Header Ads

क्या आप भी परेशान है कम सुनाई देने की समस्या सेक्या


क्या आप भी परेशान है कम सुनाई देने की समस्या से






आधुनिक जीवन में आने वाले परिवर्तन विशेष रूप से इयरफोन पर लगातार सुने जाने वाले संगीत के कारण लोगों में सुनने की क्षमता कम होती जा रही है लेकिन अपनी दिनचर्या में संतुलित आहार को शामिल कर इस समस्या को रोका जा सकता है.


1-एंटीऑक्सीडेंट का नियमित सेवन, विशेष रूप से पालक, शतावरी, सेम, ब्रोकोली, अंडे, जिगर या नट्स में पाया जाने वाला फोलिक एसिड सुनने की क्षमता की हानि के जोखिम को कम करते हैं. एंटीऑक्सीडेंट कान के भीतरी ऊतकों को नुकसान पहुंचाने वाले मुक्त कण को रोकने में मदद करता है. 


2-नट, विशेष रूप से बादाम, काजू और मूंगफली, साथ ही दही, आलू और केले मैग्नीशियम के बहुत अच्छे स्रोत है. अध्ययन के अनुसार, यह सुनने की क्षमता कम होने का आम प्रकार यानी शोर प्रेरित सुनने की हानि (एनआईएचएल) को रोकने में मदद करता है. 


3-आप जिंक की स्वस्थ खुराक लेकर, उम्र के कारण होने वाले सुनने की क्षमता में कमी को आसानी से रोक सकते हैं. यह कानों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है. जिंक समुद्री भोजन जैसे कस्तूरी, केकड़ा और झींगा और साथ ही पनीर और डार्क चॉकलेट में पाया जाता है. 


4-एंटीऑक्सीडेंट की तरह विटामिन सी/ई मुक्त कणों की देखभाल करता है, और आपकी समग्र प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाता है. इस प्रकार से यह कान में होने वाले संक्रमण के जोखिम को कम करता है. यह विटामिन आपको आसानी से सब्जियों (जैसे शिमला मिर्च) और फल (जैसे संतरे) में मिल जायेगें. 


बेहद सेहतमंद है आर्गेनिक फ़ूडबेहद सेहतमंद है आर्गेनिक फ़ूड








फ़ूड प्रोडक्ट्स की क्वालिटी में पिछले कुछ सालो में इतनी ज्यादा गिरावट आई है जिसके कारण आपको सावधानी बतरने की जरूरत है कि आप अपने शरीर में अन्दर क्या खाना डाल रहे है |आर्गेनिक फ़ूड प्रोडक्ट्स पारंपरिक अनऑर्गनिक फ़ूड प्रोडक्ट्स के उलट एक अच्छी चॉइस है क्यूंकि वे केमिकल और खेती में इस्तेमाल किये जाने वाले जहरीले पेस्टिसाइड्स से मुक्त हैं। आर्गेनिक फूड प्रोडक्ट्स थोड़े मंहगे जरुर होते है मगर किसी भी कारण से अपने परिवार को अनऑर्गनिक फ़ूड प्रोडक्ट्स में मौजूद केमिकल से होने वाले स्वास्थ्य समस्याओं और बीमारियों के कारण उनके जीवन को खतरे में डालना उचित नहीं है.


अगर हम अनऑर्गनिक फ़ूड प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते है तो प्रति वर्ष 16 पौंड केमिकल और पेस्टिसाइड्स का सेवन हम करते है. इसके विपरीत आम तौर पर मिलने वाले खाद्य पदार्थों के मुकाबले आर्गेनिक खेती के प्रोडक्ट्स में 40 प्रतिशत ज्यादा एन्टी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं और साथ ही साथ आर्गेनिक खेती से तैयार फलो और सब्जियों में जिंक और आयरन जैसे मिनरल्स बड़ी मात्रा में मौजूद होते हैं. लगभग सारी प्रोसेस्ड फ़ूड कंपनियां अपने प्रोडक्ट्स को लंबे समय तक सुनिश्चित करने के लिए, अच्छा दिखाने, और स्वाद में बेहतर बनाने के लिए केमिकल प्रिज़र्वेटिव का उपयोग करती हैं।


आर्गेनिक फ़ूड की खेती करने वाले किसान पर्यावरण के अनुकूल खेती करते है और सुनिश्चित करते हैं उपभोक्ता उस प्राकृतिक खाना का पूरा लाभ लें। आर्गेनिक फ़ूड प्रोडक्ट्स का स्वाद प्रोसेस्ड फ़ूड प्रोडक्ट्स के मुकाबले बेहतर और अधिक प्राकृतिक होता है। आज के किसान भोजन में बैक्टीरिया को मारने के लिए रसायनों और कीटनाशकों का उपयोग करते है। हालांकि, फल और सब्जियों में मौजूद सभी बैक्टीरिया हानिकारक नहीं होते। वास्तव में, भोजन के विकास के दौरान उपस्थित बैक्टीरिया बेहतर गुणवत्ता वाले खाद्य पदार्थों के उत्पादन में मदद करता है जिसका स्वाद अधिक प्राकृतिक होता है।


