Header Ads

नट्स और बीज : इन्हें क्यों भिगोना चाहिए?



नट्स और बीज : इन्हें क्यों भिगोना चाहिए?
https://www.healthsiswealth.com/
बेशक ये आपके लिए हमेशा फायदेमंद होते हैं, पर भिगोये हुए नट्स और अंकुरित बीज ज्यादा बेहतर होते हैं। क्योंकि यह उनके न्यूट्रिएंट को बढ़ाने में मदद करता है।
https://www.healthsiswealth.com/

अपने शानदार और पूर्ण न्यूट्रीशन प्रोफ़ाइल की बदौलत नट्स और अंकुरित बीज सेहतमंद खानपान का अहम हिस्सा हैं।

भूख लगने पर ये कभी भी खाने के लिए अच्छे होते हैं, क्योंकि ये जबरदस्त पेट भराऊ होते हैं।

इस पोस्ट में उनके शानदार गुणों के बारे में जानिये, साथ ही यह भी कि आपको उन्हें खाने से पहले क्यों भिगोना चाहिए।
नट्स और बीज आपके लिए क्यों अच्छे हैं

नट्स और बीज फ़ूड पिरामिड का अहम हिस्सा हैं। वे एनर्जी पैक हैं जो बस एक छोटी सी सर्विंग में भरपूर न्यूट्रीशन प्रदान करते हैं।

दिन में महज मुट्ठी भर इन्हें खा लेना विटामिन और मिनरल की कमियों से बचने में आपकी मदद करेगा।

वे वेजिटेबल प्रोटीन से भी भरपूर होते हैं, और आपके स्वास्थ्य को बिना जोखिम में डाले एनिमल प्रोटीन का सेवन कम करने का शानदार तरीका हैं। इसलिए बच्चों और एथलीटों के लिए इनकी खूब सिफारिश की जाती है, हालांकि सभी को इन्हें संयमित ढंग से ही खाना चाहिए।
इनमें हेल्दी फैट की भरपूर मात्रा होती है जो वजन को संतुलित रखने के लिए ज़रूरी है।

इसके अलावा, उनमें फाइबर भी बड़ी मात्रा में मौजूद हैं। यह आंतों के कामकाज को रेगुलेट करने और प्राकृतिक रूप से कब्ज को रोकने में मदद करता है।


https://www.healthsiswealth.com/
“इसे भी देखें: 4 बादाम रोज़ खाइए, जानिये क्या कुछ अद्भुत होगा आपके शरीर में
मुझे क्या चुनना चाहिए?

https://www.healthsiswealth.com/
इसके लिए आपके पास ढेर सारे विकल्प हैं और यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस तरह का स्वाद चाहते हैं या आपको अपनी सेहत के लिए क्या चाहिए। आइए इनमें से कुछ के फायदों पर नज़र डालें।
नट्स :
अखरोट (Walnuts): मस्तिष्क का कामकाज सुधारने में उत्कृष्ट है।
हेज़लनट्स: ये आपके ब्लड शुगर पर कंट्रोल करते हैं और इंटेसटाइन के मूवमेंट को प्रोत्साहित करते हैं।
बादाम (Almonds:): इनमें बहुत सारा विटामिन E और कैल्शियम होता है। ये ब्रेस्ट फीडिंग कराती औरतों के लिए बहुत फायदेमंद हैं।
मैकाडेमिया नट्स (Macadamia nuts): हेल्दी फैट की उच्च मात्रा से भरपूर।
ब्राजील नट: सेलेनियम का एक नेचुरल स्रोत हैं।
पिस्ता नट्स (Pistachio nuts): आयरन से समृद्ध और एनीमिया से लड़ने में शानदार हैं।
पाइन नट्स: ये विटामिन B1 के भारी स्रोत के लिए सबसे अनोखे।
काजू : मैग्नीशियम की ऊँची मात्रा, आपकी मसल्स और न्यूरॉन के लिए एकदम सही है।



