Header Ads

अंडरआर्म्स की बदबू को


अंडरआर्म्स की बदबू को दूर करने के लिए घरेलू नुस्खे –
https://www.healthsiswealth.com/

आप किसी पार्टी में या घूमने जाने के लिए घर से बाहर निकलो और आपसे पसीने की बदबू आ रही हो, तो आपके तैयार होने का कोई मतलब नहीं रह जाता। अंडरआर्म्स की दुर्गंध किसी का भी मूड खराब कर सकती है और बाद में आप लोगों के बीच चर्चा का विषय भी बन सकते हैं। हालांकि, कई लोग अंडरआर्म्स की बदबू दूर करने के लिए डिओडोरेंट का सहारा लेते हैं, लेकिन इसका असर भी ज्यादा देर नहीं रहता है। इसके अलावा, इसमें मौजूद केमिकल न सिर्फ कपड़ों को खराब करता है, बल्कि त्वचा पर भी बुरा असर डालता है। इसलिए जरूरी है कि आप इस समस्या का कोई प्राकृतिक उपाय करें। आज इस लेख में हम आपको अंडरआर्म्स की बदबू हटाने के असरदार घरेलू उपाय बता रहे हैं।
विषय सूची

अंडरआर्म्स की बदबू के कारण – Causes of Underarm Odor in Hindi
अंडरआर्म्स की बदबू हटाने के लिए 14 घरेलू उपाय – Home Remedies for Underarm Odor in Hindi
अंडरआर्म्स की बदबू भगाने के कुछ और टिप्स – Other Tips for Underarm Odor in Hindi

अंडरआर्म्स की बदबू के कारण – Causes of Underarm Odor in Hindi

इससे पहले कि आप उपायों के बारे में जानें, आपके लिए बगल की बदबू क्यों होती है, इसके कारण जानना जरूरी है। इसलिए, इस लेख में हम आपको अंडरआर्म्स के बदबू के कारण कारण बता रहे हैं। इन कारणों को जानने के बाद आप और अच्छे से इनके उपाय निकाल सकेंगे।

अंडरआर्म्स की बदबू या तन की दुर्गंध का लिंक एपोक्रिन ग्लैंड से होता है। ये ग्रंथियां अक्सर जननांग क्षेत्र, निपल्स, बगल, स्तन और कान में पाई जाती हैं। ये स्तनों में दूध के बहाव और कान में मैल बनाने के जिम्मेदार होती हैं। साथ ही जननांग क्षेत्र, निपल्स और अंडरआर्म्स पर पसीने भी इन्हीं के कारण आता है। कभी-कभी बैक्टीरिया के वजह से पसीने में बदबू भी होने लगती है।

आपने ध्यान दिया होगा कि कभी-कभी छोटे बच्चों को भी पसीना होता है, लेकिन उसमें बदबू नहीं होती है। हालांकि, कुछ बच्चों के पसीने में बदबू आती है, लेकिन इसके पीछे कोई दवा या चिकित्सा प्रक्रिया हो सकती है। नीचे हम बच्चों में पसीने के दुर्गंध के कुछ कारण बता रहे हैं।

प्रीकॉसियस प्यूबर्टी (Precocious puberty)
फिश ऑडर सिंड्रोम (Fish Odor Syndrome)
सिंथेटिक कपड़े
अधिक पसीने की ग्रंथियां
ऐसा खाना जिसे खाकर गंध आए, जैसे – प्याज
स्वास्थ्य संबंधी परेशानी जैसे – डायबिटीज, फेनोकीटोलीरिआ (phenylketonuria), हाइपरहायड्रोसिस (hyperhidrosis)

अब वजह चाहे कुछ भी हो, लेकिन कई बार यह शर्मिंदगी का कारण बन जाता है। ऐसे में जरूरी है कि इसका कोई उपाय निकाला जाए। इसलिए, नीचे हम कुछ आसान घरेलू उपाय आपको बता रहे हैं, जिससे आप अंडरआर्म्स की बदबू से छुटकारा पा सके।
अंडरआर्म्स की बदबू हटाने के लिए 14 घरेलू उपाय – Home Remedies for Underarm Odor in Hindi
1. सेब का सिरका
सेब का सिरका
रूई
उपयोग करने का तरीका

एक छोटी कटोरी में सेब का सिरका लें।
अब उसमें रूई डुबोकर अपने अंडरआर्म्स में लगाएं।

कितनी बार उपयोग करें ?


