Header Ads

गर्भावस्था के दौरान हीमोग्लोबिन


गर्भावस्था के दौरान हीमोग्लोबिन के स्तर को कैसे बढ़ाएं?
https://yoga16140.blogspot.com/
https://yoga16140.blogspot.com/

In this Article
गर्भावस्था में हीमोग्लोबिन को बढ़ाने के सर्वोत्तम तरीके
हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए अपनाए ये भोजन
सप्लीमेंट आहार भी लें
लाल रक्त कोशिकाओं की जांच करें
व्यायाम करें
स्टेरॉयड इलाज का चुनाव करें
आयरन अवरोधकों से बचें
गर्भावस्था के दौरान हीमोग्लोबिन की सामान्य सीमा कितनी होनी चाहिए?


हीमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं में पाया जाने वाला एक प्रोटीन है, जो शरीर के सभी हिस्सों में ऑक्सीजन ले जाने के लिए जिम्मेदार होता है। गर्भावस्था के दौरान, महिलाओं में हीमोग्लोबिन का स्तर उचित मात्रा में होना चाहिए ताकि पूरी गर्भावस्था में ऑक्सीजन की अच्छी सप्लाई होती रहे। खून की ऑक्सीजन ले जाने की क्षमता, हीमोग्लोबिन के स्तर के सीधे संबंधित है।

यदि आप गर्भवती हैं, तो आपके दिल को विकसित हो रहे भ्रूण को पर्याप्त पोषण प्रदान करने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी। गर्भावस्था के दौरान, आपके शरीर में खून की मात्रा 30%-50% बढ़ जाती है। हमें यकीन है कि आप अपनी अतिरिक्त रक्त आवश्यकताओं को पूरा करने और गर्भावस्था के दौरान अपने हीमोग्लोबिन के स्तर को स्थिर रखने के लिए स्वस्थ पोषित भोजन कर रही होंगी। लेकिन गर्भावस्था के आखिरी चरणों में खून की कमी हो सकती हैं और परिणामस्वरूप एनीमिया हो सकता है। गर्भावस्था में आप अपने हीमोग्लोबिन के स्तर को कैसे बढ़ा सकती हैं यह जानने के लिए पढ़ें।

गर्भावस्था में हीमोग्लोबिन को बढ़ाने के सर्वोत्तम तरीके

यदि गर्भावस्था के दौरान आपके हीमोग्लोबिन का स्तर कम रहता है, तो आपका डॉक्टर इसे बढ़ाने के लिए कुछ दवाएं और इंजेक्शन लिख सकते हैं। लेकिन अगर आपका हीमोग्लोबिन थोड़ा ही कम है, तो खाने में कुछ परिवर्तन करके और व्यायाम करके आप अपने हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ा सकते हैं। यहाँ जानें, आप गर्भावस्था के दौरान अपने हीमोग्लोबिन के स्तर में सुधार करने के लिए क्या कर सकते हैं।
हीमोग्लोबिन बढ़ाने के लिए अपनाए ये भोजन

गर्भावस्था में स्वस्थ आहार का सेवन करें और अपने आहार में विटामिन बी, विटामिन सी, आयरन, फोलिक एसिड, आदि से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करें। यहाँ उन खाद्य पदार्थों की सूची दी गई है, जिन्हें आपको गर्भावस्था के दौरान अपने हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने के लिए खाना चाहिए।

1. हरी-पत्तेदार सब्जियां

हरी सब्जियां, विशेष रूप से पत्तेदार साग आयरन से भरपूर होते हैं, इन्हे अपने गर्भावस्था के आहार में अवश्य शामिल करें यदि आपका हीमोग्लोबिन स्तर कम है। आयरन हीमोग्लोबिन के उत्पादन में मदद करता है, जो लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है। कुछ आयरन युक्त खाद्य पदार्थ और जड़ी-बूटियाँ जो आप गर्भवती होने पर खाती हैं, उनमें पालक, केल, ब्रोकली, धनिया पत्ता, पुदीना और मेथी शामिल हैं। हरी पत्तेदार सब्जियां गर्भावस्था के लिए जरूरी विटामिन और पोषक तत्वों लेकर आती हैं। इसलिए उन्हें अपने दैनिक आहार में जरूर शामिल करें।
2. ड्राई फ्रूट्स और नट्स

