Header Ads

स्वप्नदोष रोकने के उपाय

स्वप्नदोष रोकने के उपाय

Healths Is Wealth  
रात में सोते वक्त लड़कों का खुद-ब-खुद वीर्य (semen) निकल जाना स्वपनदोष (Wet dreams / Night Fall) कहलाता है। किशोरावस्था और युवावस्था में लडकों को स्वपनदोष (Wet dreams) होना एक आम बात है। अगर 1 माह में 1-2 बार स्वप्नदोष (Wet dreams) होता है तो डरने की बात नहीं है, यह एक सामान्य बात है। क्योंकि पुरुष के शरीर में हमेशा वीर्य (semen) बनता रहता है, इसलिए एक सीमा के बाद वीर्य (semen) खुद-ब-खुद निकल जाता है। शादी के बाद स्वप्नदोष (Wet dreams) पूरी तरह से खत्म हो जाता है। यह याद रखें कि यह कोई बीमारी नहीं है। Read about Remedies for Wet Dreams in Hindi (Swapanadosh ko Kaise Roke).


Healths Is Wealth  
स्वपनदोष के मुख्य कारण (Causes of Wet Dreams)
Porn Films देखना या अश्लीन कहानियाँ पढ़ना। 

Sex के बारे में कुछ ज्यादा ही ज्यादा सोचना या स्त्री के कोमल या यौनांगों के बारे में ज्यादा पढ़ना, देखना या सुनना। 

वीर्य (semen) का ज्यादा दिनों से स्खलित नहीं होना, मतलब वीर्य (semen) का Over Stock होना। 




स्वप्नदोष रोकने के कुछ कारगर उपाय (Remedies for Wet Dreams)

खुद को व्यस्त रखें, अपने विचारों और मन में शुद्धता लाएँ। अगर आपके दिमाग या मन में अश्लील या कामुक बातें नहीं होंगी, तो स्वप्नदोष (Wet dreams) भी नहीं होगा। 

Porn Films न देखें, क्योंकि इससे दिमाग कामुक विचारों से मुक्त नहीं हो पायेगा। 

नहाने के लिए ठंडे पानी का उपयोग ही करें, गर्म पानी से न नहाएँ। 

रात में सोने से पहले गर्म दूध न पिएँ। 

हफ्ते में 1 बार हस्तमैथुन (Masturbation) कर सकते हैं, इससे वीर्य (Semen) की अधिक होने वाली मात्रा बाहर निकल जाएगी। जिससे स्वप्नदोष (Wet dreams) नहीं होगा। 
सोने से 2-3 घंटा पहले खाना खा लें और सुपाच्य (Digestible) भोजन हीं करें। 

अपनी दिनचर्या को ऐसा बनाए कि अश्लीलता के चक्कर में पड़ने का आपको समय हीं न मिले। 

हर दिन सूर्योदय से पहले उठें, योग, व्यायाम एवं पूजा करें। अपनी रूचि धार्मिक चीजों की ओर बढ़ाएं। 

रात में सोने से पहले पेशाब जरुर करें और रात में पानी कम पिएँ। 

रात में सोने से पहले अंडरवियर (underwear) खोल लें और lower या किसी अन्य तरह का ढीला कपड़ा पहनकर सोएँ। 

सुबह-सुबह खाली पैर घास पर Morning Walk करें। 

अपने लिंग की नियमित सफाई करें। 


अन्य किसी तरह का उपचार प्रयोग करने की जरूरत नहीं है। न हीं किसी नीम-हकीम के झांसे में आए। बस ये बात ध्यान में रखें कि स्वप्नदोष (Wet dreams) कोई बीमारी नहीं है और न हीं बचपन की कोई भूल है।
शीघ्रपतन रोकने के उपाय
Healths Is Wealth  


Sex करने के दौरान पुरुष जब अपना लिंग स्त्री की योनी में डालते है, और पुरुष का वीर्य (Semen) बहुत हीं जल्दी स्खलित हो जाता है, तो इसे शीघ्रपतन (premature ejaculation) कहते हैं। शीघ्रपतन (premature ejaculation) होने के कारण स्त्री sex का पूरा आनंद नहीं उठा पाती है, जिसके कारण पति-पत्नी दोनों के जीवन में तनाव उत्पन्न हो जाता है और पुरुष हीन भावना का शिकार हो जाता है। Read Natural Remedies for Premature Ejaculation in Hindi (Premature Ejaculation ka Ilaj).

शीघ्रपतन खत्म करने के उपाय
Natural Remedies for Premature Ejaculation in Hindi

(Premature Ejaculation ka Ilaj)
Healths Is Wealth  
तनाव और थकावट, शीघ्रपतन (premature ejaculation) के दो मुख्य कारण हैं, इन दोनों को दूर किए बिना शीघ्रपतन (premature ejaculation) से छुटकारा नहीं मिल सकता है। 

किसी भी प्रकार के नशे का सेवन न करें, नशा आपकी sex क्षमता को घटाता है। 

सबसे पहले मन से यह भ्रम निकाल लें कि शीघ्रपतन (premature ejaculation) कोई बीमारी है, ज्यादातर लोग केवल इसी कारण से शीघ्रपतन (premature ejaculation) के शिकार होते हैं, क्योंकि उन्हें खुद पर यह विश्वास नहीं होता है कि वो अपने साथी को यौन संतुष्टि (sex satisfaction) दे पाएंगे। खुद को विश्वास दिलाइए कि आपमें कोई यौन कमजोरी नहीं है और आप अपनी पत्नी को sex के दौरान पूरी तरह संतुष्ट कर सकते हैं। 

समय पर संतुलित और पौष्टिक भोजन खाएँ। 

Sex करने के दौरान जल्दबाजी न करें। लिंग को योनी में डालने से पहले, एक-दूसरे के कोमल और यौन अंगों को चूमें, सहलाएं ताकि sex करने से पहले आप दोनों पूरी तरह से उत्तेजित हो जाएँ। 

Sex करने के दौरान एक-दूसरे से बात करते रहें (यह बाते Romantic और उत्साह बढ़ाने वाली होनी चाहिए)। लिंग को अंदर-बाहर करने की गति को कम-ज्यादा करते रहें। कुछ सेकेण्ड के लिए लिंग को अंदर-बाहर करना रोक दें, उसके बाद फिर शुरू कर दें। ऐसा करने के दौरान आप अपने साथी का चुम्बन लें और उनके नाजुक अंगों को चूसें, चूमें और सहलाएँ। इस बात का ध्यान रखें कि आपका ध्यान इस बात पर ना हो कि कहीं आज भी वीर्य (semen) जल्दी ना निकल जायेगा। 

बहुत ज्यादा sex न करें, 1 से 3 दिन के अन्तराल में sex करना भी फायदेमंद होगा। 

Sex के दौरान किसी के disturb करने का डर भी शीघ्रपतन (premature ejaculation)का एक कारण हो सकता है। 

