Header Ads

जाने क्या है योग निद्रा व क्या है इसके फायदे –

जाने क्या है योग निद्रा व क्या है इसके फायदे –
योग निद्रा और फायदे –
 Know about Yoga Nidra and its Benefits in Hindi
Healths Is Wealth  
योग सिर्फ शारीरिक व्यायाम नहीं है| योग तो एक ऐसी प्रक्रिया है जो हमारे शरीर व दिमाग को चुस्त-दुरुस्त रखकर उसे हर दम ताजा रखती है| जिससे हमारे शरीर में नयी उर्जा का संचार होता है|

योग का दायरा केवल शारीरिक कसरत या व्यायाम तक ही सीमित नहीं है| प्राचीन समय से ही कई ऐसे योग भी चले आ रहे है जिन्हेँ बिना किसी शारीरिक व्यायाम के भी किया जा सकता है ऐसा ही एक योग है “योग निद्रा”|
तो आइये जानते है, क्या है योग निद्रा व इसे कैसे किया जाता है, और इसे करने से क्या फायदे होते है – Know about Yoga Nidra and its Benefits in Hindi
क्या है योग निद्रा – Know about Yoga Nidra

योग निद्रा एक ऐसी नींद है जिसे “आध्यात्मिक नींद” कहा जाता है| वेदों और पुराणों के अनुसार देवता गण योग निद्रा में ही सोते है| योग निद्रा का तात्पर्यं होता है “जागते हुए सोना” अर्थात् वह नींद जिसमे व्यक्ति अर्धचेतन अवस्था में होता है| योग निद्रा को स्वप्न व जागने के बीच की अवस्था भी माना जाता है| योग निद्रा को करने के लिए व्यक्ति को जागते हुए सोना होता है|
तो आइये जानते है कैसे किया जाता है योग निद्रा – Know about Yoga Nidra and its Benefits
योग निद्रा कैसे करें – How to do Yoga Nidra

1. सबसे पहले योग निद्रा को करने के लिए कोई ऐसा स्थान चुने जंहा पर खुला वातावरण हो| यदि आपके लिए ऐसी जगह में योग निद्रा करना संभव नहीं है तो किसी कमरे में भी इसे कर सकते है, परन्तु ध्यान रहे की कमरे के दरवाजें व खिड़कियाँ खुली हो|
Healths Is Wealth  
2. योग निद्रा करने के लिए ढीले कपडे पहने और शवासन करें| इसके बाद धरती पर दरी बिछाएं व दरी के ऊपर एक कम्बल बिछाएं|
3. अब दोनों पैरों के बीच में 1 फीट की दूरी व हांथो की हथेली और कमर के बीच करीब 6 इंच की दूरी बनाते हुए आँखों को बंद करके लेट जाए|
4. शरीर को बिना हिलाए डुलाए साँस लेते रहे लेकिन ध्यान रहे की सोए नहीं योग निद्रा एक मनोवैज्ञानिक नींद है| अपने दिल और दिमाग को स्थिर करने की कोशिश करे| सांसों को पुरी तरह से अन्दर ले और छोड़ दें| ऐसा करते हुए यह सोचे की आप किसी शांत समुद्र के किनारे लेते हुए है| योग निद्रा में विचारो से लड़ने की कोशिश ना करे बस अपने शरीर और मन को शिथिल रखे|
5. योग निद्रा करने का उद्देश्य होता है की किसी अच्छे कार्य का संकल्प ले और बुरी आदते छोड़| ऐसा माना जाता है की योग निद्रा में किया गया संकल्प बहुत मजबूत होता है| योग निद्रा में साँस लेते और छोड़ते समय, आपके केवल पेट और छाती का प्रयोग होगा| आपका पेट ऊपर नीचे होगा| 5 बार लम्बी सांसे लेने और छोड़ने के बाद आप जिस देवता या भगवान् को मानते हो अपने मन में उनका ध्यान करते हुए तीन बार संकल्प बोले|
Healths Is Wealth  

6. अपने मन को अपने शरीर के सभी अंगो (76 अंग) में ले जाए और सभी अंगो को शांत तथा तनाव से रहित करे| जब आप अपने दाहिने पैर के अंगूठे पर अपने मन को ले जाएंगे तो उस समय आपके एड़ी, पिंडरी, पांव का तलवा, घुटना, जांघ, नितम्ब, कमर, कंधा आदि को स्थिर होते महसूस करे|

इसी प्रकार मन को बाएँ पैर के अंगूठे में ले जाएँ| सामान्य रूप से सांसे लेते हुए साफ वायु को अपने अन्दर प्रवेश करने दे और अपने अन्दर की बुराइयों को बाहर जाते हुए महसूस करे|
यह फायदे होते है योग निद्रा करने के – Benefits of Yoga Nidra

नियमित योग निद्रा करने से आप अपने अन्दर मौजूद सभी प्रकार की बुराइयों से निजात पा सकेंगे जिससे आपको अध्यात्म की ओर जाने में असानी होगी व अच्छे कामो में रूचि बढ़ेगी| यह दुसरे प्रकार के अन्य योग की थकान को दूर करता है और मन को शांत करते हुए शरीर को सामान्य तापमान पर लाता है| इस योग को करने से शरीर का तंत्रिका तंत्र मजबूत होता है| यह हमारे शरीर को इतना ताकतवर बना देता है की हम योग के असर को जान सके व आत्मसात कर सके| योग निद्रा करने से रक्तचाप, दिल संबंधी रोग, डायबिटीज, पेट के घाव, सिर का दर्द, दमे की बीमारी, गर्दन, कमर, घुटनों व जोड़ों के दर्द, साईंटीका, प्रसवकाल की पीड़ा आदि से निजात मिल सकता है व एकाग्रता और संयम को बढ़ाने में सहायता मिलेगी|
विशेष नोट – योग निद्रा को शुरू करते समय किसी योग शिक्षक या योग विशेषज्ञ का मार्गदर्शन जरुर ले, जल्दी और अधिक फायदा होगा|

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.