Header Ads

ब्रा नहीं पहनने से हो सकते हैं यह नुकसान


ब्रा नहीं पहनने से हो सकते हैं यह नुकसान
एक शोध के मुताबिक़ क़रीब 70% भारतीय महिलाएं गलत साइज़ की ब्रा पहनती हैं और ब्रा पहनने से होने वाले फायदे-नुकसानों की परवाह करना जरुरी नहीं समझती.
महिलाओं के अंतर्वस्त्रों में ब्रा का महत्त्वपूर्ण स्थान है. सही साइज की और नियमित रूप से ब्रा न पहनने से क्या नुक़सान हो सकतें हैं, जानिये इस लेख में.

‘गोइंग ब्रा-लेस’ यानी ‘ब्रा न पहनना’ यह आज कल का एक बहुत बड़ा ट्रेंड है. आप इंटरनेट पर ब्रा न पहनने से होने वाले फायदों के बारे में पढ़ सकतीं हैं लेकिन असल में इसके कुछ दुष्परिणाम भी हैं. आज दसबस हम पर जानेंगे उन्हीं दुष्परिणामों के बारे में.

सपोर्ट

हमारे स्तन एडिपोस टिश्यूज से बने होते हैं और
उनमें मांसपेशियां नहीं होतीं इसीलिए ब्रा पहनने से स्तनों को जरुरी सपोर्ट मिल पाता है. दूसरी तरफ ब्रा पहननेसे स्तनों की शिथिलता कम होती है. ब्रा ना पहननेसे भले ही आपको फ्री और अच्छा महसूस होता हो, लेकिन असल में यह नुकसानदेह है. इसलिए ब्रा हमेशा रेगुलर और सही साइज की ही ब्रा पहनें.


त्वचा का ढीलापन

ब्रा ना पहनने से होने वाली शिथिलता के कारण त्वचा ढीली होकर नीचे की ओर खिंचने लगती है, इसलिए ब्रा पहनकर त्वचा के इस ढीलेपन से बचा जा सकता है.


सही पोश्चर और कॉन्फिडेंस

आपके बॉडी का पोश्चर अच्छा ना होना आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है. सही ब्रा पहनने से आपको सही पोश्चर भी मिलता है. बढ़ती उम्र में सही पोश्चर बनाकर रखना रीड के हड्डी के लिए अच्छा होता है. इसीलिए 20 से कम उम्र की लड़कियों के लिए ब्रा पहनना सही बात है. ब्रा पहनने से आप सहजता तो महसूस करती ही हैं, साथ ही आप कॉन्फिडेंट भी रहती हैं, जिससे आपका पोश्चर भी बेहतर होता है.


पीठ दर्द 
एक महिला के फिगर और रूप के मोहक दिखने में बस्ट लाइन का अहम हिस्सा होता है. ब्रा पहनने से आपकी फिगर ज़्यादा अट्रैक्टिव दिखती है. जिन औरतों के स्तन बहुत बड़े हैं, उनके लिए ब्रा पहनने से फिगर पतली और टोन्ड लगती हैं. ब्रा न पहनने से बड़े स्तन वाली महिलाओं की पीठ में दर्द भी हो सकता है.


कम्फर्ट

ब्रा ना पहनना भले ही आज का ट्रेंड हो लेकिन सारी लड़कियां इस ट्रेंड के साथ कम्फर्टेबल नहीं होती. सही साइज की ब्रा पहनना महिलाओं के लिए ज़्यादा फायदेमंद है. ब्रा पहनने से स्तनों के नीचे जो पसीना आता है वह सोख लिया जाता है जिससे फंगल इंफेक्शन होने की संभावना कम होती है. इसी के साथ महिलाएं भारी शारीरिक श्रम करते समय भी सहज रह पाती हैं. सही ब्रा पहनने से सिर्फ़ पोश्चर ही अच्छा नहीं दिखेगा बल्कि आपके पूरे अपीयरेंस और स्वास्थ्य में भी सुधार आएगा.


तो सिर्फ ट्रेंड को फॉलो करने के लिए अपनी सेहत से खिलवाड़ न करें. सही साइज की ब्रा पहनें और कई स्वास्थ्य समस्याओं से बचें.

