Header Ads

वेंटिलेटर क्या है, कोरोना वायरस के मरीजों के लिए क्यों है जरूरी?


वेंटिलेटर क्या है, कोरोना वायरस के मरीजों के लिए क्यों है जरूरी? जानें इससे जुड़े हर सवाल का जवाब

कोरोना वायरस के अलावा, आजकल ज्यादातर वेंटिलेटर की चर्चा सुनाई देती हैं, जिसके बारे में सायद लोगों ने पहले कभी नहीं सुना होगा। आखिर यह वेंटिलेटर है क्या? और कोरोना वायरस संक्रमित लोगों के लिए यह कैसे और क्यों महत्वपूर्ण है आइए इन सभी सवालों का जवाब देते हैं आपको…

वेंटिलेटर (मैकेनिकल श्वास उपकरण) – उन रोगियों की जान बचाने की लड़ाई में महत्वपूर्ण हैं जिनके फेफड़े वायरस द्वारा हमला किये जाने पर सही से काम नहीं कर रहें हैं। एक महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरण जो कोरोना वायरस के रोगियों का प्रभावी ढंग से इलाज करने के लिए आवश्यक है, वह वेंटिलेटर है। यह एक चिकित्सा उपकरण है जो कृत्रिम श्वसन में मदद करता है जब रोगी के फेफड़े स्वाभाविक रूप से ऐसा करने में विफल होते हैं। ICMR ने एक रिपोर्ट में कहा है कि लगभग 5 प्रतिशत कोरोना वायरस संक्रमित रोगियों को गहन चिकित्सा देखभाल (Intensive care) की आवश्यकता हो सकती है और उनमें से आधे को यांत्रिक वेंटिलेशन की आवश्यकता हो सकती है।


विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, छह कोरोना वायरस (COVID-19) रोगियों में से एक गंभीर रूप से बीमार हो जाता है और उसे सांस लेने में कठिनाई पैदा हो सकती है। वेंटिलेटर एक ऐसी मशीन है जो उन मरीजों की मदद करती है जो अपने दम पर सांस नहीं ले सकते। इसके और भी कई नाम हैं जैसे – ब्रीदिंग मशीन या रेस्पिरेटर या मैकेनिकल वेंटिलेटर आदि। आइये जानतें हैं क्यों वेंटीलेटर कोरोना वायरस से लड़ाई लड़ने के लिए महत्वपूर्ण हैं-
वेंटिलेटर क्या है – Ventilator kya hai in hindi

बहुत ही सरल भाषा में समझे तो, यह एक ऐसी मशीन है जो उन रोगियों के जीवन को बचाती है जिन्हें सांस लेने में परेशानी होती है या वे खुद सांस लेने में असमर्थ होते हैं। यह रोगी को सांस लेने में मदद करता है। यदि बीमारी के कारण फेफड़े अपना काम करने में असमर्थ हैं, तो वेंटिलेटर सांस लेने की प्रक्रिया को संभालते हैं। इस बीच, डॉक्टर उपचार के माध्यम से फेफड़ों को फिर से काम करने लायक बनाने की कोशिश करते हैं।
वेंटिलेटर कितने प्रकार के होते हैं? – Types of Ventilator in hindi


वेंटिलेटर मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं। पहला मैकेनिकल वेंटिलेशन और दूसरा नॉन-इनवेसिव वेंटिलेशन।

मैकेनिकल वेंटिलेटर की ट्यूब मरीज के विंडपाइप (साँस लेने की नली) से जुड़ी होती है, जो फेफड़ों तक ऑक्सीजन पहुंचाती है। वेंटिलेटर मरीज के शरीर से कार्बन डाइऑक्साइड बाहर निकालता है और अंदर ऑक्सीजन भेजता है। इसके लिए, मुंह, नाक या गले में एक छोटे से कट के माध्यम से एक ट्यूब को साँस की नली में डाला जाता है। आमतौर पर, श्वास नली को रोगी के नाक या मुंह के माध्यम से साँस की नली या श्वसन नली में डाला जाता है।

