Header Ads

पेशाब रोकने से शरीर के अंदर होते हैं ये बदलाव,


पेशाब रोकने से शरीर के अंदर होते हैं ये बदलाव, 
जानकारी जरूरी हैपेशाब रोकने की आदत सबसे ज्यादा महिलाओं में देखी जाती है. पेशाब रोकने से यूरिन ट्रैक में इंफेक्शन के साथ किडनी की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है. अगर आप भी यूरिन रोक के रखते हैं तो इसके खतरे के बारे में जरूर जानें.


हमारे शरीर की हर एक्टिविटी सेहत पर सीधे असर डालती है, फिर चाहे वह आंतरिक गतिविधि हो या बाहरी। भूख, प्यास, युरिन, गैस पास होना या फिर प्रेशर बनना... हर एक का आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद महत्व है, इसलिए इन्हें रोकना स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है। आम तौर पर कई बार आप ऐसी परिस्थिति में फंसे होते हैं कि पेशाब आने के बाद भी जा नहीं पाते और उसे रोककर रखते हैं। अगर आप अक्सर ऐसा करते हैं, तो संभल जाइए। हम बताते हैं इसके नुकसान.....



ऐसा करने से यूरिनरी ब्लेडर, किडनी या पेशाब की नली में जलन और सूजन की समस्या हो सकती है। यह किडनी के लिए बेहद हानिकारक है।



शरीर की अशुद्धियों को यूरिन के माध्यम से बाहर निकाला जाता है। अगर सही समय पर यूरीन त्याग न हो तो शरीर में संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है, जो सबसे ज्यादा किडनी को प्रभावित करता है



इससे किडनी की कार्य प्रणाली में बाधा होती है और उसकी कार्यक्षमता प्रभावित होती है। यह किडनी में पथरी यानि किडनी स्टोन या किडनी संक्रमण का कारण बन सकता है।



देर तक यूरिन रोकने से यूरिनरी ट्रेक्ट इंफेक्शन या मूत्र मार्ग संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है, जो आपकी सेहत को प्रभावित करता है।
ऐसा करने से ब्लेडर में सूजन आने का खतरा बढ़ जाता है और डिस्चार्ज के दौरान तेज दर्द होने की समस्या हो सकती है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.