Header Ads

खाली पेट पानी पीने से आप ऐसे रहेंगे हमेशा स्वस्थ...

Healths Is Wealth  ·

खाली पेट पानी पीने से आप ऐसे रहेंगे हमेशा स्वस्थ...
यह तो हम सभी जानते हैं कि खाली पेट पानी पीना सेहत के लिए अच्छा होता है, लेकिन आज हम आपको बासी मुंह पानी पीने के फायदे बताएंगे। सुबह उठकर बासी मुंह पानी पीने से हमारे शरीर की पाचन क्रिया तेज होती है और खाने का डीकंपोजीशन बढ़ता है।दूसरी तरफ...

Healths Is Wealth  ·


सुबह-सुबह पीना चाहिए बासी मुंह पानी होते हे कई लाभ



Healths Is Wealth  ·
सुनने में तो ये बात अजीब लगती की बासी मुंह पानी पीना चाहिए लेकिन ये बात सौ प्रतिसत सही की सुबह-सुबह बासी मुंह पानी पीना चाहिए ईस से आप अपने शरीर का अनचाहा अतिरिक्त वज़न घटा सकते हे सुबह-सुबह बासी मुंह पानी पीना सेहत के लिए काफी लाभदायक हे


वैसे तो हमारी सेहत को ठीक रखने के लिए पानी की बहुत आवश्यकता पडती है, लेकिन अगर आप सुबह उठते ही बासी मुंह पानी पीएंगे तो सेहत को कई लाभ मिलेंगे।


पानी पीना सेहत के लिए बेहद ही अच्छा है। इसलिए सुबह उठते ही सबसे पहले पानी पीना चाहिए। क्या आपको जानते है कि खाली पेट पानी पीने के लाभ ज्यादा है। इसलिए सुबह जब भी उठे बासी मुंह पानी पीएं। बिस्तर से जैसे ही उठे ब्रश करने से पहले ही पानी पीजिए।


अगर आप वजन घटाना चाहते है तो सुबह उठते ही बासी मुंह गुनगुना पानी करके पीजिए। इससे आपका वजन कंट्रोल होगा। सुबह उठकर बासी मुंह पानी पीने से हमारे शरीर की पाचन क्रिया तेज होती है। पेट की परेशानियों को दूर करने के लिए भी बासी मुंह पानी पीना चाहिए।


क्योंकि रात्रि को सोते वक्त मुंह में लार बनती है और बासी मुंह पानी पीने से वो भी पेट में जाती है। जो पेट के रोगों को समाप्त करती है। ऐसा करने से पेट साफ होता है।


बासी मुंह पानी पीने से गैस की परेशानी भी दूर होती है। कुल मिलाकर कहें तो बासी मुंह पानी पीना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।
Healths Is Wealth  ·
पथरी से छुटकारा पाने के लिए अपनाये ये आसान उपाय


वर्तमान समय में इंसान को होने वाली पीडादायी बिमारियों में पथरी यानि की किडनी स्‍टोन सबसे मुख्‍य हैं। असंयमित खान-पान और अनियमित‍ रूटिन के वजह से आज कई सारे लोग इस गंभीर समस्‍या से ग्रस्‍त हो रहे हैं। पथरी से मुक्‍त होने के लिए कई लोग ऑपरेशन को बहुत प्राथमिकता देते हैं मगर कई बार ये बिमारी ऑपरेशन के बाद भी पूर्ण्तः पनपने लगती हैं। नमक और अन्य खनिज पदार्थो के संपर्क में आने से किडनी में स्‍टोन की गंभीर समस्‍या हावी होने लगती हैं। किडनी में हुए स्‍टोन को बाहर निकालने के लिए जरूरी नही कि ऑपरेशन ही करवाया जायें, कुछ घरेलू और आसान टिप्‍स को अपनाकर भी आप इससे छूटकारा पा सकते हैं। आइए हम बताते हैं आपको इस गंभीर समस्‍या से निजात के आसान उपाय-

