Header Ads

हमारा शरीर पांच तत्वों- पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश से मिलकर बना है

हमारा शरीर पांच तत्वों- पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश से मिलकर बना है। शरीर में इनका बैलेंस बिगड़ने पर ही हमारी सेहत बिगड़ती है। इन तत्वों का बैलेंस बनाए रखने के लिए हस्त मुद्रा योग का सहारा लिया जा सकता है। जानिए क्या है हस्त मुद्रा योग...






हाथों की 10 उंगलियों से विशेष आकृतियां बनाना ही हस्त मुद्रा कहलाता है। योग शास्त्र और आयुर्वेद के मुताबिक हमारे हाथों की उंगलियों में प्रकृति के मूल 5 तत्व मौजूद होते हैं। जैसे अंगूठे में अग्नि तत्व, तर्जनी उंगलि में वायु तत्व, मध्यमा उंगुली में आकाश तत्व, अनामिका उंगुली में पृथ्वी तत्व और कनिष्का उंगुली में जल तत्व। इसलिए हस्त मुद्राओं के अभ्यास से शरीर के पांचों तत्वों का बैलेंस सही रखने में मदद मिलती है और बीमारियों का खतरा टलता है।
मुद्रा योग की इस सीरिज में हर बार हम आपको बताएंगे ऐसे ही एक हस्त मुद्रा योग और उसके फायदों के बारे में। शुरुआत करते हैं ज्ञान मुद्रा से, जिसे करने के तरीके और फायदों के बारे में बता रहे हैं

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.