अपने शरीर की नियमित मालिश करें, Laptop को जांघ पर रखकर इस्तेमाल न करें और लिंग को गर्म पानी के सम्पर्क में न लाए। 

बहुत लम्बे अन्तराल में भी Sex न करें। नियमित sex करते रहें। Sex के दौरान Condom का इस्तेमाल करे। 
खुश और मानसिक रूप से स्वतंत्र रहें। 

बचपन की गलतियाँ या हस्तमैथुन (Masturbation) नुकसानदायक है। इन बातों को न मानें। ये नीम-हकीम के द्वारा फैलाई गई मनगढंत बातें हैं। 

सुबह जल्दी उठें। 

हर दिन लहसून की 2-3 कलियाँ खाने से Sex Power बढ़ती है। 

Sex Power बढ़ाने वाली दवाओं के सेवन ना करे। 

अपने दैनिक भोजन में प्याज को शामिल करें, यह आपको बहुत फायदा पहुंचाएगा। 

अपने दैनिक आहार में साग- सब्जिया, ताजे फलों, दाल तथा दूध को शमिल करें। 

अगर एक बार वीर्य (semen) जल्दी निकल जाए तो sex खत्म न करें। आधा-1 घंटा बाद फिर sex करना शुरू करें। इस बार आप दोनों पूरी तरह से संतुष्ट (satisfy) होंगे। 

अलग-अलग Sex Positions का उपयोग करना भी उपयोगी हो सकता है। 

सप्ताह में 2-3 बार काले चने खाना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। 

लगभग 150 gm बारीक कटे हुए गाजर को उबले हुए अंडे के एक हिस्से में एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में एक बार खाएँ। इसे 1-2 महीने तक खाएँ। 

एक कप दूध में 15 gm सफेद मूसली को उबालकर दिन में 2 बार पिएँ। 

15-16 gram सहजन के फूलों को 250 ml दूध में उबलने के बाद पिएँ। 

रोज रात को सोने से पहले 1/2 चम्मच अदरक का रस, एक चम्मच शहद और एक उबले अंडे का आधा भाग मिलकार 1 माह तक खाएँ। 

बराबर मात्रा में खजूर, पिस्ता, बादाम और श्रीफल के बीजों को लेकर Mixture बनाए, रोज 100 gram इस Mixture को खाएँ। 
गर्म पानी में 30-40 gram किशमिश को धोकर, 200 ml दूध में उबालें। इसे दिन में तीन बार खाएँ। हर बार तजा mixture तैयार करें। 

Sperm में रक्त आने के कारण, लक्षण और उपचार
Healths Is Wealth  

Healths Is Wealth  

वीर्य (Sperm) में रक्त पाए जाने की स्थिति को हेमाटोस्पर्मिया (Hematospermia) कहते हैं। यह हमेशा नहीं दिखता है इसलिए इसके होने का अंदाज़ा लगाना मुश्किल होता है। Sperm में खून आने का कारण मनुष्य के गुप्तांग प्रणाली में होने वाली बीमारिया हो सकता है। इस स्थिति में जो भाग प्रभावित होते हैं वो हैं Bladder, testicles, urethra, the tube testicle एवं prostate gland। Read about Blood in Sperm in hindi (Sperm Mein Khun Ane ki Samasya).

Blood in Sperm in hindi

(Sperm Mein Khun Ane ki Samasya)

Sperm में रक्त आने के कारण (Causes of Blood in Sperm)

आमतौर पर Prostate की biopcy होने के बाद, sperm में रक्त आने की समस्या होती है जो कि operation के 3 से 4 हफ्ते बाद तक रहती है। इसी तरह नसबंदी होने के करीब 1 हफ्ते बाद भी sperm में रक्त आने की समस्या रहती है। 

मनुष्य के गुप्तांगों में होने वाले छोटे बड़े infection की वजह से भी sperm में रक्त की समस्या होती है। गुप्तांगोंमें विषमता (Dissimilarity), पथरी (stone) या अन्य infection इनमें प्रमुख हैं। 

प्रजनन प्रणाली (reproductive system) में पोलिप्स (polyps) होने से भी कई बार sperm में खून निकलने की घटनाएं होती हैं। साधारण polys याprostate, Testicles या vesicle में tumer होने से भी sperm में रक्त निकलता है। 
Metastatic cancer, जो शरीर के विभिन्न भागों में फ़ैल रहा हो और गुप्तांगों में स्थित हो गया हो, उसकी की वजह से sperm में रक्त आने की समस्या होती है। 

वीर्यपात (emission) के समय कभी कभी बाधा उत्पन्न होने से भी sperm में रक्त आने की समस्या होती है। 

Prostate या Vesicle में पथरी (stone) होने से भी रक्त की समस्या आती है। 

कुछ यौन सम्बन्धी बीमारियों के फैलने से (Gonorrhea और chlamydia) भी ये समस्या होती हैं। 

Radiation की पद्दति, नसबंदी और hamaroid के injection लेने से भी कई बार sperm में रक्त की समस्या हो सकती है। 

यौन अंगों में चोट लगने से जैसे पेडू का टूटना (Breakdown of pelvis), अंडकोष में चोट (testicle injury), काफी मात्रा में यौन गतिविधियों (sex) में सम्मिलितहोना तथा वीर्यपात (emision) जैसी घटनाओं से भी sperm में रक्त आने की समस्या हो सकती है। 

प्रजनन प्रणाली (Reproductive System) के छोटे ट्यूब या द्वार बंद हो जाने पर रक्त वाहिनियां (blood vessels) फट जाती हैं और रक्त का स्त्राव (blood flow) होता है। 

हाई ब्लड प्रेशर, गुर्दे की बीमारी (kidney problem) या लियुकेमिया (leukemia) जैसी बीमारियों की वजह से भी sperm में रक्त आ सकता है। 

Sperm में रक्त आने के लक्षण (Symptoms of Blood in Sperm)

Sperm में रक्त आने से पहले जो लक्षण दिखते हैं उनमें मूत्र विसर्जन में पीड़ा (pain in urination), वीर्यपात (emission) के समय पीड़ा, बुखार, पीठ के निचले हिस्से में दर्द और Testicles या testes में सूजन प्रमुख हैं।

इस स्थिति का पता doctor द्वारा मरीज़ का पूरा डॉक्टरी इतिहास देखकर लगाया जाता है जिसमें उनके द्वारा बनाए गए यौन सम्बन्ध, गुप्तांगों की सूजन वगैरह के लिए जांच आदि की जाती है। मूत्र जांच करके किसी भी प्रकार के infection का पता लगाया जाता है। यौन सम्बन्धी बीमारियों (Sexual diseases) की जाँच भी फायदेमंद है।