ब्रा खरीदते समय इन 6 बातों का रखें ध्यान


अक्सर मैंने अपनी सहेलियों को ब्रा के खराब फिटिंग की वजह से अनकंफर्टेबल होते हुए देखा है. क्या आपको कभी ब्रा खरीदते समय फिटिंग में दिक्कत आई है? बहुतसी महिलाओं को ब्रा के खराब फिटिंग से शिकायत होती है. खराब फिटिंग वाले ब्रा से आप खुद को ना ही कंफर्टेबल महसूस नहीं कर पाती है और ना ही आपके कपडे अच्छे दिखते है. अगर आप ब्रा खरीदने से पहले ये 6 टिप्स पढ़कर जाएंगे तो आपके लिए लांजरी शॉपिंग काफी आसान होगी.

1. बैंड साइज

हर एक महिला का शरीर अलग-अलग होता है. इसलिए, आपके सहेली को जो ब्रा सूट करती है वह ब्रा आपको भी सूट करें ऐसा ज़रूरी नहीं. आपकी ब्रा का फिटिंग अच्छा होने के लिए उसका साइज़ है सही होना ज़रूरी है. अपनी ब्रा का बैंड साइज़ नापते हुए ऐसी ब्रा पहनें जिसकी फ़िटिंग आपको सबसे सही लगती हो और जो पैडेड न हो. अब मेज़रिंग टेप लेके अपने ब्रेस्ट के नीचे उसे ऐसे लपेटें, जिससे टेप का सिरा ब्रेस्ट के नीचे से पीठ से होकर वापस आपके सीने तक आ जाए. अब जो नंबर आएगा उसमे 5 मिलाइये. यही है आपका सही बैंड साइज.
2. ब्रैस्ट साइज

अपनी ब्रैस्ट साइज जानने के लिए टेप को अपने चारों तरफ घुमाये और उसे वहाँ से गुजारे जहां पर ब्रैस्ट की साइज सबसे ज़्यादा हो. आपको जो संख्या मिलेगी वह है आपका ब्रैस्ट साइज. अगर आपका नाप डेसिमल में आता है तो उसे राउंड ऑफ कर लें. (जैसे की अगर आपका ब्रैस्ट साइज आया ३२.६ तो उसे ३३.० कर लें और अगर ३२.४ आया तो ३२.० कर लें. )
3. कप साइज

बैंड के नाप में और ब्रैस्ट साइज के नाप में अंतर 

कप साइज 


1 inch A
2 inch B
3 inch C
4 inch D
5 inch E / DD
6 inch F / DDD
7 inch G
8 inch H

अपना कप साइज जानने के लिए अपनी बैंड साइज और ब्रैस्ट साइज के फर्क को नापिये अगर इन दोनों में 1 इंच का फर्क एक है तो आपका कप साइज A है. फर्क अगर 2 इंच है तो आपका कप साइज B है. इसी प्रकार आप आगे नाप सकते हैं.

4. लास्ट हुक थिओरी




ब्रा का बैंड यूज़ करके थोड़े दिनों में ढीला हो जाता है. अगर आप ब्रा खरीदते समय ढ़ीली ब्रा लेते हैं तो आगे जाकर आपको दिक्कत हो सकती है. ब्रा के सबसे आखिर वाले हुक में आपको ब्रा ठीक से बैठनी चाहिए. अगर आगे जाकर वह ढीली होती है तो अंदर के हुक लगाकर आप ज़्यादा वक्त तक अपनी ब्रा यूज कर सकते हो.
5. सही टी-शर्ट पहनिए
हर एक ब्रा का फिटिंग अलग-अलग होता है. इसीलिए ब्रा खरीदते समय एकदम सही फिटिंग वाला टी-शर्ट या कुर्ता पहन कर जाइए. इससे आपको अलग-अलग ब्रा के फिटिंग्स ठीक तरह से मालूम पड़ेंगे.
6. दो उंगलियों का रूल



आप जब भी ब्रा पहनकर देख रहे हो, ध्यान रखे की ब्रा बैंड और शोल्डर स्टैप्स के नीचे से आपकी 2 उँगलियाँ आसानीसे अंदर जानी चाहिए. इससे आप ब्रा पहनकर ज़्यादा देर तक कंफर्टेबल रह पायेगी.

जैसे मेकअप अच्छा दिखने के लिए फाउंडेशन लगाना ज़रूरी है, वैसे ही किसी भी आउटफिट का फिटिंग सही आने के लिए ठीक से बैठने वाली ब्रा भी ज़रूरी हैं. हम उम्मीद करते है कि अगली बार आप ब्रा खरीदने के लिए जाने से पहले ये सारी टिप्स पढ़कर जायेंगे. हैपी शॉपिंग!

कोई टिप्पणी नहीं

Healths Is Wealth. Blogger द्वारा संचालित.