https://www.healthsiswealth.com/
इसे भी पढ़ें : विटामिन E से भरपूर खाद्य
बीज :
सूरजमुखी के बीज (Sunflower seeds): विटामिन बी 1, विटामिन E, मैग्नीशियम, आयरन, फास्फोरस और कैल्शियम से भरपूर होते हैं।
कद्दू के बीज (Pumpkin seeds): इंटेसटाइन के पेरासाइट और प्रोस्टेट की समस्याओं को रोकने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक हैं।
तिल के बीज (Sesame seeds): कैल्शियम का सबसे अच्छा वेजिटेबल स्रोत हैं, जो बहुत ज़रूरी है अगर आप दूध का सेवन नहीं करते।
अलसी (Linseeds): एसेंशियल फैटी एसिड से भरपूर होते हैं, जो आपकी त्वचा, बालों और नाखूनों के रंग-रूप में सुधार करते हैं।
चिया सीड्स (Chia seeds): इंटेसटाइन के मूवमेंट को प्रोत्साहित करते हैं और कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं।
भिगोना जरूरी है
https://www.healthsiswealth.com/
कच्चे नट और बीज, साथ ही फलियां (Legumes) एक ऐसे तत्व से ढके होते हैं जिसे एंजाइम अवरोधक (enzyme inhibitor) कहते हैं।

एंजाइम इनहिबिटर्स में समय से पहले अंकुरण को रोकने और न्यूट्रीशन को संरक्षित करने की क्षमता होती है जिससे पौधे विकसित हो सकें। हालांकि उन्हें खाने पर वे कुछ मिनरल और प्रोटीन के अवशोषण में बाधा डालते हैं और पाचन को कुछ कठिन बनाते हैं।


अगर उन्हें कुछ घंटों के लिए भिगो दें तो आप इस समस्या से बचेंगे और ठीक ढंग से सेवन किये जाने या अंकुरण के लिए बीज को एक्टिवेट करेंगे।
https://www.healthsiswealth.com/

प्रत्येक नट्स या बीज को भिगोये जाने का अपना वक्त होता है:
बादाम: 12 घंटे
चिया और अलसी: 2 घंटे
अखरोट और हेज़लनट्स: 8 घंटे
कद्दू और तिल: 6 घंटे
सूरजमुखी के बीज: 4 घंटे
पाइन नट्स, पिस्ता, काजू, ब्राजील नट्स और मैकाडामिया नट्स: भिगोना ज़रूरी नहीं है


उन्हें एक्टिवेट करने के बाद उनका स्वाद बढ़ाने के लिए आप कम आँच पर उन्हें टोस्ट कर सकते हैं।


हम बता दें कि अलसी और चिया सीड्स भिगोये जाने पर म्युसिलेज पैदा करते हैं, जो आपकी आंतों के मूवमेंट के लिए बहुत अच्छा होता है। उन्हें भिगोये गए पानी के साथ ही आप उन्हें ब्लेंड कर सकते हैं।


https://www.healthsiswealth.com/
इसे भी पढ़ें : चिया सीड्स से मिलने वाले 7 अद्भुत फायदे
इन्हें अपनी डाइट में कैसे शामिल करें
https://www.healthsiswealth.com/
नट्स और बीज दिन के किसी भी समय खाए जा सकते हैं, पर यहाँ हर दिन उन्हें अपने आहार में शामिल करने के लिए कुछ अनोखे आईडिया दिए गए हैं:
नाश्ते के अन्न के साथ
शहद के साथ मीठा किये गए होममेड हेज़लनट कोको स्प्रेड
फल और ओट्स की स्मूदी में
सॉस या ड्रेसिंग में टोस्ट किये हुए ग्राउंड नट्स या बीज
कुकी या केक के आटे में अच्छी तरह से मिला लें
होममेड वेजिटेबल ड्रिंक और स्मूदी बनाने के लिए
डेजर्ट के साथ, जैसे शहद और बादाम के साथ अखरोट या नारंगी के टुकड़ों वाले बेक्ड एपल
नमक के साथ टोस्टेड पिसे हुए तिल को गोमासियो के रूप में जाना जाता है, और चावल और पास्ता के लिए एक स्वादिष्ट मसाला है।


4 बादाम रोज़ खाइए, जानिये क्या कुछ अद्भुत होगा आपके शरीर में
https://www.healthsiswealth.com/
क्या आप जानते हैं, रोज़ चार बादाम खाने से आपका कार्बोहाइड्रेट सेवन कम हो सकता है। इससे आपका वजन कम होता है? इन्हें अपनी रेगुलर डाइट का हिस्सा बनाने से आपका मेटाबोलिज़म तो स्थिर होता ही है, ये देह में जमी चर्बी को गलाते हैं। इसके साथ ही बादाम आपके लिए ढेरों सौगात लिए आता है।



https://www.healthsiswealth.com/
बादाम बहुत ही पौष्टिक मेवों में से एक है। अगर इसे आप अपनी रेगुलर डाइट का हिस्सा बना लें, 4 बादाम रोज़ खाएं, तो यह आपके शरीर को बेमिसाल फ़ायदों की सौगात दे सकता है।