जंक फ़ूड हो सकते है खतरनाक 



सेक्स के दौरान इन 5 गलतियों की वजह से पुरुष रह जाते है चरम सुख से वंचितसेक्स के दौरान इन 5 गलतियों की वजह से पुरुष रह जाते है चरम सुख से वंचित






पुरुष महिलाओ के मुकाबले सेक्स के प्रति ज्यादा उतावले रहते है. इसी के चलते पुरुष सेक्स के दौरान कई गलतियां भी कर जाते है. जिससे वह सेक्स के पूर्ण सुख से वंचित रह जाते है. आज हम आपको पुरुषो द्वारा सेक्स के दौरान की जाने वाली कुछ ऐसी ही आम गलतियां बताने जा रहे है.


- पुरुष अक्सर सेक्स के दौरान चुप्पी साध लेते है. उन्हें लगता है की ऐसा करने से उनकी साथी महिला सेक्स का ज्यादा आनंद लेगी. लेकिन यह पुरुषो की गलत धारणा है. बल्कि ऐसा करने से महिलाए खुद को सेक्स के दौरान अकेला महसूस करने लगती है. जिस वजह से आपके संबंधों में खटास भी आ सकती है.


- महिलाओ को सबसे ज्यादा आनंद फॉरप्ले में आता है. लेकिन पुरुष यहाँ भी काफी जल्दबाजी करते है. वेज्ञानिको के अनुसार एक कपल के बीच सेक्स के दौरान फॉरप्ले का समय उनके बीच के प्यार को दर्शाता है.


- पुरुषो को ओरल सेक्स काफी ज्यादा पसंद होता है. लेकिन शायद आपको पता नहीं होगा, अत्याधिक ओरल सेक्स से महिलाए अपने आप को असहज महसूस करने लगती है. इसके अलावा इससे उत्तेजना में भी कमी आती है.


- क्लाइटोरिस महिलाओ की योनि में उपस्थित एक संवेदनशील अंग होता है. पुरुष इस और ज्यादा ध्यान नहीं देते है. जबकि महिलाए इसी अंग को धीरे धीरे सहलाने से काफी उत्तेजित हो जाती है. कई वेज्ञानिको द्वारा इसे महिलाओ के शरीर का सबसे संवेदनशील अंग कहा गया है.


- पुरुष सेक्स के दौरान अपनी महिला साथी के G-Spot पर अत्यधिक ध्यान देते है. जबकि महिलाओ के शरीर पर कई संवेदनशील हिस्से भी होते है. जिनकी मदद से आप अपनी महिला साथी को उत्तेजित कर सकते है. यह clitoris, स्तन, पेट, गर्दन आदि जैसे अंग होते है. जिनकी मदद से आप partner को भरपूर आनंद की अनुभूति करवा सकते है.


सेक्स के बाद ऐसे बना सकते हैं अपने पलों को खास


पीरियड्स के समय भी महिलाओं से किया जा सकता है सेक्स


जवान बने रहना है तो सेक्स है जरूरी 



: इन तरीको से महिलाए घटा सकती है अपने स्तनों का आकारइन तरीको से महिलाए घटा सकती है अपने स्तनों का आकार






महिलाओ के स्तनों को हमेशा से उनकी सुंदरता से जोड़ कर देखा जाता है. लेकिन कई बार इन स्तनों का आकार ज़रूरत से ज्यादा बड़ा हो जाता है जिस वजह से महिलाओ को असहजता और शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है. अगर आप भी किसी ऐसी ही परेशानी का सामना कर रही है तो अब चिंता छोड़ दीजिये, 


आज हम महिलाओ के स्तनों के आकार को छोटा करने के तरीको के बारे में बताने जा रहे है. 


- अपने स्तनों के आकार को कम करने के लिए आपको सबसे पहले अपने खानपान पर ध्यान देना होगा. Low कैलोरी और हाई फाइबर डाइट को अपने दैनिक आहार में शामिल करे. 


- ब्रैस्ट को आकार को ठीक करने के लिए एक्सरसाइज सबसे उत्तम तरीका है. इससे आपके मसल्स में को मजबूती मिलेगी और आपके स्तनों का आकार सही हो जायेगा.


- स्विमिंग करने से महिलाओ के आर्म मसल्स, शोल्डर मसल्स और चेस्ट मसल्स में मजबूती आती है, और आपके स्तनों का आकार ठीक होने लगता है. 


- अपने स्तनों के आकार को कम करने के लिए टाइट ब्रा पहन कर एरोबिक्स करे. इससे स्तनों से चर्बी बर्न होकर आपके स्तनों के आकार को कम करती है. 


- महिलाए अर्ध चक्रासन की मदद से भी अपने स्तनों के बढे हुए आकार कोकम कर सकती है. 