Sperm में रक्त आने के डॉक्टरी उपचार (Doctor’s Treatment for Blood in Sperm)

अगर sperm में रक्त किसी infection की वजह से आता है तो doctor मरीज़ को antibiotic देंगे। 

अगर sperm में रक्त आने का कारण मूत्राशय की प्रणाली (urinary bladder) में आई गड़बड़ है तो फिर शल्य क्रिया (surgery) की आवश्यकताहोगी। 

अगर मूत्राशय में stone की वजह से sperm में रक्त की समस्या आती है तो इस stone को निकालने के लिए भी शल्यक्रिया की आवश्यकता होगी। 

अगर cancer की वजह से रक्त उत्पन्न हो रहा है तो cancer का इलाज करवाये। 

Infection और जलन के लिए डॉक्टरों द्वारा antibiotics और जलन कम करने वाली दवाइयाँ दी जाती हैं। 

अन्य बीमारियों जैसे यौन सम्बन्धी रोग (Sexual dysfunction), हाई ब्लड प्रेशर तथा गुर्दे (kidney) की बीमारी का इलाज अलग से किये जाने कीआवश्यकता है। 
अगर किसी शल्य क्रिया (surgery) के फलस्वरूप sperm में रक्त आता है तो इसे इलाज की आवश्यकता नहीं है। यह अपने आप ही ठीक हो जाएगा। 

Prostate cancer मर्दों में किसी भी उम्र में हो सकता है। यह sperm में खून आने का मुख्य कारण है इसलिए इसकाइलाज जल्द से जल्द करें। 

स्वपनदोष का हो सकता है घरेलु इलाज



स्वप्नदोष ( Swapna dosh ) वो प्रक्रिया है जिसमे नींद की अवस्था में वीर्यपात ( Ejaculation ) हो जाता है। अक्सर युवकों को यौवन काल में प्रवेश करने के बाद नींद की अवस्था में वीर्यपात हो जाता है । आइये जानते है इसके घरेलु उपचार । Read Home Remedies for Night Fall in Hindi (Nightfall ke Gharelu Upchar).


Home Remedies For Night Fall In Hindi

(Nightfall ke Gharelu Upchar)

2 केले खाकर उपर से गुनगुना पानी या दूध पिए। ऐसा कुछ दिनों तक रोजाना करे, फायदा मिलेगा। 

रोजाना सुबह लहसुन की 2 कलिया पानी से निगल ले। 

मिश्री और सूखा धनिया पीसकर चूर्ण आना ले। रोजाना 1/2 चम्मच चूर्ण सादे पानी के साथ ले, स्वपनदोष में मुक्ति मिलेगी। 
अनार के छिलको को अच्छे से पीसकर 5-5 gm सुबह और शाम पानी के साथ कुछ दिनों तक लेते रहे। 

रोजाना आवले का मुरब्बा खाते रहने से कुछ दिनों में स्वपनदोष की बीमारी ठीक हो जाती है। 

10 gm धनिए के बीज को पीसकर सादे पानी के साथ पीते रहने से भी स्वपनदोष में फायदा मिलता है। 

जामुन की गुठली को पीसकर उसका चूर्ण बना ले और सुबह-शाम इस चूर्ण को पानी के साथ ले। ऐसा करने से स्वपनदोष जड़ से ख़त्म हो जायगा। 

अपने डेली रुटीन में आवले का मुर्राबे का सेवन करे। आप गाजर के जूस का सेवन भी कर सकते है। 

तुलसी की जड़ के छोटे छोटे टुकड़े पानी के साथ मिलाकर कुछ दिनों तक सेवन करे। 

10 gm सफेद प्याज, 6 gm आद्रक का रस, 3 gm शहद और 3 gm देसी गये की घी को मिलाकर रात को सोने से पहले पिए। 

अपने खाने में भिंडी, टमाटर, पत्ता गोभी, चुकंदर, आलू और तरबूज का सेवन अधिक से अधिक करे, ये आपकी पुरुष शक्ति को बढ़ाता है। 

मिश्री और अजवाइन को बराबर मात्रा में पीसकर रोज सुबह और शाम सेवन करे, फायदा होगा। 

यदि आप शक्करकंद को उबाल या भूनकर खाते है तो आपकी मर्दानी शक्ति बढ़ेगी। 

कच्चे लहसुन की 1 से 2 काली को पीसकर निगलने से स्वपनदोष से राहत मिलती है। 

तुलसी स्वपनदोष की समस्या से निजात दिलाती है। यदि आप रोज तुलसी के 8 से 10 पत्ते रात को सोने से पहले पानी के साथ लेते है तो स्वपनदोष नही होगा। 
इन उपायो को नियमित रूप से इस्तेमाल करने से स्वपनदोष में फायदा मिलता है।

क्या होते है स्वप्नदोष के कारण और लक्षण



स्वपनदोष का रोग युवा लोगो को होता है। इस रोग में रात को सोते समय सीमेंन अपने आप ही निकल जाता है। यदि हफ्ते में एक या दो बार स्वपनदोष होता है तो यह नार्मल माना जाता है, यदि यह रोज हो रहा है इसे बीमारी माना जाता है। समय पर इसका इलाज ना होने पर नपुंसकता की समस्या हो सकती है। Read What is Night Fall in Hindi (Kya Hota Hai Swapna Dosh).

स्वप्नदोष होने में कोई खराबी नहीं है। यह बड़े होने का स्वाभाविक हिस्सा है। अगर आपको बहुत ज्यादा स्वप्नदोष भी होता है, इसका मतलब यह नहीं की आपके शरीर में कोई खराबी है। और इस से आपके शरीर और सेहत पर कोई बुरा असर नहीं पड़ता। कुछ लोगों को हफ्ते में कई बार स्वप्नदोष होता है। और कुछ को अपनी पूरी ज़िन्दगी में केवल कुछ ही बार स्वप्नदोष होता है। जैसे-जैसे आप उम्र में बड़े होते हैं, स्वप्नदोष होने की संभावना उतनी ही घट जाती है।


What Is Night Fall In Hindi

(Kya Hota Hai Swapna Dosh)

स्वपनदोष के कारण (Causes of Night Fall)

अकेलापन के कारण भी स्वपनदोष हो सकता है। 

मूल-मुत्रा को ज़्यादा देर तक रोके रखना। 

अडल्ट मूवीस को देखना या अन्या अडल्ट कॉंटेंट की तरफ अनपा ध्यान ज़्यादा देना। 

नशीले पदार्थो का सेवन करना। 

कब्ज होना। 

स्वपनदोष के लक्षण (Symptoms of Night Fall)