खजूर और अंजीर में आयरन की अधिक मात्रा होने के कारण आपके हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। कुछ अन्य ड्राई फ्रूट्स और नट्स जिन्हें आप हर दिन खा सकते हैं, वे हैं अखरोट, किशमिश और बादाम क्योंकि ये गर्भावस्था के दौरान आपके हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने में भी मदद कर सकते हैं।
3. दाल-दलहन

सभी दाल आयरन और प्रोटीन से भरी होती हैं। आप दाल सलाद या सूप के साथ खा सकती हैं। आप बेहतर परिणामों के लिए रोटी के साथ भी खा सकती हैं। मटर, दाल और बीन्स विटामिन, खनिज, फाइबर, आयरन और प्रोटीन से भरपूर होते हैं। इसलिए वे गर्भवती महिलाओं के लिए एक संतुलित आहार में शामिल होते हैं।

4. शतावरी

शतावरी (ऐस्परैगस) आयरन से समृद्ध होते हैं। यदि आप कुछ हल्का और पचने में आसान खाना चाहते हैं, तो आप एक कप गर्म शतावरी सूप ले सकते हैं। आप अधिक आयरन के लिए सूप में तिल के बीज भी शामिल कर सकते हैं।
5. ताजे फल

अनार और संतरे जैसे ताजे फल खाने से भी गर्भावस्था के समय हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ सकता है। अनार आयरन के मामले में बहुत समृद्ध होता है। संतरे विटामिन सी से भरपूर होते हैं जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने और हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने में मदद करते हैं। कीवी, आड़ू, अंगूर, अमरूद जैसे अन्य फल भी आयरन के उत्कृष्ट स्रोत होते हैं और गर्भावस्था में हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने के लिए मददगार हो सकते है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान इन फलों को खाने से पहले आपको अपने पोषण विशेषज्ञ या डॉक्टर से चर्चा करनी चाहिए।
6. फोलिक एसिड से भरपूर सब्जियां

फोलेट या फोलिक एसिड एक प्रकार का विटामिन ‘बी’ है और पानी में घुलनशील विटामिन है जो गर्भावस्था के दौरान न्यूरल ट्यूब दोष को रोकने में मदद करता है। यह विटामिन हीमोग्लोबिन के उत्पादन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अपनी फोलिक एसिड की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आप मकई, केला, शलजम, अंकुरित अनाज, एवोकाडो, लेट्यूस, भिंडी आदि खा सकती हैं, क्योंकि वे फोलिक एसिड से समृद्ध होते हैं।

7. स्‍मूदी
सेब, चुकंदर, और गाजर से बना स्मूदी पिएं। इस स्मूदी को पीने से गर्भावस्था के दौरान आपका हीमोग्लोबिन स्तर बढ़ सकता है।


8. बीज

आप कुछ आयरन से भरपूर बीज खा सकती हैं जैसे, कद्दू के बीज, बादाम और सूरजमुखी के बीज। इन्हें खाने से गर्भावस्था के दौरान आपके हीमोग्लोबिन के स्तर में सुधार करने में मदद मिल सकती है।
सप्लीमेंट आहार भी लें

पूरक आहार लेने से गर्भावस्था के दौरान हीमोग्लोबिन के स्तर में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

फोलिक एसिड और विटामिन बी12 की कमी से हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो सकता है। यदि आपमें फोलिक एसिड की कमी या विटामिन बी12 की कमी है, तो आप अपने डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही पूरक आहार ले सकते हैं।
यदि आपके शरीर में आयरन की कमी है, तो आपको आयरन की खुराक लेने की सलाह दी जा सकती है।
आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करना बेहद जरुरी है लेकिन आपको उन खाद्य पदार्थों का भी सेवन करना चाहिए जो आयरन के अवशोषण में मदद करते हैं। यदि आप विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ नहीं खाते हैं जो आयरन को अवशोषित करने में मदद करते हैं, तो आपको विटामिन सी की खुराक भी लेनी होगी। विटामिन सी की खुराक आयरन को अवशोषित करने के लिए आपके शरीर की क्षमता में सुधार कर सकती है। यदि आपको विटामिन सी की खुराक की आवश्यकता है, तो अपने से डॉक्टर से बात करें।
लाल रक्त कोशिकाओं की जांच करें