महिलाओं के स्तन के बारे में जाने कुछ रोचक बातें


गाजर है ब्रेस्ट कैंसर से बचाव का बेहतर उपाय


स्तनपान कराते समय रखे इन बातों का ख़याल 



: इन तरीकों से पाएं हस्तमैथुन की लत से छुटकाराइन तरीकों से पाएं हस्तमैथुन की लत से छुटकारा






पुरुषो में हस्तमैथुन एक गंभीर समस्या बन के उभरने लगी है. केवल पुरुष ही नहीं महिलाए भी इसका इस्तेमाल अपनी उत्तेजना को काबू करने के लिए करते है. इसे एक तरह की लत से जोड़कर देखा जाता है. जिससे कई तरह के नुकसान भी होता है.


अगर आप भी हस्तमैथुन करने की लत से पीड़ित है. तो हम ख़ास आपके लिए हस्तमैथुन की लत से छुटकारा पाने के कुछ तरीके बताने जा रहे है.


- हस्तमैथुन की लत से छुटकारा पाने के लिए दृढ संकल्प की ज़रूरत पड़ेगी. जब भी आपको हस्तमैथुन करने का मन जहॉ तो अपने दिमाग की किसी पॉजिटिव काम में लगाए. कोई नावेल पढ़े या खुद को किसी काम में व्यस्त कर ले.


- अक्सर रात में ही सबसे ज्यादा सेक्स इच्छा में वृद्धि देखी जाती है. इस होने पर स्वाभाविक है की अकेला होने पर आपके पास हस्तमैथुन ही एक विकल्प रह जाता है. इस समस्या से निजात पाने के लिए रात में अंडरवियर के उप्पर ज्यादा से ज्यादा कपड़े पहन कर सोये. इससे आपका इस और ध्यान कम जायेगा. और आपको नींद भी बेहतर आएगी.


- आप मैडिटेशन की मदद से भी इस समस्या से निजात पा सकते है. इसके अलावा आपको हस्तमैथुन की लत से छुटकारा पाने के लिए अपने विचारो में शुद्धि लेकर आये.


- हस्तमैथुन का सबसे प्रमुख कारण पोर्न को माना जाता है. इसलिए अगर आप हस्तमैथुन की लत से छुटकारा पाना चाहते है तो आज हुई पोर्न देखना छोड़ दीजिये. इससे आपको हस्तमैथुन की लत को छोड़ने में काफी मदद मिलेगी.


- अगर इन सब तरीको के इस्तेमाल के बाद भी आपको हस्तमैथुन की लत से छुटकारा नहीं मिल पा रहा है तो आपको डॉक्टर से सलाह लेने की ज़रूरत है. लेकिन इससे पहले यह जान लीजिये की यह किसी तरह की बीमारी नहीं है. यह केवल एक आम समस्या है. जिससे आसानी से निजात पाया जा सकता है.


हस्तमैथुन करने वाली महिलाओ को होते है यह नुकसान


शायद आपको नहीं पता होंगे हस्तमैथुन से जुड़े यह मिथ


हस्तमैथुन से जुड़े रोचक तथ्य 



ये फूड्स दिलाएंगे आपको शीघ्रपतन की समस्या से निजातये फूड्स दिलाएंगे आपको शीघ्रपतन की समस्या से निजात






आज की इस तनाव भरी दुनिया में पुरुषो में तनाव के चलते शीघ्रपतन जैसी गंभीर सेक्स समस्या बढ़ने लगी है. ज्यादातर पुरुष आज इस समस्या से पीड़ित है. ऐसे ही पुरुषो के लिए हम आज इस समस्या से निजात पाने के लिए कुछ फूड्स बताने जा रहे है. जो आपको शीघ्रपतन की समस्या से निजात दिलाएंगे


प्याज़: प्याज़ शीघ्रपतन की समस्या में काफी फायदेमंद रहता है. रोजाना खाने से पहले प्याज़ के बिज़ को पीस कर एक ग्लास पानी के साथ ले. इससे ताकत आने के साथ ही शीघ्रपतन की समस्या से भी निजात मिलेगा.


कच्चा लहसुन: दिन में कच्चे लहसुन की चार कलियाँ चबा कर खाये. इससे शीग्रपत की समस्या के साथ ही अन्य सेक्स संबंधी परेशानी में भी फायदा होता है.


कास्टर आयल: पुरुषो में शीघ्रपतन की समस्या प्रोस्टेट के चलते होती है. अरंडी के तेल का इस्तेमाल प्रोस्टेट संबंधी परेशानियों में काफी लाभदायक रहता है. इसे अपने लिंग के ऊपरी हिस्से पर लगा कर हलके हाथो से मालिश करने से शीघ्रपतन की समस्या ख़त्म हो जाती है.


अश्वगंधा: अश्वगंधा को काफी पहले से सेक्स संबंधी परेशानियों में इस्तेमाल किया जाता रहा है. इसके इस्तेमाल से libibo की मात्रा बढ़ती है. इससे शीघ्रपतन के साथ ही नपुंकसता भी दूर होती है.


गाजर और अंडे: दो गाजर को काट कर उसमे एक उबला अंडा और एक चम्मच शहद मिला कर इसका सेवन करे. तीन महीने तक लगातार इस तरीके के इस्तेमाल से शीघ्रपतन की समस्या पूरी तरह समाप्त हो जाती है.