आलस्या आना और किसी काम में मन ना लगना। 
हाथ-पैरो के तलवो से दुर्गंध आना। 

रोज रात को सोते समय सीमेंन का निकलना इसका मुख्या लक्षण है। 

कमज़ोरी फील होना और चक्कर आना। 
Premature Ejaculation का हो सकता है घरेलू इलाज



आज कल की जीवनशैली की वजह से इंसान कई तरह की बीमारियो से घिरता जा रहा है। आजकल के युवाओ में सबसे बड़ी समस्या है premature ejaculation और यौन संबंधो के प्रति अरुचि का होना, साथ ही ये समस्या महिलाओ में भी देखी जा रही है। इसकी मुख्य वजह मानसिक तनाव, चिंता आदि है। ऐसी ही समस्या प्रेग्नेंट महिलाओ में भी गर्भ में पल रहे बच्चे पर दुष्प्रभाव के रूप में देखी जा सकती है। इस तरह की समस्या को दूर करने के लिए आपको अपने आप को दिमागी रूप प्रॅक्टिकल बनाना होगा यानी आपको तनाव से दूर रहना होगा और पॉज़िटिव सोच के साथ आगे बढ़ना होगा। आइए जानते है premature ejaculation का घरेलू नुस्खो द्वारा इलाज। Read remedies for Premature Ejaculation in Hindi (Premature Ejaculation ka Gharelu Ilaj).


Remedies For Premature Ejaculation In Hindi

(Premature Ejaculation ka Gharelu Ilaj)

1. जामुन का प्रयोग (Blue Berries for Premature Ejaculation)

जामुन सीमेंन को गाड़ा करती है और इसे बढ़ाती भी है। अक्सर देखा गया है की जिन पुरुषो का सीमेंन पतला होता है वे थोड़ी सी उत्तेजना में ही स्खलित हो जाते है और premature ejaculation का शिकार हो जाते है। इसलिए सीमेंन को गाड़ा करने के लिए रोज शाम को 5 gm जामुन की गुठली का चूर्ण गाय के दूध के साथ ले, फायदा मिलेगा।

2. इसबगोल (Isabghol for Premature Ejaculation)


रोजाना 5 gm मिश्री, 5 gm इसबगोल को पानी के साथ घोलकर पिए। यह premature ejaculation की समस्या को दूर करता है।

3. मुनक्के का प्रयोग (Munakka for Premature Ejaculation)

यह शरीर में खून की कमी को दूर करता है और सीमेंन को बढ़ाता है। इसके लिए 60 gm मुनक्के भिगो दे और 12 घंटे के बाद इनको चबा कर खाए। भीगे हुए मुनक्के सीमेंन को बढ़ाते है और पेट संबंधी कई तरह की बीमारियो को भी दूर करते है। धीरे-धीरे आप अपनी डाइट में मुनक्के की मात्रा 200 gm तक भी ले जा सकते है। साल भर में कम से कम 4 kg मुनक्के को खाना पुरुषो के लिए बेहद फयदेमंद होता है।

4. बादाम (Almond for Premature Ejaculation)

Premature ejaculation के रोगियो के लिए बादाम बेहद लाभकारी है। 6 काली मिर्च, 2 gm सोंठ, मिश्री और 6 बादाम की गिरी को मिलाकर खाए और बाद में गरम दूध पिए।

5. छुआरे (Chuare for Premature Ejaculation)


छुआरा खाने से premature ejaculation और पतले सीमेंन की समस्या दूर होती है। इसलिए 5 gm छुआरे नित्या खाने चाहिए।

6. दालचीनी (Cinnamon for Premature Ejaculation)


दालचीनी को पीसकर बारीक पाउडर बना ले और रात को सोने से पहले 4 gm दालचीनी को 1 ग्लास दूध में मिलाकर सेवन करे। यह दूध को पचाने में मदद करता है और साथ ही सीमेंन की मात्रा को बढ़ाता है।

7. तुलसी (Tulsi for Premature Ejaculation)

तुलसी के बीज को पीसकर चूर्ण बना ले और 3 gm तुलसी के चूर्ण को गुड के साथ दुध में मिलाकर सेवन करे। ऐसा करने से पतला सीमेंन गाड़ा बनता है। तुलसी के बीज को पान में रखकर खाने से premature ejaculation की समस्या जल्दी दूर होती है।

8. चने (Chane for Premature Ejaculation)

स्वप्न दोष क्या 

स्वप्न दोष का इलाज आज की इस पोस्ट में हम आपको बताएंगे कि स्वप्नदोष क्या होता है, इसके क्या कारण होते हैं, और स्वप्नदोष का इलाज कैसे किया जा सकता है. दोस्तों इस के बारे में संपूर्ण सटीक जानकारी के लिए हमारी इस पोस्ट को आप अंत तक पढ़ें और साथ ही अपनी Facebook प्रोफाइल पर जरुर शेयर करें या फिर अपने दोस्तों को इसके बारे में बताएं क्योंकि अधिकतर युवा पीढ़ी जिसमे लड़का और लड़की दोनों शामिल हैं इस दैहिक क्रिया से अवश्य प्रभावित होते हैं.
स्वप्न दोष का इलाज, स्वप्न दोष क्या है और इससे कैसे बचा जा सकता है यहाँ जानें


स्वप्न दोष का इलाज कैसे करें जैसा कि इसका नाम है स्वप्नदोष यह आपकी जानकारी के लिए यह बता दें की है कोई दोष न होकर एक स्वाभाविक शारीरिक क्रिया होती है जिससे लगभग सभी युवक और युवतियां कभी ना कभी इस से ग्रसित जरूर होते हैं. स्वप्नदोष में युवक और युवती नींद में स्खलन हो जाते हैं. जिस तरह से वह सामान्य हालातों में चरम सुख का आनंद लेते हुए संभोग की चरम सीमा पर पहुंचते हैं ठीक उसी प्रकार स्वप्न देखते हुए संभोगरत होने का सपना देखते हुए वह स्खलित हो जाते हैं तो इसी दोष को स्वप्नदोष कहते हैं. लेकिन इससे घबराने की ज़रुरत नहीं है इस पोस्ट में हम आपको बताएँगे के स्वप्न दोष का इलाज बिलकुल आसान तरीके से कैसे संभव है.




वैसे आमतौर पर देखा गया है कि अधिकतर युवाओं की स्वप्नदोष की बीमारी शादी के बाद अपने आप ही समाप्त हो जाती है लेकिन फिर भी समस्या होती है इसका इलाज जरुर करना चाहिए



अधिकतर कुंवारे, अविवाहित युवक और किशोरों में स्वप्नदोष होने की समस्या ज्यादा देखने को मिलती है. यह कोई बड़ा रोग नहीं होता है स्वप्न दोष का इलाज बहुत ही आसान तरीके से किया जा सकता है. लेकिन अक्सर देखने में आया है के इस तरह से होने पर किशोरों में हीन भावना पैदा होने लगती है, और वह मानसिक तनाव का शिकार हो जाते हैं. अगर आपके साथ भी ऐसा है तो सबसे पहले तो अपने आप को मानसिक रुप से सुदृढ़ बनाइए और यह पूरी तरह से ठीक हो जाएगा इस तरह की मानसिकता अपने आप में लाइए क्योंकि इस बीमारी को ठीक करने के लिए आपका मानसिक रुप से तैयार होना बहुत जरूरी है. 


