Header Ads

इन कारणों से लड़की होने पर लड़कियों को आता है गुस्सा


कभी कभी लडकियों को लड़की होना किसी मुसीबत से कम नहीं लगता। इस पुरूषवादी समाज में उन्हें कई तरह की समाजिक, शारीरिक और मानसिक परेशानियों का समना सिर्फ इललिए करना पड़ता है कि वे लड़कियां है। इस बारे में विस्तार से जानने के लिए ये स्लाइड शो पढ़े।

1

मासिक धर्म हो या गर्भधारण ये सिर्फ महिलाओं के हिस्से में आती है।गर्भधारण करना भले ही महिलाओं के लिए किसी वरदान से कम नहीं होता है। लेकिन मासिक धर्म का दर्द और गर्भावस्था की जटिलता काफी कष्टकारी होती है। एक शिशु को जन्म देने के दौरान उसे कई हड्डियों के एकसाथ टूटने के बराबर दर्द होता है। 
https://healthtoday7.blogspot.in/

हार्मोंस और वजन

मासिक धर्म और गर्भवास्था के अलावा महिलाओं में हार्मोंस के बदलाव की समस्या भी बहुत ज्यादा रहती है। जिसके कारण उनका वजन और मूड दोनो में ही बदलाव होते रहते है। हार्मोंस का बदलाव और घर की ज्यादा जिम्मेदारियों के कारण महिलाओं में गुस्सा और तनाव बढ़ जाता है। जो उनके वजन को भी प्रभावित करता है। महिलाएं इस बात से भी महिला होने से चिढ़ती है। 

जी लड़कियां है तो मेकअप तो करना ही बनता है। घर के छोटे से गेट टू गेदर से लेकर क्लब पार्टी में हमेशा टिप टॉप रहना जरूरी है वरना लोगों को लगता है कि आपको कायदा नहीं है, सलीका नहीं है और सेंस नहीं है। कभी कभी इस बात पर बहुत गुस्सा आता है कि जब कहीं निकलना हो तो सारे कपड़े पता नहीं कहां गुम हो जाते है। ये नहीं कि पुरूषों की तरह सिंपल जींस-टीशर्ट पहनकर हर जगह जा सके। 

पब्लिक टॉयलेट और सुरक्षा

सार्वजनिक स्‍थलों पर पेशाबघर न होने या गंदे होने पर सबसे ज्‍यादा समस्‍या भी महिलाओं को ही होती है। ऐसे में उन्‍हें कई बार काफी समस्‍या भी हो जाती है। साथ ही महिलाओं की सुरक्षा भी इस देश का एक बहुत बड़ा मुद्दा है। सभी अपनी बेटियों को संभाल कर रखना चाहता है जिसके कारण कई प्रतिबंध भी लगाने पड़ते हैं। इसलिए, लड़कियों को बोझ सा लगने लगता है।
https://healthtoday7.blogspot.in/

https://healthtoday7.blogspot.in/
अनचाहे बाल और ब्रेस्ट

लड़कियों के शरीर में कई अनचाहें स्‍थानों पर बाल होते हैं जिन्‍हें समय-समय पर साफ करना बेहद आवश्‍यक होता है अन्‍यथा संक्रमण होने का डर बना रहता है। हर बार इसके लिए काफी खर्च भी करना पड़ता है। कई बार आपको लगता है कि इन स्‍तनों का शरीर में क्‍या काम है। इनकी खुशी नहीं बल्कि ये समस्‍या ज्‍यादा उत्‍पन्‍न करते हैं। कई बार लोगों का ध्‍यान भी आपके शरीर के इस हिस्‍से पर सबसे ज्‍यादा रहता है जिसकी वजह से काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ती है।
https://healthtoday7.blogspot.in/



बूब्स से जुड़े रोचक तथ्य जो हर लड़की के लिए जानना है जरूरी
बूब्स के बारे में ये रोचक तथ्य जानकर हैरान रह जाएंगे आप और ऐसी गलती करने से बचेंगे जिनसे आपके बूब्स को होता है नुकसान।


स्मोकिंग का पड़ता है असर
https://healthtoday7.blogspot.in/
अगर आप स्मोकिंग करती हैं तो छोड़ दें... इसलिए नहीं की महिलाओं को स्मोकिंग नहीं करनी चाहिए। 
बल्कि इसलिए कि स्मोकिंग का दुष्प्रभाव सबसे पहले बूब्स पर ही पड़ता है। आपको ये जानकारी होनी चाहिए कि जो महिलाएं स्मोकिंग करती हैं, उनके ब्रेस्ट नॉन स्मोकर महिलाओं की तुलना में जल्दी और ज्यादा ढीले पड़ते हैं।

उम्र के साथ बूब्स की बढ़ती है चर्बी

बूब्स का अपना भी भार होता है। बूब्स के औसत वजन की बात करें तो ये 0.5 किलोग्राम के माने जाते हैं। पूरे शरीर के फैट का 4 से 5 पर्सेंट हिस्सा बूब्स पर होता है लेकिन ये पूरे शरीर के वेट में केवल 1 पर्सेंट हिस्से की भागीदारी करते हैं।


लड़कियों के मन में ये ख्याल आता है कि उनके दोनों बूब्स बराबर नहीं है। कई लड़िकयां तो इसे किसी तरह की समस्या या रोग भी मान लेती हैं। जबकि ये बिल्कुल सामान्य बात है। दोनों बूब्स कभी सामान्य आकार के नहीं होते। बाएं तरफ के बूब्स का आकार दाएं बूब्स से हमेशा बड़ा होता है। यहां तक की निपल की साइज़ और डायरेक्शन भी डिफ़रेंट होते हैं।

ब्रा पहनने की जरूरत है या नहीं

ब्रेस्ट और ब्रा को लेकर महिलाओं में हमेशा ही कंफ्यूजन बना रहता है। महिलाओं में सबसे बड़ा भ्रम है कि बूब्स छोटे होने पर ब्रा नहीं पहनना चाहिए और इससे बूब्स पर कोई असर भी नहीं पड़ता। या फिर ब्रा नहीं पहनने से बूब्स ढीले हो जाते हैं। जबकि ऐसा नहीं है। बूब्स में ढीलापन एक उम्र के बाद ही आता है और ब्रा केवल उन्हें एक लूक देते हैं और हिलने से रोकते हैं। छोटे बूब्स वाली महिलाओं को भी ब्रा पहनने की जरूरत पड़ती है जिससे वे हिलते नहीं हैं और दिखने में अच्छे लगते हैं।
https://healthtoday7.blogspot.in/


ये बात गलत है कि किशोरास्था के बाद ब्रेस्ट में ग्रोथ नहीं होती, क्योंकि हार्मोनल परिवर्तन, गर्भावस्था के समय या वजन के बढ़ने से हमारे शरीर में लगातार परिवर्तित होते रहते है। जिसका असर हमारे ब्रेस्ट पर देखने को मिलता है। इसके कारण किशोरावस्था के बाद भी स्तनों में निश्चित रूप से कुछ न कुछ बदलाव देखने को अवश्य मिलते है।

https://healthtoday7.blogspot.in/

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.