आप इसे हर रोज दो बार लगा सकते हैं। एक बार सुबह नहाने के बाद और रात को सोने से पहले।

कैसे फायदेमंद है ?

सेब का सिरका एसिडिक होता है और इसमें एंटी-माइक्रोबियल गुण भी होते हैं (1)। यह गंध पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करता है और इसके नियमित इस्तेमाल से अंडरआर्म्स में बैक्टीरिया नहीं जमते।
2. आयोडीन

सामग्री
कुछ बूंद आयोडीन के
मुलायम ब्रश

उपयोग करने का तरीका
नहाने से पहले आयोडीन की कुछ बूंदें अपने अंडरआर्म्स में लगा लें।
फिर एक मुलायम ब्रश से अपने अंडरआर्म्स को अच्छे से, लेकिन हल्के से स्क्रब करें।
तीन से चार मिनट तक स्क्रब को लगा रहने दें और फिर थोड़ी देर बाद नहा लें।

कितनी बार उपयोग करें ?

आप इस स्क्रब को हर रोज नहाने से पहले लगा सकते हैं

कैसे फायदेमंद है ?

आयोडीन में एंटीसेप्टिक गुण मौजूद होते हैं, जो अंडरआर्म्स के कीटाणु को मारते हैं और पीएच को रिस्टोर करते हैं (2)। यह घरेलू उपाय आपके अंडरआर्म्स की दुर्गंध को कम करेगा।
3. एसेंशियल ऑइल

लैवेंडर एसेंशियल ऑइल

सामग्री
लैवेंडर एसेंशियल ऑइल की चार से पांच बूंदें
एक गिलास पानी

उपयोग करने का तरीका
एक गिलास पानी में लैवेंडर एसेंशियल ऑइल की कुछ बूंदें डालें।
अब इस मिश्रण को एक स्प्रे बोतल में डाल लें और फिर इसे अपने अंडरआर्म्स पर स्प्रे करें।
आप चाहें तो कभी-कभी लैवेंडर एसेंशियल ऑइल को किसी कैरियर ऑइल के साथ मिलाकर भी उपयोग कर सकते हैं।

कितनी बार उपयोग करें ?

आप इसे हर रोज दो बार लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है ?

लैवेंडर ऑइल को कई प्रकार की त्वचा और स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण अंडरआर्म्स के बैक्टीरिया को खत्म कर सकते हैं। वहीं इसकी मनमोहक खुशबू बगल की बदबू को दूर करेगी (3), (4)।

टी ट्री ऑइल


सामग्री
टी ट्री ऑइल की दो बूंदें
दो बूंद पानी
रूई

उपयोग करने का तरीका
एक चम्मच पानी में दो बूंद टी ट्री ऑइल की मिलाएं।
अब एक रूई की मदद से इस मिश्रण को अपने दोनों अंडरआर्म्स पर लगाएं।
इसके अलावा, आप एक स्प्रे बोतल में पानी लें और इसमें कुछ बूंदें टी ट्री आयल की मिलाकर रख लें और उसे स्प्रे की तरह इस्तेमाल करें।

कितनी बार उपयोग करें ?

इसे हर रोज दो बार इतेमाल करें।

कैसे फायदेमंद है ?

टी ट्री ऑइल अंडरआर्म्स के दुर्गंध के लिए एक बहुत ही फायदेमंद घरेलू उपाय है। इसके एस्ट्रिंजेंट और एंटी-माइक्रोबियल गुण आपके अंडरआर्म्स के छिद्रों को कम करतें हैं और दुर्गंध पैदा करने वाले कीटाणुओं से लड़ते हैं 
4. विच हैजल

सामग्री
विच हैजल की कुछ बूंदें
रूई

उपयोग करने का तरीका
रूई में कुछ बूंदें विच हैजल की लेकर अपने अंडरआर्म्स पर लगाएं।
आप विच हैजल को पानी में मिलाकर भी लगा सकते हैं।

कितनी बार उपयोग करें ?

