Header Ads

प्रसव के बाद योनि में होने वाले बदलाव के बारे मे


जानिए सामान्य प्रसव के बाद योनि में होने वाले बदलाव के बारे मे 
आज के समय में नार्मल डिलीवरी होना काफी कम होता जा रहा है इसके पीछे कई कारण हो सकते है पर क्या कभी आपने सोचा है सामान्य प्रसव के बाद योनि में होने वाले बदलाव के बारे में, नॉर्मल डिलीवरी के समय वजाइना के साथ बहुत कुछ बदलाव होता है, आप जानना चाहते हैं कि क्या उम्मीद है की आपके बच्चे के जन्म के बाद योनि में क्या बदलाव हो सकता है

जरा सोचिये एक छोटी सी जगह से बच्‍चें का बाहर निकलना कितना मुश्किल काम होता होगा, सोचिये उस समय के बारे में कैसा हाल होता होगा योनी का इस वक्त।

सामान्य प्रसव के समय योनि का द्वार खिचकर थोडा बड़ा हो जाता है जिससे कि बच्‍चें को बाहर निकालने की जगह बन जाती है। इस वक्‍त योनि के साथ बहुत कुछ बदलाव होते है, इसमे डरने और घबराने की कोई बात नहीं हैं। सब कुछ चीजें नॉर्मल ही होती है। चलिए जानते है कि नॉर्मल डिलीवरी के वक्‍त योनि (वजाइना) के साथ क्या-क्या होता है (और पढ़े: जानबूझकर सिजेरियन डिलीवरी कराने से पहले इन 3 बातों को जान लें)
प्रसव के बाद योनि में होने वाले बदलाव – Changes in vagina after delivery in hindi
प्रसव के समय सर्विक्‍स खुलता है
योनी का आकार प्रसव के समय फैलकर इतना बड़ा हो जाता है कि एक शिशु उससे बाहर निकल सकता है। जैसे-जैसे डिलीवरी के प्रोसेस शुरू होता है सर्विक्स धीरे-धीरे बड़ा होने लगता है। लेबर यानि प्रसव के समय सर्विक्स 10 सेमी तक खुल जाता है। उसके बाद डॉक्टर मां को अंदर से धक्का देने को कहते हैं। और वैजाइना भी सर्विक्स के साथ इतना फैल जाता है कि बेबी के थोडी सी ताकत के साथ बाहर निकल आता है।
एस्‍ट्रोजन लेबल बनाता है लचीला योनि को

शिशु के जन्म के समय एस्ट्रोजन का लेबल वजाइनल एरिया में इतना अधिक होता है कि वह आसानी से जितनी ज़रूरत होती है उतना फैल जाने की क्षमता रखता है। येही एस्ट्रोजन होर्मोन माँ को प्रसव पीड़ा सहने में मदद करता है
पेल्विक मसल्स की मजबूती पर निर्भर होता है योनि का फैलना
वजाइना कितना फैलेगा ये जीन्स, बेबी का आकार, कितनी बार डिलीवरी हुआ है ,पेल्विक मसल्स के मजबूती पर निर्भर करता है।
एपीसीओटॉमी – Episiotomy
बेबी का सर बर्थ कैनल में जाकर वजाइना के दिवार को धक्का देता है जिसके कारण पेरिनियम फट जाता है। ये प्रक्रिया इसलिए होता है क्योंकि इस जगह से बेबी को निकलना होता है। अगर पेरिनियम फटा नहीं तो शिशु के जन्म के समय डॉक्टर को इसमें कट लगाना पड़ता है इसमें एनेस्थेसिया का सहारा भी लिया जा सकता है यह आपके डॉक्टर को निर्धारित करना होता है। जिसको एपीसीओटॉमी कहते हैं। यह थोड़ी जटिल प्रक्रिया होती है जो सामान्यतः सामान्य प्रसव के दुसरे चरण का हिस्सा होता है
योनि में होने वाले बदलाव को रिलेक्‍स होने में लगता है समय

जब तक बच्चा बर्थ कैनल से बाहर नहीं निकलता है तब तक वजाइना जितना हो सके फैलता है। जब बच्चा बाहर निकल जाता है तब वह प्लैसेन्टा को बाहर निकलने में भी मदद करता है। एक बार डिलीवरी हो जाने के बाद वजाइना रिलैक्स हो जाता है लेकिन उसमें सूजन और जलन के जैसा अनुभव होता है जो समय के साथ ठीक हो जाता है।
छह हफ्ते का समय लगता है योनि को ठीक होने में

शिशु के जन्म के बाद योनि को ठीक होने में कुछ समय तो लगता है। यह लगभग छह हफ्ते या इससे भी जादा का समय हो सकता है जिसमे वजाइना की जलन और सूजन पूरी तरह को ठीक हो जाती है।
सामान्य प्रसव के बाद योनि में होने वाले बदलाव के लिए खुद को तैयार करना असंभव नहीं है पर यह एक जानीमानी जटिल अप्रत्यासित प्रक्रिया होती है अन्य माताओं के अनुभवों के बारे में सुनना, बच्चे के जन्म को कम रहस्मय बनाएगा| यदि आप सामान्य प्रसव की कोई योजना बनाती है तो आवश्यकता पड़ने पर अपना मन बदलने के लिए तैयार रहें| याद रखे कि आपका लक्ष्य एक सवस्थ बच्चे को जन्म देना है और सकारात्मक अनुभव प्राप्त करना है

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.