अगर आपको स्वप्नदोष इससे अधिक बार हो रहा है तो फिर इसका इलाज करना ही ठीक रहता है इस पोस्ट में नीचे हम आपको स्वप्नदोष से बचने के तरीके बताएंगे कि आप क्या करें और क्या ना करें जिससे आपके स्वप्नदोष होने का रोग पूरी तरह से खत्म हो जाए.
स्वप्न दोष के कारण, और इससे कैसे बचें


स्वप्न दोष का इलाज बिना किसी दवा के भी संभव है, क्योंकी स्वप्न-दोष होने के सबसे मुख्य कारण इस प्रकार के होते हैं अश्लील चिंतन करना, अश्लील फिल्में, फोटो आदी देखना या अकेले में कामुक चिंतन करने लगना या फिर सहवास करने के बारे में बहुत ज्यादा सोचना, रूची लेना. इसके अलावा अधिक समय से वीर्य स्खलन ना होना मतलब वीर्य का ओवर स्टॉक हो जाना, या सोने से ठीक पहले खाना खाना, बहुत तेज मिर्च मसाले वाला गरिष्ठ भोजन करना, आपके पेट में कब्ज होना और पेट में गर्मी अधिक होना. 


स्वप्न-दोष के रोगियों को एक बात का खास ख्याल रखना चाहिए यह एक मन से जुड़ी बीमारी है, इसलिए जितना हो सके अपने आप को धार्मिक क्रियाओं में ढालनेका प्रयास करें और मन में किसी भी प्रकार की गंदी सोच ना लाएं.


ऐसे लोगों को ठंडे पानी से नहाना चाहिए और रात में खाना खाने के बाद गरम दूध का सेवन ना करें इसके अलावा रात को सोने से पहले अपने हाथ पैर मुंह ठंडे पानी से धो लें और कामुक चिंतन करना बिल्कुल बंद कर दें.


अश्लील साहित्य बिल्कुल भी ना पड़े और ना ही ब्लू फिल्म देखें. अगर आपने हस्तमैथुन करने की आदत है तो इस से भी बचें रात को सोने से पहले लगभग 3 घंटे पहले आप खाना खा ले और हमेशा सीधा सोने की कोशिश करें.


स्वप्न-दोष से बचने के लिए रात को सोने से पहले कोई अच्छी विचारों वाली पुस्तक पढ़े हैं जिससे कि आपको रात को कामुक दृश्य दिखाई ना दें अगर संभव हो सके तो योगा करें इसके अलावा कुछ और उपाय नीचे दिए जा रहे हैं इनको पढ़ें और घरेलू नुस्खों द्वारा स्वप्नदोष की बीमारी को कैसे ठीक करें यह भी जानें.
  • अपने गुप्तांग के आसपास के बालों को बढ़ने दें, हर 15 दिन में इनकी सफाई करते रहें.
  • रात को जब खाना खा लें इसके बाद पेशाब जरुर करें और खास तोर पर सोने से पहले भी.
  • अगर आपका खतना हुआ है फिर तो ठीक है और अगर नहीं तो अपने गुप्तांग की चमड़ी को पीछे की और हटाकर उसको रोजाना अच्छे से साफ़ करना चाहिए.
  • रात में जब सोएं तो बहुत टाइट अंडरवियर न पहनें, अगर हो सके तो ढीली नेकर या चड्डी पहनकर सोएं और बहुत हल्का या ढीला कपड़ा पहनकर ही सोएं.
  • सोने जाने से पहले अपने हाथ पैर ठन्डे पानी से धोकर सोएं इसके अलावा आप सीधा और कमर के बल सोयें क्योंकी उल्टा होकर सोने वालों को बहुत जल्दी स्वप्नदोष हो जाता है.

स्वप्न दोष का घरेलू उपाय, आयुर्वेदिक तरीके से

  • स्वप्नदोष को रोकने के लिए एक रामबाण दवा है, जिससे शायद आप भी भली-भांति परिचित होंगे ‘शिलाजीत’ का नाम तो आपने सुना ही होगा, शिलाजीत को स्वप्नदोष की सबसे श्रेष्ठ आयुर्वेदिक औषधि माना गया है इसमें पोषक तत्वों की भरपूर मात्रा पाई जाती है जो आपके संपूर्ण शरीर के स्वास्थ्य की देखभाल करते हैं और आप को अनेकों प्रकार के और यौन रोगों से लड़ने की शक्ति देता है. 
  • अतः शिलाजीत जो की असली होना चाहिए इसका सेवन करने से आपकी तमाम प्रकार की शारीरिक और यौन दुर्बलता समाप्त हो जाती है.
  • जिन लोगों को स्वप्नदोष की शिकायत हो जाती है उन्हें भरपूर मात्रा में विटामिन ई अपने आहार में लेना चाहिए अगर आहार से लेना संभव नहीं हो पा रहा है तो इसके यानी के विटामिन ई के कैप्सूल भी बाजार में मिलते हैं जो आप सुबह शाम 1-1 कैप्सूल ले सकते हैं. इसके अलावा बादाम का सेवन भी कीजिए क्योंकि बादाम में विटामिन E की भरपूर मात्रा पाई जाती है.
  • सपना रोग के रोगियों के लिए आंवले के मुरब्बे का सेवन भी बहुत फायदा करता है अगर संभव हो सके तो आप रोजाना आंवले के मुरब्बे का सेवन करें.
  • एक बहुत ही सस्ता और सरल उपाय है स्वप्न-दोष के रोगियों के लिए दो केला खाने के बाद ऊपर से एक गिलास लगभग 250 ml गरम दूध पीना चाहिए. इसको लगातार आपने अगर दो से तीन माह कर लिया  तो इससे सभी प्रकार की योन दुर्बलता दूर हो जाती है तथा आप शारीरिक रूप से भी मोटे ताजे हो जाते हैं और से वीर्य गाढ़ा बनता है, संभोग करने की शक्ति दुगनी हो जाती है जिन लोगों को शीघ्र स्खलन की समस्या है वह भी इस उपाय को अपना सकते हैं.
  • धनिया और मिश्री बाबर मात्रा में लेकर पीसकर ठंडे पानी के साथ सेवन करने से भी स्वप्नदोष रोग की समस्या समाप्त हो जाती है इस तरह का प्रयोग आप 15 से लेकर 30 दिन तक कर सकते हैं.
  • एक कली वाले लहसुन का प्रयोग भी लाभकारी माना गया है इस तरह का प्रयोग आप 30 से लेकर 40 दिन तक कर सकते हैं रोज रात को सोने से पहले दो कली लहसुन की खाकर सोए.
  • स्वप्नदोष के रोगियों के लिए यह आयुर्वेदिक उपाय भी बहुत लाभकारी है रोज रात को सोने से पहले 10 ग्राम आंवले का चूर्ण पानी में भिगो दें और सुबह खाली पेट उठकर इस पानी को छानकर पी लें इससे स्वप्नदोष पूरी तरह दूर हो जाता है और साथ ही आपके पाचन क्रिया भी बहुत अच्छी हो जाती है.
  • बेल के पत्तों का रस और शहद इन दोनों को बराबर मात्रा में लगभग 10 -10 ग्राम साथ मिलाकर लेने से स्वप्नदोष का इलाज बहुत अच्छे तरीके से किया जा सकता है. 

