Header Ads

गर्म पानी से नहाना चाहिए या ठंडे पानी से? जानें


गर्म पानी से नहाना चाहिए या ठंडे पानी से? जानें आपके स्वास्थ्य के लिए कौन सा सबसे अच्छा है!


 क्या आप हमेशा कन्फ्यूज्ड रहते हैं कि गर्म पानी से स्नान करें या ठंडे पानी के स्नान का विकल्प चुनें? आप कैसे तय करते हैं कि किसे चुनना है? खैर, चूंकि विकल्प आपके ऊपर निर्भर करता है, किसी भी निष्कर्ष पर आने से पहले, आपको चल रहे मौसम, आपकी उम्र, आदतों, पुरानी प्रथाओं, बीमारी आदि जैसे कारकों पर विचार करने की आवश्यकता है, गर्म पानी या ठंडे पानी से नहाना दोनों के अपने फायदे हैं। गरम पानी से नहाना चाहिए या ठंडे पानी से की अधिक जानकारी के लिए हमारा लेख पढ़ें।


1. हॉट वाटर वर्सेस कोल्‍ड बाथ – Hot Shower Vs. Cold Shower in Hindi
2. ठंडे पानी से नहाने के फायदे – Benefits of Cold Shower in Hindi
3. ठंडे पानी से नहाने के नुकसान – Disadvantages of Cold Shower in Hindi
4. गर्म पानी से नहाने के फायदे – Benefits of Hot Shower in Hindi
5. गर्म पानी से नहाने के नुकसान – Disadvantages of Hot Shower in Hindi
6. गर्म और ठंडे स्‍नान में से किसे चुनें – Choose Between A Hot And Cold Bath in Hindi
7. त्वचा विशेषज्ञों के अनुसार कैसे स्नान करें – How to Shower According to Dermatologists in Hindi
हॉट वाटर वर्सेस कोल्‍ड बाथ – Hot Shower Vs. Cold Shower in Hindi

हम में से अधिकांश लोग सुबह के समय उठने के बाद गर्म स्‍नान लेते हैं। लेकिन कुछ लोगों को ठंड़े पानी से नहाना पसंद होता है। ठंडे और गर्म पानी से नहाना दोनों ही बहुत लोकप्रिय हैं। लेकिन यह निश्चित करना मुश्किल है कि आपके लिए ठंडे पानी से नहाना फायदेमंद है या गर्म पानी से नहाना। क्‍योंकि हॉट बाथ और कोल्‍ड बाथ दोनों के ही फायदे होते हैं। आप जिस प्रकार का शावर लेते हैं उसका न केवल आपके पूरे दिन पर बल्कि आपके स्‍वास्‍थ्‍य पर भी बड़ा प्रभाव पड़ता है। आइए जाने ठंडे पानी से और गर्म पानी से नहाने के फायदे और नुकसान क्‍या हैं।


ठंडे पानी से नहाने के फायदे – Benefits of Cold Shower in Hindi


नियमित रूप से शारीरिक सफाई के लिए रोज नहाना आवश्‍यक है। लेकिन इस दौरान आपको अपने स्‍वास्‍थ्‍य के प्रति भी ध्‍यान देना चाहिए। जानकारों के अनुसार सुबह के समय ठंड़े पानी से नहाना अच्‍छा होता है। आइए जाने ठंडे पानी से नहाने के फायदे क्‍या हैं।
ठंडे पानी से नहाना आपको सतर्क और ऊर्जावान बनाए

सुबह के समय ठंडे पानी से नहाना विशेष रूप से आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मदद करता है। ठंडे पानी से स्‍नान करने पर आपकी सर्तकता बढ़ सकती है। जब आप अपने शरीर पर ठंडा पानी डालते हैं गहरी सांसें लेते हैं जो शरीर में आक्‍सीजन के प्रवाह को बढ़ाता है। जिससे आपका शरीर ऊर्जावान और जागृत रहता है। आप अपने दिन की शुरुआत ठंडे पानी के स्‍नान से कर सकते हैं। जो अपको पूरे दिन थकान का अनुभवन नहीं होने देगा और आपकी दिमागी सतर्कता को बढ़ाने में सहायक होता है।
त्‍वचा और बालों के लिए ठंडे पानी से नहाने के लाभ

