Header Ads

बड़ा खुलासा :


बड़ा खुलासा : अगर वाइफ प्रेग्नेंट नहीं हो पा रही है तो कौन है जिम्मेवार, पहली बार डॉक्टर ने दिया ये जवाब

Healths Is Wealth 



ह्यूमन रिप्रोडक्शन’ में पब्लिश एक लेटेस्ट स्टडी के अनुसार कई कपल्स चाहकर भी बेबी प्लान नहीं कर पा रहे हैं. इसकी वजह है पुरुषों और महिलाओं में बढ़ती इनफर्टिलिटि.इससे रिलेटेड कई ऐसे सवाल हैं जिनके जवाब महिला और पुरुष दोनों जानना चाहते हैं. मेदांता दी मेडिसिटी, गुड़गांव की गायनोकोलॉजिस्ट डॉ. सभ्यता गुप्ता बता रही हैं फर्टिलिटी से रिलेटेड सवाल और उनके जवाब.

प्रॉपर ट्रीटमेंट से ठीक हो जाती है फर्टिलिटी की प्रॉब्लम : फर्टिलिटी एक्सपर्ट और इंडियन फर्टिलिटी सोसायटी के हेड (एम.पी. चेप्टर) डॉ. रणधीर सिंह का कहना है कि अधिकांश प्रॉब्लम्स टेम्परेरी होती हैं. इन्हें प्रॉपर मेडिकल ट्रीटमेंट के जरिए ठीक किया जा सकता है.

डॉ. रणधीर सिंह कहते हैं कि आज भी सामान्य भारतीय समाज में प्रेग्नेंट नहीं होने पर सबसे पहले महिला को ही जिम्मेदार ठहराया जाता है. लेकिन इसके लिए पुरुष भी उतना ही जिम्मेदार हो सकता है. इसलिए सबसे पहले रूट काज को समझने की जरूरत है.



अगर महिला प्रेग्नेंट नहीं हो पा रही है तो इसके लिए केवल महिला नहीं बल्कि पुरुष भी जिम्मेदार हो सकता है. महिलाओं के प्रेग्नेंट न हो पाने की सबसे बड़ी वजह PCOD होती है. यह प्रॉब्लम महिलाओं में हॉर्मोनल चेंजेस के कारण होती है, जिसमें ओवरी के अंदर सिस्ट (गांठ) बनने लगती है. वहीं पुरुषों में स्पर्म काउंट कम होना या स्पर्म काउंट की मोबेलिटी कम होना वजह होती है. दोनों का ट्रीटमेंट आसानी से अवेलेबल है.




सवाल : अगर वाइफ प्रेग्नेंट नहीं हो पा रही है तो कौन हैं जिम्मेदार?

जवाब : मोटापा बढ़ने से महिलाओं की ओवरी में फैट बढ़ने लगता है. ऐसे में एग्स प्रॉपर तरीके से डेवलप नहीं हो पाते हैं जिससे फर्टिलिटी कमजोर होती है. वहीं पुरुषों में मोटापा बढ़ने के कारण फिजिकल एक्टिविटी कमजोर होने लगती है. इससे स्पर्म काउंट घटता है जो फर्टिलिटी कमजोर करता है.

सवाल : अगर पार्टनर की फर्टिलिटी बढ़ानी है तो क्या करना चाहिए?

जवाब : महिलाओं की फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए उनकी डाइट में ज्यादा से ज्यादा बादाम, केले, अंडे, नट्स सीड्स और ओटमील जैसी चीजें शामिल करें. इनसे फर्टिलिटी बढ़ाने में मदद मिलेगी. वहीं पुरुष अपनी फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए रोज अपनी डाइट में दो अखरोट, दो अंडे, बादाम, कद्दू के बीज, घी, केले और दूध शामिल करें.



सवाल : किस उम्र में फर्टिलिटी कम होने लगती है?

जवाब : पुरुषों की उम्र 35 से 40 और महिलाओं की उम्र 40 के ऊपर पहुंचने पर बॉडी में कई तरह के हॉर्मोनल चेंजेस आते हैं. ऐसे में फर्टीलिटी कम होने लगती है.

सवाल : क्या नाईट शिफ्ट या स्ट्रेस में कम करने में फर्टिलिटी पर असर पड़ता है?

जवाब : लगातार कई दिनों तक नाइट शिफ्ट करने से महिला और पुरुष दोनों में स्ट्रेस बढ़ने लगता है. इसका फर्टिलिटी पर बुरा असर पड़ता है.



सवाल : क्या मोटापे का फर्टिलिटी पर असर पड़ता है?


जवाब : मोटापा बढ़ने से महिलाओं की ओवरी में फैट बढ़ने लगता है. ऐसे में एग्स प्रॉपर तरीके से डेवलप नहीं हो पाते हैं जिससे फर्टिलिटी कमजोर होती है. वहीं पुरुषों में मोटापा बढ़ने के कारण फिजिकल एक्टिविटी कमजोर होने लगती है. इससे स्पर्म काउंट घटता है जो फर्टिलिटी कमजोर करता है.

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.