आज हम आपको बताएँगे, 4 बादाम रोज़ खाने से आपका स्वास्थ्य कैसे अच्छा बना रहेगा। शायद आपने इससे पहले इसकी इतनी खूबियों को यूं इकट्ठे न जाना हो! तो देखिये, क्या कुछ अद्भुत करेगा बादाम आपके शरीर के भीतर।
1. 4 बादाम रोज़ खाइए, खून में कम होगा कोलेस्ट्रॉल

https://www.healthsiswealth.com/
बादाम आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर को स्थिर कर सकते हैं।
आपको शायद यकीन न हो, लेकिन ये खून में “खराब” कोलेस्ट्रॉल (LDL) के स्तर को कम करने में बेहद सहायक हैं।
इसलिए तो इन्हें LDL कम करने वाले सबसे प्रभावशाली 5 खाद्य पदार्थों की लिस्ट में शामिल किया गया है।

अगर आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल बहुत ज़्यादा बढ़ा हुआ है तो चार की बजाए, दिन में 20-30 बादामों की डाइट लीजिए।

आप खुद फर्क महसूस करने लगेंगे।
ब्लड टेस्ट कराने के अलावा बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल के बारे में पता लगाने के लिए आप अपनी आँखों की निचली पलकों पर सफ़ेद दाग, पैरों में दर्द और समय से पहले https://www.healthsiswealth.com/सफ़ेद बाल को देख कर भी इस बारे में जान सकते हैं।


हम चाहेंगे आप इसे भी पढ़ें: हाई ब्लड प्रेशर को कम करने वाले अन्न, फल और सब्जियां
2. बादाम कार्डियक रोगों को रोकने में मदद करता है
बादाम में एंटी- ऑक्सीडेंट के ऊँचे स्तर पाए जाते हैं। 
इसके साथ-साथ इनमें मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड (monounsaturated fatty acids) और मैग्नीशियम और कॉपर जैसे रासायनिक तत्व और धातु मौजूद होते हैं।
इन सभी पोषक तत्वों का शुक्रिया जिनके चलते हम न केवल टिप-टॉप रहते हैं, बल्कि हमारा दिल और हमारा सर्कुलेटरी सिस्टम भी स्वस्थ्य बना रहता है।
कार्डियक बीमारियों और दिल से जुडी अन्य दिक्कतों को रोकने के लिए हमें हमेशा इनका सेवन करना चाहिए।
3. 4 बादाम रोज़ खाने से आपका माइक्रोबायोटा (microbiota) स्वस्थ रहेगा

https://www.healthsiswealth.com/
अगर आप 4 बादाम रोज़ खाते हैं, तो आपका माइक्रोबायोटा हमेशा अच्छा बना रहेगा।
इसके ऊपरी छिलके के कई लाभ हैं।
इनसे हमारे शरीर को ज़्यादा से ज़्यादा प्रोबायोटिक मिलते हैं। हमारी आँतों में अच्छे बैक्टीरिया पनप पाएँ और बढ़ते रहें, इसमें प्रोबायोटिक का ही योगदान होता है। बादाम के सेवन से हमें इसका भरपूर फ़ायदा मिलता है।
यदि हम कभी भी किसी तरह की डिस्बिओसिस (dysbiosis) से परेशान होते हैं, तो हमें पेट से जुडी तकलीफ़ों, जैसे पेट दर्द, ख़राब पाचन आदि और मुँह से बदबू आने जैसी समस्याओं को झेलना पड़ता है। ऐसे समय में अधिक से अधिक बादाम खाने की सलाह दी जाती है।

4 बादाम रोज़ खाने की जगह आप इनकी डोज़ 30 से 35 तक कर सकते हैं।
4. बादाम आपको ट्रिम करता है, बदन को छरहरा बनाने में मदद करता है

