Header Ads

खाने से भी ज्‍यादा क्‍यों जरूरी है बेहतर नींद


खाने से भी ज्‍यादा क्‍यों जरूरी है बेहतर नींद !


बेहतर नींद – कहते हैं कि खाना और बेहतर नींद दोनों ही स्‍वस्‍थ रहने के लिए बहुत जरूरी होती हैं लेकिन आपको बता दें कि खाने से ज्‍यादा जरूरी अच्‍छी और पर्याप्‍त नींद लेना जरूरी है।

जी हां, आपको ये बात जानकर थोड़ी हैरानी तो हो रही होगी कि भला सारी दुनिया हैल्‍दी फूड खाने की बात करती है आप हैल्‍दी नींद लेने की बात कर रहे हैं लेकिन मैं आपको बता दूं कि एक वक्‍त को आप कम खाना खाकर तो काम कर सकते हैं लेकिन अगर आपकी नींद पूरी ना हो तो ना तो आपका काम में मन लगता है और ना ही कुछ खाने का मन करता है।

रात को अच्‍छे से नींद ना आए तो सुबह उठकर मूड चिड़चिड़ा हो जाता है और ना तो कुछ काम करने का मन करता है और ना ही किसी से बात करने का, ऐसे में मन उदास और आलस महसूस करने लगता है।
आपके साथ भी ऐसा हुआ होगा जब आप सुबह उठे और सुबह-सुबह ही किसी पर चिल्‍लाने लग गए या किसी से झगड़ा कर बैठे। खुद आपको भी इसकी वजह समझ नहीं आती तो मैं आपको बता दूं कि इसकी वजह रात को आपकी नींद का पूरा ना होना हो सकता है।

बेहतर नींद –

ऑफिस के तनाव और काम का असर भी नींद पर पड़ता है। एंप्‍लॉयर की ओर से अनुचित और अवास्‍तविक लक्ष्‍य देने की वजह से कर्मचारियों की नींद उड़ जाती है और इस वजह से उन्‍हें थकान, शारीरिक परेशानी, मनोवैज्ञानिक तनाव, प्रदर्शन में गिरावट और शरीर में दर्द जैसी परेशानियां होती हैं और इस वजह से वो जरूरत से ज्‍यादा छुट्टियां लेने लगते हैं।

नींद में कमी की सालाना लागत 150 अरब डॉलर है क्योंकि इससे ऑफिस में काम करने की क्षमता घट जाती है। काम के दबाव, कॉम्पीयटिशन और खडूस बॉस की वजह से भी लोगों का शारीरिक और मा‍नसिक स्‍वास्‍थ्‍य बिगड़ रहा है। इतना ही नहीं नींद पूरी ना होने की वजह से मेटाबॉलिक सिंड्रोम के मामले भी बढ़ रहे हैं। इसमें मधुमेह, हाई ब्‍लड प्रेशर, मोटापा और उच्‍च कोलेस्‍ट्रॉल आदि शामिल हैं। अवसाद, थकान और नींद विकार ऐसी स्थितियां या जोखिम हैं जो अकसर पुरानी बीमारियों से जुड़ी होती हैं।


आपको ये बात समझनी चाहिए कि सेहत है तो सब कुछ है और अगर आप स्‍वस्‍थ रहेंगें तो अपने काम को बेहतर तरीके से कर पाएंगें इसलिए काम या अन्‍य किसी और चीज़ से पहले अपनी सेहत को अहमियत दें।

एक वक्‍त को आप खाना ना भी खाएं तो चलेगा लेकिन अगर आप एक दिन भी आप कम से कम 6 घंटे की बेहतर नींद नहीं लेते हैं तो इससे आपकी सेहत बिगड़ सकती है। इसलिए मैंने कहा कि खाने से ज्‍यादा बेहतर सेहत के लिए नींद ज्‍यादा जरूरी है।
अब तो आपको अपने बिगड़े मूड की वजह और उपाय दोनों ही पता चल गए तो फिर बिना कोई देरी किए अपने शेड्यूल में ये बदलाव लाएं और स्‍वस्‍थ रहें।

खाने के साथ-साथ बेहतर नींद को भी वरीयता दें। ये दोनों ही उत्तम स्‍वास्‍थ्‍य के लिए जरूरी हैं इसलिए इन्‍हें नज़रअंदाज़ बिलकुल ना करें वरना इससे आपकी सेहत बिगड़ सकती है।





उम्र के हिसाब से वज़न –

उम्र के हिसाब से वज़न – हैल्‍दी रहने के लिए सही डाइट के साथ-साथ सही वजन भी होना बहुत जरूरी होता है।

