से 5 किलो या शरीर के वज़न का 5 पर्सेंट घट जाता है, और आपको कारण भी समझ नमहीं आता तो आपको तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। जरूरी है कि चेतावनी संकेतों तो समझा जाए। जितनी जल्दी बीमारी पकड़ में आती है उसका इलाज भी उतनी जल्दी हो सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.