स्वप्नदोष से मुक्ति दिलाएंगे यह कारगर घरेलु उपाय


इस वजह से मर्दों में होती है शीघ्रपतन की समस्यां 



सोने के इन तरीको से जाहिर होता है आपका व्यक्तित्वसोने के इन तरीको से जाहिर होता है आपका व्यक्तित्व






नींद की बात की जाए तो यह एक ऐसी चीज़ है जो कहीं भी कभी भी आने लगती है। सोने में तो सभी माहिर होते है लेकिन क्या आप सब यह बात जानते है कि सोने के तरीके आपके व्यक्तित्व के बारे में बताते है जी हाँ, आपकी स्लीपिंग पोजिशन आपके व्यक्तित्व की जानकारी देती है कैसे वो हम आपको बताते है। वैसे तो व्यक्ति हमेशा 6 पोजिशन्स में सो सकता है।


1. पेट के बल सोना - जो लोग ऐसे सोते है उन्हें कसी भी बात का बुरा बड़ी ही आसानी से लग जाता है।


2. सिकुड़ कर सोना - सिकुड़ कर सोने वाले लोग बड़े ही अनकंफर्टेबल किस्म के होते है, इन्हें किसी भी जगह पर घुलने मिलने में समय लगता है।


3. कंधे के बल सोना - ये लोग किसी पर भी आसानी से भरोसा कर लेते है, और इनमे सामजिक होने के भी गुण होते है।


4. हाथो को एक ही दिशा में खुला कर सोना - जो लोग ऐसे सोते है वो खुले दिल के होते है, अपने अंदर आसानी से बदलाव ला सकते है। एक बार जो ठान ले वो कर के ही मानते है।


5. हाथो को ऊपर कर सोना - इन लोगो को दिखावा पसन्द नहीं होता, फिर वो कोई भी करे। अगर कोई मदद मांगे तो ये लोग हमेशा तैयार रहते है।


6. सोल्जर स्लीप - मतलब बिलकुल सावधान की मुद्रा में सोने वाले लोग बहुत ही शांत भाव के होते है, ये लोग किसी को भी अपने नजदीक नहीं आने देते।


बहुत कारगर है गरम पानी का सेवन


दूध को बार-बार उबालने से होता है ये नुकसान


थ्रेडिंग करवाने के कुछ खास स्टेप्स 



: चरम सुख की प्राप्ति के लिए इस समय करे सेक्सचरम सुख की प्राप्ति के लिए इस समय करे सेक्स






कई बार आप सेक्स के दौरान चरम सुख तक नहीं पहुच पाते होंगे. इसके कई कारण हो सकते है. जिसमे से एक सेक्स के लिए सही समय का चुनाव ना करना भी हो सकता है. आज हम आपको चरम सुख की प्राप्ति के लिए सेक्स करने का सही समय बताने जा रहे है. जिसकी मदद से आप अपनी पत्नी या गिर्ल्फ्रेंड के लिए 'मिस्टर पर्फेक्ट पार्टनर' बन सकते है.


हाल ही में ब्रिटैन में एक सर्वे किया गया. जिसमे करीब 2000 लोगो को शामिल किया गया था. जहाँ इन लोगो पर सेक्स से जुड़े कुछ अध्ययन किये गए है. जहाँ अधिकतर लोगो ने वीकेंड पर सेक्स सम्बन्ध बनाने को ज्यादा पसंद किया. इसके अलावा आधे से ज्यादा लोगो ने कहा की वह अपने साथी के साथ सप्ताह में एक बार सम्बन्ध बनाना पसंद करेंगे.


सर्वे में शामिल 2000 लोगो में से 65 फीसदी ने रात 10 से 11 बजे के बीच के समय को सेक्स सम्बन्ध के लिए सबसे सही माना. वही 6 फीसदी लोगों ने सुबह 7 से 8 बजे के समय को सेक्स के लिए सही माना.


ये फूड्स दिलाएंगे आपको शीघ्रपतन की समस्या से निजात


बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं में बढ़ती है सेक्स की इच्छा


जवान बने रहना है तो सेक्स है जरूरी 



पुरुषो के लिंग से जुडी 7 रोचक बातेंपुरुषो के लिंग से जुडी 7 रोचक बातें






आज हम आपको पुरुषो के लिंग से जुडी कुछ रोचक बातें बताने जा रहे है.


- आम स्थिति में पुरुषो के लिंग का साइज 3.5 इंच से 3.9 होता है. वही उत्तेजना होने पर इसकी लंबाई 5.5 इंच से 5.9 इंच तक पहुच जाती है.


- दुनिया में अफ़्रीकी लोगों के लिंग सबसे बड़े और मोटे होते है. इसके बाद यूरोपियन लोगों का नाम आता है. वही एशियाई लोग इस मामले में सबसे पीछे है.


- एक महिला का ओर्गाज़्म 23 सेकंड्स तक चलता है वही पुरुषो में ओर्गाज़्म का समय केवल 6 सेकंड लंबा होता है.


- ऑस्ट्रेलिया के Walibri आदिवासी लोग एक दुसरे के लिंग को हिला कर हेल्लो करते है.