स्वप्न दोष का इलाज क्यों आवश्यक है जानें


हमें उम्मीद है कि है के यह पोस्ट आपको पसंद जरूर आई होगी स्वप्नदोष लंबे समय तक होने पर युवाओं में अनेकों प्रकार की स्वास्थ संबंधी समस्याएं भी हो सकती है, जैसे कि घुटनों में दर्द होना, रात को नींद न लगना, चक्कर आना, याददाश्त बहुत कमजोर हो जाना, दिमागी कमजोरी महसूस होना और लंबे समय तक यदि स्वप्नदोष बना रहता है तो इससे शुक्राणुओं की संख्या कम होकर सेक्स का अनुपात भी कम हो जाता है.


फलस्वरूप आप सही तरीके से अपने पार्टनर को संतुष्ट करने लायक नहीं रहते इसलिए समय रहते स्वप्न दोष का इलाज आपको कर लेना चाहिए 

भीगे हुए चने या सीके हुए चने खाने के बाद में दूध पीने से सीमेंन गाड़ा होता है। भीगी चने की डाल में शक्कर मिलाकर रात को सोने से पहले खाए।
इन प्राकृतिक घरेलू निस्खो के ज़रिए आप premature ejaculation की समस्या से बच सकते है। लेकिन इसके अलावा आपको अपनी जीवनशैली में भी चेंज लाना होगा। कम से कम 8 घंटे सोना, समय पर भोजन करना, योगा करना, व्यायाम करना आदि।
पुरुष बालो का झड़ना कैसे रोके


बालो से पुरुषो की पहचान बनती है। मर्दो के बाल ही उनके लुक्स को आकर्षक बनाते है। लेकिन उम्र बढ़ने के साथ बाल गिरने लगते है जिससे पुरुष काफ़ी चिंतित रहते है। बालो के कम होने और गिरने के कई रीज़न्स है: इर्रेग्युलर हॉर्मोन्स, अनुवशिक समस्या, सिर में खून के प्रभाव में रुकावट आना और पोशाक पदार्थो की कमी। लेकिन अब घबराने की ज़रूरत नही है क्योंकि यहाँ जाने की कैसे बालो को तेज़ी से बढ़ाया जा सकता है और गिरते बालो को रोका जा सकता है। Read Healthy Hair Tips for Men in Hindi (Pursho Ke Healthy Baalo ke Liye Tips).


Healthy Hair Tips For Men In Hindi

बालो को गिरने से रोकने और लंबा करने के उपाय

(Pursho Ke Healthy Baalo ke Liye Tips)


1. प्राकृतिक रसो का उपचार (Treatment from Juice For Healthy Hair)


बालो को बढ़ाने और स्वस्थ रखने के लिए प्याज के रस, अदरक का रस और लहसुन का रस को मिलाकर मिक्सचर बनाए। इस मिक्सचर को रात को सोने से पहले बालो लगाकर छोड़ दे। सुबह शैम्पू से बालो को धो ले।

2. तेल मालिश और तेल उपचार (Oil Massage For Healthy Hair)

बालो को बढ़ाने का नेचुरल तरीका है की आप ओलिव आयल, सरसो का तेल और नारियल तेल को बालो पर लगाए और सिर को किसी कपड़े से कवर कर दे। 1 घंटे तक सिर को ऐसा ही रहने दे। बाद में शैम्पू से बालो को धो ले।


रोजाना तेल की मालिश करने से सिर में खून का संचार ठीक होता है। मालिश करने से बालो के पोर्ज़ आक्टिव बनते है। आप सिर की मालिश करने के लिए तिल का तेल या बादाम तेल का इस्तेमाल करे। नियमित मालिश से बाल सुंदर और स्वस्थ रहते है।

3. खानपान में इन चीज़ो का सेवन करे (Diet for Healthy Hair)


बालो के गिरने का रीज़न सही तरह के पोशाक तत्वो का सेवन ना करना है। इसलिए खाने में प्रोटीन युक्त पदार्थो को शामिल करे। विटामिन A के प्रयोग से हेर लॉस ख़त्म हो सकता है।


बालो को स्वस्थ और घना बनाने के लिए अखरोट, नाश्पति और बादाम का सेवन करे। खाने में हरी सब्जिया और फलो का सेवन अधिक करे।

4. चिंता और तनाव (Avoid Stress for Healthy Hair)

कई बार शरीर से स्वस्थ और भरपूर मात्रा में पोषक तत्वों का सेवन करने से भी बाल झड़ने लगते है। इसकी मुख्य वजह है तनाव लेना। आप तनाव को जितना दूर रखेंगे बाल उतनी ही जल्दी बाड़ेंगे और स्वस्थ रहेंगे। तनाव और चिंता से बचने के लिए योगा और शारीरिक व्यायाम ज़रूर करे।

5. हर्ब्स का इस्तेमाल (Herbs for Healthy Hair)


अपने बालो को नेचुरल हर्ब्स जैसे ग्रीन टी, महेंदी और नीम से धोए। यह बालो को लंबा और घना बनाते है। महेंदी के इस्तेमाल से बालो की जड़ो को पोषण मिलता है चमक भी आती है।


गोरी त्वचा की चाह वाले पुरषो के लिए टिप्स




पुरुषो के लिए अब गोरापन पाना कोई कठिन नही है। आजकल पुरुष भी गोरापन पाना चाहते है। लेकिन महिलाओ के मुक़ाबले पुरुषो के लिए नुस्खे बहुत ही कम है। पुरुष अक्सर धूल, पोल्यूशन और सनलाइट का सामना ज़्यादा करते है जिसकी वजह से चेहरे का रंग काला पड जाता है। यहाँ कुछ कारगर और आसान नुस्खे बताये जा रहे है जिससे आप अपना रंग निखार सकते है। Read Beauty Tips for Men In Hindi (Pursho ke Liye Gore Hone Ke Tips).