ठंडे पानी से नहाना आपकी त्‍वचा और बालों को भी फायदा पहुंचा सकता है। कोल्‍ड शॉवर्स लेने से यह आपके बालों को हाइड्रेट करने में मदद करता है। इसके अलावा सुबह के समय लिया गया ठंडा स्‍नान आपके क्‍यूटिकल्‍स और पोर्स (cuticles and pores) को टाइट करने में मदद करता है। शुष्‍क त्‍वचा वाले लोगों के लिए गर्म पानी से नहाना नुकसानदायक हो सकता है। क्‍योंकि गर्म पानी उनकी त्‍वचा की समस्‍याओं को बढ़ा सकता है। यही कारण है कि अधिकांश स्‍वास्‍थ्‍य सलाहकार शुष्‍क त्‍वचा वाले रोगियों को शरीर के तापमान को नियंत्रित करने की सलाह देते हैं।

वजन कम करने में ठंडे पानी से नहाने के फायदे

ठंडे पानी से नहाने के फायदे आपके वजन को घटाने में भी सहायक हो सकते हैं। जब आप ठंडे पानी से स्‍नान करते हैं तो यह आपका शरीर ब्राउन फैट (brown fat) को सक्रिय करता है। यह ब्राउन फैट शरीर में गर्मी पैदा करने वाला वसा है जो वास्‍तव में कैलोरी या फैट को जलाने में मदद करता है। ठंडे पानी से नहाने पर आप अपने शरीर में ब्राउन फैट को उत्‍तेजित कर सकते हैं जिससे शरीर में मौजूद अतिरिक्‍त फैट को कम करने में मदद मिल सकती है।

आप अपना वजन कम करने के लिए कूल थेरेपी का भी इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कूल थेरेपी भी वजन घटाने का सबसे अच्‍छा तरीका है। आप रोजाना 30 मिनिट के लिए अपनी पीठ और छाती पर आइस पैक लगाएं। नियमित रूप से कुछ दिनों तक ऐसा करने से आप आसानी से अपने वजन को कम कर सकते हैं।

ठंडे पानी से नहाने के लाभ डिप्रेशन कम करे

अवसाद या डिप्रेशन के लक्षणों को कम करने के लिए ठंडे पानी से नहाने के फायदे होते हैं। चिकित्‍सक अक्‍सर अवसाद के इलाज के रूप में ठंडे पानी से नहाने की सलाह देते हैं। ठंडा पानी मस्तिष्‍क में तंत्रिका अंत के लिए विद्युत आवेगों को भेजता है। जिससे यह एक अवसाद-रोधी (anti-depressive) प्रभाव पैदा करता है। ठंडे पानी से नहाना आपके मूड को बेहतर बनाने में भी अहम भूमिका निभाता है। वास्‍तव में अवसाद से पीड़ित लोगों के लिए डॉक्टर अक्सर एक दिन में 2 से 3 बार ठंडे पानी से नहाने की सलाह देते हैं।
ठंडे पानी से नहाना मांसपेशियों की क्षति रोके

यदि आप दैनिक आधार पर नियमित व्‍यायाम करते हैं तो निश्चित ही ठंडे पानी से नहाना आपके लिए लाभदायक हो सकता है। क्‍योंकि व्‍यायाम करने के दौरान होने वाली मांसपेशीय क्षति को रोकने और क्षतिग्रसत मांसपेशियों की मरम्मत करने में ठंडा स्‍नान आपकी मदद कर सकता है। ठंडा पानी सूजन और दर्द को रोकने में प्रभावी होता है जो अक्‍सर व्‍यायाम करने के बाद होती है। इस तरह से ठंडे पानी में स्नान करने के फायदे आपको शारीरिक रूप से स्‍वस्‍थ बनाए रखने में सहायक हो सकते हैं।

ठंडे पानी से नहाने के फायदे पुरुषों के लिए

शोधकार्ताओं ने अध्‍ययनों से यह निष्‍कर्ष निकाला है कि ठंडे पानी से नहाने के फायदे पुरुषों में टेस्‍टोस्‍टेरोन (testosterone) के स्‍तर को बढ़ा सकते हैं। टेस्‍टोस्‍टेरोन एक सेक्‍स हार्मोन है जो पुरुषों की यौन क्षमता और सेक्‍स टाइम को बढ़ाने के साथ ही प्रजनन समस्‍याओं को कम करने में मदद करता है।

