Header Ads

सांसों की बदबू को रोकने के लिए अति सरल उपाय

सांसों की बदबू को रोकने के लिए अति सरल उपाय

एक अध्ययन के अनुसार जनसंख्या का 20% लोग सांसों की बदबू से पीड़ित है। यह साबित हो चुका है की मुँह की दुर्गन्ध से सामाजिक रिश्तों, इंटिमेट मुद्दे और नौकरी में सफ़लता कायम रखने में काफी कठिनाई होती है। सांसों की बदबू की समस्या तब उत्पन्न होती है जब सूड़ों की रेखा के नीचे बैक्टीरिया मौजूद होते है इसलिए दांतों की सफाई रख कर इस मुंह की समस्या को कम किया जा सकता है।



सांसों की बदबू को कम करने के लिए टूथब्रश, टूथपेस्ट थोड़ा पानी माउथवॉश और दंत चिकित्सक की मदद ले सकते है इसके अतरिक्त कैंडी और चीनी वाली वस्तुओं का प्रयोग से भी बचना चाहिए। आइयें जानते है और कौन कौन से वह बेहतरीन उपाय है जिनकी मदद से आप सांसों की बदबू को दूर कर सकते है।

  • सांसों की बदबू से पीड़ित व्यक्ति को एक दिन में कम से कम दो बार टूथब्रश प्रयोग करके अपने दांतों को साफ़ करना चाहिए। ऐसा करने से मुंह की दुर्गन्ध के साथ साथ भोजन से उत्पन्न बैक्टीरिया दूर भागते है।


  • हर बार जब भी आप अपने दांत पर ब्रश करते है तो जीभ की सफाई करना हरगिज ना भूले।


  • मसूड़ों की सफाई के साथ साथ दांतों के बीच की सफ़ाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए इसके अतरिक्त अगर आप नकली दांतों पर आश्रित है तो फिर भी उनको नियमित रूप से सफाई जरुर करें।


  • लहसुन, प्याज, गोभी, पनीर, मसालेदार भोजन, शराब और कैफीन से बचें इसके अतरिक्त खाद्य पदार्थों के सेवन के बाद कम चीनी वाले माउथफ्रेशनर को उपयोग में लाएं।


  • धूम्रपान और शराब से बचना ही बेहतर विकल्प है।


  • अगर आप अपना मुंह सुखा महसूस करते है तो चीनी कैंडी की जगह पानी का सेवन बढ़ाने का प्रयास करें।


  • सांसों की बदबू का कारण समझने के लिए दंत चिकित्सक की मदद ले क्योकि कई बार सांसों की बदबू मसूड़े में रोग,मुंह में कैंसर फेफड़े, लिवर और किडनी के स्वस्थ ना होने से भी उत्पन्न हो जाती है इसलिए इस रोग में दंत चिकित्सक की सलाह लेना अनिवार्य हो जाता है।


क्या आप जानतें है की हलिटोफोबिया की वजह से भी आपकी सांसों में बदबू उत्पन्न हो सकती है। इसलिए बेहतर होगा की दांतों के डॉक्टर से पहले सांसों की बदबू का कारण जरुर समझ लें क्योकि उसके बाद इसे दूर करने में काफी आसानी होती है

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.