Beauty Tips For Men In Hindi

पुरुषो के लिए गोरे होने के टिप्स (Pursho ke Liye Gore Hone Ke Tips)
1. स्किन की सफाई (Clean Skin)


1 कटोरी में नींबू का रस निकालकर उसमें रुई डालकर अपने चेहरे पर लगाकर 15 मिनिट के लिए छोड़ दे। यह एक तरह की नेचुरल ब्लीच है जिससे पुरुषो की स्किन में निखार आता है। साथ ही यह चेहरे से काले धब्बो और एक्ने को भी साफ करता है।

2. चेहरा धोए (Wash Face)


सुबह शाम रोज चेहरा साफ पानी से धोए। नींबू और एलोवेरा फेस वॉश का प्रयोग कर सकते है। ऐसा रोज करने से चेहरे की इमप्युरिटीस दूर हो जाती है और चेहरे के पोर्ज़ खुल जाते है।

3. स्किन प्रॉडक्ट्स सावधानी से चुने (Choose Skin Product Carefully)


पुरुषो को अपनी स्किन के हिसाब से ही प्रॉडक्ट्स इस्तेमाल करना चाहिए। आपको यह जानना ज़रूरी है की आपकी स्किन कैसी है जैसे रूखी, ऑयली या मिश्रित। इस आधार पर ही अपने स्किन प्रॉडक्ट्स खरीदे।

4. चने या बेसन का इस्तेमाल (Use Gram or Gram Flour)


बेसन या चने के आटे में नींबू का रस और थोड़ी हल्दी डालकर पेस्ट बना ले और इसे स्किन में लगाकर रखे। ऐसा करने से स्किन की खूबसूरती में निखार आता है और skin tanning कम होती है।

5. पानी पिए (Drink Water)


बॉडी में पानी की कमी से स्किन सेल्स ड्राइ ग्रेप्स की तरह सिकुड जाते है। हाल ही में हुई रिसर्च के अनुसार जो लोग पानी अधिक पीते है उनके स्किन सेल्स गुब्बारे की तरह फूले रहते है जिसकी वजह से उनका चेहरा ज़्यादा निखरा और हेल्थी दिखाई देता है। इसलिए दिन में कम से कम 8 ग्लास पानी ज़रूर पिए।

6. दही और संतरे का मास्क लगाए (Apply Yogurt and Orange Mask)


संतरे में चेहरे को गोरा करने वाले गुण होते है और दही चेहरे में चमक लाता है। 2 चम्मच संतरे के छिलके का पाउडर और 3 चम्मच दही को अच्छे से मिलाकर पेस्ट बना ले। इस पेस्ट को चेहरे पर मास्क की तरह लगाए। 15 मिनिट तक सूखने के बाद चेहरे को गुलाबजल से धो ले। ऐसा कुछ दिनों तक करने से चेहरे में गोरापन आने लगता है।

7. टोनर लगाए (Apply Toner)

जो पुरुष bike अधिक चलाते है उनकी स्किन पोल्यूशन का शिकार आसानी हो जाती है। इसलिए ऐसे टोनर का इस्तेमाल करे जिसमें glycolic acid की मात्रा अधिक होती है। टोनर लगाने से स्किन की खुजली, जलन और स्किन का लाल होना आदि समस्याओ से बच सकते है।

8. पूरी नींद (Have Proper Sleep)

स्किन को जवा बनाए रखने और अच्छी सेहत पाने के लिए पुरुषो को पूरी नींद लेना ज़रूरी है। अच्छी नींद ना लेने से आँखो के नीचे काले घेरे पड़ जाते और फेस टोने भी कम हो जाती है। इसलिए 6 से 8 घंटे की नींद ले।

9. सनस्क्रीन क्रीम का इस्तेमाल (Use Sunscreen)

सूर्य की ultraviolet rays की वजह से चेहरे और बॉडी पर कालापन आ सकता है, इसलिए हमेंशा हमें बाहर निकालने से पहले अपनी बॉडी और चेहरे पर सनस्क्रीन लोशन ज़रूर लगाए।

10. योगा और व्यायाम (Yoga and Exercise)

नियमित योगा और व्यायाम करने से शरीर का ब्लड सर्क्युलेशन नियमित रहता है जिसकी वजह से चेहरे और बॉडी में निखार आता है।


जानिए पुरूषों में इन्फर्टिलिटी के कारण





पुरुषों में प्रजनन क्षमता में कमी का सबसे सामान्य कारण शुक्राणु का कम या नहीं होना है। कभी-कभी शुक्राणु का गड़बड़ होना या अंडों तक पहुंचने से पहले ही उसका मर जाना भी एक कारण होता है। आइये जानते है कुछ और कारणों के बारे में। Read Causes of Infertility in Males in Hindi (Purosho Mein Banjhpan Ke Karan).


शुक्राणुओं का कम उत्पादन पुरूषों में बांझपन के सबसे आम कारणों में से एक है जिसमें टेस्टिस सामान्य से कम संख्या में शुक्राणुओं का उत्पादन करते है और ये शुक्राणु भी कम गुणवत्ता और कमजोर होते है जो प्रभावी रूप् से कार्य नहीं कर पाते है। 

टेस्टिस इन्फेक्शन, मुख्य रूप से सेक्शूअली ट्रैन्स्मिटिड इन्फेक्शन जैसे क्लैमाइडिया और गोनोरिया भी शुक्राणुओं के उत्पादन और गुणवत्ता को प्रभावित करते है। 

शुक्राणु परिवहन में समस्या पुरूषों में बांझपन का दूसरा सबसे आम कारण है। वे नलिकाएँ जो शुक्राणुओं को टेस्टिस से पेनिस में ले जाती है चोट या बीमारी के कारण क्षतिग्रस्त हो सकती है या अवरूद्ध हो सकती है जिससे शुक्राणुओं का प्रवाह रूक जाता है। 

पुरूष में बांझपन का आम कारण हॉर्मोन संबंधी समस्या है। कभी-कभी, पिट्यूटरी ग्लैन्ड टेस्टिस तक सही संकेत नहीं पहुंचा पाते है, जिससे टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन कम होता है(मेल हाइपोगोनेडिज्म) और टेस्टिस द्वारा शुक्राणु का उत्पादन कम होता है। 

वैरिकोसिल जो की बांझपन का एक आम कारण है, उसका उपचार किया जा सकता है। यहटेस्टिकल संबंधी गड़बड़ी की वह अवस्था है जिसमें टेस्टिस के खराब पदार्थों को ले जाने वाली नस फैल व सूज जाती है जिससे टेस्टिस की प्राकृतिक रूप से ठण्डा होने की प्रक्रिया रूक जाती है। 

कुछ बिमारियों के लिए लम्बा उपचार और दवाईयों का सेवन, हर्नियां के लिए या टेस्टिस में दोष जैसे ऊंचे टेस्टिस या मुड़े हुए टेस्टिस आदि को दूर करने के लिए रेडियोथैरेपी या सर्जरी पुरूषों में बांझपन का कारण हो सकती है। 

खेल के दौरान टेस्टिस को गंभीर चोट लगना या लड़ाई के दौरान झटका लगना आदि रक्त की आपूर्ति को बंद कर टेस्टिस को स्थायी रूप से क्षतिग्रस्त कर सकता है। इस प्रकार शुक्राणुओं के उत्पादन की प्रक्रिया रूक जाती है। 

पुरूषों एवं महिलाओं में बांझपन के जोखिम कारक



पुरूषों एवं महिलाओं दोनों में बांझपन की संभावना को बढ़ाने वाले कुछ कारक निम्नलिखित है और उन जोड़ो को जो गर्भधारण की कोशिश कर रहे है, इन कारकों के बारे में जानना आवश्यक है। Read Causes of Infertility in Women and Men in Hindi (Kya Hote Hai Banjhpan Ke Karan).