दूसरे प्रकार का वेंटिलेटर विंडपाइप (सांस नली) से जुड़ा नहीं होता है, बल्कि इसमें इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए मुंह और नाक को ढकने वाले मास्क का उपयोग किया जाता है।

जानिए कोरोना वायरस कैसे शरीर पर हमला करता है? क्यों कुछ लोगों की इस से मौत हो रही है?
वेंटिलेटर कैसे काम करता है? – Ventilator kaise kaam karta hai in hindi

सबसे गंभीर मामलों में, कोरोना वायरस फेफड़ों में स्वस्थ ऊतक को नुकसान पहुंचाता है, जिससे रक्त में ऑक्सीजन पहुंचाना फेफड़ों लिए कठिन हो जाता है।


इसमें गंभीर स्थति में निमोनिया विकसित हो सकता है, साथ ही तीव्र श्वसन संकट सिंड्रोम नामक अधिक गंभीर और संभावित घातक स्थिति के साथ, अन्य अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है।

इसे रोकने के लिए, मैकेनिकल वेंटिलेटर गले के नीचे डाली गई ट्यूब के माध्यम से गंभीर श्वसन समस्याओं वाले रोगियों के फेफड़ों में ऑक्सीजन पहुचता है।

वेंटिलेटर में एक ह्यूमिडिफायर भी होता है, जो रोगी के शरीर के तापमान से मेल खाने के लिए हवा में गर्मी और नमी जोड़ता है।
कोरोना रोगियों के लिए वेंटिलेटर की आवश्यकता क्यों है? – Why does corona patients need a ventilator in Hindi?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, कोविड -19 से संक्रमित 80% रोगी अस्पताल के बिना ही ठीक हो जाते हैं, लेकिन छह में से एक रोगी गंभीर रूप से बीमार हो जाता है और यूज़ सांस लेने में कठिनाई होती है। ऐसे मरीजों में वायरस फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है। फेफड़ों में सूजन होती है, जिससे सांस लेना बहुत मुश्किल हो जाता है। शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा कम होने लगती है। इसलिए वेंटिलेटर की आवश्यकता होती है। इसके जरिए मरीज के शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा सामान्य की जाती है।
वेंटिलेटर की कीमत कितनी है? – Ventilator price in india in hindi

वेंटिलेटर की संख्या में कमी का एक कारण इसकी कीमत है। वेंटिलेटर पर बहुत खर्च होता है। एक वेंटिलेटर की कीमत 5 से 10 लाख हो सकती है। हालांकि, महिंद्रा एंड महिंद्रा ने हाल ही में दावा किया है कि कंपनी 7,500 रुपये में वेंटिलेटर का निर्माण करेगी।

क्या देश में वेंटिलेटर की कमी है? – Does the country have a shortage of ventilators in Hindi?

वेंटिलेटर की संख्या देश की वर्तमान आवश्यकताओं के अनुसार पर्याप्त है, लेकिन सरकार आगे की तैयारी कर रही है। वास्तव में, अमेरिका जैसे संसाधन संपन्न देश में वेंटिलेटर के उत्पादन की आवश्यकता है। कोरोना संक्रमणों की संख्या के मामले में अमेरिका आगे निकल गया है। कोरोना से प्रभावित सभी देश वेंटिलेटर के उत्पादन में लगे हुए हैं। जैसे-जैसे मरीजों की संख्या बढ़ती है और वेंटिलेटर कम होते जाते हैं, बड़ी संख्या में लोग अपनी जान गंवा सकते हैं।

वेंटिलेटर एक महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरण है जो कोरोना वायरस के रोगियों के लिए आवश्यक है क्योंकि यह सीधे रोगी के फेफड़ों को प्रभावित करता है। इस लेख में आपने जाना वेंटिलेटर कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में इतना महत्वपूर्ण क्यों है, यह कैसे काम करता है और इसकी जरुरत कब पड़ती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.