ठंडे पानी से नहाने के नुकसान – Disadvantages of Cold Shower in Hindi


वैज्ञानिक तथ्‍य भी यह बताते हैं कि ठंडे पानी से नहाना स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा होता है। लेकिन क्‍या सभी लोगों के लिए ठंडे पानी से नहाने के फायदे होते हैं? नहीं। कुछ लोगों को ठंडे पानी से नहाने से परहेज करना चाहिए। क्‍योंकि ठंडा पानी उनके शरीर के अनुकूल नहीं होता है। यदि वे किसी कारण वश ठंडे पानी से नहा भी लेते हैं तो उन्‍हें इसके कुछ साइड इफैक्‍टस भी हो सकते हैं। आइए जाने ठंडे पानी से नहाने के संभावित नुकसान क्‍या हैं।
सर्दियों में ठंडे पानी से नहाना हो सकता है मुश्किल

ठंडे पानी से नहाना शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा होता है। लेकिन सर्दियों में मौसम में ठंडे पानी में नहाने से बचना चाहिए। क्‍योंकि सभी मौसम में सभी लोगों के लिए ठंडे पानी से नहाना अच्‍छा नहीं होता है। विशेष रूप से अधिक उम्र वाले लोगों को सर्दी के मौसम ठंडे पानी से नहीं नहाना चाहिए। क्‍योंकि इस मौसम में ठंडे पानी से नहाने में सर्दी, जुकाम और अन्‍य प्रकार की समस्‍याएं हो सकती हैं।

बीमारी के दौरान ठंडे पानी से नहीं नहाना चाहिए

यदि आप किसी प्रकार की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍या से ग्रसित हैं। तब ऐसी स्थिति में आपको ठंडे पानी से नहीं नहाना चाहिए। कोई भी चिकित्‍सक ऐसी परिस्थितियों में ठंडे पानी से नहाने की सलाह नहीं देते हैं। बीमार होने के दौरान उपचार प्रक्रिया को तेज करने के लिए अक्‍सर गर्म पानी से नहाने का सुझाव दिया जाता है।

गर्म पानी से नहाने के फायदे – Benefits of Hot Shower in Hindi


कुछ लोगों को गर्म पानी में नहाना अच्‍छा लगता है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि गर्म पानी में नहाने के लाभ हेल्‍थ के लिए भी होते हैं। कुछ लोगों का शरीर ठंडे पानी के प्रति संवेदनशील होता है। जिसके कारण उन्‍हें ठंडे पानी से नहाने पर कुछ सामान्‍य या गंभीर समस्‍याएं हो सकती हैं। लेकिन ऐसे लोगों के लिए शारीरिक स्‍वच्‍छता बनाए रखने के लिए गर्म पानी का इस्‍तेमाल करना अच्‍छा होता है। आइए जाने गर्म पानी से नहाने के फायदे क्‍या-क्‍या हैं।
गर्म पानी से नहाने के फायदे सर्दी दूर करे
सर्दी और जुकाम जैसे लक्षणों को कम करने के लिए गर्म पानी से नहाने के फायदे होते हैं। सर्दी दूर करने के लिए गर्म भाप लेना एक प्राकृतिक घरेलू उपाय है जो बंद श्वसन मार्ग को खोलने में मदद करता है। लेकिन यदि आपको ऐसा करने पर भी आराम नहीं मिलता है तो आप गर्म पानी से स्‍नान ले सकते हैं। गर्म पानी से नहाना आपके शरीर के तापमान को नियंत्रित करने और आपको सर्दी के लक्षणों से बचाने में मदद कर सकता है।
गर्म पानी से नहाने के लाभ तनाव दूर करे

गर्म पानी से नहाना आपके मानसिक तनाव को कम कर सकता है। हॉट शावर्स लेने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह तनावग्रस्‍त माताओं के लिए एक अच्‍छा स्‍ट्रेस रिलीवर है। गर्म पानी से नहाने के दौरान हमारा शरीर ऑक्‍सीटोसिन के स्‍तर को बढ़ाता है जिससे तनाव और चिंता को कम करने में मदद मिल सकती है।
गरम पानी से नहाना दर्द को कम करे

