Header Ads

थकान बढ़ने के 9 कारण और उन्हे दूर करने के उपाय।


थकान बढ़ने के 9 कारण और उन्हे दूर करने के उपाय।
थकान बढ़ने के 9 कारण और उन्हे दूर करने के उपाय।
अगर अपने आस पास देखें तो सामान्यतौर पर देखने को ये मिलेगा कि समाज में ज्यादातर महिलाएं चाहे वो घरेलू माहौल में रहने वाली हों या फिर ऑफिस वर्किंग हों सभी महिलाओं में थकान और सुस्ती की शिकायत आम लक्षण नजर आएगी। ऐसा अनुमान है कि समाज में 51 फीसदी से भी ज्यादा महिलाएं ऑफिस और घर के काम को करने में खुद को तनाव की वजह से असमर्थ पाती हैं।
ऑफिस के काम को निर्धारित समय सीमा में पूरा करने का दबाव अधिक होता है। ऐसे में काम को निर्धारित समय में पूरा करने के लिए बिना रूके परिश्रम करने की आवश्यकता होती है। लंबे समय तक इसी माहौल में काम करने से महिलाएं कई बीमारियों की चपेट में भी आने लगी हैं। देखा जा रहा हैं कि यहीं महिलाओं में मधुमेह और हाईपरटेशन की मुख्य वजह बन रहा है। लिहाजा ऐसे माहौल में महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति भी सजग रहना होगा और अपने बर्ताव में थोड़ा बदलाव कर कुछ चीजों को आत्मसात भी करना होगा। जानते हैं ऐसे ही कुछ उपाय जिनसें महिलाएं अपने को तनाव मुक्त रख सकती हैं।
ना कहना सीखें-
बेशक किसी काम के लिए ना कहना कठिन होता है पर अपनी क्षमता को देखते हुए ऐसा करने में संकोच नहीं करना चाहिए। नया टास्क लेने से पहले खुद से पूछें कि क्या आप नए टास्क के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। मेहनत करने और फिर से रिचार्ज होने के लिए बैटरी की जरूरत होती है। इसलिए काम को करने के लिए दवाओं का सेवन करना आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है।

थकान से राहत-
अगर आप खुद को बेहद तनावग्रस्त महसूस कर रहे हैं, तो यह बेहद सामान्य सी बात है कि आप खुद को थका हुआ और सुस्त महसूस करेंगे। अगर केवल आप किसी काम को केवल ना भर कह देते हैं तो ये मान कर लिजिए कि आपने अपनी थकान की आधी समस्या को तो केवल इसी से हल कर दिया। इसके अलावा फुरसत के पलों में थोड़ी सी कसरत या योग करना और खाली वक्त में दोस्तों और परिवार के बीच में थोडे़ से सुकून के पल भी आपको तनाव व थकान को दूर कर सकते हैं। साथ ही किसी भी काम को लगातार न करें।

शरीर में पानी की कमी-
डीहाईड्रेशन यानी शरीर में पानी की कमी का असर होने पर शरीर सुस्त पड़ जाता है और थकान महसूस होने लगती है। जिससे किसी काम में मन नहीं लगता है। इसके अलावा ज्यादा नमक वाला पदार्थ खाने से वो शरीर की नमी को तेजी से सोख लेता है, जिससे शरीर में पानी की कमी होने लगती है। ऐसे में अगर आपने चाय कॉफी ले ली तो आप इससे खतरनाक स्तर तक डीहाइड्रेशन पहुंच सकती हैं। डीहाइड्रेशन के समान्य और प्रमुख लक्षण जिनसे आप पता लगा सकते हैं कि आप इस बीमारी की चपेट में आ गए हैं। इसका सबसे प्रमुख लक्षण है एकाग्रता की कमी होना, मुंह व त्वचा का शुष्क होना एवं पीली पेशाब होना। ऐसा होने पर इस समस्या से बचने के लिए आप हर्बल टी, नारियल पानी, या फलों का जूस ले सकते हैं । यह डीहाइड्रेशन से उबरने का बेहतर विकल्प हो सकता है।

