Header Ads

जानें क्या करें जब हो वैजाइनल इन्फैक्शन


जानें क्या करें जब हो वैजाइनल इन्फैक्शन
वैजाइनल इन्फैक्शंस कम तकलीफदेह भी हो सकते हैं और भयंकर चिंता का कारण भी बन सकते हैं. यह इन्फैक्शंस यूट्रस, सर्वाइकल और अन्य जननांगों के कैंसर का मुख्य कारण होते हैं.

अकसर लड़कियां खुजली या जलन को नौर्मल समझ कर इन्हें नजरअंदाज कर देती हैं जिस से इन्फैक्शन का खतरा बढ़ जाता है. सो, वैजाइनल इन्फैक्शंस के बारे में हर लड़की को पता होना चाहिए. लड़कियों में वैजाइनल इन्फैक्शन आम बात हो गई है. औसतन 70 फीसदी लड़कियों को उन के जीवन में एक न एक बार किसी तरह का वैजाइनल इन्फैक्शन जरूर होता है. वैजाइनल इन्फैक्शंस कम तकलीफदेह भी हो सकते हैं और भयंकर चिंता का कारण भी बन सकते हैं. यह इन्फैक्शंस यूट्रस, सर्वाइकल और अन्य जननांगों के कैंसर का मुख्य कारण होते हैं. यह शरीर का जितना नाजुक हिस्सा है उतनी ही सख्त इस की देखभाल होनी चाहिए. आइए, मूलचंद अस्पताल, दिल्ली की सीनियर गाइनोकोलौजिस्ट डा. मीता वर्मा से वैजाइनल इन्फैक्शंस के बारे में जानते हैं.

किसकिस तरह के वैजाइनल इन्फैक्शंस होते हैं और इन के होने के क्या कारण हैं?

वैजाइनल इन्फैक्शंस बैक्टीरियल हो सकते हैं, फंगल हो सकते हैं और मिक्स्ड हो सकते हैं. वैजाइना यानी योनि में कुछ गुड बैक्टीरियाज होते हैं जिन्हें फ्लोरास कहते हैं. ये हमारे लिए हैल्दी होते हैं और वैजाइनल एरिया को गीला या नम रखते हैं.

ये भी पढ़ें- मां बनने के लिए इनसे बचना है जरूरी

वैजाइनल एरिया गीला होना चाहिए. नौर्मल बैक्टीरिया इंटिमेट, हैल्दी या कहें फ्रैंडली बैक्टीरिया होते हैं, जो वैजाइना का पीएच मेंटेन करते हैं. इन बैक्टीरियाज में किसी भी तरह के डिस्टर्बैंस होने से वैजाइनल इन्फैक्शन हो जाता है. अगर वैजाइना का पीएच चेंज होता है तो बाहरी बैक्टीरियाज फ्रैंडली बैक्टीरियाज पर अटैक कर देते हैं.

पीएच के डिस्टर्ब होने पर वैजाइना में भिन्न लक्षण दिखने लगते हैं जिन से वैजाइनल इन्फैक्शंस का पता चलता है. कभी वैजाइना में इचिंग होती है, जलन होती है, बहुत अधिक वैजाइनल डिस्चार्ज होता है, ड्राईनैस और रैडनैस भी होने लगती है. फ्रैंडली बैक्टीरियाज के आपस में असंतुलन से भी यह हो सकता है.


ये इन्फैक्शंस सब से ज्यादा किस उम्र की लड़कियों को होते हैं?

वैसे तो वैजाइनल इन्फैक्शंस हर उम्र की लड़की या महिला को हो सकते हैं लेकिन जितनी यंग गर्ल्स हैं, टीनएज गर्ल्स और गर्भधारण करने वाली लड़कियां हैं, उन में ये इन्फैक्शंस ज्यादा होते हैं. ओल्डएज में मेनोपोज हो जाने के बाद वैजाइनल इन्फैक्शंस कम होते हैं. एल्डर्ली एज में ये तभी होते हैं जब महिला का इम्यून सिस्टम खराब हो. जैसे किसी को अगर चिकनगुनिया हो जाए, किसी को अगर शुगर है, वह डायबिटिक है तो उस का इम्यून सिस्टम इन्फैक्शंस से लड़ने में अक्षम हो जाता है.