भले ही आप हमेशा से ये सोचते आयें हों कि मेवों में अधिक कैलोरी होने के कारण आपका वजन बढ़ता है;
लेकिन बादाम एक ऐसा मेवा है जो आपको ट्रिम-स्लिम बने रहने में मदद करता है।

मशहूर साइंस जर्नल ‘नेचर’ में 2003 में छपी एक साइंटिफिक स्टडी के अनुसार:
जो लोग बादाम खाते हैं , वे पूरे दिन में कम से कम कार्बोहाइड्रेट का सेवन करते हैं। इससे वे दुबले-पतले बने रह सकते हैं।
नट्स में पाए जाने वाले विटामिन और फाइबर के कारण बादाम खाने से आपको वजन कम करने और मेटाबोलिज्म दुरुस्त रखने में मदद मिलती है।
5. बादाम आपकी त्वचा के लिए फायदेमंद है


हमारे त्वचा के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए बादाम बहुत ही बढ़िया स्रोत है।
इनमें पाया जाने वाला मैंगनीज कोलेजन उत्पादन में अहम भूमिका निभाता है।
बता दें , कोलेजन एक प्रोटीन है जो हमारी त्वचा में लोच बनाए रखने के लिए ज़िम्मेदार है।
बादाम में भरपूर मात्रा में विटामिन E पाया जाता है और यह ऐजिंग जैसी समस्याओं से निजात दिलाता है।

https://www.healthsiswealth.com/

6. 4 बादाम रोज़ खाएं, पायें स्वस्थ घने बाल
इनमें मौजूद विटामिन E आपके बालों को स्वस्थ चमक और ताकत देता है।
साथ ही इसमें मैग्नीशियम, जिंक जैसे मिनरल पाए जाते हैं। ये बालों को लम्बा करने से साथ-साथ इन्हें अच्छी सेहत भी देते हैं।
7. आपको मानसिक रूप से चुस्त रखते हैं
नियमित बादाम खाने से आप मानसिक तौर पर चुस्त रहेंगे।
ऐसा इसलिए संभव है क्योंकि इनसे मिलने वाले टोकोफेरॉल (tocopherol) और फैटी एसिड (fatty acids) याददाश्त को बढ़ाने और उसे धारदार बनाए रखने में मदद करते हैं।
इसके अलावा, बादाम बढ़ती उम्र के साथ कम होती मानसिक क्षमता पर भी काबू रखता है।
8. 4 बादाम रोज़ खाने के दांतों से जुड़े फ़ायदे

https://www.healthsiswealth.com/


अपने दाँतों की बढ़िया देख-रेख करने के लिए भी बादाम के ढेरों लाभ हैं।
इनमें पाया जाने वाला फॉस्फेट हड्डियों और दांतों की सुरक्षा और मजबूती देने का एक शक्तिशाली स्रोत है।

ऐसे अनगिनत ज्ञात-अज्ञात फायदों को हासिल करने के लिए आपको हर हफ्ते बादाम खाना होगा। हालंकि अगर 4 बादाम रोज़ खाते रहेंगे, तो आपको और भी अच्छे परिणाम मिलेंगे।

विटामिन E से भरपूर खाद्य
https://www.healthsiswealth.com/
सूरजमुखी के 60 ग्राम बीज खाना विटामिन E की रोजाना की ज़रूरत का 90% पाने के लिए पर्याप्त है। इस लेख में विटामिन E से भरपूर खाद्य पदार्थों की जनकारी लें!

https://www.healthsiswealth.com/

शरीर को तंदरुस्त रखने के लिए विटामिन से भरपूर बैलेंस डाइट खाना ज़रूरी है। शरीर के लिए ज़रूरी मुख्य विटामिनों में से एक है विटामिन E। एंटीऑक्सिडेंट गुणों वाला यह विटामिन फैट में घुलनशील है। यह फैट के ऑक्सीडेशन इफेक्ट को बेअसर करने में शरीर की मदद करता है।

मौजूदा स्टडी से संकेत मिलता है कि यह विटामिन शरीर को फ्री रेडिकल्स के असर से बचाने में कितना अहम है। इन रेडिकल को रोकना क्रोनिक बीमारियों और उम्र बढ़ने के जोखिम को कम करने की कुंजी है। इसके अलावा, यह फैट में घुलनशील विटामिन भी इम्यून सिस्टम की सामग्रिक देखभाल में अहम है।
सूखे मेवे और बीज विटामिन E से भरपूर होते हैं

https://www.healthsiswealth.com/

खाए जाने वाले कई खाद्य पदार्थों में ढेर सारा विटामिन E होता है, लेकिन नट्स यानी सूखे मेवे उनमें सबसे अलग हैं।