सर्दियों के मौसम में गर्म पानी से नहाना मांसपेशियों की जकड़न और शरीर के दर्द को कम करने में फायदेमंद होता है। यदि आप भी दर्द और ऐंठन का अनुभव कर रहे हैं तो गर्म पानी के स्‍नान से लाभ ले सकते हैं। गर्म पानी से नहाने पर आपकी मांसपेशियों को आराम मिलता है जो किसी मालिश का अनुभव कराता है। आप भी यदि थके हुए या दर्द का अनुभव कर रहे हैं तो गर्म पानी से नहाना एक अच्‍छा घरेलू उपाय है। जो आपकी थकान और दर्द दोनों को कम कर सकता है।

गर्म पानी से नहाने के नुकसान – Disadvantages of Hot Shower in Hindi

जिस तरह से ठंडे पानी में नहाना कुछ लोगों के लिए नुकसानदायक होता है। ठीक उसी तरह से गर्म पानी से नहाने पर भी कुछ दुष्‍प्रभाव देखने मिल सकते हैं। आइए जाने गरम पानी से नहाने के संभावित दुष्‍प्रभाव या नुकसान क्‍या हो सकते हैं।

गरम पानी से नहाने के नुकसान त्‍वचा और बाल के लिए

हॉट शॉवर लेना स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा होता है। लेकिन अधिक गर्म पानी से नहाना आपके बालों और त्वचा के लिए हानिकारक हो सकता है। गर्म पानी से बहुत देर तक नहाने के दौरान भी आपके त्‍वचा और बाल शुष्‍क हो सकते हैं। जिससे आपको त्‍वचा और बालों संबंधी कई समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है।
हॉट बाथ स्किन ब्रेकआउट की संभावना बढ़ाये

गर्म पानी से नहाना आपकी त्‍वचा के छिद्रों को खोलते हैं। इसका मतलब यह है कि गर्म पानी से नहाने के दौरान यह संभावना बनी रहती है कि गंदगी और अन्‍य बैक्‍टीरिया आपकी त्वचा छिद्रों में जमा हो सकते हैं। ऐसा करने से आपकी त्वचा संवेदनशीलता अधिक बढ़ सकती है।

गर्म और ठंडे स्‍नान में से किसे चुनें – Choose Between A Hot And Cold Bath in Hindi


यदि कोई विशेष कारण न हो तो अक्‍सर लोगों को गर्म या ठंडे पानी में किस का चुनाव करनें यह मुश्किल हो सकता है। क्‍योंकि गर्म और ठंडे दोनों प्रकार के स्‍नान के अपने-अपने फायदे और नुकसान होते हैं। इन दोनों स्‍नानों में आपके लिए उपयुक्‍त स्‍नान चुनने के लिए कुछ सुझाव दिए जा रहे हैं। जो आपकी दुविधा को दूर करने में मदद कर सकता है।

आयु (Age)

यदि अपकी उम्र 40 वर्ष से अधिक है तो आपके लिए गुनगुने पानी से स्‍नान करना अच्‍छा हो सकता है। लेकिन 40 वर्ष से कम आयु वाले लोगों के लिए ठंडे पानी से स्‍नान करने की सलाह दी जाती है।
समय (Time)

यदि आप सुबह के समय स्‍नान करते हैं नहाने के लिए ठंडे पानी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। लेकिन यदि आप शाम के समय नहाते हैं तो अपके लिए गुनगुना पानी फायदेमंद हो सकता है।
स्‍वास्‍थ्‍य (Health)

यदि आप सर्दी, खांसी, या जोड़ों के दर्द जैसी बीमारियों से पीड़ित हैं तो गर्म पानी से नहाना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। लेकिन आयुर्वेद के अनुसार जिगर की बीमारी, अपच जैसी समस्‍याओं के दौरान ठंडे पानी से नहाना लाभकारी होता है। यदि आपको डर्मेटाइटिस या ब्रेकआउट की समस्‍या है तब भी आप ठंडे पानी से नहाने का विकल्‍प चुन सकते हैं।
आदतें (Habits)

यदि आप स्‍वस्‍थ जीवनशैली और नियमित व्‍यायाम करते हैं तो आपके लिए ठंडे पानी से नहाना सबसे अच्‍छा है। लेकिन यदि आप निष्क्रिय जीवनशैली का अनुसरण करते हैं तो आपको गर्म पानी का स्‍नान लेना चाहिए।