वैजाइनल इन्फैक्शंस से नुकसान क्या हैं?
किसी लड़की को अगर वैजाइनल इन्फैक्शन है तो उस की वैजाइना और आसपास की त्वचा में जलन, खुजली, हैवी डिस्चार्ज और दर्द होगा. उसे हर समय डिसकम्फर्ट महसूस होगा. दूसरा, अगर यूट्रस यानी गर्भाशय के मुख (सर्विक्स) से इन्फैक्शन अंदर चला जाए तो यूट्रस में सूजन हो जाती है, नलें बंद होने का खतरा रहता है जिसे पैल्विक इन्फ्लेमैटरी डिजीज कहते हैं. यानी, पूरा रिप्रोडक्टिव सिस्टम इस से खराब हो सकता है. अगर आप की नलें बंद हो गईं तो गर्भधारण नहीं होगा. यूट्रस में इन्फैक्शन होगा तो सैप्सिस होगा, एपेस्लाइड डिस्चार्ज होगा, आप की अपनी लाइफ और लवलाइफ दोनों पर इफैक्ट पड़ेगा. अगर यूट्रस के मुख पर कई दिनों तक इन्फैक्शन रहे तो शैडिंग होने लगती है, सेल्स इन्फैक्ट हो जाते हैं, और यह यूट्रस का कैंसर बन जाता है. भारत में सर्वाइकल कैंसर दूसरे नंबर का खतरनाक कैंसर है. साथ ही अगर किसी प्रैग्नैंट लड़की को वैजाइनल इन्फैक्शन होता है तो अबौर्शन की नौबत तक आ जाती है.

लड़कियों को वैजाइनल इन्फैक्शंस से बचने के लिए किस तरह के अंडरगारमैंट्स पहनने चाहिए?
अंडरगारमैंट्स हमेशा ऐसे होने चाहिए जो आप के इंटिमेट एरिया का हाइजीन बना कर रखें. आप के इंटिमेट एरिया का हाइजीन बहुत जरूरी है, उस की साफसफाई बेहद जरूरी है. आप का अंडरवियर कौटन का होना चाहिए. जितनी भी बार आप वाशरूम जाएं, रनिंग वाटर से अपने इंटिमेट एरिया को क्लीन करें. वैजाइना को पैट ड्राई करें, रगड़े नहीं बल्कि थपथपा कर सुखाएं, जिस से फंगल इन्फैक्शन का खतरा न हो.


क्या कम पानी पीना भी वैजाइनल इन्फैक्शन का कारण हो सकता है?

कम पानी पीने से वैजाइनल इन्फैक्शन तो नहीं होता लेकिन यूरिन बर्निंग हो जाती है. यूरिन बर्निंग के कारण पेशाब करने में दिक्कत होती है और दर्द भी होता है.

खानपान का वैजाइनल इन्फैक्शन से कोई संबंध है?

जी हां, बिलकुल है. अगर आप हमेशा इन्फैक्टेड, बासी स्ट्रीट फूड खाएंगे जोकि अधिक एसिटिक होते हैं या आप फंगल फूड खाते हैं तो इस से शरीर पर बुरे प्रभाव पड़ते हैं. इस कारण वैजाइना में जलन होने लगती है. सड़ागला खाना या फर्मेंट किया हुआ खाना बिलकुल भी नहीं खाना चाहिए. खासकर बरसात के दिनों में अंडरकुक्ड, सेमीकुक्ड या पार्शलकुक्ड फूड नहीं खाना चाहिए. इन से वैजाइनल इन्फैक्शन बढ़ भी सकते हैं. डीपफ्राइड या रोस्टेड फूड खाना सही रहता है.

ये भी पढ़ें- ग्रीन कौफी से घटा सकते हैं वजन, जानें कैसे

नवविवाहित लड़कियों को अकसर यूरिन इन्फैक्शन क्यों हो जाता है?

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि शादी के तुरंत बाद उन का सैक्स बहुत फ्रीक्वैंट हो जाता है. इस से वैजाइनल एरिया सोअर हो जाता है, सूज जाता है. रैडनैस भी आ जाती है. यूट्रस के पास ही पेशाब की थैली होती है जो नियमित सैक्स के कारण इन्फैक्ट होती है. इसी कारण बारबार पेशाब जाने का मन होने लगता है और जलन होने लगती है. लेकिन अगर यूरिन टैस्ट कराया जाए तो जांच में इन्फैक्शन नहीं आता, बल्कि इसे हनीमून सिस्टाइटिस कहते हैं. मतलब, मूत्राशय की सूजन. सैक्स के दौरान बारबार रगड़ खाने से यह परेशानी हो जाती है.

सैक्स के दौरान किन चीजों का ध्यान रखें?

सैक्स करते समय पर्सनल हाइजीन का बहुत ध्यान रखना चाहिए. आप का पार्टनर अपने प्राइवेट एरिया को क्लीन रखे और आप भी. दोनों इंटिमेट हाइजीन रखें. एबनौर्मल पौस्चर्स और एबनौर्मल सैक्स अवौइड करना चाहिए.

