Header Ads

एक्यूप्रेशर के फायदे विशेष पॉइंट्स और नुकसान


एक्यूप्रेशर के फायदे विशेष पॉइंट्स और नुकसान 
Healths Is Wealth  

Healths Is Wealth  

एक्यूप्रेशर थेरेपी एक ऐसी प्राचीन चिकित्सा कला है जिसमें शरीर पर उंगलियों से धीरे-धीरे दबाव देकर किसी बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को राहत पहुंचायी जाती है। एक्यूप्रेशर सभी बाधाओं और रूकावटों को रोकता है और शरीर के अंदर ऊर्जा का संचार करता है। शरीर में जो ऊर्जा प्रवाहित होती है वह कैसे हम सोचते हैं, कैसा महसूस करते हैं और कैसे सांस लेते हैं, इन सभी चीजों को प्रभावित करता है। एक्यूप्रेशर शरीर को अपनी रक्षा करने के साथ यौन शक्ति को बढ़ाने में सहायता करता है। इस आर्टिकल में हम आपको विशेष एक्यूप्रेशर प्वॉइंट (Acupressure point in hindi), एक्यूप्रेशर के फायदे (Acupressure benefits in Hindi) और एक्यूप्रेशर के नुकसान के बारे में बताएंगे।

जब व्यक्ति के मस्तिष्क में नकारात्मक विचार पैदा होते हैं तो यह शरीर में ऊर्जा को प्रवेश करने से रोकती है। लेकिन व्यक्ति को एक्यूप्रेशर चिकित्सा देकर उसके शरीर में अंदर ऊर्जा को प्रवाहित कर सकारात्मक विचारों को लाने का प्रयत्न किया जाता है। एक्यूप्रेशर थेरेपी व्यक्ति के इम्यून सिस्टम को बढ़ाती है और तनाव का निवारण करने, सर्कुलेशन को बढ़ाने, पीड़ा कम करने के साथ ही व्यक्ति में आध्यात्मिकता बढ़ाती है और स्वास्थ्य के देखभाल के लिए प्रेरित करती है।

1. विशेष एक्यूप्रेशर प्वॉइंट – Common Acupressure point pain in hindi
2. एक्यूप्रेशर थेरपी के फायदे – health benefits of acupressure in Hindi
3. एक्यूप्रेशर के नुकसान – side effects of Acupressure in Hindi
1. विशेष एक्यूप्रेशर प्वॉइंट – Common Acupressure point in hindi


शरीर में बहुत सारे एक्यूप्रेशर प्वाइंट होते हैं। लेकिन हम कुछ ऐसे विशेष एक्यूप्रेशर प्वाइंट के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका चिकित्सक ज्यादा इस्तेमाल करते हैं।
सी ऑफ़ ट्रंक्वालिटी एक्यूप्रेशर प्वॉइंट – ( CV 17 ) Sea of Tranquility acupressure point in hindi


यह एक्यूप्रेशर प्वॉइंट सीने के बीच में पायी जाती है। इसे दबाने से हिस्टीरिया एवं चिंता तथा तनाव से मुक्ति मिलती है।
लेग थ्री माइल्स एक्यूप्रेशर प्वॉइंट – (St 36) Leg Three Miles acupressure point in hindi


यह एक्यूप्रेशर प्वाइंट पैरों के घुटनों के नीचे होती है। इसे दबाने पर अपच, दस्त, कब्ज, जी मिचलाना और पेट फूलने की समस्या दूर हो जाती है।
थर्ड आई एक्यूप्रेशर प्वॉइंट – ( GV 24.5) Third Eye Point acupressure point in hindi


यह एक्यूप्रेशर प्वाइंट दोनों भौहों के बीच माथे के बीचोबीच होता है। इसको दबाने पर थकान दूर होती है और यादाश्त बढ़ती है।
जोइनिंग द वैली एक्यूप्रेशर प्वॉइंट – (LI-4) Joining Valley acupressure point in hindi


यह एक्यूप्रेशर प्वाइंट अंगूठे एवं उसकी बाद वाली उंगली के मध्य में होता है। इसको दबाने पर अर्थराइटिस, कंधे का दर्द एवं दांत का दर्द ठीक हो जाता है।
पेरीकार्डियम एक्यूप्रेशर प्वॉइंट – (P6) Pericardium acupressure point in hindi


यह एक्यूप्रेशर प्वाइंट हथेली के नीचे कलाई पर होता है। यहां दबाने पर पेट की गड़बड़ी, सीने में दर्द और हाथों में दर्द से राहत मिलती है।
2. एक्यूप्रेशर के फायदे – health benefits of acupressure in Hindi


एक रिसर्च में पाया गया है कि ज्यादातर मरीजों को एक्यूप्रेशर थेरेपी के बाद बहुत सारे फायदे हुए। प्रेशर प्वाइंट और उसके बीच में उंगलियों से धीरे-धीरे दबाव दिया जाता है जिससे एक्यूप्रेशर प्वाइंट उत्तेजित होते हैं और स्नायुयों में तनाव कम होता है एवं ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है। लेकिन अभी भी एक्यूप्रेशर के फायदों के विषय में शोध जारी है। यहां हम आपको एक्यूप्रेशर के कुछ फायदों के बारे में बता रहे हैं।
एक्यूप्रेशर के फायदे बीमारियों को ठीक करने में – Acupressure benefits Helps faster healing in Hindi