अंगूर का सेवन करें

अंगूर ऐसा फल हैं जो कई गंभीर बिमारियों के लिए बहुत अच्‍छा माना जाता हैं। ये फल प्राकृतिक मूत्रवर्धक का कार्य करता हैं। अंगूर में पानी की बहुत ही प्रचुर मात्रा पाई जाती हैं, साथ ही इसमें पोटेशियम नमक भी भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं। किडनी में हो रहें स्‍टोन के लिए ये बहुत फायदेमंद हैं। अलबूमीन और सोडियम क्लोराइड बहुत कम मात्रा में पाये जाने के कारण किड्नी स्‍टोन के में ये फायदेमंद होता हैं।

करेले के द्वारा

करेले का टेस्‍ट कडवा जरूर होता हैं मगर ये कई रोगो के लिए रामबाण औषधी हैं। करेले में फॉस्‍फोरस नामक तत्‍व के साथ-साथ मैग्‍नीशियम भी बहुतयात मात्रा में पाया जाता हैं। करेले में विधमान गुण पथरी को बनने से रोकते हैं।
Healths Is Wealth  ·
केले द्वारा

केले का सेवन आप कई बार करते होंगें मगर क्‍या आप यह जानते हैं कि केले में किडनी की पथरी को दूर करने के गुण शामिल होते हैं। इसमें विटामिन B-6 पाया जाता हैं। ये तत्‍व बॉडी में ऑक्जेलेट क्रिस्टल को बनने से रोकता हैं जो किडनी पेशेंटस के लिए लाभकार हैं। एक शोध के मुताबिक प्रतिदिन विटामिन-B की 100 से 150 मिलीग्राम का सेवन आपके किडनी का उपचार करता हैं।


Healths Is Wealth  ·

मुनक्का है सेहत के लिए राम बाण, जानें इसके लाभ


मुनक्का एक ड्राई फ्रूट होता है जो शरीर के लिए बहुत राम बाण होता है| ये किशमिश की तरह होता है| इसका सेवन करना बॉडी के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसको खाने से इम्म्यून सिस्टम दुरुस्त रहता है। मुनक्के में अधिक मात्रा में फाइबर मौजूद होता जिससे डाइजेस्टिव सिस्टम सुचारु रहता हैं। आइए जानें क्यों है मुनक्का शरीर के लिए लाभदायक -

- एसिडिटी से छुटकारा दिलाने में मुनक्का अहम रोल निभाता है। इस ड्राई फ्रूट को पूरी रात्रि पानी में भिगो दें और फिर इस पानी को रोज़ाना पीएं। बहुत लाभ मिलेगा|

- कैल्शियम की मात्रा मुनक्के में अधिक होती है जो हड्डियां को स्ट्रॉन्ग बनाने में लाभदायक है। मुनक्का खाने से हड्डियों की बीमारी को दूर किया जा सकता है|

- पोटेशियम और मैग्‍नीशियम मुनक्‍के में अधिक होता है जो शरीर से विषैले तत्वों को बाहर निकालने में फायदेमंद होता है| इसका सेवन करने से किडनी स्‍टोन, हार्ट प्रॉब्लम से छुटकारा पाया जा सकता है।

- मुनक्का खाने से ब्लडप्रेशर कंट्रोल किया जा सकता है| साथ ही ये कब्ज की समस्या को दूर करने में लाभदायक होता है|

- मुनक्के का सेवन करने से गले से जुडी समस्या को दूर किया जा सकता है। इसका सेवन करने से कब्ज़ ठीक हो जाता है।

Healths Is Wealth  ·

रोजाना करें अखरोट का सेवन और पाएं कई बिमारियों से छुटकारा


अखरोट एक तरह का ड्राई फ्रूट है जिसमें कई प्रकार के एंटी-ऑक्सीडेंट्स और साथ ही कई अन्य प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं। अखरोट सिर्फ सेहत के लिए ही नहीं बल्कि स्किन और बालों के लिए भी बहुत लाभदायक होते हैं। तो आइये जानते हैं अखरोट के सेवन के फायदे:

# अगर आपके पेट में कीड़े हैं तो रोजाना रात को दो अखरोट का सेवन करें और एक गिलास गर्म दूध पीएं। कुछ दिन लगातार ऐसा करने से पेट के कीड़े खत्म होने लगते हैं।

# अखरोट का सेवन करने से खून में कोलेस्‍ट्रॉल लेवल कम हो जाता है और पेट सम्बन्धी बीमारियां भी दूर होने लगती हैं।

# अखरोट का सेवन करने से पाचन तंत्र स्वस्थ रहता है और वजन कम होने लगता है।

# अखरोट खाने से दिमाग की शक्ति बढ़ती है तथा याददाश्त मजबूत होती है।

Healths Is Wealth  ·
तनाव से छुटकारा पाने के लिए करें इन खाद्य पदार्थों का सेवन


आज के समय में सभी लोग किसी ना किसी परेशानी से जूझ रहे हैं और इन्ही में से एक है डिप्रेशन यानी कि तनाव। भारत में लगभग 56 मिलियन लोग तनाव से जूझ रहे हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके सेवन से आप तनाव से छुटकारा पा सकते हैं। तो आइये जानते हैं इन खाद्य पदार्थों के बारे में:

पानी: 
थोड़ी थोड़ी देर में पानी पीते रहना चाहिए जिससे ना ही तो डीहाइड्रेशन होता है और ना ही तनाव महसूस रहता है।

दूध: 
रात को सोने से पहले गुनगुना दूध पीने से दिमाग को आराम मिलता है और तनाव से छुटकारा मिल सकता है।

दही: 
दही में प्रोटीन, फैट्स और प्रोबायोटिक बैक्‍टीरिया पाए जाते हैं जो कि दिमाग को रिलैक्स करते हैं और ऊर्जा प्रदान करते हैं।

मछली: 
मछली का सेवन करने से मूड अच्छा रहता है और दिमाग को शान्ति प्राप्त होती है।

डार्क चॉकलेट: 
डार्क चॉकलेट में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जिससे कि दिमाग शांत रहता है। रोजाना डार्क चॉकलेट का सेवन करने से अंदर से अच्छा महसूस होता है।
Healths Is Wealth  ·

सेहत के लिए बहुत लाभदायक है ये चमत्कारी दूध




दूध में बहुतायत मात्रा में कैल्शियम होता है जो हमारी सेहत के लिए अत्यधिक फायदेमंद होता है। अगर आप प्रतिदिन दूध का सेवन करते है तो आप कई प्रकार की बीमारियों से बच सकते हैं। आज हम आपको दूध पीने से होने वाले फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं।


अगर आप दूध में हल्दी मिलाकर पीते हैं, तो आपका खून पूरी तरह साफ हो जाता है और पेट से जुड़ी गंभीर समस्याओं से भी छूटकारा मिल जाता है। अगर आप हल्दी वाला दूध पीते हैं, तो आपका लिवर हमेशा स्वस्थ रहता है।


हल्दी वाला दूध गर्भवती महिलाओं के लिए अत्यधिक फायदेमंद होता है अगर शरीर के किसी भाग में दर्द होने पर आप हल्दी वाले दूध का सेवन करें तो इस दर्द से आराम मिलता है। दूध में कैल्श‍ियम होने के कारण यह हड्डियों को बहुत मजबूत बनाता है।


पेट के अल्सर, डायरिया, अपच, कोलाइटिस एवं बवासीर जैसी गंभीर समस्याओं को दूर करने के लिए आप हल्दी वाला दूध पीना शुरू करें और हल्दी वाले दूध का सेवन करने पाचन संबंधी गंभीर समस्याओं को भी दूर किया जा सकता है।