लाल रक्त कोशिकाओं की उत्तेजना के लिए, आपका डॉक्टर निम्नलिखित सुझाव दे सकते हैं।
यदि आपको कोई पुरानी बीमारी है, तो मुमकिन है कि इसकी ही वजह से हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो सकता है। आपको आयरन की गोलियां लेने के लिए बताई जा सकती हैं और विटामिन आपके हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ा सकते हैं।
अगर कुछ भी काम न करे, तो डॉक्टर आपको गर्भावस्था के दौरान हीमोग्लोबिन इंजेक्शन दे सकते हैं। सिंथेटिक एरिथ्रोपोइटिन इंजेक्शन लाल कोशिकाओं के उत्पादन में सहायता करता है।
व्यायाम करें

गर्भावस्था के दौरान स्वाभाविक रूप से अपने हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने के लिए सबसे सरल तरीकों में से एक है ‘व्यायाम’। जब आप व्यायाम करते हैं, तो ऑक्सीजन की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए आपका शरीर अधिक हीमोग्लोबिन का उत्पादन करता है। आप अपने डॉक्टर से राय लेने के बाद आसान वाले योगासन के साथ शुरुआत कर सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान उच्च तीव्रता वाले वर्कआउट से बचें क्योंकि ये हानिकारक हो सकते हैं। आप प्राणायाम भी आजमा सकते हैं, जैसे शीतली प्राणायाम, नाड़ी शोधन प्राणायाम या कपाल भाति, जो आपके हीमोग्लोबिन के स्तर में सुधार करने के लिए जाना जाता है।
स्टेरॉयड इलाज का चुनाव करें

स्टेरॉयड इलाज आपका अंतिम उपाय होना चाहिए। स्टेरॉयड इलाज एक महिला को तब बताया जाता है जब उसकी प्रतिरक्षा प्रणाली हीमोग्लोबिन के निम्न स्तर पर होती है। इस मामले में, स्वस्थ आरबीसी प्रतिरक्षा कोशिकाओं द्वारा नष्ट हो जाते हैं। इससे निपटने के लिए, एक महिला को प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने वाली दवा दी जाएगी। इस चिकित्सा स्थिति को हेमोलिटिक एनीमिया के रूप में जाना जाता है।

ये गर्भावस्था के दौरान हीमोग्लोबिन के स्तर में सुधार करने के कुछ तरीके हैं। हालांकि, आपको अपने हीमोग्लोबिन के स्तर को गिरने से रोकना चाहिए।
आयरन अवरोधकों से बचें

यदि आपका हीमोग्लोबिन स्तर कम है, तो ऐसे खाद्य पदार्थ और पेय से बचें जो आपके शरीर की आयरन को अवशोषित करने की क्षमता को अवरुद्ध करते हैं। गर्भावस्था के दौरान चाय, कॉफी, सॉफ्ट ड्रिंक, बीयर और वाइन पीना छोड़ दें।
गर्भावस्था के दौरान हीमोग्लोबिन की सामान्य सीमा कितनी होनी चाहिए?

हीमोग्लोबिन की गणना ग्राम प्रति डेसीलिटर (g/dl) में मापी जाती है। गर्भावस्था की पहली तिमाही में एक महिला का हीमोग्लोबिन का स्तर 11.6 g/dL और 13.9 g/dL के बीच होना चाहिए। दूसरी तिमाही में, हीमोग्लोबिन का स्तर 9.7 g/dL और 14.8 g/dL के बीच होता है। और गर्भावस्था के अंतिम तिमाही में 9.5 g/dL और 15 g/dL के बीच हीमोग्लोबिन की गिनती आदर्श मानी जाती है।

हीमोग्लोबिन पूरे शरीर में ऑक्सीजन की आवाजाही के लिए जिम्मेदार होता है। हीमोग्लोबिन का कम स्तर कमजोरी और एनीमिया का कारण बन सकता है। इसलिए, गर्भावस्था के दौरान हीमोग्लोबिन के उचित स्तर को बनाए रखना माँ और शिशु के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। अपने डॉक्टर से परामर्श करने के बाद अपने हीमोग्लोबिन के स्तर में वृद्धि करने के लिए इन तरीकों को आजमाएं।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.