- दुनिया भर में ऐसे 100 लोग है जो दो लिंग के साथ जन्मे है.


- इस धरती पर ब्लू व्हेल का लिंग सबसे बड़ा माना जाता है. जिसकी औसत लंबाई 8 फ़ीट तक होती है.


- लंबे लिंग के मुकाबले चोट लिंग तना हुआ होने पर ज़्यादा लम्बा हो जाता है. - मेरिकी निवासी जोना फाल्कन का लिंग दुनिया में सबसे बड़ा है. जिसकी लंबाई 9 इंच और उत्तेजित अवस्था मे 13.5 इंच है.


पुरुष अक्सर मास्टरबैशन के दौरान करते है यह अहम गलतियां


इन तरीकों से पाएं हस्तमैथुन की लत से छुटकारा 



: सेहत के लिए खतरनाक है 'ओवर द काउंटर' एंटीबायोटिक्ससेहत के लिए खतरनाक है 'ओवर द काउंटर' एंटीबायोटिक्स






हम में से बहुत से लोग तब तक डॉक्टर के पास नहीं जाते जब तक कि हमें कोई बड़ी हेल्थ प्रॉब्लम न हो. बुखार,जुखाम और छोटी-मोटी बीमारियों के लिए तो हम किसी भी मेडिसिन स्टोर पर जाकर दावा खरीद लेते हैं. एक दवा ऐसी है जिसका उपयोग अमूमन हर घर में धड़ल्ले से होता है और वो है एंटीबायोटिक। ऐसी दवा को हम बिना कुछ सोचे समझे, बगैर इसके साइड इफेक्ट्स जाने इसका सेवन करते है जो एक तरह से अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ करने के बराबर है। हमारा आपसे यही कहना है कि बिमारी चाहे छोटी हो या बड़ी, खुद के डॉक्टर बनने से नुक्सान ही होता है.


एक्सपर्ट्स का कहना है कि 30-40 वर्षों से कोई नई एंटिबायोटिक दवा नहीं आई। पुरानी एंटिबायोटिक दवाओं के बेतहाशा और गैरजरूरी इस्तेमाल के चलते प्रतिरोधकता उत्पन्न हो रही है। साथ ही जल और मिट्टी प्रदूषण भी बढ़ रहा है। इसलिए एंटिबायोटिक के गैर जरूरी इस्तेमाल पर रोक नहीं लगी तो सेहत के लिए खतरनाक साबित होगा। ऐसी दवाओं के इस्तेमाल पर कोई रोकटोक नहीं है।


कोई भी इंसान बिना प्रिस्क्रिप्शन के भी किसी भी मेडिसिन स्टोर से दवाएं खरीद लेता है। यह फैक्ट हैं कि एंटिबायोटिक मेडिसिन बनने की सबसे ज्यादा कम्पनीज भी इंडिया में ही है। उन कंपनियों से निकला केमिकल और दवा का मॉलिक्यूल पानी और मिट्टी को प्रदूषित कर रहा है। जो सब्जियों और खाने पीने की चीजों में मिलकर शरीर में पहुंच रहा है। यही हाल रहा तो बीमारियों में उन दवाओं का असर नहीं होगा।


इन तरीकों से पाएं हस्तमैथुन की लत से छुटकारा


सोने के इन तरीको से जाहिर होता है आपका व्यक्तित्व 



: काफी घातक है हाई कोलेस्ट्रॉलकाफी घातक है हाई कोलेस्ट्रॉल






कोलेस्ट्रॉल का नाम सुनते ही घबराहट होना लाजमी है। कोलेस्ट्रॉल बुरा ही नहीं अच्छा भी होता है। कोलेस्ट्रॉल एक फैट है जो सीमित मात्रा में जिन्दगी और सेहत के लिए जरूरी है। कोलेस्ट्रॉल मुलायम चिपचिपा पदार्थ होता है जो रक्त शिराओं व कोशिकाओं में पाया जाता है। शरीर में कोलेस्ट्रॉल की उपस्थिति एक सामान्य बात है। यह शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। डायबटीज और किडनी के रोगों से पीड़ित लोगों के लिए उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल बहुत घातक सिद्ध हो सकता है। हमें बस अपने कोलेस्ट्रॉल को सही लेवल पर रखना है और उसके लिए हेल्थी लाइफस्टाइल और डाइट कण्ट्रोल काफी जरूरी है.


शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नार्मल बनाये रखने में हमारा भोजन बहुत अहम भूमिका निभाता है। इसके लिए सबसे जरूरी है डाइट में चर्बी बढ़ाने वाली चीजों को कम करना जैसे मक्खन, घी आदि का सेवन कम करें। इसकी जगह ऑलिव और सनफ्लॉवर ऑइल का प्रयोग करें। मछली और सी फ़ूड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है। रेशेदार और स्टार्चयुक्त फ़ूड प्रोडक्ट्स का सेवन करें। फलों और सब्जियों का अधिक सेवन करें। आलू, अनाज, दालें आदि अधिक खाएं।


एंटी आक्सीडेंट फ़ूड प्रोडक्ट्स का सेवन अधिक करें जैसे विटामिन सी, विटामिन के, जिंक, सेलेनियम युक्त पदार्थ। मछली का तेल भी बुरे कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में बहुत सहायक होता है। फोलिक एसिड के कैप्सूल भी लाभदायक होते हैं। इसके अलावा कुछ फल जैसे स्ट्राबेरी, लाल अंगूर, माल्टा, नींबू, ब्लूबेरीज, एवोकीडो, खूबानी, सेब, कीवी, अनार आदि खाने से कोलेस्ट्रॉल पर नियंत्रण के साथ इसका स्तर भी कम होता है। अगर भोजन में अनाज व ओट मील का सेवन किया जाए तो स्वास्थ्य पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है। डेली एक्सरसाइज़ करने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा में बढ़ोतरी नहीं होती। इसके अलावा, योगासन भी काफी फायदे पहुंचाता है।


चरम सुख की प्राप्ति के लिए इस समय करे सेक्स


ये फूड्स दिलाएंगे आपको शीघ्रपतन की समस्या से निजात 



पहले कभी नहीं सुनी होगी सेक्स से जुडी ये बातेंपहले कभी नहीं सुनी होगी सेक्स से जुडी ये बातें






सेक्स हर किसी के जीवन का एक अहम् हिस्सा होता है. आज हम आपको सेक्स से जुडी कुछ रोचक बातें बताने जा रहे है, जो अपने पहले कभी नहीं सुनी होगी.


- महिलाए मासिक धर्म के दौरान या उससे ठीक पहले बेहतर चरम सुख की अनुभूति करती है. इसका मुख्या कारण पेल्विक एरिया में होने वाला रक्त संचार है.


- गर्भावस्था को लेकर ऐसी मान्यता है की इस दौरान महिलाओ की सेक्स इच्छा में भारी कमी आती है. लेकिन ऐसा नहीं है. गर्भावस्था के समय या तो महिलाओ की सेक्स इच्छा बढ़ जाती है. यह फिर स्थिर रहती है.


- पुरुषो को महिलाए लाल रंग के कपड़ो में सबसे ज्यादा आकर्षित लगती है.


- सेक्स के मामले में महिलाए पुरुषो की तुलना में काफी ज्यादा कल्पनाशील होती है. इससे उन्हें संतुष्टि के साथ ही संबंधों को मधुर बनाने में भी मदद मिलती है.


- हर सप्ताह दो से तीन बार सेक्स करने से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है.


- पुरुष हर सात सेकंड में सेक्स के बारे में सोचते है.


- एक अध्ययन के अनुसार युवाओ की बैडरूम की बाद सेक्स करने की सबसे पसंदीदा जगह कार है.


- बर्थ कंट्रोल पिल्स इस्तेमाल करने वाली महिलाओ की सेक्स उत्तेजना में भारी कमी देखी जाती है.


सेक्स के दौरान इन 5 गलतियों की वजह से...


पुरुषो के लिंग से जुडी 7 रोचक बातें 



अपने सेक्स संबंधों को सक्सेसफुल बनाने के लिए इस्तेमाल करे ये 5 टिप्सअपने सेक्स संबंधों को सक्सेसफुल बनाने के लिए इस्तेमाल करे ये 5 टिप्स






आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहे है. जिनकी मदद से आप सक्सेसफुल SEX लाइफ हासिल कर सकते है. जिससे आपको कई फायदे होंगे.


- सेक्स लाइफ को सक्सेसफुल बनाने के लिए आपको अपने पार्टनर की सहजता का पूरा ध्यान रखना होगा. इसके अलावा सेक्स के दौरान अपने साथी के साथ ज्यादा आक्रामक ना होकर प्यार से पेश आये.


- एक आइडल सेक्स के लिए सबसे ज़रूरी है TALK सम्बन्ध बनाने से पहले अपने साथी से बात करे. उनकी इच्छो और क्षमताओ के बारे में जाने. अपनी इच्छाओ को साथी पर थोपने से बचे.


- अपने साथी की मदद से अपने सेक्स संबंधों में विविधता लाये. इससे आपके संबंधों में रोमांच बढ़ेगा और दोनों साथी को बेहतर सुख की प्राप्ति होगी.


- इस बात का अवश्य ध्यान रखे की सेक्स सम्बन्ध दो लोगो के बीच बनाए जाते है. ऐसे में अपने साथी की सुख प्राप्ति के बारे में सोचे. और उन्हें अपने साथ पूरी तरफ सजग होने का मौका दे.


- बेहतर सेक्स सम्बन्ध बनाने के लिए अपने शरीर की साफ सफाई का भी ख़ास ख्याल रखे. सम्बन्ध बनाने से पहले कुछ भी इस ना खाये जिससे आपके मुह से दुर्गन्ध आने लगे.


बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं में बढ़ती है सेक्स की इच्छा


पहले कभी नहीं सुनी होगी सेक्स से जुडी ये बातें 









बेबीकोर्न करता है त्वचा की देखभाल 



खतरनाक हो सकते है ब्यूटी प्रोडक्टखतरनाक हो सकते है ब्यूटी प्रोडक्ट






आमतौर पर भारत में गोरा होना ही सुंदरता का प्रमाण माना जाता है. कई बार तो समाज में सांवले रंग वालों को तिरस्कार भी झेलना पड़ता है. इन्हीं चीजों का विज्ञापन दिखाकर कॉस्मेटिक कंपनियां लोगों को क्रीम लगाने की सलाह देती है, और गोरा होने का दावा करती हैं. विशेषज्ञों का मानना है कि गोरा करने का दावा करने वाली क्रीम का लगातार इस्तेमाल आपको हमेशा के लिए परेशानी में डाल सकती है.


1-विशेषज्ञों की मानें तो ज्यादातर क्रीमों में स्टेरॉयड होते हैं जो लंबे समय तक इस्तेमाल करने से त्वचा को स्थायी रूप से नुकसान पहुंचा सकते हैं. वैज्ञानिकों की मानें तो ग्लूटेथियोन को इंटरनेट पर गोरेपन के एंजेट के रूप में प्रचारित किया जाता है, लेकिन सच यह है कि यह हमारे शरीर में एक मजबूत एंटीऑक्सीडेंट है जो उम्र बढ़ने या बीमारी के कारण समाप्त हो जाती है.


2-तमाम ब्यूटी एक्सपर्ट भी यह मानते हैं कि त्वचा का रंग हल्का करने वाली क्रीम केवल एक निश्चित सीमा तक मेलानीन को हल्का कर सकती है. यह त्वचा को बिल्कुल गोरा नहीं कर सकती है. उनका मानना है कि गोरेपन के बजाय सुंदर त्वचा की प्रशंसा करनी चाहिए. कोई भी महिला या पुरूष उचित सफाई, टोनिंग, तेल लगाने, मॉश्चरॉइजिंग त्वचा में नमी बनाए रखकर साफ-सुथरी चमकदार त्वचा के जरिए सुंदर दिख सकता है. 


करे अपने घुंघराले बालो की देखभाल 



क्या आपके बच्चे को भी है अंगूठा चूसने की आदतक्या आपके बच्चे को भी है अंगूठा चूसने की आदत






3 से 6 महीने की उम्र के बच्चों में अक्सर अंगूठा चूसने की आदत की शुरुआत देखी गई है. पर कई बच्चों के साथ ये आदत उम्र बढ़ने के बाद भी बनी रहती है. हम आपको इससे निजात पाने का तरीका बता रहे हैं.


1-अंगूठे पर कड़वी या बेस्वाद चीज लगा दी जाए. यदि बच्चा जिस दिन या रात में खुद अंगूठा न चूसे तो उसे उत्साहित करे. बच्चे को मानसिक रूप से तैयार करें. इसमें बच्चे को स्नेह, अनुराग व मानसिक सुरक्षा की जरूरत होती है. बच्चे को लाड़ में और प्रेम से चुनौती देते हुए इस आदत को छोड़ने को कहें. उंगली पर पट्टी बाँधकर या इन अंगूठा चूसने से रोकने की चीज़ों का प्रयोग कर, आप अपने बच्चों की इस आदत को छुड़वाने में सफल हो सकते हैं.


2-बच्चों को अंगूठा चूसने के क्या क्या परिणाम हो सकते है इस बारे में जरूर बताएं. उन्हें समझायें कि ये आदत उन्हें बीमार कर सकती है. जिस उंगली को चूसा जा रहा है उसपर सूजन या संक्रमण होना, साँस में दिक्कत होना- ये सब अपने बच्चे को दिखायें.बड़े होकर टेढ़े या ऊँचे दाँतों पर तार लगवाने में कितना दर्द होता है, ये सब अपने बच्चे को बताएँ.


उसे ये भी बतायें की बड़े होकर भी यदि वह इस आदत को नही छोड़ता तो उसके स्कूल/ कॉलेज में वह सबकी हँसी का पार्थ बन सकता है जो उसी को ठेस पहुँचाएगा. ऐसा करने पर आपका बच्चा ये आदत छोड़ेगा. आप चाहे तो डॉक्टर की मदद भी ले सकते है. 


छिलको से निखारे अपनी स्किन 



: रक्तदान से पहले ध्यान रखे ये बातेरक्तदान से पहले ध्यान रखे ये बाते






रक्तदान सभी दानों में सर्वश्रेष्ठ है. यह एक मानव के जीवन को बचाता है, ऐसे में सभी को रक्तदान करना चाहिए. कोई भी स्वस्थ व्यक्ति हर 3 माह में रक्तदान कर सकता है. तो चलिये जानें रक्त से जुड़ी ऐसी ही कुछ जरूरी जानकारियां.


1-रक्तदान करने से 3 घंटे पहले पौष्टिक भोजन लें.


2-रक्त देने से पहले भर पेट नाश्ता/ भोजन किया हुआ हो. रक्तदान करने से पहले हल्का खाना खाएं. वर्ना उल्टी और घबराहट की शिकायत हो सकती है.


3-इस बात का ध्यान रखें कि आपका स्वास्थ्य अच्छा हो. एक गिलास पानी पीकर रक्तदान करें और उसके बाद कुछ तरल पदार्थ लें.