त्वचा विशेषज्ञों के अनुसार कैसे स्नान करें – How to Shower According to Dermatologists in Hindi


आप अपने स्‍वस्‍थ्‍य और आवश्‍यकताओं के अनुसार ठंडे या गर्म स्‍नान में से किसी एक को चुन सकते हैं। लेकिन आपको हॉट या कोल्‍ड बाथ लेने का सही तरीका भी पता होना चाहिए। क्‍योंकि नहाने संबंधी सभी स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त करने के लिए सही तरीके से स्‍नान करना आवश्‍यक है। कुछ त्‍वचा विशषज्ञों के अनुसार हॉट या कोल्‍ड बाथ लेने का सही तरीका इस प्रकार है।
ज्‍यादा समय तक स्‍नान न करें

आप गर्म पानी से नहाएं या ठंडे पानी से लेकिन त्वचा विशेषज्ञों का मानना है कि अधिक देर तक नहीं नहाना चाहिए। क्‍योंकि लंबे समय तक पानी के संपर्क में रहने से त्‍वचा और बाल शुष्‍क हो सकते हैं। यदि आपको त्‍वचा संबंधी किसी प्रकार की समस्‍या है तब भी आपको ज्यादा समय तक स्‍नान नहीं करना चाहिए। ऐसी स्थिति में नहाने का समय लगभग 5 मिनिट या इससे कम होना चाहिए।
अपने बालों को बार-बार न धोएं

यह बिल्‍कुल सही है कि बालों को बार-बार साबुन या शैंपू से नहीं धोना चाहिए। क्‍योंकि ऐसा करने से आपके बालों के प्राकृतिक रंग को नुकसान हो सकता है। नियमित रूप से नहाने के दौरान बालों को सप्‍ताह में 2 बार शैम्‍पू करना पर्याप्‍त है।
ऊपर से नीचे की ओर स्नान करें

ताकि साबुन आपके शरीर के नीचे अपना काम कर सके। बोनस टिप: यदि आप मुँहासे से ग्रस्त हैं, तो पहले अपने बालों को कंडीशन करें और फिर अपने चेहरे, छाती और पीठ को साफ़ करें।

नहाने के बाद शेव करें

यदि आप अपने शरीर के अन्‍य हिस्‍सों के बाल साफ करना चाहते हैं। ऐसी स्थिति में आपको इसे अपने शावर के अंत में करना चाहिए। जिससे कि आपके बाल नमीयुक्‍त और नरम हो जाएं। ऐसा करने से आपको अपने बाल साफ करने में आसानी होगी।
नहाने के बाद त्‍वचा को न रगड़े

अक्‍सर हम देखते हैं कि लोग नहाने के बाद अपने बालों और त्‍वचा को तौलिया से रगड़ते हैं। जबकि त्‍वचा विशेषज्ञों का मानना है कि त्‍वचा को ज्‍यादा नहीं रगड़ना चाहिए। बल्कि त्‍वचा को नरम कपड़े से पौंछकर सुखाना चाहिए। नहाने के बाद विशेष रूप से संवेदनशील क्षेत्र जैसे कमर, पैर की उंगलियां और अन्‍य हिस्‍सों को अच्‍छी तरह से सुखाना चाहिए।
मॉइस्‍चराइज लगाना न भूलें

त्‍वचा विशेषज्ञों का मानना है कि स्‍नान करने के कुछ मिनिटों के अंदर ही मॉइस्‍चराइजर का उपयोग कर लेना चाहिए। जिससे यह आपकी त्‍वचा और हवा के बीच एक अवरोध पैदा कर सके। ऐसा करने से आपकी त्‍वचा की प्राकृतिक नमी को बनाए रखने में मदद मिल सकती है।

आपको अपने शरीर की दैनिक सफाई और स्‍वच्‍छता बनाए रखने के लिए नियमित स्‍नान करने की आवश्‍यकता होती है। ऐसा करने से आपको थकान दूर करने में भी मदद मिल सकती है। आप अपने स्‍वास्‍थ्‍य और आवश्‍यकता के अनुसार ठंडे या गर्म स्‍नान का चुनाव कर इनके फायदे प्राप्त सकते हैं।



कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.