विटामिन B-12 और आयरन की कमी-
शरीर को चुस्त-दुरुस्त बनाए रखने में विटामिन B-12 और आयरन का बड़ा रोल होता है। लेकिन अगर किसी के शरीर में इन दो तत्वों की कमीं होती है, तो इनकी कमीं से शरीर में थकान और सुस्ती बनी रहती है। B-12 शरीर में ब्लड सेल्स को उसका काम करने में सहायता प्रदान करता है। इसकी कमी से शरीर बिल्कुल निर्जीव सा हो जाता है। बल्कि ये भी कह सकते हैं कि जागते हुए भी शरीर सुप्तावस्था में रहता है। दूसरा तत्व है आयरन की कमी। इससे महिलाओं में स्वास्थ्य से जुड़ी अनेक तरह की परेशानियां खड़ी हो सकती है। अगर आप इस तरह की परेशानियों से खुद को ग्रस्त पाती हैं, तो आप अपने खून की जांच अवश्य कराएं और इनकी कमी को दूर करने के लिए अगल से सप्लीमेंट्स ले सकती हैं।

पेशाब जनित समस्यां
ज्यादा देर तक पेशाब को रोककर रखना, जलन या पेशाब से जुड़ी कोई समस्या भी सुस्ती और थकान का बड़ा कारण हो सकती है। इसके लिए यूरिनरी इंफेक्शन का इलाज कराना जरूरी होता है। डॉक्टर की सलाह से एंटीबायोटिक ले सकते हैं, जिससे सेहत पर बुरा असर ना पड़े और सेहत दुरुस्त रह सकें।

कसरत या व्यायाम
सामान्य से ज्यादा व्यायाम करना या बिल्कुल व्यायाम नहीं करना ये दोनो थकान के कारण हो सकते हैं। अगर आप कसरत नहीं करते हैं, तो आपका शरीर तनाव को बर्दाश्त करने में सक्षम नहीं होता है और अगर आप अपनी क्षमता से ज्यादा कसरत करती हैं तो भी आप थकान महसूस कर करने लगेंगी।

एक साथ कई कामों से बचें
मल्टी टास्किंग की हर समय प्रोडक्टिविटी से तुलना नहीं की जा सकती है, एक अध्ययन से पता चला है कि ज्यादा मल्टी टास्किंग से दिमाग के वो अवयव प्रभावित होते हैं, जो एकाग्रता से काम को करने में सहायक होते हैं। जानकरों का मानना है कि लगातार मल्टी टास्किंग वर्क करने से दिमाग का वो भाग प्रभावित होता है, जो हार्मोन को तैयार करके दिमाग को सक्रिय करता है। इससे भी शरीर में सुस्ती और थकान महसूस होती है। ऐसे में तनाव को दूर करने का आसान और कारगर तरीका होता है या तो आप बागवानी करें या फिर संगीत सुन कर मन को हल्का करें। जिससे तनाव से मुक्ती मिलेगी और आप थकान भी महसूस नहीं करेंगी।

देर रात तक चिट-चैट से बचें
सोशल नेटवर्किंग साइट पर एक्टिव होना हमारी दिनचर्या में शामिल हो गया है या कहें कि सोशल नेटवर्किंग साइट हमारे जीवन का अभिन्न अंग हो गया है। लंबे समय तक मोबाइल या लैपटॉप की स्क्रीन पर नजर बनाए रखने से भी तनाव बढ़ता है और ये भी थकान की एक बड़ी वजह बन सकती है। लिहाजा ऐसे में रात में सोने से पहले ही अपने मोबाइल या लैपटॉप बंद करें और शान्ति से लेट जाएं, ये उपाय तनाव और थकान को दूर करने का आसान तरीका हो सकता है।
पर्याप्त नींद लें –
एक सामान्य महिला को दिन में कम से कम 7 से 8 घंटे नींद लेना अनिवार्य होता है। अगर किसी कारणवश पूरी नींद नहीं ले पाए हैं, तो उसकी भरपाई के लिए छोटी सी कसरत करें, वो फायदेमंद साबित हो सकती है। इसके लिए पहले तो पीठ के बल लेट कर शरीर को ढ़ीला छोड़ दें और पैरों को सीधा आराम दायक स्थिति में फैला लें। हाथों को कोहनी से मोड़ कर पेट के ऊपर रखें और कोहनी पलंग पर हों। इसके बाद दो नरम तकियों से दोनों तरफ से चेहरे को ढक लें और कम से कम 10 मिनट तक गहरी-गहरी सासें ले इससे आपको काफी राहत मिलेगी।


स्वास्थ्य परीक्षण भी कराएं

थकान और सुस्ती के लिए ऊपर बताए गए कारण तो सामान्य कारण हैं। लेकिन इसके अलावा सेहत से जुड़ी समस्यांओं के लिए चिकित्सकीय परामर्श लेना भी निहायत जरूरी है। अगर किसी को खून की कमी है या फिर थायरॉयड की समस्यां है या फिर किसी और तरह की परेशानी है, तो डॉक्टर से सलाह लेना या फिर मेडिकल परीक्षण बेहद ही अनिवार्य हो जाता है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.