Causes of Infertility in Women and Men in Hindi

(Kya Hote Hai Banjhpan Ke Karan)

धूम्रपान पुरूषों एवं महिलाओं दोनों में बांझपन की संभावना को बढ़ाता है। यह पुरूषों में शुक्राणुओं की गुणवत्ता और संख्या दोनों को कम करता है और महिलाओं में अण्डों को प्रभावित कर गर्भपात के जोखिम को बढ़ाता है। 

एल्काहॉल सेवन शरीर पर अनेक दुष्प्रभाव डालता है। यह पुरूषों में शुक्राणाओं की संख्या एवं गुणवत्ता को कम करता है एवं महिलाओं में स्वस्थ गर्भवस्था की संभावना को कम करता है। 

महिलाओं में ज्यादा शरीरिक वजन गर्भधारण करने की संभावना को कम करता है और पुरूषों में असामान्य शुक्राणुओं के बनने के खतरे को बढ़ाता है। 

बहुत लम्बे समय तक गंभीर मानसिक तनाव महिलाओं में अण्डों एवं पुरूषों में शुक्राणुओं के उत्पादन को प्रभावित कर गर्भधारण की संभावना को कम करता है। 

क्लैमाइडिया और गोनोरिया जैसे सेक्शूअल इनफ़ेक्शन पुरूषों एवं महिलाओं दोनों की फर्टिलिटी को प्रभावित करते है। ये इनफ़ेक्शन महिलाओं में फेलोपियन ट्यूब को क्षतिग्रस्त करते है एवं पुरूषों में अंडकोश की सूजन का कारण बनते है।



शीघ्रपतन से है परेशान तो जानें क्या है इससे बचने के उपाय










आज के समय में शीघ्रपतन एक आम समस्या की तरह से सभी के सामने है | इसकी सबसे बड़ी वजह की अगर हम बात करते है तो डाक्टरों का कहना है कि यह अक्सर इसीलिए होता है क्योंकि युवाओं की आदतें ख़राब होती है और वे ज्यादातर गंदे साहित्य, गन्दी फिल्में तथा आवश्यकता से अधिक टेंशन लेने जैसी समस्याओं से घिरे रहते है | डाक्टरों ने इस समस्या के लिए उचित खान पान न मिलने की भी एक वजह बताई है |


अगर आप भी इस समस्या से परेशान है और आपको अपनी पार्टनर के सामने होना पड रहा है शर्मिंदा तो आइये हम आपको बता रहे है कि हमारे आयुर्वेद में है इसका बेहतरीन इलाज और आप अपनी सेक्स का लाइफ का बेहतरीन आनंद उठा सकते है | तो आइये जानते है –


अश्वगंधा, नागकेसर और अजवायन का मिश्रण है रामबाण –अगर आप शीघ्रपतन से परेशान है तो आपके लिए यह एक उपाय काफी लाभदायक साबित हो सकता है | आपको चाहिए कि आप 50ग्राम अश्वगंधा लें उसके साथ 50ग्राम नागकेसर ले और इन दोनों के ही साथ अजवायन ले और इन्हें अच्छी तरह से मिलाकर बारीक पीस लें |



इस मिश्रण को अच्छी तरह से किसी साफ़ सूती कपडें छान ले और एक साफ़ बोतल में भर कर आप इसे रख लें और प्रतिदिन इस चूर्ण को सुबह हल्कें गुनगुने दूध के साथ इसका सेवन करें | ऐसा कुछ दिनों तक ही करने पर आपको इसमें फर्क दिखने लगेगा | इसे लगातार पीने से आपका वीर्य गाढा भी होगा और जल्दी से आपका वीर्य स्खलित नहीं होगा |


बबूल का पूरा पेंड है अमृत-जिन लोगों को शीघ्रपतन की समस्या है उनके लिए बबूल का पेंड बिलकुल अमृत के समान है | अगर आपको शीघ्रपतन की समस्या है तो आपको चाहिए कि आप बबूल के पत्ते, बबूल के पेंड की छाल, बबूल का फल और बबूल के गोंड और फूल को बराबर मात्रा में लेकर अच्छे से मिला लेवें | ध्यान रहे यह सभी पूर्णतः सूखे होने चाहिए |



इन सभी का मिश्रण लेकर इन्हें भी आप बहुत बारीक-बारीक पीस ले | अच्छी तरह से पीसने के बाद आप इन्हें किसी सूती कपडें से छान लें और बाद में एक साफ़ बोतल में भरकर रख लें | बबूल के पेंड के पत्तों, छाल, गोंद, आदि से बनें इस चूर्ण को आप प्रतिदिन सुबह के समय एक-एक चम्मच पानी के साथ लें | 2 महीने तक ऐसा लगातार करने के बाद आपका वीर्य गिरना अर्थात शीघ्रपतन की समस्या से आपको बेहद अच्छा लाभ मिलेगा |


शीघ्रपतन के मामले में अमृत है अजवायन –जिन लोगों को भी शीघ्रपतन की समस्या है उनके लिए अजवायन किसी अमृत से कम नहीं है | अजवायन हमेशा वीर्य को गाढा बनाता है और ब्यक्ति के भीतर मर्दाना ताकत को बढाता है | जिन्हें भी शीघ्रपतन कि समस्या है उन्हें चाहिए कि वे आधा चम्मच पीसी हुई अजवायन और एक चमच्च पीसी हुई बारीक मिश्री को अच्छी तरह से मिलाकार पीस लें |


पीसने के बाद जो मिश्रण तैयार होगा उसे किसी सूती कपडे से छान लेवें और सुबह-शाम नियमित रूप से इसका सववान दूध के साथ करें | ऐसा करने से ब्यक्ति का वीर्य काफी गाढा होगा और आपकी शीघ्रपतन की समस्या भी समाप्त हो जाएगी |

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.