Header Ads

सिरदर्द की समस्या


सिरदर्द की समस्या के कई प्रकार

बदलती जीवनशैली और असंतुलित खाद -पदार्थों के सेवन करने से सिरदर्द की समस्या आम हो गई है । सिरदर्द का मतलब है कि सिर के एक या एक से ज्यादा हिस्सों में दर्द तथा गर्दन के पीछे हिस्से में हल्के या तेज़ दर्द का होना। सिर दर्द अनेक कारणों से होते है, जैसे – नींद पूरी न होने से , दांतों में दर्द के वजह से, थकान लगने पर , दवाई की गलत सेवन से, चश्मे का नंबर बढ़ने तथा मौसम के चेंज हो जाने पर हो सकता है। सिरदर्द अलग-अलग प्रकार के होते है यह नहीं कह सकते है कि सारे सिरदर्द में डॉक्टर की जरूरत पड़े या सारे सिरदर्द सामान्य हों । आइए जानते है सिर दर्द के बारें में ।


1. तनाव यानी की टेंशन
यह सिरदर्द बहुत ही सामान्य है । ऐसे दर्द में सिर के दोनों तरफ तेज दर्द होने लगता है तथा सिरदर्द के कारण गर्दन तथा कंधे की मांसपेशियों में बहुत समस्या आ जाती है । अक्सर देखा जाता है कि इस तरह के सिरदर्द में तनाव, नींद की समस्या या सिर पर चोट लगने के कारण होता है ।
नोट -यह अधिक सर्दी, एयर-कंडीशन के संपर्क में आने के कारण हो सकता है । गर्दन और सिर पर ठंडी हवा लगने से भी सिरदर्द हो सकता है । तथा तनाव यानी कि टेंशन के कारण सिरदर्द में फिज़ियोथेरेपी के करने से बहुत फायदेमंद हो सकता है ।


2. माइग्रेन से सिरदर्द
माइग्रेन से आजकल बहुत से लोग परेशान है। क्योंकि ख़राब खानपान और बिजी लाइफस्टाइल के कारण यह एक बड़ी समस्या बन चूकी है। कभी -कभी यह दर्द असहनीय हो जाता है तथा कई बार कुछ मिनटों में सही हो जाता है। यह सिर के एक तरफ होने के कारण इसे अधकपारी भी कहा जाता है। इसे एक आनुवांशिक रोग भी माना जाता है। इस बीमारी में रोगी के जी मिचलाना, उल्टी होना, दृष्टि-दोष, सुस्ती, बुखार और ठंड भी अधिक लगती है ।
माइग्रेन दर्द ज्यादा बढनें के वजह है टाइम से खाना नही खाना,नींद पूरी न लेना, तेज खुशबू, हार्मोंन में बदलाव, एलर्जी, शराब पीने से, डिप्रेशन या तेज आवाज की वजह से हो सकता है ।

3. क्लस्टर सिरदर्द
इस तरह के सिरदर्द कभी भी किसी ही समय शुरु होता है तथा यह दर्द बहुत ही तेज एवं पीड़ादायक भी होता है। यह दिन में कई बार हो सकता है अधिक समय तक नही होता है यह दर्द एक ही समय पर शुरु होता है । इस सिरदर्द की वजह है, तेज रोशनी, धूम्रपान, थकावट, तेज गर्मी आदि ।


4. साइनस में होने वाला सिरदर्द

मौसम के बदल जाने पर सिरदर्द का होना सामान्य है। साइनस सिरदर्द तेज तथा कई बार होने के वजह से यह दर्द सिर के आगे के तरफ तथा चेहरे पर अनुभव होता है यह सिर दर्द अधिकतर सुबह के समय होता है तथा व्यक्ति अपने सिर नीचे की और झुकता है तो यह दर्द तब महसूस होता है। इस तरह सिरदर्द में कई प्रकार की समस्या आ जाती है जैसे – आंखों पर, मथें पर, गाल पर ,ऊपरी दांत में दर्द, बुखार, ठंड लगना, चेहरे पर सूजन और सिर के अगले हिस्से में दबाव और दर्द होता है। यह अधिकतर धूल-मिट्टी, प्रदूषण, संक्रमण, सर्दी-ज़ुकाम, बुख़ार, ज्यादा ठंडी हवाएं चलने कारण हो सकती है ।


सिरदर्द को नजरंदाज न करें और बरतें सावधानियां
अगर आपको सिरदर्द की समस्या हो तो सबसे पहले तनाव कम करें तथा पर्याप्त नींद लें फिर भी इन सबसे आराम न मिले तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें सिरदर्द के उचित इलाज करें । आपकी लापरवाही की वजह से समस्या बढ़ सकती है । कई बार असंतुलित भोजन के कारण गैस बनने भी सिरदर्द हो सकता है आप अपने खानपान और रुटीन पर ध्यान दें तो आप सिरदर्द से निजात पा सकतें है।

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.