आप अपने वजन से भी स्‍वयं के स्‍वस्‍थ होने के बारे में जान सकते हैं। अगर आपकी उम्र के हिसाब से आपका वजन कम या ज्‍यादा है तो आपको कई तरह की स्‍वास्‍थ्‍य संबंधित परेशानियां हो सकती हैं। इसलिए हर किसी को अपनी उम्र के अनुसार ही अपना वजन रखना चाहिए। सही वजन आपको स्‍वस्‍थ रखने के साथ-साथ कई बीमारियों से भी दूर रखता है।

आज हम आपको यही बताने जा रहे हैं कि उम्र के हिसाब से वज़न कितना होना चाहिए।

उम्र के हिसाब से वज़न –

नवजात शिशु

नवजात शिशु की उम्र के हिसाब से लड़के का वजन 3.3 किलोग्राम और लड़की का 3.2 किलो होना चाहिए।

2 से 5 और 6-8 महीने के बच्‍चे

3 से 5 महीने के लड़कों का वजन कम से कम 6 किलो और लड़कियों का 5.4 किलो वजन होना चाहिए। वहीं 6 से 8 महीने के लड़के का वजन 7.8 किलो और लड़कियों का वजन 7.2 किलो होना चाहिए।

9 से 11 महीने और 2 साल के बच्‍चे
40 से 60 साल की उम्र में सही वजन के लिए इमेज परिणाम
9 से 11 महीने के लड़कों का वजन 9.2 किलो और लड़कियों का वजन 8.6 किलो होना चाहिए। 1 साल के लड़के का वजन 10.2 किलो और लड़की का वजन 9.5 किलो होना चाहिए। 2 साल की उम्र के लड़के का वजन 12.3 किलो और लड़कियों का 11.8 किलो होना चाहिए।

3 से 5 साल के बच्‍चे
40 से 60 साल की उम्र में सही वजन के लिए इमेज परिणाम
3 से 4 साल की उम्र में लड़कों का वजन 14 किलो और लड़कियों का वजन 16 किलो होना चाहिए। 5 साल की उम्र में लड़कों का वजन 18.7 किलो और लड़कियों का वजन 17.7 किलो होना चाहिए।

6 से 8 साल के बच्‍चे का वजन
40 से 60 साल की उम्र में सही वजन के लिए इमेज परिणाम
6 साल की उम्र में लड़कों का वजन 20.7 किलो सही रहता है वहीं लड़कियों का 19.5 किलो। 7 से 8 साल की उम्र में लड़कों का वजन 22 किलो और लड़कियों का 25 किलो होना चाहिए।

9 से 11 साल की उम्र

9 साल की उम्र तक आते-आते लड़कों का वजन 28.1 किलो और लड़कियों का वजन 28.5 किलो होना चाहिए। 10 से 11 साल की उम्र में लड़कों का सही वजन 31.4 किलो से 32.2 किलो और लड़कियों का 32.5 से 33.7 किलो होना चाहिए।

12 से 14 साल में वजन

12 साल की उम में लड़कों का वजन 37 किलो और लड़कियों का वजन 38.7 किलो होता है। इसके बाद 13 साल की उम्र में लड़कों का वजन 40.9 किलो और लड़कियों का 44 किलो होता है। 14 साल की उम्र में लड़कों का वजन 47 किलो और लड़कियों का वजन 48 किलो होना चाहिए

15 से 18 साल की उम्र में वजन

15 से 16 साल की उम्र के लड़कों का वजन 58 किलो होना चाहिए और लड़कियां 53 किलो तक होनी चाहिए। 17 साल की उम्र में लड़कों का वजन 62.7 किलो और लड़कियों का 54 किलो तक होना सही रहता है। इसके बाद 18 साल की उम्र में लड़का 65 किलो और लड़की का 5 किलो वजन सही रहता है।

19 से 39 साल की उम्र
40 से 60 साल की उम्र में सही वजन के लिए इमेज परिणाम
19 साल से 29 साल की उम्र तक पुरुषों का वजन 83.4 किलो और महिलाओं का 73.4 किलो वजन होना चाहिए। वहीं 30 से 39 साल की उम्र में पुरुषों का वजन 90.3 किलो और महिलाओं का वजन 76.7 किलो तक होना चाहिए।

40 से 60 साल की उम्र में सही वजन
40 से 60 साल की उम्र में सही वजन के लिए इमेज परिणाम
40 से 49 साल की उम्र में पुरुषों का सही वजन 90.9 किलो और महिलाओं का वजन 76.2 किलो होना चाहिए। 50 से 60 साल की उम्र में पुरुषों का सही वजन 91.3 किलो और महिलाओं का 77 किलो होता है।
40 से 60 साल की उम्र में सही वजन के लिए इमेज परिणाम
ये है उम्र के हिसाब से वज़न – अब आप अपनी उम्र के हिसाब से जान सकते हैं कि आपका सही वजन क्‍या होना चाहिए।


कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.