Header Ads

शरीर में विटामिन्स की कमी होने पर कही रोग



शरीर में विटामिन्स की कमी होने पर कही रोग और बीमारियों का सामना करना पड़ता है। परंतु जो लोग पर्याप्त मात्रा में अपने आहार द्वारा विटामिन की प्राप्ति कर लेते है। उनमे विटामिन की कमी पूरी होने के कारण रोग कम दिखाई देते है।  जानकारी में विटामिन के नाम, प्रकार और कार्य को समझना जरुरी है।








सेहत कनेक्शन में आज बात विटामिन की। डॉक्टरों के मुताबिक कई बीमारियों की वजह विटामिनों की कमी ही होती है, ये हर वर्ग के लोगों को प्रभावित करती है,

 जानिए कौन सी विटामिन की कमी से कौन सा रोग होता है और कैसे उसे दूर भगाया जा सकता है। विटामिन भोजन के वे अवयव हैं, जिनकी सभी जीवों को थोड़ी मात्रा में आवश्यकता होती है।

 ये कार्बनिक यौगिक होते हैं। उस यौगिक को विटामिन कहा जाता है जो शरीर द्वारा पर्याप्त मात्रा में स्वयं उत्पन्न नहीं किया जा सकता बल्कि खाने के रूप में लेना आवश्यक हो।

 विटामिन ए, बी, सी, डी, ई, बी-कॉम्प्लेक्स आदि तत्वों की आवश्यकता होती है। शरीर में कौन से विटामिन की कमी से कौन सा रोग हो सकता है और इसके बचाव के लिए खान पान में क्या शामिल करना चाहिए, 





वैसे तो केवल एक पोस्ट में विटामिन के बारे में सब बताना मुश्किल है। लेकिन फिर भी हमने यहाँ हो सके उतनी अच्छी जानकारी देने का प्रयास किया है। इसी विषय के सम्बंधित ज्यादा माहिती पाने के लिए 

विटामिन का हिंदी मीनिंग या फुल फॉर्म एक लेटिन शब्द से बना हुआ है। Vita यानी Life जिसे हिंदी में जीवन कहते है। और Amine यानी Essential जिसे आवश्यक कहा जाता है। इन्ही दो शब्दों को जोड़ कर एक पूरा Vitamin नाम बनता है।


इसका Vitamin In Hindi में पूरा अर्थ क्या बनता है, तो कुछ इस प्रकार कह सकते है। ऐसे कार्बनिक पदार्थ जो रोग मुक्त जीवन के लिए आवशयक होते है उन्हें विटामिन कहते है।

सन 1881 में लुनिन ने बताया की, अपने प्रतिदिन के भोजन में विटामिन मिल सके ऐसे पदार्थ आहार विधि में होने चाहिए। 1912 में विशेषज्ञ फुंक द्वारा सर्वप्रथम विटामिन शब्द का प्रयोग किया गया था।

सौप्रथम 1912 में हॉपकिंस ने विटामिन तत्त्व की खोज की थी। 1912 में हॉपकिंस ने ये भी बताया की प्रत्येक रोग आहार में किसी विशेष विटामिन की कमी से होता है।

अच्छी सेहत कैसे बनाये
विटामिन का नाम, प्रकार और कार्य

अभी तक जिव विज्ञानिओ द्वारा कुल 13 प्रकार के विटामिनो की खोज की गयी है। इन सभी विटामिनो को दो प्रमुख भागो में बांटा गया है।
जल में घुलनशील विटामिन (Water Soluble)
वसा में घुलनशील विटामिन (Fat Soluble)

किसी भी आहार से शरीर को जल में घुलनशील होने वाला विटामिन मिलता है। तो शरीर जरुरी मात्रा को रख लेता है और बाकी बची अधिकता को मूत्र द्वारा बहार निकाल देता है। यह शरीर में किसी भी स्थान पर जमा नहीं होते, इसलिए प्रतिदिन भोजन से इनकी कमी पूरी की जा सकती है।

इससे विपरीत वसा में घुलनशील विटामिनो का मूत्र के साथ उत्सर्जन नहीं होता और वसा ऊतकों में इनका कुछ संचय होता रहता है। जिसके कारण इन्हे प्रतिदिन भोजन से ग्रहण करना आवश्यक नहीं होता।