4-घबराहट होने पर आराम करें और एक कप चाय या कॉफी पिएं.


5-अगर कोई महिला रक्तदान करती है तो इस बात का ध्यान रखें कि आपको महावारी ना हो रही हो.


6-यदि 48 घंटे पहले आपने एल्कोहल लिया हो, तो आप रक्तदान करने के लिए योग्य नहीं होंगे. 


बॉडी बनाने का सही रास्ता 



रिश्ते भी डालते है सेहत पर असररिश्ते भी डालते है सेहत पर असर






हमारे जीवन में रिश्तों की काफी अहमियत होती है. रिश्ते हमारी जिंदगी को पूर्ण बनाते हैं. लेकिन, रिश्ते अगर ठीक न चल रहे हों तो उसका असर हमारी सेहत पर भी नजर आने लगता है. यहां रिश्ते हमें मजबूत बनाने की बजाए हमारी तबीयत को नुकसान पहुंचाने लगते हैं. कोई रिश्ता परफेक्ट नहीं होता, उनमें उतार-चढ़ाव आते रहते हैं. लेकिन, रिश्तों में अगर परेशानियां आने लगें तो इसका असर हमारे मानिसक और शारीरिक स्वास्थ्य पर पड़ने लगता है.


1-मजबूत रिश्ता किसी इनसान को बीमारियों से बचाने का काम करता है. जब इनसान किसी मजबूत रिश्तों में होता है तो वह सेहतमंद आदतें अपनाने के लिए प्रेरित होता है. इसका सकारात्मतक असर उसकी उम्र पर भी होता है. वहीं रिश्तों की परेशानियां व्यक्ति का मानसिक तनाव बढ़ा देती हैं. इसका प्रभाव आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर पड़ता है. इसलिए अगर आप किसी को डेट कर रहे हैं, किसी रिश्ते में जुड़ने जा रहे हैं या शादीशुदा हैं तो कुछ खास बातों का विशेष खयाल रखें.


2-उचित खान-पान ना होना, हमेशा तनावग्रस्त रहने के असर आपके ब्लड प्रेशर पर पड़ सकता है. इसके कारण हमारे शरीर से स्ट्रेस हार्मोंन निकलते हैं और हृदय गति बढ़ जाती है जिसकी वजह से बल्ड प्रेशर बढ़ सकता है


3-आलिंगन प्यार जताने का सबसे अच्छा तरीका माना जाता है. यह तनाव कम करने में मददगार है. शोध के मुताबिक जब आप अपने साथी को गले लगाते हैं, तो इससे रक्त में एक हार्मोन ऑक्सीटोसिन का स्राव होता है. इससे उच्च रक्तचाप में कमी आती है, तनाव और बेचैनी कम होती है और इससे आपकी स्मरण शक्ति भी बेहतर होती है.


जानिए, छोटे बीजो के बड़े काम 



: कटहल के बीज बनाते है बालो को मजबूतकटहल के बीज बनाते है बालो को मजबूत






अक्सर हम कटहल के बीज को बेकार समझकर फेंक देते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि कटहल के बीज से आपको कितने स्वास्थ्य लाभ मिल सकते हैं, आइए कटहल के बीजों के स्वास्थ्य लाभों के बारे में जानें.


1-अगर आप एनर्जी से भरपूर रहना चाहते हैं तो कटहल के बीज का सेवन करें. जीं हां कटहल के बीज में काफी अधिक मात्रा में स्टार्च पाया जाता है, जिसके कारण यह एनर्जी का बहुत अच्छा स्रोत है. एक कटोरी कटहल के बीज आपको दिनभर एनर्जी से भरपूर रखने में मदद करते हैं.


2-कटहल के बीज में विटामिन ए और सी पाया जाता है, विटामिन ए आंखों के लिये बहुत ही अच्छा माना जाता है और विटामिन ए और सी बालों को मजबूत बनाता है. साथ ही कटहल के बीज बालों को घना बनाने में मदद करते हैं. कटहल के बीज खाने से सिर में ब्लड सर्कुलेशन बढता है, जिससे बालों का घनापन बढ़ता है.


3-कटहल के बीज में बहुत सारा आयरन भी पाया जाता है और आयरन शरीर के लिए बहुत जरूरी होता है. इसको नियमित रूप से खाने से शरीर में खून की कमी नही होती. साथ ही यह शरीर में ब्लड़ शुगर के लेवल को कंट्रोल में रखता है.


4-कटहल के बीज में मैग्नीज और मैग्नीशियम जैसे मिनरल काफी मात्रा में होते हैं और यह दोनों ही मिनरल हड्डियों की मजबूती के लिए बहुत जरूरी हैं. मैग्नीशियम शरीर में कैल्शियम के अवशोषण में मदद करता है. वहीं मैग्नीज संयोजी ऊतकों के निर्माण और ब्लड क्लॉटिंग के कार्य को नियमित करने में मदद करता है. इसलिए हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कटहल के बीजों को सेवन करें. 


थ्रेडिंग करवाने के कुछ खास स्टेप्स 





कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.