उदाहरण के लिए बादाम (almond) के एक औंस (लगभग 30 ग्राम) में 7.4 मिलीग्राम विटामिन E होता है। बादाम के तेल और बादाम के दूध में भी यह विटामिन होता है। इसके अलावा हेज़लनट्स यानी अखरोट एक लंबे दिन के बाद सबसे सही नाश्ता हैं। क्योंकि आपको इसके एक औंस में विटामिन E की रोजाना ज़रूरत का लगभग 20% मिल जाता है।

इसके अलावा, पाइन नट्स भी इस विटामिन का एक समृद्ध स्रोत हैं। पाइन नट्स की एक सर्विंग में लगभग 2.6 मिलीग्राम विटामिन E होता है। इसके अलावा, बादाम के दूध जैसे प्लांट मिल्क इस विटामिन से भरपूर होते हैं।

कुछ अन्य बीज भी हैं जो विटामिन E से समृद्ध हैं:
सूरजमुखी के बीज (Sunflower seeds)
कद्दू के बीज (Pumpkin seeds)
तिल के बीज (Sesame seeds)

वास्तव में, सूरजमुखी के बीज का एक चौथाई कप रोजाना की ज़रूरत की विटामिन E का 90.5% दे देता है।

https://www.healthsiswealth.com/
यह भी पढ़ें : 4 विटामिन आपकी स्वस्थ, चमकदार त्वचा के लिए
सब्जियां



स्विस कार्ड (Swiss chard) और पालक (spinach) दोनों कई विटामिनों से भरपूर हैं।

स्विस कार्ड स्वास्थ्यप्रद सब्जियों में से एक है। विटामिन E से समृद्ध होने के अलावा, इसमें K, A और C जैसे दूसरे विटामिन भी हैं। सरसों का साग (Mustard greens) भी पोषक तत्वों से बहुत समृद्ध है और ये चीजें भी देता है:
विटामिन K : यह विटामिन रक्थत के थक्के बनने की प्रक्रिया में एक भूमिका निभाता है। यह लिवर में अपने कार्य को अंजाम देता है जहां यह आवश्यक थक्के के फैक्टर बनाता है।
विटामिन A : यह दांतों के निर्माण और रखरखाव, मुलायम और हड्डियों युक्त टिशू और मेम्ब्रेन बनाता है और अन्य कार्यों के साथ आपकी आँखों को तंदरुस्त रखता है।
फोलिक एसिड : यह संरचनात्मक प्रोटीन और हीमोग्लोबिन की परिपक्वता के लिए ज़रूरी है। यह नर्वस सिस्टम और कोगनिटिव प्रक्रियाओं के लिए भी अहम है।
विटामिन C: यह शारीरिक टिशू की बढ़ोतरी और मरम्मत के लिए ज़रूरी है।

पालक (Spinach) कैल्शियम और फोलिक एसिड से भरपूर होती है और इसमें ढेर सारा विटामिन भी होता है। हम सैंडविच में ताजी पालक मिलाने की सिफारिश करते हैं।

यह आपके लिए दिलचस्प होगा : 4 विटामिन जो स्मोकिंग के बाद आपके फेफड़ों को स्वस्थ करने में आपकी मदद करते हैं
वनस्पति वसा (Vegetable Fats)


https://www.healthsiswealth.com/
अंत में, अपनी वसा में घुलनशील प्रकृति के कारण वनस्पति तेल इस विटामिन से समृद्ध है।

बीज के तेल विटामिन E के बहुत अच्छे स्रोत हैं, विशेष रूप से गेहूं के बीज का तेल। इस तेल के एक चम्मच में इस विटामिन की ज़रूरी मात्रा का 100% होता है। सूरजमुखी का तेल एक और उत्कृष्ट विकल्प है क्योंकि यह 5 मिलीग्राम से ज्यादा विटामिन E देता है। इसे खाना पकाने में इस्तेमाल किया जा सकता है।

आप देख सकते हैं, विटामिन E को आपकी डाइट में शामिल करना आसान है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.