Healths Is Wealth  ·
बिस्तर पर भूलकर भी न रखें ये चीजें, वरना पछताएंगे आप


एक बेहतर स्वास्थ्य के लिए बेहतर नींद का होना अति आवश्यक है। अगर आप रात में क्वालिटी स्लीप लेते हैं तो न सिर्फ आपको अगले दिन काम करने के लिए पर्याप्त एनर्जी प्राप्त होती है, बल्कि इससे आपकी सेहत भी अच्छी रहती है। वैसे अगर आप चाहते हैं कि आपको एक प्यारी नींद प्राप्त हो तो इसके लिए आप कुछ अपने बिस्तर पर चीजों से दूरी बनाकर रखें। तो चलिए जानते हैं वास्तु शास्त्र के अनुसार उन चीजों के बारे में-

रात को सोते समय किसी भी तरह के इलेक्ट्रिक गैजेट को सिर के पास में रखकर नहीं सोना चाहिए। ऐसा करने से व्यकित को बेवजह का मानसिक तनाव हो सकता है।

सोते समय कोई डरावनी फोटो या शोपीस भी सिरहाने नहीं रखना चाहिए। ऐसा करने से आप तनाव और नकारात्मक सोच दिमाग में आती है।

अक्सर बहुत से लोग रात को सोते समय पर्स को बिस्तर के सिरहाने रख देते है। लेकिन उनको ऐसा नहीं करना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से मनुष्य हर समय पैसों से सम्बंधित चिंताओं से घिरा रहता है।

इंसान को अपने तकिये के नीचे अखबार या किताब जैसी कोई भी पढने की चीज नहीं रखनी चाहिए। इस चीजों को सोते समय सिर के पास रखने से इंसान का जीवन प्रभावित होता है।

Healths Is Wealth  ·
रात को सोने से पहले न करें ये भूल, वरना होगी सिर्फ हानि ही हानि



जीवन में सुख व शांति पाने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद आवश्यक होता है। खासतौर से, अगर आप वास्तु के कुछ नियम फाॅलो करते हैं तो आपको किसी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता। तो चलिए जानते हैं कुछ ऐसी बातों के बारे में, जिन्हें आपको रात को सोने से पहले बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए-
हफ्ते में एक बार रात को सोने से पहले घर के सभी कमरों में थोड़ा .थोड़ा सेंधा नमक या काला नमक एक अखबार के ऊपर रखकर फर्श पर रखें। सबसे पहले सुबह उठते ही किसी से बिना बात किए इस नमक को इक्ट्टा करके किसी गंदे नाले में फेंक दें। इससे घर की सारी नकारात्मक ऊर्जा बाहर निकल जाएगी।
सूरज डूबने के बाद यदि कोई बाहर का व्यक्ति आप से दूध या दही मांगे तो उस समय आपको ये नही देना चाहिए। ऐसा करने से उस घर की लक्ष्मी चली जाती है। 
वहीं रात को सोने से पहले किचन को साफ करके सोना चाहिए। इससे घर में वैभव और लक्ष्मी दोनों की प्राप्ति होती है। रात को भूलकर भी सिंक में गंदे बर्तन न छोड़ें।
रात को सोते समय अक्सर महिलायें स्वंय की सुविधा के लिए बाल खोल कर सोती है। ऐसा करना घर में नेगटिव एनर्जी को आमंत्रित करता है। इसलिए घर की महिलाओं को रात में बाल खोलकर नही सोना चाहिए।