क्या करें कि वैजाइनल इन्फैक्शंस न हों?
सब से जरूरी तो यही है कि आप अपने वैजाइनल एरिया का ध्यान रखिए. इंटिमेट हाइजीन रखिए. लूज फिटिंग के कपड़े पहनिए जिस से हवा पास होती रहे, एयर वैंटिलेशन प्रौपर हो. खासकर रात को ढीला पायजामा या नाइटी पहन कर सोएं. रोज नहाएं, बाथटब यूज करने के बजाय शावर बाथ लें. बाथटब से नहाने पर भी वैजाइनल इन्फैक्शन हो सकता है. लोग बाथटब में शावर जैल या बौंब डाल लेते हैं जो वैजाइनल इरिटेंट का काम करते हैं. ऐसा नहीं करना चाहिए. नौर्मल शावर से नहाना ज्यादा हाइजीनिक होता है.

बाजार में जितने भी तरह के वैजाइनल वाश उपलब्ध हैं उन में से कोई भी यूज न करें. यह एक मिथ्या है कि पीएच बनाए रखने के लिए वैजाइनल वाश का इस्तेमाल करना चाहिए. वैजाइना अपना पीएच नैचुरली बनाए रखती है. वैजाइनल वाश एक तरह का कैमिकल है जिस से दूर रहना चाहिए. और अगर इस्तेमाल कर भी रही हैं तो डेली बेसिस पर बिलकुल न करें. कुछ लड़कियां वैजाइनल हाइजीन के लिए हमेशा ही पैंटी लाइनर्स का इस्तेमाल करती हैं. ऐसा नहीं करना चाहिए. पैंटी लाइनर्स नौर्मल वैजाइना की वैटनैस और मौइस्चर को एब्जौर्ब कर लेते हैं.

किस तरह के पैड्स का इस्तेमाल करना चाहिए?
आजकल लड़कियां ड्राई फील सेनेटरी नैपकिंस का बहुत इस्तेमाल करती हैं. आप को इन्हें इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. ड्राई फील वाले पैड्स से स्किन अरोड हो जाती है, बहुत ज्यादा ड्राई हो जाती है. ये स्किन से रगड़ खाते हैं, जिस से इन्फैक्शन का खतरा बढ़ जाता है. वैजाइनल एरिया का मोइस्चर बनाए रखने के लिए कौटन पैड्स का इस्तेमाल करना चाहिए. लड़कियां जो दिनभर व्यस्त रहने के कारण पैड्स चेंज नहीं कर पातीं उन्हें यह अधिक हो सकता है.

व्हाइट डिस्चार्ज का होना क्या इन्फैक्शन का कारण हो सकता है?
नौर्मल वाटरी डिस्चार्ज तो होता रहता है जिसे ओवुलैट्री डिस्चार्ज कहते हैं. यह अंडा गिरने पर होता है, उन लड़कियों में जो प्रैग्नैंट हो सकती हैं और जिन में मेनोपौज नहीं हुआ है. लड़कियों में मिड मैंस्ट्रुअल साइकिल अंडा गिरता है तो यह वेटनैस और डिस्चार्ज नौर्मल होता है. लेकिन कभी आप को फटे दही की तरह डिस्चार्ज हो रहा हो, येल्लोइश, पिंकिश या ब्राउनिश डिस्चार्ज हो, स्मैली डिस्चार्ज हो, डिस्चार्ज में म्यूकस जैसा कुछ दिखे तो तुरंत डाक्टर से कंसल्ट करें. यह वैजाइनल इन्फैक्शन के कारण हो सकता है.


बार-बार वैजाइनल इन्फैक्शंस हों तो क्या करें?

अगर बारबार वैजाइनल इन्फैक्शन हो तो डाक्टर को दिखा कर प्रौपर एग्जामिनेशन कराएं. इस को टालें नहीं. जैसा पहले भी बताया गया है, इस से नलें बंद होने का डर रहता है. आप को पूरे रिप्रौडक्टिव सिस्टम के और्गंस का इन्फैक्शन हो सकता है. बहुत दिनों तक इन्फैक्शन हो तो कैंसर भी हो सकता है.

कुछ लड़कियां इन्फैक्शन को घरेलू नुस्खों से दूर करने की कोशिश करती हैं. क्या यह सही है?

बहुत से लोग कहते हैं कि सिरके के पानी से वाश करने से इन्फैक्शन ठीक होता है या साबुन या लहसुन लगा लेने से, जबकि ये चीजें बिलकुल भी इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए. मैं इन सब चीजों की सलाह नहीं देती.

क्या इन्फैक्शन के दौरान सैक्स करने से पार्टनर को भी खतरा हो सकता है?
जी हां, बिलकुल हो सकता है. पार्टनर भी इन्फैक्शन के कैरियर हो सकते हैं. यह एकदूसरे में जा सकता है. और अगर एक बार यह इन्फैक्शन आप के पार्टनर को हो जाए और आप अपना ट्रीटमैंट करा लें तो अगली बार सैक्स करने पर पार्टनर से एक बार फिर आप को इन्फैक्शन हो सकता है. इसलिए अगर आप इन्फैक्शन के दौरान सैक्सुअली ऐक्टिव हैं तो अपना और अपने पार्टनर का ट्रीटमैंट एकसाथ कराएं.

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.