Acupressure therapy एक्यूप्रेशर थेरेपी में उंगलियों के स्पर्श से दर्द से निजात मिलता है। इसके अलावा यह शरीर के ऊर्जा को संतुलित रखती है और सेहत को स्वस्थ एवं निरोगी बनाती है। यह थेरेपी शरीर को तनाव से मुक्ति देती है। इसके अलावा यह बीमारियों से लड़ने की शक्ति प्रदान करती है और व्यक्ति को ठीक रखती है। यह चिकित्सा मरीजों को जी मिचलाने, उल्टी होने, सर्जरी के बाद, रीढ़ में एनेस्थेशिया देने के दौरान, कीमोथेरेपी के बाद और प्रेगनेंसी में दी जाती है।
एक्यूप्रेशर के फायदे यौन शक्ति बढ़ाने में – Acupressure benefits Makes you better at sex in Hindi


प्राचीन समय में चीन देश के निवासियों का यह विश्वास था कि शरीर में एक्यूप्रेशर प्वाइंट के उत्तेजित होने पर यौन शक्ति बढ़ती है और सेक्स के दौरान दोनों लोगों को आनंद प्राप्त होता है। इसलिए यौन रोगों से पीड़ित व्यक्ति भी एक्यूप्रेशर थेरेपी लेकर अपनी यौन शक्ति बढ़ाते हैं और बेहतर यौन जीवन का आनंद उठाते हैं।
एक्यूप्रेशर के फायदे झुर्रियां दूर करने में – Acupressure benefits reduce Wrinklesin Hindi


Acupressure एक्यूप्रेशर चिकित्सा में चेहरे की मांसपेशियां टोन होती हैं और ब्लड सर्किलेशन को भी बेहतर बनाती हैं। यह थेरेपी फेशियल मसल्स और संयोजी ऊतक को टोन करने का काम करता है जिससे की बिना किसी सर्जरी के चेहरे की झुर्रिया खत्म हो जाती हैं और चेहरा एकदम साफ हो जाता है। शरीर के क्षेत्र विशेष पर उंगलियों के एक सामान्य से दबाव से ही मांसपेशियों को राहत पहुंचती है। एक्यूप्रेशर शरीर से विषाक्तों को बाहर निकालकर व्यक्ति के पूरे शरीर की शोभा को बढ़ाता है।
एक्यूप्रेशर के फायदे पीठ में दर्द और तनाव कम करने में – Acupressure benefits Relieve Back Pain and Tension in Hindi


Acupressure therapy एक्यूप्रेशर थेरेपी पीठ के अलावा रीढ के खिंचाव को कम कर दर्द को दूर करने में काफी प्रभावी मानी जाती है। एक्यूप्रेशर थेरेपी का उपयोग चीन में किया जाता था। रीढ़ की हड्डी के दोनों ओर और पीठ के ऊपरी हिस्सा महत्वपूर्ण एक्यूप्रेशर प्वाइंट है। यह थेरेपी शरीर के निचले हिस्से में जकड़न को कम करता है। इससे व्यक्ति को पीठ दर्द से राहत मिलता है।
एक्यूप्रेशर के फायदे भावनात्मक उपचार में – Acupressure benefits Healing Trauma & Emotional Pain in Hindi


Acupressure therapy एक्यूप्रेशर चिकित्सा किसी भी तरह के शारीरिक दर्द से लंबे समय तक निजात प्रदान करने के लिए काफी लोकप्रिय है। इसके अलावा यह थेरेपी भावनात्मक रूप से उत्पन्न दर्द को खत्म करने में भी फायदेमंद है। यह शरीर से नकारात्मक विचारों को दूर कर सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है और भावनात्मक रूप से कमजोर व्यक्ति को मजबूत बनाता है।
3. एक्यूप्रेशर के नुकसान 
– side effects of Acupressure in Hindi


Acupressure एक्यूप्रेशर का इस्तेमाल आमतौर पर बहुत सुरक्षित माना जाता है। लेकिन यदि आप कैंसर, अर्थराइटिस, हृदय रोग जैसी अन्य किसी गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं तो एक्यूप्रेशर थेरेपी से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श कर लें। आइये यहां हम आपको एक्यूप्रेशर के नुकसान के बारे में बताते हैं।
प्रेगनेंसी के दौरान एक्यूप्रेशर थेरेपी के इस्तेमाल से महिला को गर्भपात हो सकता है। क्योंकि प्रेशर प्वॉइंट पर रगड़ एवं दबाव पड़ने की वजह से मां एवं शिशु दोनों के शरीर को नुकसान होता है। इसलिए गर्भवती महिलाओं को इस थेरेपी से परहेज करना चाहिए।
प्रेशर प्वाइंट उत्तेजित होने पर ही यह थेरेपी काम करती है। जरूरी नहीं है कि सभी प्रेशर प्वाइंट उत्तेजित हों ही। इसलिए प्रेशर प्वाइंट उत्तेजित न होने पर इसके फायदों से भी आप वंचित रह सकते हैं।
जिन लोगों की हड्डियों में फ्रैक्चर हो उन्हें एक्यूप्रेशर थेरेपी नहीं करानी चाहिए अन्यथा उनका दर्द बढ़ सकता है।
अगर आप डायरिया या बुखार से पीड़ित हैं तो एक्यूप्रेशर थेरेपी लेने पर यह आपकी बीमारी को और ज्यादा बढ़ा सकता है।
ऑस्टियोपोरोसिस से ग्रसित मरीज अगर एक्यूप्रेशर थेरेपी लेते हैं तो उनकी समस्या गंभीर हो सकती है। इसलिए परहेज करें।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.