Vitamins In Hindi में दोनों मुख्य प्रकार के आधार पर कुल 13 विटामिन्स है, जिनके संपूर्ण नाम और कार्य निचे अनुसार है।
(1) विटामिन ए
खोज - 1909 में
रासायनिक नाम - रेटिनॉल
कार्य - विटामिन ए आँखों के रोग, त्वचा रोग और संक्रमण से बचाने में लाभकारी है।
खाद्य पदार्थ - गाजर, चुकंदर, हरी सब्जिया, टमाटर
(2) विटामिन बी 1
खोज - 1912 में
रासायनिक नाम - थियामिन
कार्य - रक्त परिसंचरण, दिमागी विकास और हृदय रोग के लिए विटामिन बी 1 अच्छा है।
खाद्य पदार्थ - शतावरी, आलू, सूरजमुखी बीज, फूलगोभी
(3) विटामिन बी 2
खोज - 1920 में
रासायनिक नाम - राइबोफ्लेविन
कार्य - बी 2 त्वचा विकार, एनिमिअ और रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ाने का कार्य करता है।
खाद्य पदार्थ - मांस, अंडे, मछली, पनीर, दूध, दही
(4) विटामिन बी 3
खोज - 1936
रासायनिक नाम - नियासिन
कार्य - शरीर में कमजोरी, हृदय रोग, डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल सम्बंधित समस्याओ में विटामिन बी 3 काम करता है।
खाद्य पदार्थ - मछली, दूध, अंडे, मशरूम, गाजर
(5) विटामिन बी 5
खोज - 1931
रासायनिक नाम - पेंटोथीनिक एसिड
कार्य - विटामिन बी 5 तनाव, संक्रमण, बाल, त्वचा सम्बंधित रोगो में मददगार है।
खाद्य पदार्थ - एवोकाडो, ब्रोकोली,मांस, मछली
(6) विटामिन बी 6
खोज - 1934
रासायनिक नाम - पैरोडोक्सामिन
कार्य - बवासीर, डायबिटीज, थकान या खून की बीमारी में विटामिन बी 6 लाभकारी है।
खाद्य पदार्थ - केला, ड्राई फ्रूट्स, सब्जिया
(7) विटामिन बी 7
खोज - 1931
रासायनिक नाम - बायोटिन
कार्य - बालो का झड़ना कम करना, मजबूती बढ़ाना और घनापन बढ़ाने के लिए बायोटिन जरुरी है।
खाद्य पदार्थ - अंडे की जर्दी, सब्जिया
(8) विटामिन बी 9
खोज - 1941
रासायनिक नाम - फोलिक एसिड
कार्य - विटामिन बी 9 लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मददगार है। जो एनिमिआ, गले का रोग, त्वचा रोग से दूर रखने में सहायक है।
खाद्य पदार्थ - पत्तेदार सब्जिया, सूरजमुखी बीज
(9) विटामिन बी 12
खोज - 1926
रासायनिक नाम - साइनोकोबलमीन
कार्य - विटामिन बी 12 लिवर रोग, धूम्रपान, एनिमिआ, अलसर के बुरे लक्षणों को कम करने का काम करता है।
खाद्य पदार्थ - चिकन, फिश, अंडे, दूध बनावट
(10) विटामिन सी
खोज - 1912
रासायनिक नाम - एस्कोर्बिक एसिड
कार्य - स्कर्वी, आँखों के रोग, डायबिटीज, सर्दी जुखाम, हृदय रोग, कैंसर, बवासीर, सूजन से लड़ने में विटामिन सी सहायक है। इस विटामिन द्वारा त्वचा और पुरे शरीर को कही फायदे मिलते है।
खाद्य पदार्थ - संतरा, निम्बू, अनार, शकरकंद, मूली
(11) विटामिन डी
खोज - 1918
रासायनिक नाम - एर्गोकलसिफ़ेरोल
कार्य - दांत और हड्डियों की कमजोरी दूर करने के लिए विटामिन डी जरुरी है।
खाद्य पदार्थ - दूध की बनावट, मूंगफली
(12) विटामिन इ
खोज - 1922
रासायनिक नाम - टोकोफेरोल्स
कार्य - ज्यादातर लोग त्वचा के निखार और बालो की खूबसूरती के लिए विटामिन इ को कार्य में लेते है।
खाद्य पदार्थ - कीवी, बादाम, एवोकाडो, दूध, हरी सब्जिया
(13) विटामिन के
खोज - 1929
रासायनिक नाम - फाइलोक्विनोन
कार्य - आंतरिक रक्तस्त्राव और मासिक धर्म सम्बंधित समस्याओ के लिए विटामिन के जरुरी है।
खाद्य पदार्थ - पत्तेदार सब्जिया, एवोकाडो, छिलकेदार अनाज
All Vitamin Chart In Hindi

ऊपर हमने Vitamins In Hindi को पूरी जानकारी देकर समझाने का प्रयास किया है। परंतु यदि आप केवल एक Vitamin Chart की इमेज द्वारा सारी बात शॉर्ट में समझना चाहते है, तो निचे दी गयी इमेज देख लीजिये।




यहाँ पर सारे विटामिन के नाम, उनके रासायनिक नाम और किस रोग में उपयोगी है उसकी माहिती प्रदर्शित की गयी है।

बच्चो के लिए विटामिन डी की खुराक

आशा करता हु सरल भाषा में पूरी जानकारी देने में सफल रहा हु। मिलते है अपनी नेक्स्ट पोस्ट में तब तक टेक केयर।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.