Header Ads

आईवीएफ से जन्मे बच्चों में हृदय रोगों की आशंका अधिक


आईवीएफ से जन्मे बच्चों में हृदय रोगों की आशंका अधिक : अध्ययन




नि:संतान दंपति के लिए कृत्रिम गर्भधान किसी वरदान से कम नहीं है, मगर एक अध्ययन में इसके नुकसानदायक पक्ष का खुलासा हुआ है। इसमें कहा गया है कि आईवीएफ तकनीक से जन्म लेने वाले बच्चों में सामान्य गर्भधारण से जन्मे बच्चों के मुकाबले हृदय रोगों की आशंका अधिक होती है। 

प्रजनन संबंधी विशेषज्ञों का कहना है कि आईवीएफ के लिए दवाओं की शक्तिशाली खुराक दी जाती है। आईवीएफ ट्रीटमेंट से विकसित भ्रूण में इन दवाओं के प्रभाव से उच्च रक्तचाप और सख्त व मोटी धमनियों का खतरा हो सकता है। यह आगे चलकर उनके वयस्क होने पर हार्ट अटैक और आघात का कारण बन सकता है। इसके अलावा कुछ ऐसे प्रमाण भी मिले हैं, जिनके मुताबिक आईवीएफ तकनीक से गर्भ धारण करने पर गर्भस्थ शिशु के समय पूर्व जन्म का और कम वजन का खतरा भी बढ़ जाता है।

इस अध्ययन के नतीजे इसलिए भी अहम हैं क्योंकि समय से पहले या कम वजन के नवजात में लंबी अवधि में स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां हो सकती हैं। इनमें हृदय संबंधी बीमारी और टाइप 2 डायबिटीज का खतरा अधिक है। शोध के नतीजों पर इस सप्ताह इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर माइल्डर अप्रोचेस टू असिस्टेड रिप्रोडक्शन (आईएसएमएएआर) लंदन में होने वाली सालाना कॉन्फ्रेंस में चर्चा होगी।

आईएसएमएएआर अध्यक्ष प्रोफेसर गीता नारगुंड ने फर्टिलिटी क्लीनिक चलाने वालों को इस मामले में सतर्क रहने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि इन विशेषज्ञों पर स्वस्थ बच्चों के जन्म की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। विशेषज्ञों के बीच चर्चा का विषय अब यह है कि बच्चे में स्वास्थ्य संबंधी समस्या के लिए अभिभावकों की प्रजनन संबंधी दिक्कत और उसका उपचार कहां तक जिम्मेदार है। मगर अध्ययन के नतीजे इशारा कर रहे हैं कि इसके लिए महिलाओं में अपने बच्चे के लिए तीव्र चाहत को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।

इसके कारण गर्भ धारण करने की इच्छुक महिलाओं को फॉलिकल को बढ़ावा देने वाले हॉर्मोन (एफएसएच) की ऊंची खुराक दी जाती है, ताकि उनके अंडाशय में अंडों का उत्पादन बढ़ाया जा सके। पूर्व में हुए अध्ययनों में देखा गया है कि इसके कारण कई बार खराब गुणवत्ता वाले अंडे भी विकसित हो जाते हैं, जिनके जन्म लेने पर भविष्य में गंभीर बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.