Header Ads

पीरियड्स के दिनों में पौधों को पानी देने से पौधे सूख जाते हैं, क्या सच में?


माहवारी के दौरान गर्भधारण कर सकती हैं महिलाएं। 





पीरियड्स महिलाओं में होने वाली सामान्य प्रकिया है। लेकिन इसके बारे में खुलकर बात करना हमारे समाज में सामान्य नहीं माना जाता है। यही वजह है कि माहवारी को लेकर महिलाओं में बहुत सी भ्रांति प्रचलित है। पीरियड्स को लेकर कई ऐसी धारणाएं हैं, जिन्हें महिलाएं सच मानती हैं जबकि वो गलत हैं।

सबसे पहले तो किसी भी लड़की को ये जानने की ज़रूरत है कि पीरियड एक सामान्य जैविक प्रकिया है। इसका किसी भी अंधविश्वास से कोई लेना-देना नहीं है। इसलिए ज़रूरी है कि हर लड़की को पीरियड के बारे में पूरी जानकारी हो।

आइए आपको बताते हैं माहवारी से जुड़ी गलतफहमियों के बारे में। 




माहवारी के समय नहाना और बाल नहीं धोना चाहिए 


ऐसा माना जाता है कि स्नान करने से रक्त का स्राव कमजोर पड़ जाता है जबकि ऐसा कुछ नहीं है। इन दिनों में तो आपको स्वच्छता का ज़्यादा ध्यान रखना चाहिए, अगर पीरियड्स के दिनों में आप गरम पानी से नहाती हैं तो आपको दर्द में भी राहत मिलेगी।








यह धारणा भी गलत है। महिलाएं माहवारी के समय संबंध बनाने से भी प्रेग्नेंट हो सकती हैं। डॉक्टर्स की माने तो जिन महिलाओं का माहवारी चक्र 28 दिनों से कम होता है, उनमें गर्भधारण के चांसेज़ अधिक होते हैं।




आपने अक्सर घर में वृद्ध औरतों को ये कहते सुना होगा कि मासिक धर्म के वक्त पेड़-पौधों से दूर रहना चाहिए।उन्हें पानी नहीं देना चाहिए, ऐसा करने से वो सूख जाते हैं। आपको बता दें कि यह अंधविश्वास है, ऐसा कुछ भी नहीं होता है।




माहवारी के समय सेक्स नहीं करना चाहिए



ज्यादातर लोग माहवारी के समय सेक्स करने को गलत बताते हैं। लेकिन इसमें कुछ भी गलत नहीं है। अगर आप चाहें तो पीरियड्स के दिनों में भी सेक्स कर सकती हैं। इससे सेहत पर कोई बुरा असर नहीं पड़ता है बल्कि शोध के मुताबिक माहवारी के समय सेक्स करने से दर्द में कमी आती है।
https://healthtoday7.blogspot.in/

पीरियड्स के दिनों में अचार को हाथ नहीं लगाना चाहिए






इस धारणा का भी कोई आधार नहीं है। अगर आपके दिमाग में भी ये बात है कि माहवारी के दिनों में आपके छूने से अचार खराब हो जाएगा तो ऐसा कुछ नहीं है। 



पीरियड्स के दिनों में मंदिर में कदम नहीं रखना चाहिए



जब लड़कियों को पहली बार पीरियड शुरू होता है तो सबसे पहले माँ उन्हें यही सलाह देती है, लेकिन ये भी सिर्फ एक भ्रांति है। असल में पीरियड्स का पवित्रता या अपवित्रता से कोई लेना नहीं है। 

https://healthtoday7.blogspot.in/
पीरियड प्रत्येक 28 दिनों पर आना चाहिए



ज़रूरी नहीं है कि सभी महिलाओं को 28 दिनों पर ही पीरियड आए। माहवारी का चक्र महिला-महिला पर निर्भर करता है। माहवारी का चक्र 20 दिनों से लेकर 35 दिनों के बीच हो सकता है। इसलिए अगर आपको 28 दिन के अंतराल पर पीरियड नहीं आता तो ये कोई घबराने की बात नहीं है।


माहवारी के दिनों में व्यायाम नहीं करना चाहिए


ये पूरी तरह आपके ऊपर निर्भर करता है। अगर आपको ठीक महसूस हो रहा है तो पीरियड के दिनों में व्यायाम करने में कोई दिक्कत नहीं है। व्यायाम मांसपेशियों में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाता है जिससे शरीर को आराम मिलता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.