Healths Is Wealth  ·
स्वस्थ रहने के सरल उपाय



स्वस्थ रहना सब चाहते हैं। कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है, यह कहावत सत्य है। अच्छा स्वास्थ्य संभाल कर रखने के लिए हमें कुछ और बुरी आदतों का त्याग करना पड़ता है, तभी हम उसे संभाल सकते हैं। आइए देखें क्या अपनाएं स्वस्थ रहने हेतु:- - प्रात: जल्दी उठें। यदि हो सके तो सूर्योदय से पूर्व उठने का प्रयास करें। प्रात: उठने से भरपूर प्राण शक्ति मिलती है। दिन भर आलस्य से दूर रहते हैं और फेफड़े स्वस्थ रहते हैं। - प्राय: उठते ही ताम्रपात्र में रखा हुआ जल पिएं। यदि संभव न हो तो ताजा जल भी पी सकते हैं। प्रात: पानी के सेवन से शौच आसानी से आता है। ध्यान रखें कि शौच करते समय दांतों को भींचकर रखने से वे मजबूत होते हैं। शौच करने के बाद कुल्ला अवश्य करें। - नियमित योगाभ्यास से मन के विचार शुद्ध और सात्विक होते हैं। शरीर लचीला, हड्डियां मजबूत और रक्त संचार सुचारू होता है। प्राणायाम मन को शांत करने में और फेफड़ों को पुष्ट रखने में सहायक होता है। - भूख से अधिक खाना, बिना भूख के खाना, असमय खाना, अधिक मसालेदार खाना, तला खाना रोगों को निमंत्रण देता है। इस प्रकार के भोजन से सावधान रहना अच्छा हैं। - एलोपैथिक दवाओं का सेवन अपने मन से न करें। ये शरीर के अन्य अंगों पर दुष्प्रभाव डालती हैं और शरीर की प्रतिरोधक शक्ति नष्ट करती हैं। इनका सेवन आवश्यक होने पर डॉक्टरी परामर्श से ही करें। - विचार सकारात्मक रखें। क्रोध, घृणा, द्वेष, चुगली व नकारात्मक विचार शरीर में विषाक्त पैदा करते हैं। इनसे बच कर रहना हितकर है। - प्रौढ़ावस्था में अन्न, दालों का सेवन कम कर फल, सब्जी, सलाद अधिक लें। - रात को देर से देर 10.00 बजे तक बिस्तर पर चले जायें। लेट सोना और खाना अच्छे स्वास्थ्य का दुश्मन है और कई रोगों को जन्म देता है।

स्वस्थ हृदय और आप
Healths Is Wealth  ·

हृदय हमारे शरीर का अभिन्न अंग है। हृदय गति रूकने से इंसान दूसरे लोक पहुंच जाता है। हृदय रात दिन बिना रूके हमारे शरीर के लिए खून पंप करता है। वैसे तो हृदय भी अन्य मांसपेशियों की तरह एक मांसपेशी है। इस मांसपेशी को मेहनत अधिक करनी पड़ती है इसलिए इसकी मांसपेशियां हाथ पैर की मांसपेशियों से अधिक मजबूत होती हैं।
 इतना अधिक मेहनत करने वाले अंग की विशेष देखरेख करना प्रत्येक इंसान का फर्ज़ है। निम्न उपाय अपना कर हम अपने स्वस्थ हृदय की देखभाल रख सकते हैं:- - लम्बी सैर और व्यायाम हृदय को स्वस्थ और गतिशील बनाए रखते हैं, इसलिए हमें अपनी दिनचर्या में सुबह और शाम का कीमती समय सैर और व्यायाम के लिए जरूर रखना चाहिए। -
 आप हल्के फुल्के खेल खेलकर भी हृदय को स्वस्थ रख सकते हैं। 'इनडोर' सिटिंग गेम न खेलें। मन बहलाने हेतु ऐसे खेल अच्छे हैं पर स्वस्थ हृदय हेतु शारीरिक खेल खेलने चाहिए। - 
स्वस्थ हृदय हेतु धूम्रपान न करें। धूम्रपान हृदय पर कुप्रभाव डालता है। - सुबह अपनी दिनचर्या से निपट कर सैर आदि कर सुबह का नाश्ता अवश्य लें। प्रात: नाश्ता लेने से आप स्वयं को पूरे दिन स्वस्थ रख सकते हैं। भूखे रहने से हृदय पर दुष्प्रभाव पड़ता है। - अपने भोजन में अधिक नमक और चीनी को स्थान न दें। कम मात्रा में नमक और चीनी का सेवन करें। - 
अधिक वसा वाले दूध, दही, देसी घी, मक्खन का सेवन न करें। खाने में रिफाइन्ड ऑयल का प्रयोग करें। दूध और दही भी कम वसा वाला लें। - अपने वजऩ पर नियंत्रण रखें। मोटापा आपके हृदय के लिए ठीक नहीं है क्योंकि अधिक वजऩ के कारण आप शरीर को चुस्त नहीं रख सकते। 
- पौष्टिक भोजन पर विशेष ध्यान दें। अंकुरित दालें, अनाज, ताज़े फल-सब्जियां और चोकर सहित आटे की रोटी खाएं। मैदे से बनी वस्तुओं का कम से कम सेवन करें। -