आप इसे हर रोज सुबह-शाम लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है ?

विच हैजल दुर्गंधनाशक की तरह काम करता है। यह आपकी त्वचा के पीएच को कम करता है और अंडरआर्म्स में दुर्गंध पैदा करने वाले कीटाणुओं को मारता है (7)।
5. बेकिंग सोडा

सामग्री
एक चम्मच बेकिंग सोडा
एक चम्मच नींबू का रस

उपयोग करने का तरीका
बेकिंग सोडा और नींबू के रस को बराबर मात्रा में मिलाएं।
नहाने जाने से पहले इस मिश्रण को अपने अंडरआर्म्स पर लगाकर दो से तीन मिनट के लिए रहने दें।
फिर नहा लें।

कितनी बार उपयोग करें ?

कुछ हफ्तों तक आप हर रोज नहाने से पहले लगाएं।

कैसे फायदेमंद है ?

बेकिंग सोडा आपके अंडरआर्म्स को ड्राय रखेगा और पसीना नहीं होने देगा। इसके अलावा यह दुर्गंध पैदा करने वाले कीटाणुओं को भी खत्म करेगा (8), (9)।
6. नींबू का रस

सामग्री
आधा नींबू

उपयोग करने का तरीका
आधा नींबू लेकर अपने अंडरआर्म्स पर लगाएं।
फिर थोड़े देर तक नींबू के रस को लगा रहने दें और जब नींबू का रस सूख जाए, तो पानी से धो लें।
अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है, तो आप नींबू के रस को पानी में मिलाकर रूई से लगा सकते हैं।

कितनी बार उपयोग करें ?

आप इसे हर रोज एक बार लगा सकते हैं, जब तक कि आपको कोई फायदा नजर न आए।

कैसे फायदेमंद है ?

नींबू बहुत एसिडिक होता है और इसमें कीटाणुनाशक गुण होते हैं। यह आपकी त्वचा के पीएच को कम करके दुर्गंध पैदा करने बैक्टीरिया को कम करेगा (10)।
7. हाइड्रोजन पेरोक्साइड

सामग्री
पानी में तीन प्रतिशत घुला हाइड्रोजन पेरोक्साइड एक चम्मच लें (बाजार में आसानी से उपलब्ध होता है)
एक कप पानी
रूई

उपयोग करने का तरीका
एक कप पानी में हाइड्रोजन पेरोक्साइड को मिक्स करें।
अब इस मिश्रण में रूई डुबोकर उससे अपने अंडरआर्म्स को साफ करें।

कितनी बार उपयोग करें ?

जब भी आपको अंडरआर्म्स में पसीना आए, आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है ?

हाइड्रोजन पेरोक्साइड में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। इसलिए, इसका उपयोग किया जाता है, ताकि इससे तन में दुर्गंध पैदा करने वाले कीटाणु खत्म हो सकें (11)।
8. नारियल तेल


सामग्री
नारियल तेल (आवश्यकतानुसार)

उपयोग करने का तरीका
अपनी अंगुलियों पर थोड़ा नारियल तेल लेकर अंडरआर्म्स पर लगाएं।
फिर इसे त्वचा में घुलने के लिए छोड़ दें।

कितनी बार उपयोग करें ?

आप इसे दिनभर में एक से दो बार लगाएं, खासकर नहाने के बाद।

कैसे फायदेमंद है ?

इसमें फैटी एसिड होता है, जो एंटी-माइक्रोबियल की तरह काम करता है। यह न सिर्फ दुर्गंध पैदा करने वाले कीटाणुओं को खत्म करता है, बल्कि त्वचा के पीएच को भी रिस्टोर करता है (12)।
9. लहसुन

सामग्री
लहसुन (आवश्यकतानुसार)

उपयोग करने का तरीका
हर दिन एक या दो लहसुन की कली खाएं।
अगर आपको इसका स्वाद पसंद नहीं, तो आप इसके छोटे-छोटे टुकड़े करके खाएं।
आप लहसुन को सप्लीमेंट्स की तरह अपने खाने में शामिल करें।

कितनी बार उपयोग करें ?

आप इसे हर रोज खाएं।

कैसे फायदेमंद है ?

