Header Ads

वर्तमान में जीना सीख लीजिये –

वर्तमान में जीना सीख लीजिये – 

Live in Present


वर्तमान में कोई तनाव नहीं:-

अगर हम अपनी समस्याओं और तनाव (Tension) के कारणों का विश्लेषण करेंगे तो पायेंगे कि हमारे 90% तनाव का कारण भूतकाल में या भविष्यकाल में है| इसका मतलब यह है कि वर्तमान  में हमें कोई समस्या नहीं है और हमारे तनाव का कारण या तो भूतकाल की कोई घटना है या भविष्यकाल का डर (fear of future)|

भूतकाल के भूत को भूल जाइये – Forget The Past

अगर तनाव (Tension) का कारण भूतकाल में है तो इसका मतलब यह है कि हम अभी भी भूतकाल में अटके हुए है और हमने अभी तक भूतकाल की घटना को स्वीकार नहीं किया| जब तक हम उस घटना को स्वीकार नहीं करेंगे तब तक हम तनाव (Depression) रुपी वायरस को अपने दिमाग से हटा नहीं पाएंगे| भूतकाल तो अब चला गया है और अब इसका हम कुछ कर नहीं सकते| नकारात्मक सोच (Negative Thinking) के घोड़े बार-बार दौड़ाने से अच्छा यह है कि हम भूतकाल की उस घटना को सकारात्मक रूप से स्वीकार कर लें|

भविष्यकाल का भविष्य तो वर्तमान ही तय करेगा

अगर तनाव (Tension) का कारण भविष्यकाल का कोई डर है तो उसका भविष्य तो वर्तमान ही तय करेगा इसलिए अगर हम वर्तमान में जियेंगे तो भविष्य अच्छा ही होगा और अगर हम बार बार उस डर से डरते रहेंगे जो अभी तक पैदा ही नहीं हुआ तो फिर हम अपना वर्तमान ख़राब कर देंगे और हमारा यही वर्तमान हमारा भविष्य ख़राब कर देगा|

कल का कोई वजूद नहीं:-

हम बोलचाल में “कल” शब्द का प्रयोग करते है जैसे “मैं कल बाजार गया था” या “मैं कल आऊंगा”| लेकिन “कल” का कोई वजूद नहीं है| जो भूतकाल का “कल” है वो तो चला गया है और आज के दिन वह केवल एक स्वप्न है| जो आने वाला “कल” है वह कभी नहीं आएगा, जो भी आएगा वह “आज” बनकर ही आएगा|
इसलिए बेहतर यह है कि हम हमारे मन के घोड़े को लगाम दें और  इसे “आज” में ले आएं नहीं तो इस घोड़े पर “तनाव” रुपी वायरस सवार हो जाएँगे और यह वायरस हमारे आत्मविश्वास (Self Confidence) को खोखला कर देंगा|

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.