Header Ads

ब्रेड खाने से हो सकती है ये जानलेवा बीमारी,





देश को आजाद हुए आज 70 साल बीत चुके हैं। अंग्रेजों से हमने पीछा तो छुड़वा लिया लेकिन उनके द्वारा दी गई कुछ चीजें आज भी हमारे साथ जुड़ी हुई हैं। यह भी कह सकते हैं कि वो इस तरह हमसे चिपक गई है कि उनके बिना हमारा एक भी दिन नहीं निकलता। 

इन्हीं में से एक है ब्रेड। जी हां। भारत में ब्रेड का चलन शुरू करने का श्रेय अंग्रेजों को ही जाता है। तभी तो सुबह का नाश्ता हो या फिर शाम का स्नेक्स। ब्रेड हर जगह शामिल है। और तो और अब गांव हो या शहर, खानपान में हर जगह ब्रेड का इस्तेमाल बहुत आम हो गया है। 

लेकिन अब हम आपको जो बताने वाले हैं, उसके बाद आप ब्रेड खाना तो दूर उसके नाम से भी चिढ़ने लग जाएंगे। तो फिर देर किस बात की है। आइये जानते हैं पूरा मामला। 
Healths Is Wealth  
जिंदगी का हिस्सा 


आजकल की भागती-दौड़ती लाइफ में सैंडविच, ब्रेड जैम, ब्रेड बटर, पिज्जा, बर्गर तो जैसे हमारे खान-पान का हिस्सा बन गए हैं। हम तो बचपन से सुनते आ रहे हैं कि ब्रेड के अंदर कई पोषक तत्व होते हैं, लेकिन सच्चाई तो कुछ और ही है।
Healths Is Wealth  
हैरान कर देने वाली बातें 


वैसे तो आपने भी कई बार यह बात सुनी होगी कि ब्रेड को पैरों से कुचलकर तैयार किया जाता है। तभी तो उसे पाव रोटी कहते हैं। मगर हम आपको इसके भी आगे की बात बताने वाले हैं। इसे सुनकर आप सोच में पड़ जाएंगे।

Healths Is Wealth  
केमिकल्स की भरमार 

Healths Is Wealth  
सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट की रिसर्च के मुताबिक भारत में बनने वाली ब्रेड में पोटेशियम ब्रोमेट या आयोडेट का इस्तेमाल किया जाता है, जो हमारी सेहत को बिगाड़ने में मुख्य भूमिका निभाते हैं।

Healths Is Wealth  


बलगम बढ़ने का कारक 

Healths Is Wealth  
अधिक केमिकल्स के इस्तेमाल और पानी की मौजूदगी इसे और भी ज्यादा चिपचिपा बना देते हैं। तभी तो ब्रेड खाने के बाद आपकी पाचन क्रिया धीमी हो जाती है। पेट में बलगम बनना शुरू हो जाते हैं।


बढ़ता वजन 



अगर आप ब्रेड का इस्तेमाल बहुत ज्यादा करते हैं तो इसमें पाए जाने वाले कार्बोहायड्रेट और रिफाइनरी शुगर जैसे तत्व आपके वजन बढ़ने का कारण बन सकते हैं।


डाइजेशन सिस्टम का बिगड़ना 


चूंकि ब्रेड को खाने की वजह से पाचन क्रिया धीमी हो जाती है। इसी वजह से खाना पेट में पड़ा रहता है। यही खाना भी बीमारियों को जन्म भी देता है। 
कैंसर की आशंका 


ब्रेड बनाने में कई केमिकल्स का उपयोग किया जाता है। इसमें इस्तेमाल होने वाले पोटेशियम ब्रोमेट से थॉयरॉइड कैंसर होने की आशंका भी बनी रहती है। 

पोषक तत्वों की कमी 



अब आपने तो बचपन में सुना ही होगा कि ब्रेड में बहुत पोषक होते हैं। जबकि ब्रेड में पोषक तत्वों की भी कमी होती है। यही कारण है कि इसे खाने के बाद पेट तो भर जाता है मगर शरीर को पोषक तत्व नहीं मिलते हैं।


शुगर बढ़ाने में सहायक


ब्रेड, मैदे से बनी होती है, जिसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। यह शरीर में शुगर के लेवल को बढ़ा देती है।

शरीर के लिए हानिकारक 


ब्रेड या इस तरह की रिफायनरी खाद्य वस्तुएं शरीर को नुकसान पहुंचाती है। ब्रेड में पाया जाने वाला कार्बन डाय ऑक्साइड और ब्रोमाइड आपकी सेहत को बिगड़ता है। 


अपनों का ख्याल 


जहां हम सेहत के लिहाज से बासी रोटियां खाने से बचते हैं, वहीं ब्रेड खाकर हम अपनी सेहत के खिलवाड़ करने से नहीं चूकते हैं। अगर आपको यह बात अच्छी लगी है तो तुरंत अपने दोस्तों को भी इस बारे में बताइएगा।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.