आपको यह जानकर हैरानी हुई होगी की लहसुन तन की दुर्गंध को दूर कर सकता है (13)। ऐसा इसलिए हो सकता है, क्योंकि इसमें एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण मौजूद होते हैं।
10. एलोवेरा



सामग्री
एलोवेरा जेल (आवश्यकतानुसार)

उपयोग करने का तरीका
रात को थोड़ा सा एलोवेरा जेल अपनी अंगुलियों पर लेकर अपने अंडरआर्म्स पर लगाएं।
इसे रातभर के लिए रहने दें और अगली सुबह पानी से धो लें।
आप चाहें तो एक चौथाई कप एलोवेरा जेल पी भी सकते हैं।

कितनी बार उपयोग करें ?

हर रोज एक बार आप इसे लगाएं।

कैसे फायदेमंद है ?

एलोवेरा जेल में प्रचुर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद हैं (14)। यह गुण इसे तन की दुर्गंध मिटाने का एक बहुत अच्छा घरेलू उपाय बनाता है। इसके अलावा, एलोवेरा के सेवन से आपका शरीर डिटॉक्स होगा और तन से किसी प्रकार की दुर्गंध नहीं आएगी। इसे लगाने से तन की दुर्गंध पैदा करने वाले कीटाणु खत्म होते हैं (15)।
11. बोरिक एसिड

सामग्री
बोरिक एसिड (आवश्यकतानुसार)

उपयोग करने का तरीका
थोड़ा-सा बोरिक एसिड लेकर पाउडर की तरह लगाएं।

कितनी बार उपयोग करें ?

आप इसे एक या दो बार लगा सकते हैं, खासकर के नहाने के बाद लगाएं।

कैसे फायदेमंद है ?

बोरिक एसिड का एसिडिक और जीवाणुरोधी गुण त्वचा के पीएच को कम करता है। इसी कारण दुर्गंध पैदा करने वाले बैक्टीरिया पनप नहीं पाते (16)। यह अंडरआर्म्स की दुर्गंध को कम करने में मददगार साबित होता है (17)।
12. अरंडी का तेल

सामग्री
अरंडी का तेल

उपयोग करने का तरीका
रात को थोड़ा सा अरंडी का तेल लेकर अपने दोनों अंडरआर्म्स पर लगाएं।
इसे रातभर लगा रहने दें और अगली सुबह धो लें।

कितनी बार उपयोग करें ?

आप इसे हर रोज लगाएं।

कैसे फायदेमंद है ?

अरंडी का तेल अरंडी के पौधे से निकलता है और इसके कई फायदे हैं। सबसे आश्चर्यजनक बात यह है कि अंडरआर्म्स की दुर्गंध को दूर करता है। इसका श्रेय जाता है, इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुणों को, जो दुर्गंध पैदा करने वाले बैक्टीरिया को दूर करता है (18)।
13. सेंधा नमक


सामग्री
एक कप सेंधा नमक
नहाने का पानी

उपयोग करने का तरीका
नहाने के पानी में एक कप सेंधा नमक मिलाएं।
इस नमक को 15 से 20 मिनट के लिए पानी में घुलने दें।
अगर आपके पास टब है, तो उसमें पानी भरकर सेंधा नमक डालें और थोड़ी देर के लिए उस पानी में बैठें।
अगर टब न हो, तो बाल्टी में पानी भरकर उसमें सेंधा नमक डालें और उस पानी में तौलिया डुबोकर अपने शरीर को पोछें या उस पानी से नहाएं।

कितनी बार उपयोग करें ?

हर दूसरे दिन आप ऐसा कर सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है ?

सेंधा नमक के उपयोग से आपको पसीना आएगा, जिससे आपके शरीर के विषाक्त पदार्थ, जो शरीर में दुर्गंध का कारण बनते हैं, बाहर निकल जाएंगे। इसमें मौजूद सल्फर में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं, जो तन की दुर्गंध पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म कर सकते हैं (19), (20)।
14. आलू

सामग्री
एक आलू

उपयोग करने का तरीका
एक आलू लें और उसे पतले टुकड़ों में काट लें।
अब टुकड़े को अपने अंडरआर्म्स पर रगड़ें और उसे सूखने दें।
फिर उसके ऊपर डिओडोरेंट लगा लें।

कितनी बार उपयोग करें ?