स्वस्थ सुंदर दांत मांगते हैं उचित देखभाल



अपने अंगों के प्रति जागरूकता बरतने से ही हम स्वस्थ शरीर के मालिक बन सकते हैं। जहां थोड़ी सी लापरवाही बरती तो रोग एकदम आ घेरते हैं। इसलिए स्वस्थ रहने हेतु सभी अंग उचित देखभाल चाहते हैं चाहे वे दांत हो, कान हो, आंखें हो, फेफड़े या हृदय हो क्योंकि हर अंग महत्त्वपूर्ण होता है। अत: लापरवाही न बरतें ताकि हमारे शरीर को कोई नुकसान न हो। दांत शरीर का ऐसा अंग है जिसकी लापरवाही से कई रोग पैदा हो जाते हैं क्योंकि हम भोजन इन्हीें दांतों से चबाते हैं। अच्छे स्वास्थ्य के लिए दांतों का मजबूत और सेहतमंद होना निहायत जरूरी है। स्वस्थ सुन्दर दांत हमारी हंसी और चेहरे पर चार चांद लगा देते हैं। दांतों की बीमारी का मुख्य कारण दांतों पर एकत्रित भोजन की सतह है। यही अन्य बीमारियों की जन्मदाता है। विशेषकर बच्चों में यह बीमारी अधिक मिठाइयां, टाफियां, चॉकलेट और बिस्कुट खाने से होती है। दांतों की मुख्य बीमारियों में हैं पायरिया, दन्तक्षय, टारटर आदि। कुछ विशेष सावधानियां बरतने से आप भी रख सकते हैं साफ, सुन्दर और स्वस्थ दांत। - खुरदरे दंत मंजनों और सख्त ब्रश का इस्तेमाल कभी न करें। - दांतों में पिन, आलपिन या सुई से छेड़-छाड़ न करें। - ब्रश सदैव हल्के हाथों से नार्मल ब्रिस्टल वाला करें। अपने दांत सुबह-रात दो बार ब्रश की सहायता से साफ करें। - अधिक खट्टा-मीठा, ठंडा गर्म न खायें और पिएं। - धूम्रपान, सुपारी, तम्बाकू, शराब का सेवन न करें। भोजन चबा-चबा कर खायें। लगातार नर्म भोजन के साथ-साथ दांतों के व्यायाम हेतु गन्ना, गाजर और सेब बिना काटे दांतों से काटकर खायें। - दो माह पश्चात् अपना टुथब्रश ज़रूर बदलें। अधिक देर तक पेस्ट, दंत मंजन या टुथ पाउडर मुंह में न रखें। - दांतों में किसी भी तरह की तकलीफ होने पर डेंटिस्ट के पास जाने से न कतराएं। - दांतों में केविटी होने पर उन्हें शीघ्र भरवायें नहीं तो अन्य दांतों में फैलने का खतरा बना रहेगा। - नियमित समय के अन्तराल के बाद कुशल दंत चिकित्सक से दांतों की सफाई कराएं। दांत भी योग्य चिकित्सक से ही निकलवाएं। - प्रोटीन युक्त भोजन का सेवन करें। - दांतों की सडऩ मुंह की कई बीमारियों को जन्म देती है। इसे बढऩे से रोकें। -

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.