आप ऐसा हर रोज एक या दो बार कर सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है ?

आलू आपके पसीन को कंट्रोल कर सकता है और अंडरआर्म्स के त्वचा के पीएच को संतुलित कर बैक्टीरिया को रोकता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि आलू थोड़े एसिडिक होते हैं और इनमें एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं, जो आपके अंडरआर्म्स की दुर्गंध को कम करने में मदद कर सकता हैं (22), (23), (24)।

नोट: अगर आपको यहां बताई गई किसी भी सामग्री से एलर्जी है, तो उसका उपयोग डॉक्टर की सलाह के बाद करें। इसके अलावा, अगर किसी नुस्खे को आजमाते वक्त आपको त्वचा में जलन, रैशेज या खुजली हो, तो उसे तुरंत धो लें। आप जो भी नुस्खा आजमाएं उसका पहले पैच टेस्ट जरूर करें। हो सकता है जो नुस्खा दूसरों को सूट करे, वो आपको न करे, क्योंकि हर किसी की त्वचा एक जैसी नहीं होती है।
अंडरआर्म्स की बदबू भगाने के कुछ और टिप्स – Other Tips for Underarm Odor in Hindi

इन घरेलू उपायों के अलावा आप अपनी डेली रूटीन में और जीवनशैली में कुछ बदलाव करके भी अंडरआर्म्स की बदबू से छुटकारा पा सकते हैं।
हर रोज नहाएं।
अच्छे एंटीबैक्टीरियल साबुन का उपयोग करें।
नहाने के बाद साफ तौलिये का इस्तेमाल करें।
डिओडोरेंट का उपयोग करें।
कपड़ों का चुनाव सोच समझकर करें। सिंथेटिक या पसीने पैदा करने वाले कपड़ों की जगह कॉटन के कपड़ें पहनें।
ऐसा खाना न खाएं, जिसमें गंध हो, जैसे – प्याज।
ज्यादा हरी सब्जियां, फलों और मांसाहार का सेवन करें।
खूब पानी पिएं।
अक्सर पूछे जानें वाले सवाल

अगर शरीर की गंध बदलती है, तो इसका क्या संकेत है?

अगर आपकी शरीर की गंध बदलती है, तो हो सकता है यह आपके स्वास्थ्य से जुड़ा कोई संकेत हो। अगर आपके शरीर से मीठी गंध आती है, तो यह आपके खून में कीटोन (ketones) बढ़ने के संकेत हो सकते हैं, जिसका नतीजा डायबिटीज है। वहीं, अगर आपके शरीर से ब्लीच जैसी गंध आए, तो यह लिवर या किडनी की बीमारी का संकेत हो सकता है।

क्या शरीर की दुर्गंध साथी की यौन इच्छा को बढ़ाती है?

हां, शरीर की गंध आपके साथी को आकर्षित कर सकती है, जिससे यौन इच्छा बढ़ती है।

शरीर के दुर्गन्ध को हटाने के लिए सबसे अच्छा है?

अंडरआर्म्स की बदबू हटाने के लिए आप अपनी त्वचा के हिसाब से कोई भी एंटी-बैक्टीरियल साबुन, जिसमें डिओडोरेंट के भी गुण हो, उसका चुनाव कर सकते हैं।

तन की दुर्गंध किन बीमारियों के कारण हो सकती है?

तन की दुर्गंध – डायबिटीज, थायराइड, किडनी व लिवर की समस्या या आनुवंशिक विकार जैसे – ट्राइमेथीलेमिनुरिया से हो सकती है।

क्या रूखी त्वचा से आपकी तन की दुर्गंध प्रभावित हो सकती है ?
रूखी त्वचा से शायद ही तन की दुर्गंध की समस्या हो। वास्तव में, जब आपकी त्वचा रूखी होती है, तब आपकी त्वचा में दुर्गंध पैदा करने वाले बैक्टीरिया का पनपना मुश्किल हो जाता है। इस कारण रूखी त्वचा वाले लोगों को तन की दुर्गंध न के बराबर होती है।a

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.